Wednesday, December 9, 2009

दिल्ली का निगम बोध घाट --एक अन्तिम पड़ाव ---दी अल्टीमेट डेस्टिनेशन.

दिल्ली का निगम बोध घाट। शायद ही कोई दिल्लीवासी हो जिसने इसका नाम न सुना हो या कम से कम एक बार जीते जी जीवन में यहाँ न आया हो।

जी हाँ, निगम बोध शमशान भूमि, कश्मीरी गेट के सामने , रिंग रोड पर यमुना के पश्चिमी किनारे पर बना है।

मुख्य द्वार से प्रवेश करते ही आप एक ऐसे वातावरण में पहुँच जाते हैं, जहाँ पहुंचते ही आपके चेहरे के भाव स्वत: ही बदल जाते हैं। मन में उमड़ते घुमड़ते विचारों का ताँता एक बारगी ठप सा हो जाता है।

कुछ पलों के लिए मस्तिष्क शून्य हो जाता है

यहाँ का माहौल ही कुछ ऐसा है।

एक तरफ़ वातावरण में लाउड स्पीकर पर गूंजते भजन, शब्द और धार्मिक गीत आपके विचलित मन को शांत करने का काम करते हैं, वहीं वायु में फैली लकड़ियों और मानव मृत शरीर के हाड -मांस के जलने की मिश्रित गंध , आपको आभास दिलाती हुई की संसार में सब मिथ्या है। जीवन की यही सच्चाई है की एक दिन हम सबको इसी गंध का हिस्सा बन जाना है।

यहाँ से बाहर ये गंध आपको कहीं नही मिलेगीयही तो विशेषता है इस जगह की --क्योंकि यही अन्तिम पड़ाव है

बाहरी संसार में रहते हुए हम ये कभी सोच भी नही पाते की इस संसार में कुछ भी स्थायी नही है, सब कुछ नश्वर है।
फ़िर किस बात का झगडा, किस बात की लड़ाई।
क्या तेरा है, क्या मेरा है।
सब यहीं तो रह जाना है।
फ़िर
भी हम रेगिस्तान के मृग की तरह अंधाधुंध दौड़ते रहते हैं, एक अनजानी पिपाषा में।

आज फ़िर उस द्वार जाना हुआ ,
आज फ़िर इक दोस्त रवाना हुआ

नोट : यह पोस्ट लिखी गई है , पंजाब केसरी के वरिष्ठ पत्रकार , श्री कैलाश भारद्वाज की स्मृति में , जिनका २७ नवम्बर को असामयिक निधन हो गया। आज उनकी रस्म- पगड़ी थी।
कैलाश जी एक लंबे अरसे से बीमार थे , और हमारे यहाँ ही इलाज़ करा रहे थे। अस्पताल से जब छुट्टी हुई , तो मुझसे मिलकर गए और विशेष रूप से धन्यवाद कर के गए , उनका पूरा ध्यान रखने के लिए । लेकिन वही हमारी अन्तिम मुलाकात थी।

इश्वर से प्रार्थना है की उन्हें अपने चरणों में जगह प्रदान करे और शोक संतप्त परिवार को इस क्षति को सहन करने की शक्ति दे

19 comments:

  1. डा० स्वर्गीय कैलाश भारद्वाज को मेरी भी श्रदांजली !

    आपको इस बात की बधाई कि आप अपने इस ब्लॉग को रिकवर कर पाने में सक्षम रहे !

    ReplyDelete
  2. स्वर्गीय कैलाश भारद्वाज को विनम्र श्रद्धासुमन अर्पित करता हूँ ... ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें

    ReplyDelete
  3. लेकिन वहाँ ले आकर तो फिर से ..... में लग जाते हैं।

    ReplyDelete
  4. पंजाब केसरी के वरिष्ठ पत्रकार , स्व. कैलाश भारद्वाज को
    श्रद्धाञ्जलि!

    ReplyDelete
  5. स्व. कैलाश भारद्वाज को श्रद्धाञ्जलि!

    ReplyDelete
  6. पंजाब केसरी के वरिष्ठ पत्रकार , स्व. कैलाश भारद्वाज को
    श्रद्धाञ्जलि!

    ReplyDelete
  7. परमात्मा कैलाश जी की आत्मा को शांति दे और उनके करीबियों को दुख सहने का संबल...

    वैसे यही सबसे बड़ा सच है...

    संसार की हर शह का इतना ही फ़साना है
    इक धुंध से आना है, इक धुंध में जाना है...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  8. पंजाब केसरी के वरिष्ठ पत्रकार , स्व. कैलाश भारद्वाज को
    श्रद्धाञ्जलि!

    पोस्ट सन्मार्ग दिखा रही है. डाकटर साहब , आपको बधाई !

    ReplyDelete
  9. पंजाब केसरी के वरिष्ठ पत्रकार , स्व. कैलाश भारद्वाज को
    श्रद्धाञ्जलि! ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें

    ReplyDelete
  10. शुक्रिया सुलभ जी, पूरी पोस्ट पढने का।
    शाश्त्री जी आपकी बात सही है। काफी लोग तो ऐसे हैं, जो वहां भी अन्दर कुछ और, बाहर कुछ और होते हैं।

    ReplyDelete
  11. Ek antim saty yaad diya aapne..mere raungte khade ho gaye..

    http://shamasansmaran.blogspot.com

    http://aajtakyahantak-thelightbyalonelypath.blogspot.com

    http://kavitasbyshama.blogspot.com

    ReplyDelete
  12. स्वर्गीय कैलाश भारद्वाज जी को हमारी भी विनम्र श्रद्धाँजली। धन्यवाद्

    ReplyDelete
  13. आप सभी का बहुत बहुत शुक्रिया।
    आदमी यदि इस सत्य को याद रखे तो शायद कभी बुरे कर्म करने का साहस ही न कर सके।

    ReplyDelete
  14. सच,
    जीवन की आखिरी सच्चाई
    अब कुछ नहीं रहेगा फकत याद के सिवा
    ये आखिरी सफर है ज़रा साथ दीजिये
    शाहिद मिर्ज़ा शाहिद

    ReplyDelete
  15. सच कहा डाक्टर साहब आपने...अंतिम पड़ाव पर जो भी दिवंगत को विदा करने आते हैं, दुखी होते हैं और संसार के क्षणिक होने के भाव से भर जाते हैं लेकिन इसे दरअसल शमशान वैराग्य कहा जाता है क्यूँ की शमशान से बाहर निकलते ही वो दुनिया जिसके नश्वर होने का भाव उन में अभी जगा था पल में ओझल हो जाता है और वो फिर वहीँ पहुँच जाते हैं जहाँ से आये थे...ऐसा ही होता है और ऐसा ही होता रहेगा क्यूँ की अगर ऐसा ना हो तो शायद ये दुनिया बहुत उदासी से भर जाएगी...
    मेरा एक शेर है, जिसे मैं तो कम से कम हमेशा गुनगुनाता रहता हूँ:
    जब तलक जीना है 'नीरज' मुस्कुराते ही रहो
    क्या पता हिस्से में अब कितनी बची है ज़िन्दगी

    नीरज

    ReplyDelete
  16. आपने बिल्कुल सही कहा है, नीरज जी।

    मैं भी बस इतना ही कहना चाहता हूँ की यदि आदमी इस सच्चाई को याद रखे और बुरे कर्मों से बचता रहे , तो इंसानियत की अच्छी सेवा होगी। बाकी तो --दी शो हैज टू गो ओन।

    ReplyDelete
  17. सच,
    जीवन की आखिरी सच्चाई
    अब कुछ नहीं रहेगा फकत याद के सिवा
    ये आखिरी सफर है ज़रा साथ दीजिये

    ReplyDelete
  18. ★☆★☆★☆★☆★☆★☆★☆★
    ब्लोग चर्चा मुन्नभाई की
    ★☆★☆★☆★☆★☆★☆★☆★

    ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥
    डॉ टी एस दरालजी
    डा० स्वर्गीय कैलाश भारद्वाज को श्रदांजली !
    महावीर बी. सेमलानी "भारती"
    ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥

    यह पढने के लिऎ यहा चटका लगाऎ
    भाई वो बोल रयेला है…अरे सत्यानाशी ताऊ..मैने तेरा क्या बिगाडा था

    हे प्रभु यह तेरापन्थ

    मुम्बई-टाईगर

    ReplyDelete
  19. सब कुछ यहीं रह जाना है...सब कुछ नश्वर है...

    काश!...ये बात सभी समझ जाएँ

    ReplyDelete