Monday, October 24, 2011

दीवाली और घरवाली ने मिलकर सारी अफ़सरी उतार दी --

हमारे एक पडोसी मित्र दिल्ली सरकार में उच्च पद पर आसीन हैं । एक दिन उनकी पत्नी को दिल में धड़कन बढ़ने लगी और बेचैनी होने लगी । हमने उनका मुआयना किया और सलाह दी कि तुरंत अस्पताल में भर्ती करा दिया जाए ।
हमारे सुझाव पर उन्हें दिल्ली के एक पुराने नामी अस्पताल में हमारे ही मित्र कार्डियोलोजिस्ट की देख रेख में भर्ती करा दिया गया । डॉक्टर ने तुरंत उन्हें सी सी यू में भर्ती कर लिया ।

अगले दिन हम उनसे मिलने पहुंचे । पूछा--क्या हाल है ? बोले--भैया, मेडम तो सी सी यू में बेड पर लेटी हैं और हमने सारी रात यहाँ कॉरिडोर में बेंच पर बैठ कर बिता दी ।

डॉक्टर ने आज हमारी सारी अफ़सरी निकाल दी

इस वर्ष दीवाली पर हमारा भी कुछ यही हाल हुआ ।
हुआ यूँ कि श्रीमती जी ने जिद्द पकड़ ली कि इस बार तो घर में डेंटिंग पेंटिंग करा कर रहेंगे । हमें भी उनकी जिद्द के आगे झुकना पड़ा ।
अच्छे भले साफ सुथरे घर को सौंप दिया गया पेंटरों को । और पूरा सप्ताह निकल गया लेकिन उन्होंने निकलने का नाम नहीं लिया ।

पूरे एक सप्ताह घर का और हमारा जो हाल रहा , उसे देखकर हमें भी यही लगा --
इस वर्ष दीवाली और घरवाली ने मिलकर हमारी भी सारी अफ़सरी उतार दी


हालाँकि कुछ सीखने को भी मिला


चमचमाते मकान में भी कुछ कोने , क्षेत्र और जगहें ऐसे होते हैं जहाँ धूल, कूड़ा करकट और मैल छुपा रहता है

दीवाली के बहाने वहां की भी सफाई हो जाती है


कभी कभी सोचता हूँ --घर का छुपा मैल तो हम निकाल लेते हैं , दीवाली पर

लेकिन हमारे मन और मष्तिष्क में जो मैल छुपा है ना -- ईर्ष्या और द्वेष का , काम और क्रोध का , लोभ और मोह का --उसे कब और कैसे निकालेंगे ?

47 comments:

  1. दिल का छिपा मेल तब निकलेगा जब ढोंग,पोंगा -पंथ से पल्ला झाड लेंगे।

    ReplyDelete
  2. आप सब को भी दीपावली पर्वों की हार्दिक शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  3. आबोहवा में बहुत गंदगी है..जितना निकाल पायेंगे निकालेंगे नहीं निकाल पाये तो रूखसत कर जायेंगे..एक बात है कि अपना काम करेंगे और मस्त रहेंगे।

    ReplyDelete
  4. बातों बातों में काम की सीख दे दी आपने ... आभार !
    आपको और परिवार में सब को दीपावली की हार्दिक मंगलकामनाएं !

    ReplyDelete
  5. त्यौहार की सार्थकता तो तभी है जब घर और मन दोनों से मैल निकल जाए.
    आप और आपके परिवार को दिवाली की ढेरों शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  6. shikha ji sahmat ..........
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें......

    ReplyDelete
  7. दिल का मैल निकालना इतना आसान नहीं है फिर भी कोशिश तो करनी ही चाहिए.क्योंकि कोशिश ही तो रंग लाती है
    आपको व आपके परिवार को दीपावली कि ढेरों शुभकामनायें

    ReplyDelete
  8. सही है ...
    दीपावली की शुभकामनाएं स्वीकार करें !

    ReplyDelete
  9. दिल का मेल निकल जाए तो इन्सान उजला नहीं बन जाएगा डॉ साहेब ..और उजला कौन बनना चाहता हैं ?...सब घसे हुए हैं गंदगी के ढेर में....
    Happy diwali...

    ReplyDelete
  10. मन का मेल ही तो हटाना है....दीपावली की हार्दिक शुभकामनाये.....

    ReplyDelete
  11. दिल की मैल निकालना ही दीवाली का सबसे अच्छा प्रकाश है...

    दीवाली की असीम शुभकामनाएं...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  12. शायद मन के मैल को निकालने का प्रतीक पर्व दशहरा इसके पहले ही आकर यह सफाई भी प्रतीकात्मक रुप से तो करवा ही जाता है ।
    दीपपर्व की हार्दिक शुभकामनाओं सहित...

    ReplyDelete
  13. बढिया लिखा है ..
    मन और मस्तिष्‍क की मैल निकालने की जरूरत है सबों को ..
    ..दीपावली की शुभकामनाएँ !!

    ReplyDelete
  14. मन का मैल निकाल कर सफाई करना किसी पेंटर के हाथ में नहीं है ..खुद जूझना पड़ेगा ..

    दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  15. दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  16. बाहर के जितने भी लट्टू जलालो, प्रकाश वास्तव में तब होता है जब मन की एक बत्ती ही जल जाए :)
    दीपावली की हार्दिक शुभ कामनाएं सभी को!
    भारत में दीवाली से सम्बंधित मान्यतायेओं के लिए लिंक देख सकते हैं -

    http://blog.eaglespace.com

    ReplyDelete
  17. सही है जी। दीवाली मुबारक हो आपको भी।

    ReplyDelete
  18. फिर भी डॉ. साहब ,दिवाली तो मुबारक ही हो !

    ReplyDelete
  19. दिल की मैल तो हटाना है...
    आपको व आपके परिवार को दीपावली कि ढेरों शुभकामनायें

    ReplyDelete
  20. दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  21. स्वच्छ दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  22. भगवान चाहेगा तो सब साफ़ हो जायेगा। दीपावली की शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  23. दीपावली की मुबारक और शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  24. आपको सपरिवार दिवाली की हार्दिक बधाई, शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  25. पञ्च दिवसीय दीपोत्सव पर आप को हार्दिक शुभकामनाएं ! ईश्वर आपको और आपके कुटुंब को संपन्न व स्वस्थ रखें !
    ***************************************************

    "आइये प्रदुषण मुक्त दिवाली मनाएं, पटाखे ना चलायें"

    ReplyDelete
  26. कोई उपाय मिले तो सभी को बताये शायद पूरा समाज साफ हो जाये |

    दिवाली की शुभकामनाये |

    ReplyDelete
  27. दीवाली पर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ|

    ReplyDelete
  28. मन का मैल तो आत्मदीप जलाकर ही निकाला जा सकता है……………दीपावली पर्व अवसर पर आपको और आपके परिवारजनों को हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं……

    ReplyDelete
  29. सार्थक पोस्ट डॉ साहेब....



    दिवाली की हार्दिक शुभकामनायें स्वीकार करें...

    ReplyDelete
  30. दीपावली केशुभअवसर पर मेरी ओर से भी , कृपया , शुभकामनायें स्वीकार करें

    ReplyDelete
  31. दीपावली केशुभअवसर पर मेरी ओर से भी , कृपया , शुभकामनायें स्वीकार करें

    ReplyDelete
  32. दीपावली केशुभअवसर पर मेरी ओर से भी , कृपया , शुभकामनायें स्वीकार करें

    ReplyDelete
  33. यह गनीमत है कि घरवाली ने अफ़सरी उतार दी, समझो कि बच गए वर्ना बाहरवाली फुलझडियां सुलगा देती:) आपको और आपके प्रियजनों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  34. सभी ब्लोगर मित्रों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें ।

    ReplyDelete
  35. Bas,mauke par kaam aa sakne wale aap jaise logon ki sankhya badhti jaye.Phir,man ka mail haTte bhi kitni der lagegi!

    ReplyDelete
  36. आपके पोस्ट पर आना बहुत अच्छा लगा । मेरे पोस्ट पर आपका स्वागत है । दीपावली की शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
  37. दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  38. दीपावली के पावन पर्व पर हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनाएँ |

    way4host
    rajputs-parinay

    ReplyDelete
  39. चर्चा मंच परिवार की ओर से दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ!
    आइए आप भी हमारे साथ आज के चर्चा मंच पर दीपावली मनाइए!

    ReplyDelete
  40. ज्योति पर्व की बहुत -२ बधाईयाँ , सुन्दरसृजन को , सम्मान ....मंगलमय हो दीपावली ../

    ReplyDelete
  41. आप तो एक सप्‍ताह में ही छूट गए यहाँ तो एक महिने में भी पीछा नहीं छूटता है। शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  42. यह कहानी तो अनादि काल से चली आ रही, गीता के अनुसार वस्त्र समान शरीर पर, तथाकथित एकत्रित मैल की सफाई की है - जो बेचारी परमात्मा का ही एक अंश, सबकी अपनी अपनी आरम्भ में शुद्ध आत्मा चौरासी लाख योनियों से गुजर मानव शरीर रुपी वस्त्र भी पा, काल-चक्र में फंस, ढोती चली आ रही है, क्यूंकि दिमाग की बत्ती का बटन कहाँ है ये आधुनिक डॉक्टर नहीं जानते :)

    दीपावली की अनेकानेक शुभ कामनाएं!

    ReplyDelete
  43. सफाई दिलो में भी हो... घर तो हम साफ़ करते ही हैं!
    शुभ दीपावली!

    ReplyDelete
  44. दीपपर्व दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ ...

    ReplyDelete
  45. कभी कभी सोचता हूँ --घर का छुपा मैल तो हम निकाल लेते हैं , दीवाली पर ।

    लेकिन हमारे मन और मष्तिष्क में जो मैल छुपा है ना -- ईर्ष्या और द्वेष का , काम और क्रोध का , लोभ और मोह का --उसे कब और कैसे निकालेंगे ?

    बहुत सुन्दर विचारोत्तेजक पोस्ट है आपकी.

    दीपावली के पावन पर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    समय मिलने पर मेरे ब्लॉग पर भी आईयेगा.

    ReplyDelete
  46. देरी के लिये क्षमा। दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें।

    ReplyDelete