Tuesday, October 4, 2011

मुझी को सब ये कहते हैं , रख नीची नज़र अपनी ---

कभी कभी मूड ऐसा होता है कि शेरो शायरी करने का दिल करता हैलेकिन जब ज़ेहन से शे' निकल कर ही आएं तो दूसरे शायरों को पढ़कर बड़ा आनंद आता हैआईये आज आपको पढ़वाते हैं , अपनी पसंद के कुछ चुनिन्दा शायरों के कुछ चुनिन्दा शे' --


मुझी को सब ये कहते हैं , रख नीची नज़र अपनी
कोई उनको नहीं कहता , न निकलो यूँ अयाँ होकर ।

( अयाँ = बेपर्दा ) --अकबर इलाहाबादी


रोज कहता हूँ न जाऊँगा कभी घर उसके
रोज उस कूचे में इक काम निकल आता है ।

--ग़ालिब


शायद मुझे निकाल के पछता रहे हो आप
महफ़िल में इस ख्याल से फिर आ गया हूँ ।

--अदम


यह भी एक बात है अदावत की
रोज़ा रखा जो हमने दावत की ।

--अमीर


होश आए तो क्योंकर तेरे दीवाने को
एक जाता है तो दो आते हैं समझाने को ।

--होशियार मेरठी


हम हैं मुश्ताक , और वो बेज़ार
या इलाही ये माज़रा क्या है !

--ग़ालिब
( मुश्ताक = परेशान , बेज़ार = लाचार )




मेहरबां होके बुला लो मुझे चाहे जिस वक्त
मैं गया वक्त नहीं हूँ कि फिर आ भी न सकूं ।

--ग़ालिब



शक न कर मेरी खुश्क आँखों पर
यूँ भी आंसू बहाए जाते हैं ।

--सागर निज़ामी



अंदाज़ अपना देखते हैं आईने में वो
और ये भी देखते हैं कोई देखता न हो ।

--निज़ाम रायपुरी



मुफ्त दो घूँट पिला दे तेरे सदके वाली
हम ग़रीबों से कहीं दाम दिए जाते हैं ।

--ख़याल

आज बस इतना ही , बाकि फिर कभी

अब आप बताइए कि कौन सा शे' सबसे ज्यादा पसंद आया






49 comments:

  1. वाह वाह …………कमाल के शेर पढवाने के लिये आभार्।

    ReplyDelete
  2. डाक्टरों का दिल अगर ऐसी शायरी में कुलांचे भरने लगे,तो रोगियों की आधी बीमारी तो यूं छू-मंतर हुई समझो!

    ReplyDelete
  3. वाह वाह वाह वाह !!

    ReplyDelete
  4. डॉ. साहब ,सभी एक से बढ़कर एक हैं ...अब तक की सारी जिन्दगी आईने में उतर आयी ...शायर भी कैसे कैसे ...
    एक मेरी ओर से नजर है -कुछ भूला हूँ तो सुधार दीजियेगा और बतायिगा किसका है?
    अंगडाई ले भी न पाए थे वे उठा के हाथ
    देखा मुझे तो छोड़ दिए मुस्कुरा के हाथ ..

    ReplyDelete
  5. फेसबुक पर भी डाल दिया है इसे
    http://www.facebook.com/profile.php?id=1153981790

    ReplyDelete
  6. andaaje bayaa aur-

    रोज कहता हूँ न जाऊँगा कभी घर उसके
    रोज उस कूचे में इक काम निकल आता है ।

    ReplyDelete
  7. डॉ. साहब आप भी मरीज़ हो गए,
    ये तो अच्छा है कि मर्ज़ अच्छा है !

    एक से बढ़कर एक !

    ReplyDelete
  8. चकाचक शायरी है ये तो!

    ReplyDelete
  9. एक मैं भी कहूँ...

    सब आजमाने वाले , मुझे आज़मा चुके
    इस दौरे-इन्तहान में , इक इन्तहां हूँ मैं

    ReplyDelete
  10. एक से बढ़ कर एक ........!
    अपनी पसंद :-शक न कर मेरी खुश्क आँखों पर
    यूँ भी आंसू बहाए जाते हैं ।

    --सागर निज़ामी

    ReplyDelete
  11. वाह! सभी बहुत बढ़िया!
    अपन को उर्दू नहीं आती, थोड़ा थोड़ा फिर भी समझ आ जाता है (हिंदी भी अधिक नहीं अति :)... और स्व. सहगल, जगजीत सिंह आदि की ग़ज़लों आदि के माध्यम से मज़ा अवश्य ले लेते है...

    शायरी कभी करने की गुस्ताखी नहीं की - याद आ जाता है किसी का कुछ ऐसा कथन -
    "उर्दू जुबाँ आती नहीं / शायरी करने चले // यह वो घास नहीं / जो हर गधा चरने लगे"!

    (शायरों के नाम भी याद नहीं रहते... मुंबई से दिल्ली - एक बार ट्रेन से २ एसी में - लौटते, साइड बर्थ में मशहूर शायर निदा फाजली को देखा, पहचान लिया क्यूंकि टीवी में कई बार देखा था... किन्तु उनका कोई भी शेर याद नहीं था इसलिए उनसे बात करने की हिम्मत नहीं हुई... यद्यपि उनके साथ बैठे कोई लेखक और उनके बीच बात कान में पड़ती रही और उन्हें जगजीत सिंह के बारे में कुछ कहते कई बार सुना... आशा और प्रार्थना करते हैं की उनको लम्बी उम्र प्रदान करें भगवान्!)...

    ReplyDelete
  12. अरविन्द जी , किसका है --यह कहना तो मुश्किल है । लेकिन उर्दू में नहीं है --कहीं आपका ही तो नहीं ?

    अमृता जी --यह शायद दौर ए इम्तिहान होना चाहिए ।

    देखा जाए तो अधिकतर शायर सुरा और सुंदरी पर ही शे'र लिखते रहे हैं । है ना अज़ीब सी बात ! मयखाना --साकी -- ज़ाम --हुस्न -- आदि आदि । लेकिन सबका अंदाजे बयां कमाल का होता है ।

    ReplyDelete
  13. मकतबे इश्क का दस्तूर निराला देखा |
    उसको छुट्टी न मिली जिसने सबक याद किया ||

    ReplyDelete
  14. मिरी निस्बत यह फरमाते हैं वाइज़ बदगुमाँ होकर |
    क़यामत ढाएगा जन्नत में यह बूढ़ा जवाँ होकर ||
    {अकबर इलाहाबादी}

    ReplyDelete
  15. जो भी आवे है वो नज़दीक ही बैठे है तेरे |
    हम कहाँ तक तेरे पहलू से खिसकते जाएँ ||

    ReplyDelete
  16. रोज कहता हूँ न जाऊँगा कभी घर उसके
    रोज उस कूचे में इक काम निकल आता है ।



    ......... बस यही.

    ReplyDelete
  17. आज तो शेरो शायरी का मक्खन ही छांट लाये आप. बहुत आभार आपका.

    रामराम

    ReplyDelete
  18. लेकिन जब ज़ेहन से शे'र निकल कर ही न आएं तो दूसरे शायरों को पढ़कर बड़ा आनंद आता है ।

    हुजूर जब शेर आपके जेहन से बाहर निकलने को तैयार ही नही हो रहा था तो थोडा और अंदर घुस जाते, फ़िर देखिये कैसे नही निकलता?:)

    रामराम

    ReplyDelete
  19. अरे ताऊ , यही किया था हमने ।
    शेर तो नहीं , पर शेर के बच्चे निकल आए ।
    अगली पोस्ट में हाज़िर होंगे ।

    ReplyDelete
  20. पूछना है गर्दिशे ऐयाम से ,अरे !हम भी बैठेंगे कभी आराम से .एक शैर आईने पर और -आइना देख के ये देख संवारने वाले ,अरे !तुझपे बेजा तो नहीं मरतें हैं ,मरने वाले .

    ReplyDelete
  21. सारे शेर एक से बढ़कर एक हैं...कुछेक शेर के शायरों का नाम नहीं पता था...
    यहाँ पता चल गया....शुक्रिया

    ReplyDelete
  22. रोज कहता हूँ न जाऊँगा कभी घर उसके
    रोज उस कूचे में इक काम निकल आता है ।

    डॉक्टर साहब ब्लॉगिंग के कूचे से अपना भी ऐसा ही नाता हो गया है...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  23. शेर कितना ही रोमांटिक हो
    शेरनी की इजाजत चाहिए

    ReplyDelete
  24. वाह वाह...हम तो ग़ालिब चाचा के ही पंखे हैं .

    ReplyDelete
  25. हरेक बात पे कहते हो तुम के तू क्या है
    तुम्हीं कहो के ये अन्दाज़-ए-गुफ़्तगू क्या है

    वाह डॉ. साहब, सभी एक से बढकर एक हैं।

    ReplyDelete
  26. मेरे लिए कुछ नए हैं, कुछ वे हैं जो हमें भी याद थे लेकिन जो भी हैं, लाज़वाब हैं।

    ReplyDelete
  27. सब एक से बढ़कर एक हैं, बहुत दिनों बाद शेरों को पढ़ा ।

    ReplyDelete
  28. अपनी बात कहने का यह तरीका बेहद उम्दा रहा।

    ReplyDelete
  29. सभी एक से बढ़कर एक हैं|
    आप को दशहरे की हार्दिक शुभकामनाएँ|

    ReplyDelete
  30. शे'र तो सभी लाजवाब है , शेर भी!

    ReplyDelete
  31. वाह,बहुत खूब

    ReplyDelete
  32. चलिए इसी बहाने कुछ और शे'र पढने को मिल गए ।

    ReplyDelete
  33. हीरों को मुठ्ठी में भरकर पूछ रहे हैं कि कौन सा हीरा अच्‍छा है? एक से एक नायाब है। आज तो आनन्‍द आ गया।

    ReplyDelete
  34. मुकर्रर मुकर्रर--मतलब दुबर्रर दुबर्रर

    ReplyDelete
  35. क्या बात है डॉक्टर साहब, आज रंगीन मूड में नज़र आ रहे हैं :)

    ReplyDelete
  36. शे'र, 'सत्व', मायने (चाय / मधु समान) निचोड़, अर्थात 'सार' से बना प्रतीत होता है...

    और उसका प्रस्तुतकर्ता 'शायर' - केवल दो लाइनों द्वारा जीवन का सार प्रस्तुत करने की चेष्टा करते और अपने श्रोता के दिल को भी छूते और उनसे वाह वाही पाते और सभी के आनंदित करते...(?) ...

    ReplyDelete
  37. NICE.
    --
    Happy Dushara.
    VIJAYA-DASHMI KEE SHUBHKAMNAYEN.
    --
    MOBILE SE TIPPANI DE RAHA HU.
    ISLIYE ROMAN ME COMMENT DE RAHA HU.
    Net nahi chal raha hai.

    ReplyDelete
  38. दशहरे की सभी को शुभ कामनाओं सहित!

    डॉक्टर वाला शे'र -

    "बहुत शोर सुनते थे पहलू में दिल का / चीर के देखा तो कतरा-ए-खूँ न निकला"

    (- स्रोत नहीं पता)

    ReplyDelete
  39. प्रसाद जी , फेस्टिवल सीजन शुरू जो हो गया है ।
    शुक्रिया शास्त्री जी ।
    जे सी जी , अब दिल की बात भी सुनिए --अगली पोस्ट में ।

    ReplyDelete
  40. वाह क्या बात है....

    हम भला तुमसे मुखातिव हों या खुद से रूबरू|
    आईने में तुम हो मैं हूँ ,या है मेरी आरजू |

    ReplyDelete
  41. ---वाह क्या नज़र की झुकन है---
    वो नज़रें झुका लेते हैं, हया की बात होती है |
    शराफत में नज़र अपनी झुकी, चर्चा नहीं होता |

    जवानी,हुश्न,शानो-शौक ने ऐसा गज़ब ढाया ,
    जहां की नज़रें झुक जाएँ कहीं चर्चा नहीं होता |

    ReplyDelete
  42. वाह वाह , डॉ श्याम गुप्ता जी । उम्दा शे'र कहे हैं ।

    ReplyDelete
  43. डॉ साहब, आज तो आप छा गये हैं.

    ReplyDelete
  44. स्तरीय शेर है सारे के सारे ,,,, सभी लाजवाब है

    ReplyDelete
  45. कल आया था खत उनका,
    उनको बिस्तर से उठने कि हिम्मत न थी;

    आज वो दुनिया को छोड़ कर चल दिए,
    इतनी ताकत कहाँ से आ गयी.

    ReplyDelete
  46. जख्म एक नही दो नही तमाम जिस्म जख्मी है,

    दर्द खुद परेशान है कि मैं कहां कहां से उठूँ .............

    ReplyDelete
  47. ए आलम-ए-वक़्त कोई ऐसा फतवा दे,
    जो मोहब्बत में वफ़ा न करे वो काफ़िर ठहरे

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत खूब ! ढूंढने के लिये शुक्रिया दोस्त ...

      Delete