Thursday, August 11, 2011

उम्र पचपन की , दिल बचपन का --

बचपन गाँव में गुजरा . फिर शहर में रहने लगे तो छुटियाँ गाँव में ही बीतती . उन दिनों में भी गाँव में अपना फार्म हाउस था --जी हाँ दादाजी ने गाँव से बाहर दो बीघा खेत में मकान बनाया था . गाँव के पनघट में जब पानी सूख गया तो आधे गाँव द्वारा हमारे फार्म हाउस में लगे हैण्ड पम्प का पानी ही पीने के लिए प्रयोग किया जाने लगा .


गर्मियों की छुट्टियों में पानी लेने आई रंग बिरंगी पोशाक धारण किये पनिहारियों को निहारना निर्मल आनंद की अनुभूति प्रदान करता था .

गाँव की औरतें वैसे जैसे भी रहें , लेकिन पानी भरने जाते समय अपनी सबसे बढ़िया ड्रेस पहन कर आती थी .नई नवेली दुल्हन के तो क्या कहने . घूंघट समेत वस्त्रों से भले ही सारा शरीर ढका हो , लेकिन सिर्फ हाथों को ही देखकर अंदाज़ा हो जाता था कि फलाने की बहु कितनी सुन्दर है .

अब यह हमारी मजबूरी थी कि हमारे घर में हमारे लिए तो बस चाचियाँ , ताइयां और दादियाँ ही थी --बहु कोई नहीं थी .होती भी कैसे --सारे भाई बहनों में सबसे बड़े , खानदान के सबसे बड़े चिराग हमी तो थे .

उसपर ऐसे शर्मीले कि हमारे शर्मीलेपन पर शर्म भी शर्मशार हो जाए .

फिर एक दिन अचानक बड़े हो गए . शहर में रहने लगे . गाँव पूर्ण रूप से छूट गया . शर्माना भी थोडा कम हुआ . जाने कैसे मंच से दोस्ती हो गई . डॉक्टर होने के साथ साथ कब लाफ्टर चैम्पियन , हास्य कवि , और मंच संचालक बन गए , पता ही नहीं चला ।

लेकिन आज भी जब कभी गाँव की किसी चाची या ताई से मुलाकात होती है और वो प्यार से सर पर हाथ रख कर पुचकारती है , तो उसी तरह शर्माकर बच्चा सा महसूस करता हूँ ।

आज उम्र भले ही पचपन की हो गई हो , लेकिन दिल में कहीं कहीं एक बच्चा अभी भी जिन्दा है

शायद यही जिन्दादिली का अहसास कराता रहता है

75 comments:

  1. फोटो में आप हो या आमिर खान?

    एक अंग्रेजी में कहावत है, "बूढ़े होने की कला हमेशा बच्चे बने रहने में है"!

    ReplyDelete
  2. हा हा हा, दादी-ताईयां सिर पे हाथ फ़ेर के बाए-बुहाए बाल खराब कर देती हैं। इनके लिए छोरा गंजा ही ठीक है, फ़ेर चाहे कितना ही असीस दिए जाओ, लिए जाओ।:)

    जनमदिन की घणी घणी बधाई।
    राम राम

    ReplyDelete
  3. कुछ ही लोग हैं जो जिंदगी जीना जानते हैं, हमेशा जवान रहते हैं, मुझे लगता है आप उनमे से एक हैं। आजकल नेट में अधिक समय नहीं दे पा रहा हूँ। जाना कि आपका जन्म दिन है तो खुद को रोक नहीं सका।

    जन्म दिन की ढेर सारी बधाई। बाबा विश्वनाथ आपको यूँ ही जीवन भर प्रसन्न रखें।

    ReplyDelete
  4. happy birthday sir , bahut hi umda post ... aapne to bachpan aur gaon ki yaad dila di

    http://eksacchai.blogspot.com/2011/08/blog-post.html

    ReplyDelete
  5. जन्मदिवस की बहुत-बहुत शुभकामनाएँ! खुदा से दुआ करता हूँ कि आप यूँ ही हमेशा जवान रहें!

    ReplyDelete
  6. जन्मदिन की बधाई !
    सिर्फ हाथ देख कर सुन्दरता का पता लगाने वाली बात से पाकीजा का दृश्य याद आ गया |

    ReplyDelete
  7. क्या बात है लगता आप कि जवानी के दौर के हीरो विनोद खन्ना या अमिताभ थे.वैसे भी कितना भी शहर मैं रह लो गाँव के दिन भूलते नहीं.

    ReplyDelete
  8. डॉ.दराल आपको जन्मदिन की ढेर सारी शुभकामनायें.....!!
    बहुत रोचक आलेख लिख कर याद किया बचपन ...!!
    बचपना सलामत रखिये ...!!

    ReplyDelete
  9. दराल जी,

    आरज़ू चाँद सी निखर जाए,
    जिंदगी रौशनी से भर जाए,
    बारिशें हों वहाँ पे खुशियों की,
    जिस तरफ आपकी नज़र जाए।
    जन्‍मदिन की हार्दिक शुभकामनाएँ!
    ------
    ऑटिज्‍म और वातावरण!
    ब्‍लॉग के लिए ज़रूरी चीजें!

    ReplyDelete
  10. जन्मदिन मुबारक हो जी। आप अब पचपन के हुए। हम पिछले साल हो लिए थे।

    ReplyDelete
  11. इस फोटो में आप अपने ज़माने के मशहूर पॉप स्टार एल्विस प्रिसले की झलक दे रहे हैं...

    गाँव की औरतें वैसे जैसे भी रहें, लेकिन पानी भरने जाते समय अपनी सबसे बढ़िया ड्रेस पहन कर आती थी...

    अब शहर से इतना गबरू जवान आया हो तो बन-ठन के तो दिखाना ही पड़ेगा...

    जन्मदिन की बहुत-बहुत बधाई...ड्यूटी न होती तो आफिसर्स क्लब में आकर ही जश्न मनाता...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  12. खुश रहने के लिए पचपन की उम्र में बचपन बना रहना चाहिए साथ ही जन्मदिन पर बधाई और शुभकामनाएं..... बस सर अगले बरस मैं भी आपकी कतार में शामिल हो जाऊंगा...आभार

    ReplyDelete
  13. जन्मदिन की बहुत बहुत बधाई सर ।


    सादर

    ReplyDelete
  14. मुबारक भाई जान ,होठों में छिपी स्मित ,नयन शर्मीले ,भाई जान हमारे बड़े रसीले ..बाल भाव चुकते ही आदमी की एजिंग शुरु हो जाती है .सभी उम्र दराज़ लोगों ने अपने वक्तव्यों में यही बतलाया है ,हम बच्चों के साथ बच्चा बनके नांच लेते हैं .
    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/
    Thursday, August 11, 2011
    Music soothes anxiety, pain in cancer "पेशेंट्स "

    ReplyDelete
  15. जन्‍मदिन की बधाई। गाँव की गौरियों की याद आ रही है? वास्‍तव में शहर में ऐसा नजारा कहाँ।

    ReplyDelete
  16. लेकिन सिर्फ हाथों को ही देखकर अंदाज़ा हो जाता था कि फलाने की बहु कितनी सुन्दर है :)

    इंटर में एक दोस्त की शादी हो गयी .... जब कुछ रिवाज चल रहे थे तो उसके पाँव देखने को मिल गए - मुझे भी और दोस्त को भी.....

    हम लोग बाहर आये - और दोस्त बोला ..... भाई पैर देख तो लग रहा है तेरी भाभी घणी सुथरी से ..:)

    कैसे दिन थे वो...:) जब शादी बिना देखे हो ज़ाती थी...

    ReplyDelete
  17. जन्मदिन की बहुत शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  18. दराल साहब आपको जन्मदिन की ढेर सारी शुभकामनायें.....!!

    ReplyDelete
  19. गया वक्त कब वापस आता है सिर्फ़ यादें ही धरोहर बन जाती

    ReplyDelete
  20. जन्‍मदिन की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  21. गर्मियों की छुट्टियों में पानी लेने आई रंग बिरंगी पोशाक धारण किये पनिहारियों को निहारना निर्मल आनंद की अनुभूति प्रदान करता था .

    इस निर्मल आनंद का एहसास शतक पूरा होने तक बनाये रखिये, इसमें ही बचपन जिंदा रहेगा, जन्मदिवस की घणी बधाई.

    रामराम.

    ReplyDelete
  22. आपको जन्मदिन की बहुत बहुत हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  23. janm din ki dheron badhaaiyan.bahut manoranjak post hai.padhkar maja aa gaya.

    ReplyDelete
  24. भारत मां के पूत ! हे हरियाणे के लाल !
    ब्लॉगजगत में छा गए , कर’ नित नई धमाल !!

    हंसा-हंसा’ जग में भरे रंग गुलाबी लाल !
    आप आप हैं ! आप तो करते रहें कमाल !!

    लाख दुआ
    तारीफ़ है , ताऊ बीर दराल !
    बना रहे यह बचपना …अगले पचपन साल !!

    हरी-भरी सिर पर फसल , चीकू-चीकू गाल !
    घुटने भी ना जाम हों , रहे चमकती खाल ! !

    नयनों में नित नूर हो , रहे दमकता भाल !
    मन-मस्तिष्क में ताज़गी , बनी रहे हर हाल !!

    ख़ुशियों से करते रहें जग को मालामाल !
    स्वस्थ रहें ख़ुद भी , करें सबको धन्य-निहाल !!

    कृपा करे नित आप पर ईश्वर दीनदयाल !
    जन्मदिवस शुभकामना ! सदा रहें ख़ुशहाल !!


    हार्दिक बधाई और मंगलकामनाओं सहित
    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  25. बहुत रोचक पोस्ट के लिए अलग से बधाई !

    ReplyDelete
  26. जन्म दिन की ढेर सारी बधाई!!
    दिल में बसा बच्चा हमेशा बच्चा ही बना रहे...कभी बड़ा ना हो....

    ReplyDelete
  27. जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनायें ! ये बच्चा खोना नही चाहिये ।

    ReplyDelete
  28. Janmdin ki dheron bdhaiyan,,,,
    jai hind jai bharatJanmdin ki dheron bdhaiyan,,,,
    jai hind jai bharat

    ReplyDelete
  29. हा हा हा ! ललित जी यह तो सही कह रहे हैं । लेकिन गंजे सर पर तो ताई को भी हाथ फिराने में मज़ा नहीं आता होगा !
    खुशदीप भाई तब तो हम बच्चे ही थे । सच्ची !

    जी हाँ , अजित जी । गाँव में बहुएं हमेशा सुन्दर दिखती थी ।

    हा हा हा ! दीपक जी , सचमुच ऐसा ही होता था ।

    ReplyDelete
  30. dral saheb bhut dino bad aapse mukhatib hun . kuchh vyasthta thi .
    aap hmesha sbhi ke liye jindadili ke prernashrot rhe hai aage bhi apni isi jindadili se aap sbhi ko urjawan bnaye rkhrn isi shubhkamna ke sath janmdin ki hardik bdhai .

    ReplyDelete
  31. हरे, लाल, गुलाबी रंगों में , शब्दों का बुनकर जाल
    अनुज ने स्नेहाशीष से , कर दिया मालामाल ।

    राजेन्द्र भाई , आपने तो हमें बिल्कुल क्लीन बोल्ड कर दिया ।

    आप सभी ब्लोगर मित्रों का दिल से आभार ।

    ReplyDelete
  32. जे सी जी , द्विवेदी जी , वीरुभाई , मिश्र जी , ताऊ रामपुरिया जी -- बेशक जब तक दिल में जिंदगी के प्रति जोश बना रहे , तब तक आदमी कभी बूढा हो ही नहीं सकता ।

    जेमिनी हरियाणवी का एक जोक याद आ रहा है --बस में सफ़र करते हुए एक लड़की ने उन्हें ताऊ और बुड्ढा कह दिया । वे बोले --देखो रै लोगो , मन्ने बूढा बतावे सै । मैं तै इसकी जोट का सूं ।

    ReplyDelete
  33. पनिहारिनों के रोचक वृतांत से कहीं अधिक रोचक तो उन्हें निहारते हुए आपकी ग्रामीण संस्कृति से जुडी तस्वीर दिख रही है ।
    जन्मदिन की अनेकों शुभकामनाएँ...

    ReplyDelete
  34. दिल तो बच्चा है जी....
    जन्मदिन की ढेरों ढेर बधाई...

    ReplyDelete
  35. जन्मदिन की हार्दिक बधाई और शुभकामनायें। हम आपके उज्ज्वल ,मंगलमय एवं सदा स्वस्थ जीवन की कामना करते हैं।

    ReplyDelete
  36. जन्मदिन की बधाई। बचपन गांव में, जवानी शहर मे, पचपन दवाखाने में मरीज़ो की देखभाल में, अब तक छप्पन संचालन में....:)

    ReplyDelete
  37. गर्मियों की छुट्टियों में पानी लेने आई रंग बिरंगी पोशाक धारण किये पनिहारियों को निहारना निर्मल आनंद की अनुभूति प्रदान करता था .

    ओये होए ....
    जन्मदिन पर जवानी के तोहफे ....
    क्या बात है ये तस्वीर आप ही की है न .....???

    चीकू-चीकू गाल !
    :))

    ReplyDelete
  38. डॉ. टी.एस.दराल जी को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  39. उस बच्चे से मुझे भी मिलने का सौभाग्य मिला था दिल्ली में
    बस गयीं हैं यादें दिल में जो गुजारी थी जो वह शाम दिल्ली में
    आप तो तब भी गाँव के छैल छबीले नौजवान ही थे...
    क्या हैंडसम होने और शर्मीला होने का साँचा एक ही है ?:)

    ReplyDelete
  40. चलो गाँव घूम आये।
    जन्मदिन वही पर मनाया जाये।

    ReplyDelete
  41. दाराल साहब प्रथम तो जन्म दिन की बधाई , उम्र कितनी भी बढे एक बच्चा हमेशा रहता है सबके अन्दर जो गाहे बगाहे कुलांचे भरता है .. आज की आपकी कुलांचे अपने दिल में भी महसूसने लगा हूँ मैं .

    ReplyDelete
  42. डॉक्टर साहब आप तो बिल्कुल हीरो लग रहे हैं ! पुराने ज़माने के हीरो नवीन निश्चल और कुछ हद तक आमोल पालेकर जैसा लग रहे हैं! ज़बरदस्त फोटो! आपको जन्मदिन की ढेर सारी बधाइयाँ और शुभकामनायें! उम्र चाहे कितना भी बढ़ जाए पर दिल से हमेशा बच्चे जैसा मासूम रहना चाहिए तभी जीने का मज़ा आता है! रोचक प्रस्तुती!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  43. b a d h a i y a n kubul ho bare bhai ke bare bhaiya.........

    palnam.

    ReplyDelete
  44. हम to बचपन से ही नयी दिल्ली में रहे, किन्तु लगता है प्राचीन काल से ही - 'ब्रज की कृष्ण लीला' से प्रेरित हो - गावों में पनघट युवक-युवतियों के मिलने का स्थान रहा होगा...

    किसी युवक ने एक युवती से पनघट पर मिलने को कहा तो उसने कहा कि उसके बापू ने घर में ही हैण्ड पम्प लगवा दिया था :)

    ReplyDelete
  45. @किन दिल में कहीं न कहीं एक बच्चा अभी भी जिन्दा है,
    उस बच्चे को जिन्दा रखिये सर जी.
    (देर से) जन्मदिवस पर बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  46. नैन कटोरे ,काजल गोरे ,मैं तो तन मन वार गया ,
    ओ !तेरे रूप का जादू गोरे बंजारिन नै मार गया ...
    कृपया यहाँ भी आपकी मौजूदगी अपेक्षित है -http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/2011/08/blog-post_9034.हटमल
    Friday, August 12, 2011
    रजोनिवृत्ती में बे -असर सिद्ध हुई है सोया प्रोटीन .

    http://veerubhai1947.blogspot.com/
    बृहस्पतिवार, ११ अगस्त २०११
    Early morning smokers have higher cancer रिस्क.

    ReplyDelete
  47. जन्मदिन मुबारक हो दोस्त , आशीर्वाद तो बरसते ही रहेंगे आप पर !

    यह बच्चा बचा रहे और कभी बड़ा न हो पाए तभी जीवन का आनंद है भाई जी !

    शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  48. many many happy returns of the day......

    bachpan bana rahe......
    Aaj hee aapko yaad kar rahee thee.....
    blog padte padte Avinash Vachspati jee kee unkee aswasthta v treatment ko le post padne me aaee.....usee samay aapka dhyan aaya aap jaroor unkee post pade aur uchit salah de....
    Aabhar

    ReplyDelete
  49. जन्म दिन की ढेर सारी बधाई...शुभकामनाएँ....बचपना बना रहे...लजाना शर्माना चलता रहना चाहिये. :)

    ReplyDelete
  50. सरिता जी , मैंने भी अविनाश जी की पोस्ट पढ़कर उनकी अस्वस्थता के बारे में जाना । उनसे बात भी हो गई है । यथासंभव उचित सलाह और सहायता भी जारी है ।

    शुभकामनाओं के लिए आप सबका बहुत बहुत आभार ।

    ReplyDelete
  51. शुक्रिया संदीप भाई जन्म दिन तुम्हारा मिलेंगे लड्डू हमको और ....हम भी अग्र बच्चे होते ,नाम हमारा होता गब्लू बबलू ,खाने को मिलते लड्डू और दुनिया कहती हेपी बर्थ डे टू यू ....
    कृपया यहाँ भी आपकी मौजूदगी अपेक्षित है -http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/2011/08/blog-post_9034.हटमल
    Friday, August 12, 2011
    रजोनिवृत्ती में बे -असर सिद्ध हुई है सोया प्रोटीन .

    http://veerubhai1947.blogspot.com/

    ReplyDelete
  52. हमारे भीतर का बच्चा ही हमारे होने की वजह है।

    ReplyDelete
  53. जन्मदिवस की बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  54. जन्मदिन मुबारक हो , बच्चे जैसी सरलता और निश्छलता बनी रहे बरसों बरस तक ।

    ReplyDelete
  55. जन्मदिन की बहुत-बहुत बधाई...

    आपकी पोस्ट पढ़कर मशहूर फ़िल्म राइटर जनाब अख़तरूल ईमान साहब की नज़्म ‘एक लड़का‘ याद आ गई है। यह एक उर्दू नज़्म है और इसके लेखक ने चोपड़ा कैंप के लिए बहुत सी फ़िल्में लिखी हैं बल्कि आजीवन उनके लिए ही लिखी हैं।
    वक्त , हमराज़ और विजय जैसी फ़िल्में उन्होंने ही लिखी हैं लेकिन फ़िल्म के लिए गाने कभी नहीं लिखे। पूछने पर वह कहते थे कि फ़िल्म के लिए गाना लिखने के नाम पर ‘चल चमेली बाग़ में मेवा खिलाऊंगा‘ ही सूझता है।
    ...और उनकी इस लाइन को मुखड़ा बनाकर किसी ने एक फ़िल्मी नग़मा लिख भी दिया है।
    बहरहाल आप अपने अंदर एक बच्चा महसूस करते हैं और यह बच्चा हर इंसान के अंदर रहता है। इस बात को जनाब अख़तरूल ईमान साहब ने बहुत सलीक़े से कहा है।
    कभी उनके इकलौते शागिर्द और ख़लीफ़ा जनाब अमानुल्लाह ‘ख़ालिद‘ साहब के पास बैठना नसीब हुआ तो वह नज़्म आपके लिए ज़रूर लिखूंगा।
    अभी वो हमारे घर आए थे तो हमने ‘ख़ालिद‘ साहब की नज़्म ‘गर्दिश‘ तो उनके क़लम से तहरीर करवा ली है।
    आपकी फ़रमाइश पर उसे भी मुशायरा ब्लॉग पर पेश किया जा सकता है।
    हुमायूं और रानी कर्मावती का क़िस्सा और राखी का मर्म

    ReplyDelete
  56. डॉ अनवर ज़माल जी , बच्चे निश्छलता का प्रतीक होते हैं . इसीलिए किसी भी देश , धर्म या क्षेत्र के हों , उनमे कोई फर्क नज़र नहीं आता .

    यह तो बड़ा होकर ही इन्सान इतना समझदार हो जाता है की अपने स्वार्थ के वश होकर सभी बातों में भेद भाव करने लगता है .

    यदि इसी स्वार्थ पर काबू पाया जा सके तो आज अन्ना हजारे की भी ज़रुरत क्यों हो .

    ज़र्रानवाज़ी के लिए शक्रिया भाई जान .

    ReplyDelete
  57. Many happy returns of the day . Let the kid in you smile always.

    ReplyDelete
  58. नमस्ते भाईजान !नै पोस्ट का कब तक इंतज़ार करवाईयेगा .?.
    http://www.blogger.com/post-edit.g?blogID=232721397822804248&postID=५९१०७८२०२६८३८३४०६२१
    HypnoBirthing: Relax while giving birth?
    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/
    व्हाई स्मोकिंग इज स्पेशियली बेड इफ यु हेव डायबिटीज़ ?
    रजोनिवृत्ती में बे -असर सिद्ध हुई है सोया प्रोटीन .(कबीरा खडा बाज़ार में ...........)
    Links to this post at Friday, August 12, 2011

    ReplyDelete
  59. आलेख "हिप्नोबर्थिंग "के सन्दर्भ में आपने महत्वपूर्ण जानकार दी -कोमा में प्रसव ,जच्चा और बच्चा सलामत .जा कू राखे साइयां ..../सम्मोहन -मार सके न कोय .आभार आपका .
    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/
    व्हाई स्मोकिंग इज स्पेशियली बेड इफ यु हेव डायबिटीज़ ?

    http://veerubhai1947.blogspot.com/
    HypnoBirthing: Relax while giving birth?
    HypnoBirthing: Relax while giving birth?

    ReplyDelete
  60. जन्मदिवस की बहुत बधाईयाँ.

    स्वतंत्रता दिवस और रक्षाबंधन की भी आपको बहुत बहुत शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  61. डॉ.दराल आपको जन्मदिन की ढेर सारी शुभकामनायें.....!!
    इतना रोचक आलेख लिख कर हमें भी अपना बचपन याद दिलाने के लिए धन्यवाद ...!!बचपन होता ही बहुत प्यारा होता है...

    ReplyDelete
  62. जन्दीन की बधाई ...

    देर से आना हुआ ...

    दिल बच्चा ही रहना चाहिए

    ReplyDelete
  63. डाक्टर साहब ... जनम दिन मुबारक ... अपने अंदर के बच्चे को ऐसे ही जिलाए रखिये हमेशा हमेशा के लिए ... बहुत बहुत शुभकामनाएं ...

    ReplyDelete
  64. डॉ.दराल..आज के शुभ दिन जन्मदिन की बधाई और हार्दिक शुभकामनाएँ ..

    ReplyDelete
  65. स्वाधीनता दिवस की हार्दिक मंगलकामनाएं।

    ReplyDelete
  66. डॉ .दराल भाईसाहब ,यौमे आज़ादी मुबारक आप इसी तरह सांगीतिक रहेंजीवन की लय ताल बनाए रहें ,खिले खिले फूल से ,रहनुमाओं को कुछ होश आये ....
    http://veerubhai1947.blogspot.com/

    रविवार, १४ अगस्त २०११
    संविधान जिन्होनें पढ़ा है .....


    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/
    Sunday, August 14, 2011
    चिट्ठी आई है ! अन्ना जी की PM के नाम !

    ReplyDelete
  67. आपको एवं आपके परिवार को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  68. स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  69. आप सब को भी स्वतंत्रता दिवस की बधाई और मंगल कामनाएं ।

    ReplyDelete
  70. क्या बात है!! सतीश जी भी ऐसा ही कुछ महसूस कर रहे हैं :)
    आज़ादी की सालगिरह मुबारक़ हो.

    ReplyDelete
  71. wah umar 55 ki, dil bachpan ka....handsome they yaa nahi yeh to aapki saheliyan hi batayengi..kyinoki hum to aapko bade bhai ki tahra dekhte hai .... islye aap jawan to hai hi hamare liye ....

    ReplyDelete
  72. देर से आने के लिए क्षमा प्रार्थी हूँ डॉ साहेब ..जन्मदिन ११ को हो या ३० को क्या फर्क पड़ता हैं ...मुबारकबाद तो कभी भी ली जा सकती हैं ....हाय जवानी ! फोटू बड़ा ही सुंदर हैं और उससे भी सुंदर आपका वर्णन ...:)

    ReplyDelete
  73. शुक्रिया दर्शी जी । हमने भी लगभग एक महीने बाद ही देखा ।
    बचपन और ज़वानी की तो बात ही कुछ और होती है ।

    ReplyDelete