Thursday, October 6, 2011

इश्क में तेरे यूँ नाकाम हैं ---

एक इश्किया ग़ज़ल , जो लिखनी तो बहुत पहले चाहिए थी , लेकिन लिखी आज है

आप जब से मन को छलने लगे
ख्वाब तब से दिल में पलने लगे ।

डूब कर हुस्न में यूँ खोये रहे
साथ दोस्तों का भी खलने लगे ।

प्यार में तेरे यूँ नाकाम हैं
काम सारे कल पे टलने लगे

छोड़ कर दुनिया को तेरे लिये
आँख बंद कर हम तो चलने लगे ।

ग़ैर नज़र जो उठे उनकी तरफ
डाह से दिल अपना जलने लगे ।

लालची तो इतने ना थे कभी
नोट फिर क्यों पर्स में गलने लगे ।

प्यार में जो 'तारीफ' बने "तरु"
फूल पतझड़ में भी खिलने लगे ।
( तरु = लव टरी )

( चौधराइन को समर्पित , जिनका आज जन्मदिन है )
बीस साल बाद एक बार फिर श्रीमती जी का जन्मदिन दशहरे के दिन आया है

नोट
: ग़ज़ल को सीधी सादी, सरल भाषा में लिखा हैक्या करें , टेढ़ी मेढ़ी कठिन भाषा आती भी नहीं

50 comments:

  1. आप जब से मन को छलने लगे
    ख्वाब तब से दिल में पलने लगे ।बहुत ही सुन्दर ग़ज़ल....

    ReplyDelete
  2. भाभीजी को जन्‍मदिन की ढेरों बधाई।

    ReplyDelete
  3. आप की चौधराइन को जन्मदिन की बहुत-बहुत मुबारक ...
    और आप सब को दशहरे की शुभकामनाएँ!
    ग़ैर नज़र जो उठे उनकी तरफ
    डाह से दिल अपना जलने लगे ।

    इसे चौधराइन को समर्पित कर दें ......??
    खुश रहें ,मुबारक हो !

    ReplyDelete
  4. सुंदर गजल के साथ भाभी जी जन्मदिन मनाने का तरीका बढिया रहा।

    भाभी जी को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  5. मैडम दराल को मेरी और से बहुत बढ़ाई और शुभकामनाएं ...
    यह ग़ज़ल तो उन्ही को समर्पित है ही बिन कहे !

    ReplyDelete
  6. *बधाई और शुभकामनाएं ...

    ReplyDelete
  7. प्यार में तेरे यूँ नाकाम हैं
    काम सारे कल पे टलने लगे ।... waah , happy birthday to your love and happy dashahra

    ReplyDelete
  8. बीस साल बाद जन्म दिन दशहरे के दिन
    लव ट्री से मुस्कान के फूल झरे अनगिन

    शुभकामनाएँ लीजिए, ले लीजिए बधाई
    बाबा की हो कृपा खुश रहें यूँ ही हर दिन

    ReplyDelete
  9. chaudhain ko janmdin ki aur aapko bees saal baad dashhare ki badhaai ! ghazal bhi dil se nikli hai isliye seedhi hai :-)

    ReplyDelete
  10. शुभ अवसर पर शानदार गजल ।
    खुद को पत्नी का नाकाम आशिक मानना अच्छी बात है , क्योंकि कामयाब आशिक बनने के लिये आप और प्यार देने का प्रयास करेंगे।
    इस प्रकार और प्यार बढ़ेगा ।
    जन्मदिन की बधाई श्रीमती दराल को ।

    ReplyDelete
  11. अरे वाह! समूचे पिट्सबर्ग की ओर से भाभीजी को जन्‍मदिन की बधाई पहुँचे!

    ReplyDelete
  12. वाह. बहुत प्यारी गज़ल है.. बहुत बहुत बधाई..

    ReplyDelete
  13. भाभीजी को जन्‍मदिन की बधाई. गज़ल को तो खूबसूरत होना ही था आखिर कही किसके लिये है.

    विजयादशमी की शुभकामनायें आपको और पूरे परिवार को.

    ReplyDelete
  14. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति आज के तेताला का आकर्षण बनी है
    तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
    अवगत कराइयेगा ।

    http://tetalaa.blogspot.com/

    ReplyDelete
  15. आप सब को विजयदशमी पर्व शुभ एवं मंगलमय हो।

    दशहरा पर ही भाभीजी का जन्म दिन भी आप सब को मुबारक हो।

    ReplyDelete
  16. दोस्त लोग छूटने लगते अहिं किसी के प्यार में ... बहुत लाजवाब गज़ल है ... मज़ा आ गया ...
    विजय दशमी की हार्दिक बधाई ...

    ReplyDelete
  17. आज के दिन यह सादी और प्यारी सी कविता उतरी है, मुबारक हो.

    ReplyDelete
  18. सीधा सरल लिखना ही तो मुश्किल है

    ReplyDelete
  19. meri taraf se bhi mam ko janmdin ki or aap sabko dashre ki subhkaamnayen.
    bahut khubsurat rachna
    jai hind jai bharat

    ReplyDelete
  20. श्रीमती दराल को जन्मदिन की बधाई|
    विजयादशमी की शुभकामनायें|

    ReplyDelete
  21. आप की चौधराइन को जन्मदिन की बहुत-बहुत बधाई
    और गज़ल तो माशाल्लाह...

    ReplyDelete
  22. अब तक के सफर को जैसा भी देखा,जिया उन्होंने,उनकी मुस्कुराहट बयां कर रही है।

    ReplyDelete
  23. श्रीमती डॉक्टर तारीफ सिंह को दशहरे और जन्मदिन दोनों की बधाई और अनेक शुभ कामनाएं!...
    और सभी अन्य पारिवारिक सदस्यों को भी दशहरे के शुभ अवसर पर हार्दिक बधाई.और शुंह कामनाएं...
    (एक आदमी अपनी पत्नी को स्वयं बोलने में शर्माता था,,, जिस कारण वो ऑफिस पहुँच पत्र भेज दिया करता था!
    आजकल तो ईमेल के माध्यम से भी बताया जा सकता है!)

    ReplyDelete
  24. आप की चौधराइन को जन्मदिन की बहुत-बहुत बधाई

    विजयादशमी पर आपको सपरिवार हार्दिक शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  25. प्यार में तेरे यूँ नाकाम हैं
    काम सारे कल पे टलने लगे ।
    बहुत खूब शेर और गज़ल

    आप की चौधराइन को जन्मदिन की बहुत-बहुत बधाई

    ReplyDelete
  26. हार्दिक बधाईयां और शुभकामनाएँ, भाभीजी के जन्मदिन के साथ ही दशहरे के शुभ पर्व की भी.

    ReplyDelete
  27. माननिया भाभीजी को जन्म दिन की हार्दिक शुभकामनाएं.

    रामराम

    ReplyDelete
  28. @ चोधराईन भाभी जी के लिये,

    जरा चोधरी साहब का ख्याल रखियेगा, आजकल उल्टी सीधी गजल लिखने लगे हैं, कहीं बुढापे में इधर उधर नजर या पैर फ़िसल गया तो क्या होगा?:) जन्म दिन की हार्दिक शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  29. yatharth ke dharatal per pahle kiye gaye prayog ka parinaam hai yah..pyaar me aisa hi hota hai

    ReplyDelete
  30. happy b'day to ur wife !!
    I must say shez very pretty :)

    fantastic lines !!

    ReplyDelete
  31. विजयादशमी पर आपको हार्दिक शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  32. सुन्दर गजल....जन्‍मदिन की ढेरों बधाई

    ReplyDelete
  33. आज भी दिल जवान है तो बीस साल बाद ही सही... प्रेम के इज़हार के लिए इट इज़ नेवर टू लेट :) भाभीजी को जन्मदिन की बधाई॥

    ReplyDelete
  34. आप सब की शुभकामनाओं के लिए दिल से आभार ।
    राधारमण जी , इसी मुस्कान पर हम लट्टू हुए थे ।
    सही कहा जे सी जी , आई लव यू कहना वास्तव में बड़ा मुश्किल होता है ।

    ReplyDelete
  35. @ ताऊ रामपुरिया said...

    भई , पैर फिसलना तो चांस की बात है लेकिन नज़र --हम तो गीतानुसार सतरहवें अध्याय में बताये गए ब्रह्मचर्य का ही पालन कर रहे हैं । :)

    डॉ मिश्र जी , अनुभवी तो आप भी कम नहीं होंगे --स्वयं ही सोचिये ।

    @ ज्योति मिश्र --- yes she is .

    सही कहा प्रसाद जी । दिल तो सदा ही ज़वान ही रहता है ।

    ReplyDelete
  36. आप सभी को दशहरे की हार्दिक बधाई और शुभकामनायें ।

    ReplyDelete
  37. बहुत बढ़िया लिखा है आपने! भाभी जी को जन्मदिन की ढेर सारी बधाइयाँ और शुभकामनायें! आपने भाभी जी के जन्मदिन पर बहुत ही सुन्दर और अनमोल तोहफा दिया है !
    आपको एवं आपके परिवार को दशहरे की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  38. त्यौहार का मजा द्विगुणित हो गया होगा, ढेरों बधाईयां आपके समस्त परिवार को।
    दांपत्य जीवन सुखद और सुदीर्घ हो, हमें ऐसी गज़लें पढ़ने को मिलती रहें और आप इस मुस्कान पर लट्टू हुये रहें, होते रहें:)

    ReplyDelete
  39. प्यार में जो 'तारीफ' बने "तरु"
    फूल पतझड़ में भी खिलने लगे ।
    आप तो नज़दीक से नज़दीक तर आते गए ....अच्छी ग़ज़ल कही है मौजू .एक दम से .

    ReplyDelete
  40. Bahut badhiya joradar gajal . bhabhiji ko janamadin par badhai or apko avam apke parijanon ko dashahara parv ke avasar par hardik shubhakamanayen or badhai...

    ReplyDelete
  41. भाभीजी को जन्म दिन की हार्दिक शुभकामनाएं.

    गज़ल बेहतरीन बनी है.

    ReplyDelete
  42. डूब कर हुस्न में यूँ खोये रहे
    साथ दोस्तों का भी खलने लगे ।
    वाह वाह .....मोहोब्बत का एक और सच शायद यही है जो लोग बहुत कम ही लिखा करते है। मेरी और से भी भाभी जी को जन्म दिन की हार्दिक शुभकामनायें .....

    ReplyDelete
  43. वाह दाराल साहब इतना खूबसूरत दिल तभी भाभी जी इतनी प्रफुल्लित है , भाभी जी को जन्म दी की बधाई एवं आपको खूबसूरत गजल के लिए बधाई , आपकी जोड़ी प्यार से लवरेज रहे यही शुभकामनाये है

    ReplyDelete
  44. 'बीस साल बाद एक बार फिर', ऐसा तो शायद अट्ठारह बरस पर होता है(गजल नहीं, तिथि-संयोग). शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  45. अमृत - अजन्मा और अनंत - शिव के मस्तक पर इंदु यानि चन्द्रमा के चक्रानुसार तिथि का निर्धारण किया और चाँद को सांकेतिक भाषा में जिसने उच्चतम स्थान दिया, वो 'हिन्दू' कहलाया जाने लगा जब ज्ञान की चरम सीमा में 'भारत' कभी था ... और सांकेतिक भाषा में ही योगेश्वर, 'गंगाधर' और 'चंद्रशेखर' आदि आदि शिव को शक्ति समान अमृत, साकार रूप में भी पृथ्वी से ही उत्पन्न और पृथ्वी के ही गुरुत्वाकर्षण क्षेत्र में अवस्थित चन्द्रमा, अर्थात एक ही पृथ्वी-चन्द्र की जोड़ी को, 'द्वैतवाद' के जनक समान जाना गया...

    सर्वगुण संपन्न शिव और पार्वती, सती का ही कालान्तर में स्वरुप, के विवाह की कथा के माध्यम से यह वैज्ञानिक तथ्य हमारे ज्ञानी-ध्यानी पूर्वज सत्य, 'सत्यम शिवम् सुन्दरम' को जान, अर्थात मानव शरीर को भी शिव का ही प्रतिरूप जान, द्वैतवाद के कारण संख्या में दो प्रतीत होते दोनों, पति-पत्नी, को वास्तव में शक्ति रुपी आत्माओं का मिलन जाना... और दोनों में शरीर रुपी मिटटी को अज्ञानता का कारण, अर्थात कुछ भाग्यशाली जोड़ों को छोड़, अधिकतर जोड़ियों में मिस-मैच का कारण...:)

    ReplyDelete
  46. पुनश्च - कई 'हिन्दू' मान्यताओं में से एक मान्यतानुसार, दशहरे का दिन सांकेतिक भाषा में अर्धनारीश्वर शिव के कंधे से उनकी प्रथम अर्धांगिनी सती के शरीर के अंतिम भाग के गिरने और उनकी 'बुरी दशा' के हरण के रूप में मनाया जाता है...

    गंगाधर शिव के त्रेता के प्रतिरूप, (जिसका लक्ष्य मानसरोवर से निकली गंगा समान सुसुम्ना नाडी, अर्थात स्नायु तंत्र की मुख्य नाडी द्वारा मन पर नियंत्रण अपना लक्ष्य मान), लक्षमण के बुराई पर विजय पा अयोध्या लौटने का दिन भी यह माना जाता है...

    ReplyDelete
  47. राहुल सिंह जी , हमने तो अंदाज़े से लिखा था । वैसे आपने भी शायद ही लिखा है ।

    ReplyDelete
  48. प्यार में जो 'तारीफ' बने "तरु"
    फूल पतझड़ में भी खिलने लगे ।
    फूल खिलते रहें .. भाभी जी को देर से जन्म दिन की बधाई

    ReplyDelete
  49. देर से ही सही , शुक्रिया वर्मा जी ।

    ReplyDelete