Friday, February 5, 2010

मैन प्रोपोजिज-- गौड डिस्पोजिज।

कहते हैं, मैन प्रोपोजिज-- गौड डिस्पोजिज। यानि आदमी सोचता कुछ और है , और हो कुछ और जाता है।
मैंने सोचा था इस बार आपके मनोरंजन के लिए एक हास्य कथा प्रस्तुत करूँगा। लेकिन उसे पोस्टपोंड करके फ़िलहाल यही लिखना पड़ रहा है। दरअसल परसों रात पिताजी का ब्लड प्रेशर बहुत बढ़ गया , जिसकी वज़ह से उन्हें हॉस्पिटल में भर्ती कराना पड़ा। अभी ठीक हैं, लेकिन ३-४ दिन और वहीँ रहना पड़ेगा।

उसी रात डिनर के बाद टहलते हुए हमारे भी पैर में मोच आ गई।

लेकिन शायद मोच थोड़ी कम थी या यूँ कहिये हम खुद डॉक्टर हैं तो कम ही महसूस हुई। खैर हमने भी RICE
का इस्तेमाल करते हुए पैर को १२ घंटे में ही इतना ठीक कर लिया की अगले दिन दिल्ली के भारी ट्रैफिक में १०० किलोमीटर ड्राइव कर सका।
आइये आपको भी बताते हैं की अगर पैर में मोच आ जाये तो तुरंत उपचार क्या होना चाहिए :

RICE

आर : रेस्ट यानि घूमना फिरना बंध --बिस्तर पर लेट जाओ।

आई : आइस पैक ---एक कपडे में बर्फ डालकर पैर पर लपेट दो और हर आधे घंटे में ५ मिनट के लिए ऐसा करें।

सी : कम्प्रेशन यानि पैर पर गर्म पट्टी ( क्रेप बैंडेज ) बाँध कर रखिये।

: एलिवेशन यानि पैर के नीचे तकिया लगा कर पैर को ऊपर रखिये।

इसके साथ आप कोई दर्द निवारण दवा ( एंटी इन्फ्लामेतरी ) ले सकते हैं और जैल या क्रीम की हलके हलके मालिश भी कर सकते हैं।
इस उपचार से आपका पैर २४ घंटे में ठीक हो जायेगा।
लेकिन यदि सूजन बढती रहे या दर्द कम न हो तो डॉक्टर को दिखाना न भूलें।

आज बस इतना ही । अभी कुछ दिन टिपण्णी की जगह टिप्स से ही कम चलाइये।
इतवार की ब्लोगर्स मीट में भी शायद आना संभव न हो।

24 comments:

  1. मोच का अच्छा इलाज बताया आपने... पिता जी की अच्छे स्वास्थ्य की कामना करता हूँ...

    पोस्ट बहुत अच्छी लगी... अब आपका पैर कैसा है?

    ReplyDelete
  2. पिता जी और आप दोनों शीघ्र स्वास्थय लाभ करें. RICE टिप अच्छी लगी, काम की.

    ReplyDelete
  3. .... लाभदायक प्रस्तुति !!

    ReplyDelete
  4. ईश्वर करे जल्दी पिताजी स्वस्थ हो जाएँ... इस नुस्खे के लिए बहुत बहुत शुक्रिया.. लेकिन ice ५-५ मिनट के लिए कितनी बार बांधनी है? क्या सारा दिन?
    जय हिंद....

    ReplyDelete
  5. mamaste ji,
    ab kaise hain aap or aapke pitaa ji????

    aapne achchi raay di hain.
    bhagwaan naa kare ki kisi ko moch aaye, lekin agar by-the-way aa bhi jaaye to aapki tips laabhdaayak hain.
    waise mujhe ek baat samajh main nahi aayi ki-"pair main baraf sake or garam pattaa baandhkar rakhnaa uchit hogaa??? meraa matlab garam-sard nahi ho jaayegaa????"

    (please if possible, kindly reply to my blog's comment box or my email address chanderksoni@yahoo.com)

    thanks.

    www.chanderksoni.blogspot.com

    ReplyDelete
  6. इस पोस्‍ट में आपने अच्‍छी जानकारी दी है .. बहुत आभार !!

    ReplyDelete
  7. ओह डा. साहब पिताजी का सुन कर दुख हुआ, उनका ख्याल रखिए । और ये क्या कृपया कोशिश कीजीए न ,इस बार तो सोच रहा था कि आपसे मुलाकात का सौभाग्य तो मिलेगा ही , यदि जरा सा भी समय मिले तो सुबह ११ से ४ के बीच मुझे इंतजार रहेगा
    अजय कुमार झा

    ReplyDelete
  8. डॉक्टर साहब,
    बिल्कुल दुरूस्त फरमाया, आदमी सोचता क्या है, लेकिन होता वही है जो ऊपर वाला चाहता है...सबसे पहले सीनियर
    दराल सर का ख्याल कीजिए...बाकी मिलने के तो बहाने आगे भी बनते रहेंगे...लेकिन हां, बड़े दिन से इंतज़ार कर
    रहा था कि सात तारीख को आपसे मिलने का मौका मिलेगा...खैर, फिर कभी सही...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  9. डाक्टर साहब,
    सबसे पहले आपके पिताजी को स्वास्थ्य लाभ की शुभकामनायें।
    आज आपने मन खुश कर दिया। RICE से हमारा दोहरा रिश्ता है। पहला कि हम Rice University, Houston में पढते हैं। दूसरा कि हम एक Recreational Runner हैं, और थोडी चोट पेट लग जाने पर Rice ही ध्यान आता है। इस जानकारी को बांटने का शुक्रिया।

    एक प्रश्न भी है, कब गर्म सिकाई करनी चाहिये और कब ठंडी?

    ReplyDelete
  10. डा.दाराल साहिब ~ कहते हैं की भगवान जो करते हैं हमारे भले के लिए ही करते हैं. (या यूँ कहिये अपने भले के लिए ही क्यूंकि उनका स्वयं का अंश हर प्राणी के भीतर ही माना जाता है)...आशा है एक साथ आई परेशानियाँ: माई का अवकाश पर जाना, पिताजी का रक्तचाप बढ़ना और उस पर आपके पैर में मोच आना, शीघ्र समाप्त हो जायेंगी - उसी विघ्नहर्ता की कृपा से...

    आर आई सी ई के लिए धन्यवाद!

    ReplyDelete
  11. लाभकारी जानकारी,स्वस्थ रहें यही कामना है .

    ReplyDelete
  12. नुस्खा कारगर है!
    आपके पिता जी के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना करता हूँ!

    ReplyDelete
  13. यही कामना है कि आपके पिताजी को शीघ्रातिशीघ्र स्वास्थ्यलाभ मिले!

    सही बात है कि हमेशा आदमी के सोचे अनुसार ही नहीं होता। "मेरे मन कछु और है कर्ता के कछु और"।

    ReplyDelete
  14. ईश्वर आप दोनों को शीघ्र स्वस्थ करे

    ReplyDelete
  15. प्रिय चंदर सोनी, आपका सवाल वाजिब है।
    दरअसल गर्म पट्टी , क्रेप बैंडेज का आम आदमी वाला नाम है।
    क्रेप बैंडेज का काम कम्प्रेशन करना है।
    आइस कोल्ड एप्लीकेशन से और कम्प्रेशन , दोनों से सूजन आने से रोकते हैं।
    इससे बाद में स्टिफनेस कम होती है।
    ये चारों तरीके , टिश्यु डैमेज को कम करते हैं, इन्फ्लामेशन को कम करते हैं, और हीलिंग में सहायता करते हैं।
    आइस पैक शुरू में आधे घंटे के अंतर पर , कुछ घंटों के बाद दो घंटे में एक बार कर सकते हैं।
    अगले २४ घंटे और बेहतर है की ४८ घंटे तक ऐसा ही करना चाहिए। उसके बाद स्टिफनेस को कम करने के लिए हल्का हॉट फोमेंटेशन कर सकते हैं , अल्तार्नेटली।

    ReplyDelete
  16. भाई अजय और खुशदीप , पिताजी की तबियत अब ठीक है । बस अहतियात के तौर पर हॉस्पिटल में रखा है।
    इसलिए मैं कुछ समय के लिए अवश्य आ पाऊंगा।
    मेरी भी बहुत तमन्ना है , आप सब से मिलने के लिए।

    दीपक और नीरज भाई, आपके सवाल का ज़वाब दे दिया है ।

    आप सब का बहुत बहुत शुक्रिया।

    ReplyDelete
  17. लाभकारी जानकारी के लिए शुक्रिया. आपके और आपके पिताजी को स्वास्थ्य लाभ की कामना

    ReplyDelete
  18. पिता जी के शीघ्र स्वस्थ होने की शुभकामना -RICE के लिए शुक्रिया !

    ReplyDelete
  19. बहुत ही काम की बात बताई आपने। आभार।
    पिताजी के शीघ्र स्वास्थ्यलाभ की कामना के साथ
    जाकिर

    ReplyDelete
  20. बातों ही बातों में मोच का सही इलाज बता दिया आपने डाक्टर साहब ..... बहुत धन्यवाद ........ बहुत ही काम की बात ....

    ReplyDelete
  21. पिता जी के शीघ्र स्वस्थ होने की शुभकामना ....

    ReplyDelete
  22. ये पकाने वाले राईस से अच्छा है कम से कम आराम करने को तो कहता है बहुत उपयोगी टिप धन्यवाद

    ReplyDelete
  23. मोच का बढ़िया इलाज बताया आपने ...

    ReplyDelete