Saturday, February 27, 2010

बस हमने बचपन में कभी होली नहीं खेली--जानते हैं क्यों ---

वक्त बदल जाता है । हालात बदल जाते हैं। और कई बातें , कई रिवाजें वक्त की परतों के नीचे दब कर रह जाती हैं।
ऐसा ही है , होली मनाना । जी हाँ , होली अलग अलग राज्यों में अलग अलग तरीके से मनाई जाती है।

ब्रिज की होली को कौन नहीं जनता

लेकिन हरयाणवी होली ! शायद आपको नहीं मालूम होगा की कैसे मनाई जाती थी हरियाणा में होली।
यह उन दिनों की बात है जब न मोबाइल थे , न गाड़ियाँ।
न कलर टीवी, न कंप्यूटर।
लेकिन होली तब भी खेली जाती थी।

बस हमने बचपन में कभी होली नहीं खेली

सोच सकते हैं क्यों ?
क्योंकि उन दिनों हरियाणा और दिल्ली के गावों में बच्चे होली नहीं खेलते थे
हैं न अचरज में डालने वाली बात।

आइये आज आपको परिचित कराते हैं , हरियाणा में होली कैसे खेली जाती थी , सातवें और आठवें दशक में

* होली का खेल बसंत पंचमी के दिन से शुरू हो जाता था। यानि अगले ४० दिन तक होली खेलते थे । लेकिन सिर्फ बहुएं । घर की बहु अपने जेठों पर पानी डालती थी , जहाँ भी अवसर मिलता था । यह सिलसिला पूरे फागुन चलता था ।
* अगर घर में बटेऊ ( दामाद ) आ जाता था , तो उसकी तो श्यामत आ जाती थी।

*होलिका दहन वाले दिन सभी औरतें एकजुट होकर , गीत गाती हुई , विशेष रूप से बनाये गए गोबर के उपले और कंडे लेकर होली में डाल कर आती थी।

* दुलैन्ह्ड़ी वाले दिन असली होली होती थी। लेकिन यह सिर्फ देवर और भाभी के बीच खेली जाती थी।
एक मैदान या खाली पड़े खेत में सब लोग इकट्ठा होते थे । मोहल्ले के सभी लड़के पानी की बाल्टी लेकर तैयार , और बहुएं ( भाभियाँ ) दूसरी तरफ कोल्ह्ड़े लेकर तैयार

देवर भाभी पर पानी डालने की कोशिश करता और भाभी उसे कोल्ह्ड़ा मारने की कोशिश करती । इस तरह भाग दोड वाला खेल होता था , जिसमे देवरों की पिटाई खूब होती थी।

* बाकि सब लोग बस दूर खड़े तमाशा ही देखते थे

* उन दिनों गुलाल कोई नहीं जनता था

* एक और विशेषता : होली पर पटाखे छुडाये जाते थे , दिवाली पर नहीं

शुक्र है हम बड़े हुए , गाँव से बाहर निकले और हमने होली मनाना सीखा --रंग और गुलाल से

तो बताइये कैसी लगी आपको यह जानकारी

35 comments:

  1. BAHUT SUNDR SANSAMARAN DR.SAHEB,AAPKO AUR POORE PRIVAAR KO HOLI KEE SHUBHKAMNA.

    ReplyDelete
  2. are waah Daras sahab...ye to bahut hi anokhi jaankaari de di aapne..ham to kabhi soch bhi nahi sakte the...ki holi mein patakhe..
    hairaani ki baat hai..sach much Bharat vividhtaaon ka desh hai..
    aapka bahut bahut aabhar..

    ReplyDelete
  3. बिलकुल नयी जानकारी ! आपका बहुत शुक्रिया !

    ReplyDelete
  4. galati ho DARAL SAHAB naam likhne mein ..kaan pakad kar uthak baithak kar rahe hain..1...2...3..4...5..6...7...8...9....bas ab nahi kar sakte..

    ReplyDelete
  5. दराल जी यह कोल्ह्ड़े वाली होली तो हम ने भी देखी है , लेकिन हम्बच्चे थे इस लिये बच गये, वर्ना एक कोल्ह्डा काफ़ी था हमारे लिये, बहुत मजेदार ओर बिस्तार से लिखा आप ने हरियाणवी होली को.
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  6. धमाल होली का मूल तत्व है और सभी जगह विद्यमान भी।

    ReplyDelete
  7. एक नई जानकारी मिली...धन्यवाद!!


    ये रंग भरा त्यौहार, चलो हम होली खेलें
    प्रीत की बहे बयार, चलो हम होली खेलें.
    पाले जितने द्वेष, चलो उनको बिसरा दें,
    गले लगा लो यार, चलो हम होली खेलें.


    आप एवं आपके परिवार को होली मुबारक.

    -समीर लाल ’समीर’

    ReplyDelete
  8. आपको होली पर्व की घणी रामराम.

    रामराम

    ReplyDelete
  9. daraal ji,
    aapne bahut hi anokhi or gyaanvardhak jaankaari di hain.
    main to is sambandh main kuch jaantaa hi nahi tha, ekdum anjaan tha main.
    bahut hi badhiyaa jaankaari di aapne, iske liye dhanyawaad.
    thanks.
    WWW.CHANDERKSONI.BLOGSPOT.COM

    ReplyDelete
  10. agar aap buraa naa maane, to ek baat puchhu??? =
    daraal ji, aapne holi kyon nahi kheli??
    jaisaa ki aapne kahaa ki-"gaao main holi devar-bhabhi or jeth-devraani ke beech kheli jaati thi."
    to kyaa aap kisi ke jeth, devar yaa daamaad nahi thae??? aap holi is roop main bhi khel sakte thae??
    daraal ji, please meri uprokt sawaal-baat kaa buraa mat maananaa. agar aapko buraa lagaa ho to kripyaa mujhe apnaa chhotaa bhai maante huye maaf kar denaa.
    sorry and thanks.
    WWW.CHANDERKSONI.BLOGSPOT.COM

    ReplyDelete
  11. अच्छी जानकारी
    सुन्दर और रोचक पोस्ट

    ReplyDelete
  12. Pahali bar jana aisa bhi hota tha....dhanywad!!
    Aapko spariwar holi ki shubhkaamnae!
    Sadar

    ReplyDelete
  13. जो प्रश्न मेरे मन में उठे थे वो मुझसे पहले अन्य साथियों ने पूछ लिए, और उनका जवाब मिल ही जायेगा,,,अज्ञानता के लिए माफ़ी मांगते हुए अब मुझे केवल यह पूछना रह गया कि यह 'कोल्ह्ड़ा' क्या होता है ?

    ReplyDelete
  14. ...होली के अदभुत नजारे प्रस्तुत किये हैं,बधाई,होली की हार्दिक शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  15. अरे वाह , आज तो कई सवाल आ गए ।

    सोनी जी , हमने होली सिर्फ बचपन में नहीं खेली क्योंकि होली बच्चे नहीं खेलते थे ।
    बड़ा होने पर इस लिए नहीं खेली , गाँव की होली, क्योंकि अपनी कोई भाभी ही नहीं थी।

    यानि हम तो जन्म से ही ताऊ रहे । ये बात फिर कभी । जेठ को होली खेलने का हक़ नहीं होता ।

    जे सी साहब , कोल्ह्ड़ा ---कपडे को लपेटकर रस्सी की तरह बना लिया जाता है। यूँ कहिये मोटी रस्सी। इसकी मार एक हंटर जैसी होती है। लेकिन मोटा होने की वज़ह से निशान नहीं पड़ता ।

    ReplyDelete
  16. Wah.. rochak jankari sir..
    इस बार रंग लगाना तो.. ऐसा रंग लगाना.. के ताउम्र ना छूटे..
    ना हिन्दू पहिचाना जाये ना मुसलमाँ.. ऐसा रंग लगाना..
    लहू का रंग तो अन्दर ही रह जाता है.. जब तक पहचाना जाये सड़कों पे बह जाता है..
    कोई बाहर का पक्का रंग लगाना..
    के बस इंसां पहचाना जाये.. ना हिन्दू पहचाना जाये..
    ना मुसलमाँ पहचाना जाये.. बस इंसां पहचाना जाये..
    इस बार.. ऐसा रंग लगाना...
    (और आज पहली बार ब्लॉग पर बुला रहा हूँ.. शायद आपकी भी टांग खींची हो मैंने होली में..)

    होली की उतनी शुभ कामनाएं जितनी मैंने और आपने मिलके भी ना बांटी हों...

    ReplyDelete
  17. हो न फिर फसाद , मजहब के नाम पर
    केसर में हरा रंग मिले ,इस बार होली में !

    ReplyDelete
  18. डा. दराल साहिब ~ धन्यवाद्! दिमाग क्यूंकि उड़ने लगता है, मैं सोच रहा था यह कुछ चाय वाले 'कुल्हड़', या तेली के 'कोल्हू' से जुड़ा होगा :)
    टीवी के माध्यम से बरसाने में भी ऐसी ही होली खेलते दिखाई जाती है...जिसके पृष्ठभूमि की भावना द्वापर युग की (हिन्दुओं के मानस पटल पर पक्के काले, या कृष्ण' रंग समान अनंत काल से छाई) कौरव-पांडव की कहानी के माध्यम से समझी जा सकती है,,,

    'पंचभूत' अथवा 'पंचतत्व' समान, 'पाँचों पांडवों' की पत्नी थी 'सती द्रौपदी' (और 'सती' सत्ययुग के शिव की अर्धांगिनी थी, और त्रेता के राम की 'सीता' समान भी :) , जबकि (दुष्ट) कौरव, दुशासन और दुर्योधन आदि रिश्ते में उसके देवर लगते थे और सदैव पिटाई के हक़दार :)

    इशारा समझो और बुरा न मानो, होली है! (और मैं शरद जी के ब्लॉग पर कह चुका हूँ कि होली तो 'कृष्ण' खेल गए चीनी/जापानी को पीला रंग कर, अमेरिकेन को लाल, अँगरेज़ को सफ़ेद, अफ़्रीकां को काला, आदि आदि, जिसमें उन्होंने जोड़ा कि हम हिन्दुस्तानी हर रंग में रंगे हैं :)

    ReplyDelete
  19. हरयाणा में होली की परम्परा की रोचक जानकारी मिली!

    आप तथा सभी ब्लॉगर मित्रों को होली की शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  20. बच्चे वैसे भी शुरू में होली से डरते हैं :)
    होली की शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  21. आपको तथा आपके समस्त परिजनों को होली की सतरंगी बधाई

    ReplyDelete
  22. आपको तथा आपके समस्त परिजनों को होली की सतरंगी बधाई

    ReplyDelete
  23. ye jankari to bahut hi badhiya lagi............holi ki hardik badhayi.

    ReplyDelete
  24. होली की रंगभरी शुभकामनाएँ स्वीकार करें!

    ReplyDelete
  25. आपको और आपके परिवार को होली पर्व की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  26. होली की बहुत-बहुत शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  27. हरियाणा में होली पर एक अन्य प्रथा भी थी जिसमें लोग फाग गाते हुए निकलते थे. जिसमें एक बहुत बड़े बांस से बहुत लंबा कपड़ा बंधा होता था. एक बड़े साइज़ का डमरू (इसे डोअरू कहते थे) होता था उसे बेंत से बजाया था. उनके पास एक बहुत बड़े साइज़ की ढपली भी रहती थी जिसकी थाप बहुत सुहाती थी, यह मैंने राजस्थान की होली में भी देखी है...लेकिन यह सब अब नहीं दिखाई देता..

    ReplyDelete
  28. बिलकुल नयी जानकारी ! आपका बहुत शुक्रिया !

    ReplyDelete
  29. Dactar saheb mujhe hamesha aapke blog mein aane ke liye ek pahad laanghna padta hai ..koi vijet ka blog hai wahan jakar fir bach gear laga kar aana pdta hai...aisa kaahe hein baba...?????

    आपको और आपके प्रियजनों को होली की रंगारंग शुभकामना...!!!

    ReplyDelete
  30. काजल जी , यह जानकारी तो मेरे लिए भी नई है। हालाँकि रीति रिवाजें हर १०० किलोमीटर की दूरी पर बदल जाती हैं।

    अदा जी , ऐसा तो नहीं होना चाहिए। पूछते हैं किसी जानकार से ।
    शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  31. वाह डा. साहब बहुत सुंदर बातें पता चलीं और चूंकि आपकी शैली दिलचस्प है इसलिए मजा डबल हो गया ..आभार और होली की मुबारकबाद
    अजय कुमार झा

    ReplyDelete
  32. इस बहाने हम्ने सब जगह की होली खेल ली । बधाई ।

    ReplyDelete
  33. आपको सपरिवार होली की ढेरो बधाईयाँ और शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  34. हरियाणे की होली में देरी से शरीक होने के लिए माफ़ी...

    मेरी बहन की शादी हिसार में हुई है...एक बार मैं भी फंस गया था वहां...पूछो मत होली पर क्या दुर्गति हुई थी मेरी...
    लेकिन वो होली शायद मेरे जीवन की सबसे यादगार होली थी...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  35. अरे!...वाह...ये तो आपने बहुत बढ़िया जानकारी दी...
    वैसे पहले भी थोड़ा-बहुत पता था हरियानी होली के बारे में...एक बार पिट जो चुका था :-)

    ReplyDelete