top hindi blogs

Wednesday, September 28, 2022

विदेश में रह कर अर्जित ज्ञान --

 विदेश का ज्ञान:


जेब में रुमाल, पर्स में पैसे और 

बैक पॉकेट में कंघी नज़र आए तो 

समझ जाओ कि बंदा हिंदुस्तानी है। 


ऊंची बिल्डिंग्स की चोटी को ऐसे देखे 

कि सिर से टोपी ही गिर जाए तो 

समझ जाओ कि बंदा हिंदुस्तानी है। 


आस पास हर शख्स को ताके झांके

और किसी हूर को घूरता नज़र आए तो 

समझ जाओ कि बंदा हिंदुस्तानी है। 


बस का सफ़र हो या ट्रेन का

आते ही चलो चलो बोलने लग जाए तो

समझ जाओ कि बंदा हिंदुस्तानी है। 


चौराहे पर खड़ा हो या जेब्रा क्रॉसिंग

गाड़ी को आते हुए देखते ही रुक जाए तो

समझ जाओ कि बंदा हिंदुस्तानी है। 


बंदा हिंदुस्तानी हो और आपके सामने से

यूँ अकड़ कर निकले जैसे टॉम क्रूज हो तो 

समझ जाओ कि बंदा पक्का हिंदुस्तानी है।

Thursday, July 28, 2022

विदेशी बच्चे और स्वदेशी मात पिता की मज़बूरी --

खुले दरवाज़े की 

बंद जाली के पीछे से 

बूढी अम्मा की पथराई आँखें,

ताक रही थीं सूने कॉरिडोर को।  

इस आशा में कि कोई तो आए, 

या कोई आता जाता ही दिख जाए।  


लेकिन बड़े शहर की 

पॉश बहुमंज़िला ईमारत के, 

एक ब्लॉक के २८ मकानों में 

रहते ही थे ३० लोग ।  

कई मकान थे खाली, कइयों में  

नव विवाहित किरायेदार।  

और बाकियो में रह रहे थे अकेले 

विदेशों में बस गए युवाओं के 

मां-बाप, जो दिखते  

बूढ़े हाथों में सब्ज़ियों का थैला उठाये।   

या खाली मां या अकेला बाप

बूढी अम्मा की तरह।  


ऐसा नहीं कि विदेशी बच्चे 

मात पिता की परवाह नहीं करते।  

अमेज़ॉन से हर दूसरे दिन 

कोई न कोई पैकेट भिजवाकर   

रखते हैं पूरा ख्याल।  

कभी चिप्स, कभी ड्राई फ्रूट्स तो कभी कोला, 

लेकिन जब घर आने के लिए बोला ,

तो बेटे को महँगी टिकट का ख्याल 

मां बाप से ज्यादा आता है।  

बहु को भी बच्चों का बंधन 

बड़ा नज़र आता है।  


उन्ही बच्चों का लालन पालन  

इन्हीं मात पिता ने इसी तरह किया था 

अपने अरमानों पर अंकुश लगाकर।  

आबादी भले ही १४० करोड़ पार कर जाये, 

देश भले ही विश्व में नंबर एक पर आ जाये।  

पर उनका तो एक ही बच्चा है ,

बूढी अम्मा समझती है 

बेटे की दूरी और दूरी की मज़बूरी।  


बस मोतियाबिंद से धुंधलाई आँखों की 

सूखी पलकों में ,

अश्क का एक कतरा अटक गया है। 

कॉरिडोर और धुंधला नज़र आ रहा है , 

शायद कोई आ रहा है, 

या फिर 

कोई आने जाने वाला जा रहा है।   


नोट : यह रचना किसी को रुला भी सकती है।    

Saturday, July 23, 2022

प्रेशियस चाइल्ड की देखभाल --

आज फिर हमने कटिंग कराई,

आज फिर अपनी हुई लड़ाई।

हमनें कहा नाई से,

बाल ज़रा कुछ तो काटो भाई।


ले लो भले ही जितना माल चाहिए,

वो बोला,

काटने के लिए भी तो बाल चाहिए।

सिर पर चार बाल हैं, क्या छाटूँ,

समझ नहीं आता किसे छोडूं किसे काटूं।


जब पैसे देने की बारी आई,

तो हमने दलील सुनाई,

कि अब पैसे भी अनुपात में ही लो भाई।

वो बोला, जनाब

कीमत तो चार बाल की भी पूरी देनी पड़ती है,

आखिर प्रेशियस चाइल्ड की देखभाल

तो सबसे ज्यादा करनी पड़ती है।

Friday, July 15, 2022

आम के आम और गुठलियों के भी दाम --


हमने जो कहा पत्नी से एक कप चाय पिलाने को,

वो एक डोंगा दे गई मलाई से मक्खन बनाने को । 


अब हम बैठे बैठे चाय के इंतज़ार में भुनभुना रहे हैं,

एक घंटे से मलाई को गोल गोल घुमाए जा रहे हैं ।


चलाते चलाते हमें बचपन में दादी की रई याद आ गई,

मिक्सी क्या खराब हुई घुमाते घुमाते नानी याद आ गई।  


घी निकालने को भी कितने ताम झाम करने पड़ते हैं,

रिटायर्ड बंदे को देखो कैसे कैसे काम करने पड़ते हैं। 


मक्खन निकला पर थक कर हमारी क्या शक्ल बन गई,

अब एक हाथ पतला है और दूसरे की मसल्स बन गई। 


एक घंटे की मशक्कत के बाद मामला संभल पाया है। 

शुक्र है कि मक्खन के साथ छाछ भी निकल आया है। 


चाय मलाई के चक्कर में अपनी तो पत्नी से ठन गई,

पर मक्खन निकालते निकालते ये तो ग़ज़ल बन गई। 



Monday, June 27, 2022

अफ़सर से बने नौकर --

 

रिटायरमेंट ने काम से नाता अटूट बना दिया है , 

हमें कामवाली बाई का सब्स्टीस्यूट बना दिया है।  


जब भी कामवाली बाई लम्बी छुट्टी भग जाती है , 

घर के काम करने की अपनी ड्यूटी लग जाती है।  


गर्मी के मौसम में समझो मुसीबत आ जाती है, 

शुक्र है लॉकडाउन की ट्रेनिंग काम आ जाती है।  


एक दिन तो सामने वाली आंटी ने आवाज़ लगाई, 

बोली बेटा आज छुट्टी पर है मेरी कामवाली बाई।  


कोई सबस्टीच्यूट हो तो दो चार दिन को बुलाना, 

हम समझ गए कि ये तो हमें पेलने का है बहाना।    


अब तो मोहल्ले भर में हम वेल्ले मशहूर हो गए हैं , 

लगता है जैसे अब डॉक्टर नहीं मज़दूर हो गए हैं।  


उस पर पत्नी कहती है काम करोगे तो व्यस्त रहोगे, 

हाथ पैरों के जोड़ सलामत रहेंगे और स्वस्थ रहोगे।  


जाने सरकार को क्या जल्दी थी हमें घर बिठाने की,

अभी तो हम बहुत सेवा कर सकते थे ज़माने की।  


पर जवानी में घर बिठाकर लल्लू शौहर बना दिया है,

और सरकारी अफ़सर से हमें घरेलू नौकर बना दिया है।    


Friday, June 24, 2022

प्रकृति से भयंकर छेड़ छाड़ --

 कंडाघाट से चैल जाने वाली सड़क यूं तो रूरल एरिया से होकर जाती है। लेकिन सारे रास्ते पड़ने वाले गांवों/घरों में अब होटल/रिजॉर्ट/होम स्टे खुल गए हैं। ज़ाहिर है, मेन रोड़ पर प्रॉपर्टी सदा ही सोना उगलती रही है। लेकिन जो सबसे ख़तरनाक बात देखी वो थी रास्ते मे पड़ने वाली एक पहाड़ी नदी का दोहन। चैल से लगभग 15 किलोमीटर पहले एक गांव पड़ता है जो अब कस्बा बन गया है। दो पहाड़ों के बीच बहती एक छोटी सी जलधारा के किनारे बसा यह गांव सतपुला कहलाता है। यहां तलहटी में नदी को पार करने के लिए एक पुल बना है जिसके द्वारा एक पहाड़ से दूसरे पहाड़ तक जाया जाता है। शायद इसी से यह नाम पड़ा होगा।

2015 में जब यहाँ आये थे तब यह पुल टूट गया था। इसलिए सारी गाड़ियां नदी में उतरकर नदी को पार करती थीं। दोनो ओर सीधी ढलान पर कच्चा रास्ता बहुत कठिन था। लेकिन गांव वालों ने इसे ब्लेसिंग इन डिसगाइज समझकर व्यवसायिक लाभ उठाते हुए नदी किनारे चाय पानी के अनेक किओस्क/ ढाबे खोल दिये। गाड़ीवालों के उत्साह को देखते हुए नदी के बीचों बीच टेबल चेयर भी डाल दीं। लोग भी पानी मे पैर लटकाकर बड़े मजे से चाय पकौड़ों का आनंद लेते थे। नदी का पानी भी साफ था।
लेकिन इस बार देखा कि पुल तो सही सलामत था और सारा ट्रैफिक वहीं से गुज़र रहा था, लेकिन नदी का पाट अब एक कैम्पिंग साइट बन गया था। नदी के एक किनारे तो वही पुराने ढाबे थे, लेकिन दूसरी ओर आधुनिक टेन्टेड कैम्प्स बन गए थे। लगभग एक किलोमीटर तक बीसियों कैम्प बने थे। आगे की ओर तो बहुमंज़िला रिजॉर्ट/ होटल भी बने थे। एक 4-5 फुट ऊंची दीवार शायद यह सोचकर बनाई गई थी कि यदि बाढ़ आ जाये तो कैम्प्स को नुकसान न हो। हालांकि पहाड़ों में जब बादल फटता है तो 4 क्या, 40 फुट ऊंची दीवार भी काम नहीं आती।
सबसे खराब बात ये पता चली कि इन सभी होटल्स का सीवर नदी में ही जा रहा था। ऊपर की ओर जहां से नदी निकलती थी, वहां तो बिलकुल नदी के ऊपर होटल बने थे। कोई हैरानी नहीं थी कि नदी का पानी काला क्यों देख रहा था।
अब सोचने की बात ये है कि किसने इज़ाज़त दी होगी इस अतिक्रमण के लिए। क्या प्रशासन आंखे बंद कर के बैठा है। या सब मिलीभगत से हो रहा है। पता चला कि सब प्रॉपर्टीज वहां के प्रभावशाली लोगों की हैं। यानी रक्षक ही भक्षक हो गए हैं। फिर आम जन भी क्षणिक आनंद के चक्कर मे अपना फर्ज़ भूल रहे हैं, आने वाली पीढ़ी के लिए।
प्रकृति का ऐसा निर्मम दोहन कहीं और देखा है क्या !
rs






Wednesday, June 22, 2022

चैल, शिमला के पास एक सुंदर, शांत हिल स्टेशन --

यदि आप भीड़ भाड़ से दूर एक शांत जगह पर गर्मी से राहत पाने के लिए पहाड़ों में कुछ दिन बिताना चाहते हैं तो चैल (चायल) एक ऐसी ही सुंदर, शांत और प्रकृति के नज़दीक जगह है। दिल्ली से लगभग 350 किलोमीटर दूर, यहां जाने के लिए रास्ता भी बिलकुल सीधा और साफ़ है। कालका शिमला हाइवे पर कंडाघाट से दायीं ओर एक सड़क जाती है जो विभिन्न गांवों से होती हुई सीधे चैल जाती है।

चैल में दो या तीन रात रुकना काफ़ी है। यहां एक पहाड़ पर काली टिब्बा नाम की चोटी पर काली मंदिर है, जहां से 360 डिग्री व्यू नज़र आता है। इसके अलावा चैल शहर में चैल पैलेस ही देखने लायक जगह है, जहां प्रवेश के लिए 100 रुपये का टिकट है। महल में कुछ खास नहीं है, लेकिन उसके बाहर लॉन और आस पास का क्षेत्र बहुत हरा भरा और मनमोहक है। आप चाहें तो यहां एक रात रह भी सकते हैं। लेकिन एक रात का किराया महाराजा सुइट में 25000, महारानी सुइट में 11500 है। हालांकि सबसे सस्ता कमरा राजकुमार का 5200 का है। बाकी एक क्रिकेट ग्राउंड है जिसे दुनिया का सबसे ऊंचाई पर बना क्रिकेट मैदान कहते हैं। हालांकि इसमें देखने वाली कोई बात नही है।
आप चैल से शिमला घूमकर भी शाम तक वापस आ सकते हैं। रास्ते में एक चोटी पर स्टोन टेम्पल बना है, जहां तक पहुंचने में आपकी ड्राइविंग स्किल्स का पूरा इम्तिहान हो जाएगा। शिमला के रास्ते मे कुफरी भी आता है, जहां आपको भीड़ के सिवाय कुछ नहीं मिलेगा। लेकिन कोई बात नहीं, वहां आप सरकारी कैफे में कॉफी पीकर आगे बढ़ सकते हैं।
चैल में रुकने के लिए ग्रैंड सनसेट होटल एक बढ़िया विकल्प है जो शुरू में ही मेन रोड़ पर है। यहां से वैली व्यू और सनसेट बहुत बढिया नज़र आता है। यह आस पास स्थित सभी होटल्स में सबसे बढ़िया है।
-- क्रमश:
nd 17 others




5 comments


Sunday, June 12, 2022

एक लेखक की व्यथा --


फेसबुक पर फेसबुकी 

कवितायेँ लिखते लिखते, 

रामलाल को हो गया गुमान। 

कि अपुन तो लेखक बन गए महान।   

फिर एक दिन हिम्मत करके 

पत्नी के गुल्लक से पैसे निकाले, 

और कर दिए हिम्मत लाल प्रकाशक के हवाले।  

सीना २४ इंच से बढ़कर २५ इंच का हो गया, 

जब छपकर हाथ में आ गई किताब। 

सोचा अब तो साहित्य रत्न का 

लेकर रहेंगे खिताब।    

फिर जितने भी मिले बाल लाल पाल,

सबको बाँट कर सोचा , 

लो जी हम भी साहित्य में हो गए मालामाल।   


एक रात 

श्यामलाल से हो गई मुलाकात, 

बात बात में रामलाल ने कहा श्यामलाल , 

कैसा है हाल चाल ?  

पढ़ी ? 

वो बोला क्या ? 

रामलाल ने कहा, किताब।  

वो बोला ज़नाब, अभी कहाँ पढ़ी है, 

अभी तो जो पुस्तकें मेले में खरीदी थी, 

वही अलमारी में बंद पड़ी हैं।  

आजकल पढ़ने लिखने का 

वक्त ही कहाँ मिल पाता है।  

फिर कॉम्प्लिमेंट्री का नंबर तो

बड़ी मुश्किल से  ही आता है।    


फिर एक दिन 

मिल गए प्रॉफेसर प्यारेलाल,

बिन पूछे ही हाल चाल

कर दिया वही सवाल, 

कि पढ़ी ? 

सुनते ही प्रॉफेसर ने लगा दी बहानों की झड़ी। 

बोले अभी लेक्चर कई लेने हैं,   

दो साल से पड़े पेपर्स जर्नल्स में देने हैं।  

एग्जाम पास आ रहे हैं, 

अब आप ही बताइये ज़नाब, 

कि पी जी की थीसिस पढ़ें या आपकी किताब।   


चार महीने बाद भी 

किताब तो मोहन लाल ने भी नहीं पढ़ी थी, 

पता चला कि 

उन पर एक अजीब मुसीबत आन पड़ी थी।  

बड़े सरकारी अफ़सर हैं पुरजोर , 

पर आजकल हाज़मा बिगड़ गया है। 

टॉयलेट में घंटों लगाना पड़ता है जोर।  

रामलाल बोले, भाई साहब ज़रा कम खाया करो, 

भला इतना क्यों पेट भरते हैं ।  

वैसे बड़े अफ़सर तो अक़्सर ,

टॉइलेट में बैठकर ही पढ़ा करते हैं।    


एक महाशय तो काम में 

इस कदर रहते हैं मशगूल।  

कि किताब का नाम ही गए भूल । 

आलसी तो ऐसे कि 

सारे काम पड़े रहते हैं अधूरे, 

उस पर भुलक्कड़ हैं पूरे। 

एक दिन सारी किताबें कबाड़ी को दे आये,

फिर बड़े घबराए, 

क्योंकि बहुत बड़ा कबाड़ा कर आए थे।  

रामलाल की किताब के साथ साथ 

अपनी पत्नी की किताबें भी कबाड़ी को दे आये थे।  


दोस्तो, 

लेखन लेखक का जुनून होता है, 

वह जब भी खाता पीता 

जागता सोता है। 

मन में विचारों का ताँता लगा रहता है, 

लेकिन दिल में बस 

यही कामना रखता है।  

कि लोग उन्हें पढें, 

तारीफ़ करें या गलतियां निकालें, 

पर आपकी धरोहर को संभालें 

क्योंकि एक दिन लेखक तो चला जाता है, 

पर उसका वज़ूद उसकी किताब में रह जाता है।      


 

Saturday, June 4, 2022

 आज एक ग़ज़ल बन गई:


अकेले बहुत है दुनिया में पर,वो ख़ुशगवार नहीं मिलते,

केले तो बहुत मिलते हैं पर, वो चित्तीदार नहीं मिलते। 


ठंडा पानी तो बहुत मिल जाता है, बेस्वाद रेफ्रिजरेटर से,

पर सोंधा सा मटका बनाने वाले, वो कुम्हार नहीं मिलते। 


दोस्त तो बहुत मिल जाएंगे, इस दुनिया की भीड़ में, 

पर दोस्ती पर जान लुटाने वाले, वो यार नहीं मिलते। 


सवारियां तो बहुत दौड़ती हैं, इन शहरों की  सड़कों पर,

पर सम्मान के रक्षक जांबाज़, वो घुड़सवार नहीं मिलते। 


विकास ने लोगों की जिंदगी में, कर दिया ऐसा परिवर्तन,

कि तमाशा देखती गूंगी भीड़ में, वो मददगार नहीं मिलते। 


अपनी तो सोम से रवि सातों दिन, छुट्टी ही छुट्टी है दोस्तो, 

किया करते थे बेसब्री से इंतज़ार, वो इतवार नहीं मिलते।

Tuesday, May 31, 2022

अन्नाडेल हो गया - एक संस्मरण :

 

मेडिकल कॉलेज के थर्ड ईयर में १९७७ में पहली बार दिल्ली से बाहर घूमने जाना हुआ। हम सात लड़कों का समूह निकला शिमला के लिए। युवा दिल और युवा तन मन के साथ जून के महीने में शिमला का मौसम, सब कुछ एक सपने जैसा था। माल रोड़ पर मिल गया टूरिस्ट इन्फॉर्मेशन सेंटर, जहाँ से वहां के सभी टूरिस्ट पॉइंट्स की पूरी जानकारी मिल गई।  शिमला के आस पास के सभी टूरिस्ट पॉइंट्स पर घूम लिए। लेकिन शिमला के अंदर ही एक पॉइंट मिला जो बहुत रोमांटिक लगा। नाम था अन्नाडेल। बुकलेट में लिखा था कि अन्नाडेल एक बहुत ही खूबसूरत जगह है जहाँ हेलीपेड और क्रिकेट ग्राउंड है , साथ ही वहां एक खूबसूरत स्प्रिंग (जलधारा) बहती है, जहाँ बैठकर पिकनिक मनाई जा सकती है। माल रोड़ जहाँ से शुरू होती है, वहीँ से एक रास्ता जाता है अन्नाडेल की ओर जो बहुत ढलान वाला रास्ता था।  लेकिन हम कूदते फांदते पहुँच ही गए। वहां पेड़ों के बीच से वह स्थल दिखाई दिया, धारा भी देख रही रही, लेकिन वहां तक जाने का कोई रास्ता नहीं था। सड़क से करीब १० फुट नीचे उतरना था नदी तक पहुँचने के लिए।  हम भी जोश में टार्ज़न की तरह पेड़ों की शाखाओं से लटककर नीचे कूद गए। हरी हरी घास के बीच एक पतली सी जल धारा बह रही थी, किनारों पर घास में कई युवा जोड़े बैठे थे।  मौसम तो सुहाना था ही।  खैर हमने भी स्नैक्स आदि खाये और कुछ देर बैठकर खुशी ख़ुशी वापस आ गए।  कुल मिलाकर बड़ा मज़ा आया।  


फिर वर्षों बाद १९९२ में बच्चों के साथ दोबारा जाना हुआ।  सब घूम फिर कर हमें अन्नाडेल की याद आ गई तो हमने कहा कि चलो एक बहुत खूबसूरत जगह दिखाते हैं। १५ साल बाद काफी कुछ बदल चुका था, इसलिए हमने किसी से अन्नाडेल का रास्ता पूछा।  रास्ता तो उसने बता दिया लेकिन जब हमने कहा कि क्या वहां एक खूबसूरत स्प्रिंग (जल धारा) अब भी बहती है, तो वो बोला, जी स्प्रिंग का तो पता नहीं पर एक गंदा नाला तो बहता है। यह सुनकर हमें धक्का सा तो लगा लेकिन मन में विश्वास था कि उसे शायद पता नहीं होगा। इसलिए चल दिए अन्नाडेल की ओर।  वहां जाकर जो निराशा हुई वह बयान नहीं की जा सकती।  वहां वास्तव में अब कुछ नहीं था, सब पेड़ कट चुके थे, स्प्रिंग की जगह एक गंदा नाला बह रहा था और घास का नामो निशान नहीं था। न कोई इंसान दिखा न इंसान की जात।  हार कर हम वापस मुड़ लिए।  लेकिन साथ ही स्टेडियम में क्रिकेट मैच चल रहा था, बच्चों को सांत्वना देने के लिए बस कुछ देर स्टेडियम में बैठकर मैच देखा और वापस आ गए।  

ऐसी परिस्थिति में पुराने ज़माने में इंग्लिश में कुछ कहते थे।  लेकिन अब जब भी कभी ऐसी कोई बात होती है तो हम कहते हैं - ये तो अन्नाडेल हो गया।                  


Wednesday, May 25, 2022

ऐसा भी होता है-

 

एक शादी में होकर घर वापस आ रहे थे। ज्यादा देर नहीं हुई थी, यही कोई रात के साढ़े नौ बजे होंगे। दिल्ली में आउटर रिंग रोड़ काफ़ी चौड़ी बनाई गई है , हालांकि वहां रुकावट के लिए खेद जताए बिना ही कुछ न कुछ काम चलता ही रहता है। इसलिए कहीं कहीं सड़क कम चौड़ी भी रह जाती है।
रोहिणी से आते हुए बुराड़ी के पास अचानक बाइक पर बिना हेलमेट सरपट दौड़ते हुए दो युवक नज़र आए। पीछे बैठा युवक हमारी ओर देखकर हाथ को गोल गोल घुमाकर कुछ इशारा कर रहा था ,मानो टायर पंक्चर होने का संकेत दे रहा हो। लेकिन गाड़ी बिल्कुल सही चल रही थी और पंक्चर होने की कोई संभावना नज़र नहीं आ रही थी। फिर सोचा, कहीं कोई गेट तो नही खुला रह गया। लेकिन ऐसा भी नहीं था। न ही कोई कपड़ा बाहर लटक रहा था। खैर आश्वत होकर हम गाड़ी चलाते रहे। बाइक वाले भी अंधेरे में दिखने बंद हो गए।
थोड़ी दूर जाने पर जाने कहाँ से वे फिर साइड में आ गए और फिर वैसे ही जोर जोर से इशारा करने लगे। अब हम समझ गए कि मामला गड़बड़ है । इसलिए तुरंत बीच वाली लेन छोड़कर हम सबसे दायीं लेन में आ गए। ट्रैफिक बहुत था। अंततः वे गायब हो गए।
अब बात सोचने की ये है कि वो कौन थे, क्या कहना या करना चाह रहे थे। और यदि हम बिना दिमाग का इस्तेमाल किये गाड़ी साइड में लगाकर चेक करने लग जाते, तो क्या हो सकता था। रात में बीवी के साथ शादी या पार्टी में शहर से बाहर जाना कितना खतरनाक हो सकता है, इसका आभास हमें उस दिन हुआ। नई साड़ी और कुछ न कुछ जेवर पहन कर सजी धजी महिला को ये लोग गिद्ध की नज़र से ढूंढ लेते हैं। फिर कुछ भी हो सकता है।
ऐसे में एक तो ये ध्यान रखें कि हमेशा दायीं वाली लेन में चलें। वह सबसे सुरक्षित होती है। दूसरे किसी भी अनजान व्यक्ति पर विश्वास न करें। किसी वज़ह से रुकना भी पड़े तो किसी ऐसी जगह रुकें जहां और लोग भी हों, अंधेरे में सुनसान जगह नहीं। आजकल सब गाड़ियों में ट्यूबलेस टायर होते हैं, इसलिए पंक्चर होने पर भी एकदम रुकने की ज़रूरत नहीं। बस इन बातों का ध्यान रखें और सुरक्षित रहें।



Wednesday, May 18, 2022

एक लघु कथा:

गूगल बाहर का तापमान 42 दिखा रहा था। घर के सभी खिड़की दरवाज़े बंद कर
(खिड़कियां तो वैसे भी कभी नहीं खोलते। पता नही एक खिड़की में दो दो खिड़कियां लगवाई क्यों थीं। शायद वो पुराना ज़माना था, पुरानी सोच थी।),
हम अपने कमरे में आराम से बैठे अपनी ही कविताएं पढ़ रहे थे (कोई दूसरा पढ़े ना पड़े, हम तो पढ़ ही सकते हैं)।
तभी अचानक एक गहरे काले रंग का पक्षी अंदर से ही उड़ता हुआ आया और कमरे में बुलेट ट्रेन की स्पीड से गोल गोल चक्कर काटने लगा। न जाने कहाँ से और कैसे घर मे घुसा, यह बिल्कुल समझ में नहीं आया। कई घंटे हुए कोई दरवाज़ा नहीं खुला था। शायद सुबह ही घुसा होगा और कहीं छुपकर सो गया होगा, ज़बरदस्ती का मेहमान बनकर।
उसकी स्पीड देखकर तो हमें ही चक्कर से आने लगे। सोचा ये तो चमगादड़ लग रहा है, काट भी सकता है। यदि चिपट जाता तो छुड़ाना मुश्किल हो जाता। अब पहले तो हमने बाहर की ओर खुलने वाला दरवाज़ा खोला, लेकिन उसने कोई ध्यान नहीं दिया। उसी तरह उसी स्पीड से उड़ता रहा। फिर लाइट बंद की, फिर भी एक काली परछाई सी पंखे की तरह चलती दिखाई देती रही।
शाम होने लगी थी, लेकिन उसकी स्पीड कम नही हुई। ऐसा लगने लगा था जैसे आज तो कमरे में यही सोएगा। पर अब हमने कमर कस ली और डट कर मुकाबला करनी की सोची। एक झाड़ू हाथ मे लेकर उसे हवा में घुमाना शुरू किया ताकि उसका ध्यान भंग हो। लेकिन उस पर कोई असर नहीं हुआ। अब तो हम भी कमरे में ही घुस गए और उस पर निशाना साधने लगे। इस बीच श्रीमती जी को याद आया कि लोग इस पर तौलिया फेंककर पकड़ लेते हैं। लेकिन वह तरीका भी कारगर साबित नहीं हुआ।
अब तक हम झाड़ू घुमा घुमा कर पसीना पसीना हो चुके थे। हैरानी थी कि थकने भी लगे थे, आखिर करीब 20 मिनट से मेहनत करने में लगे थे। लेकिन वो नहीं थका था। खैर, हमने एक आखिरी दांव लगाने की सोची और झाड़ू को उठाकर स्थिर रखते हुए उसके चक्करव्यूह को भेदने की सोची। अर्जुन की तरह मछली की आंख में निशाना लगाया और एक निश्चित स्थान पर एक निश्चित समय पर प्रहार करने का प्रयास किया। आखिर 4-5 सर्कल्स के बाद निशाना सही बैठ ही गया और वह लुढ़ककर बेड पर जा गिरा। ज़ाहिर था, चोट खाकर वह बेहोश या पस्त हो गया था। इस बीच हाथ मे तौलिया लिए मेडम ने उसे धर दबोचा जैसे फिल्मों में अपहरणकर्ता सिर पर कपड़ा डालकर किसी को पकड़ लेते हैं।
उसे उठाकर बालकनी से बाहर फेंका तो अंधेरे में पता भी नहीं चला कि कहां उड़ गया। ये सोचकर अच्छा लगा कि सिर्फ कुछ पल के लिए बेहोश ही हुआ था, मरा नहीं था। और इस तरह हमने एक बिन बुलाए मेहमान से निज़ात पाई। इस तरह का वाकया ज़िंदगी मे पहली बार हुआ।