Monday, November 28, 2011

दिल और दिमाग की द्वंद्ध में किसकी सुनें ?

अक्सर किसी को कहते सुना होगा--क्या करें , दिल नहीं मानताइन्सान के दिल और दिमाग में एक द्वंद्ध हमेशा चलता रहा हैदिल कुछ और कहता है , दिमाग कुछ औरऔर हम सोचते रहते हैं कि दिल की माने या दिमाग की

वैसे तो हमारे शरीर में दिल यानि हृदय का काम शरीर में रक्त का संचार बनाये रखना हैलेकिन यहाँ दिल से तात्पर्य है --अंतर्मन , ज़ेहन , या हमारी चेतना

इस दिल का काम है हमें सही दिशा दिखानाहमें सही रास्ते पर चलाना


लेकिन दिमाग यानि मष्तिष्क एक कंप्यूटर की तरह काम करता है जिसमे भावनाएं होती हैं , संवेदनाएंवह नाप तोल कर कुछ का कुछ बनाने में सक्षम होता हैइसीलिए दिमाग सच को झूठ , झूठ को सच --सत्य को असत्य और असत्य को सत्य बना सकता है

यह दिमाग ही है जिसकी वज़ह से आज तक कोई बड़ा आदमी कोई भी जुर्म करके भी जीवन भर जेल में नहीं रहायहाँ वकीलों का दिमाग काम करता है

दिमाग ही मनुष्य को बुरे कामों की ओर ले जाता हैऔर तर्क वितर्क से उसे सही भी ठहरा देता है

लेकिन दिमाग प्रैक्टिकल भी होता हैवह भावनाओं के आवेश में नहीं बहतावह स्वतंत्र रूप से कार्य करने की क्षमता रखता है
जबकि दिल अक्सर भावनाओं में बहकर कभी कभी गलत निर्णय ले सकता है

ऐसे में सवाल उठता है कि --दिल की माने या दिमाग की

आम तौर पर तो यही कहा जाता है कि जो दिल कहे , वही काम करना चाहिए
लेकिन कहते हैं --दिल तो पागल होता हैहमेशा दिल की मानने में हानि भी हो सकती है

अब आप ही बताइए , क्या किया जाये --दिल की माने या दिमाग की ?

52 comments:

  1. मौके-मौके की बात, कभी दिल कभी दिमाग.

    ReplyDelete
  2. समय और स्थिति के अनुसार जो सही हो उसकी सुने तो अच्छा रहता है ....!

    ReplyDelete
  3. सर जब दिमाग की बत्ती बंद हो जाती है तब ही दिल मानता नहीं है और वह पागल करार दिया जाता है ... वैसे सारा कंट्रोलिंग पावर दिमाग के पास होता है ... और एक दूजे के बिना रह भी तो नहीं सकते हैं ..आभार

    ReplyDelete
  4. मैंने कहीं पढ़ा था कि यदि आप दुविधा में हो तो सिक्का उछाल कर फ़ैसला कीजिए. लेकिन आप सिक्का उछालने से ठीक पहले ही निर्णय पा आ पहुंचेगे क्योंकि आपके मन में आएगा कि सिक्का इस करवट गिरे तो अच्छा. यही आपका फ़ैसला है.

    दिल, दिमाग़ के लिए भी यही थ्योरी आजमाई जा सकती है

    ReplyDelete
  5. दिल कभी गलत नहीं कहता ...

    ReplyDelete
  6. आधा दिल और आधा दिमाग का -फिफ्टी फिफ्टी :)
    बाकी कौन पड़े व्यासीय और शास्त्रीय विवेचन के झमेले में .....नयी पड़ना मुझे ....
    और वैसे भी जिस दिल पर मुझे नाज था वो दिल नहीं रहा ...
    अर्जे नियाज इश्क के काबिल नहीं रहा
    जिस दिल पर मुझे नाज था वो दिल नहीं रहा ...

    ReplyDelete
  7. जब हर व्यक्ति बैठा अथवा खडा होता है, दिमाग का स्थान सर्वोच्च स्तर पर रहता है...
    और भौतिक रूप से देखें तो दिल को अधिक काम करना पड़ता है रक्त को पैरों से सर तक, मस्तिष्क रुपी कम्प्युटर तक, पहुंचाने के लिए,,, और इसे ही मानव के शरीर में चार पैरों पर चलने वाले मानव के निकटतम सम्बन्धी बन्दर / चिम्पांजी आदि पशुओं की तुलना में उच्च रक्त चाप होने के कारण माना गया था,,, जैसा मैंने एक लेख पढ़ा था कि रूसी चिकत्सकों ने बंदरों पर, उन्हें ऐसे वस्त्र पहना जिससे वो बाध्य हों पिछले पैरों पर खड़े रहने को, शोध कार्य कर,,, और यह पाते कि कुछ बंदरों का रक्त चाप बढ़ गया और कुछ मर भी गए!

    किन्तु जब व्यक्ति लेटा या सोया होता है दोनों, दिल-ओ-दिमाग, लगभग एक ही स्तर पर हो जाते है, और दिल पर कम दबाव पड़ता है...

    इस कारण उनके द्वारा यह निर्णय लिया गया कि जितना हो सके व्यक्ति - जब भी मौक़ा लगे - कम से कम पैर उठा कर बैठे जिससे ह्रदय को पैरों मैं गुरुत्वाकर्षण के कारण जमा हुए रक्त को मस्तिष्क तक उठाने हेतु थोड़ी सहायता मिल जाए...

    ReplyDelete
  8. dil ki sun kar dimaag sae faesla lena chahiyae

    ReplyDelete
  9. कभी दिल कभी दिमाग

    ReplyDelete
  10. वैसे अमूमन ज्ञानी लोग तो कहते है कि दिमाग से काम लो, भावनाओं में मत बहो ! मगर मेरा कहना है कि जिसमे समझदारी उसी में है
    फायदा ज्यादा दिखे !

    ReplyDelete
  11. in medical profession what is more important
    the sound of heart beat
    the functioning of brain


    doctors give importance to heart because in many cases brain dead is also thought to be alive

    ReplyDelete
  12. मेरे हिसाब से दिमाग के साथ दिल से काम करना चाहिए....बाकी यह व्यक्तिगत दिमाग के ऊपर निर्भर है कि वह कितना योग्य है ?

    ReplyDelete
  13. 'पोरस' ने दिल से काम किया 'सिकंदर' को छोड़ दिया यदि दिमाग से काम लिया होता तो सिकंदर को कैद करके तभी जीत जाता और पूरे देश को आगे दुर्दिन न देखने पड़ते।

    ReplyDelete
  14. जो सही हैं वही करना चाहिए ....चाहे मन की सुने चाहे दिल की ?

    ReplyDelete
  15. एक टिप्पणी प्रकाशित हो गयी तो सोचा अब कॉपी रखने की आवश्यकता नहीं... किन्तु फिर गूगल की गुगली से आउट हो गया :D

    अब संक्षिप्त में सार लिख रहा हूँ... मैंने लिखा था कि दिल और दिमाग (मस्तिष्क) एक ही शरीर के अन्य अंगों के अतिरिक्त दो महत्वपूर्ण अंग हैं... इस कारण इन के बीच में सही तालमेल होना आवश्यक है सत्य तक पहुँचने के लिए - अपने कर्ता द्वारा निर्धारित गंतव्य तक पहुँचने के लिए...

    ReplyDelete
  16. रचना जी , शारीरिक रूप से दिमाग दिल के धड़कने पर निर्भर करता है । यानि यदि दिल बंद हो जाये तो दिमाग भी बंद हो जाता है । जबकि दिल धड़कता रहे और दिमाग बंद हो जाए तो उसे ब्रेन डेड कहते हैं । यानि दिल का महत्त्व ज्यादा है ।

    ReplyDelete
  17. दिमाग हमारे सोचने समझने की शक्ति है । इसीलिए अपने स्वार्थ को पूरा करने के लिए हम दिमाग का इस्तेमाल करते हैं ।
    लेकिन दिल स्वार्थ से परे होता है । इसलिए हमें तो लगता है कि यदि आप सात्विक विचार रखना चाहते हैं और सचाई के रास्ते पर चलना चाहते हैं तो दिल की बात सुनिए ।
    ऐसा करके आपको सांसारिक रूप से हानि तो हो सकती है लेकिन मन की शांति अवश्य मिलती है ।

    ReplyDelete
  18. जब शासकीय कार्य कर रहे हों तो दिमाग की..जब कर्तव्य पथ पर चल रहे हों तब दिमाग की..लेकिन जब प्यार कर रहे हों तब दिल की बात मानना श्रेष्ठ है।

    ReplyDelete
  19. दिल का काम धड़कना है, बस वह धड़कता रहे, बाकी सब काम के लिए शरीर के दूसरे कल-पुर्ज़े हैं ना :)

    ReplyDelete
  20. बेहद कठिन प्रश्न है. इसका सही उत्तर शायद ही कोई दे पाए.

    ReplyDelete
  21. दिमाग से डिस्कस कर लीजिये मगर मानो बादशाह की !
    शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  22. डॉक्टर का काम रोगो की सही-सही पहचान करके मरीज को ठीक करना होता है। पर आपने तो सभी लोगो को सांसत में डाल दिया है....अब समझ नहीं आ रहा कि दिल के पागलों की तरह रेगिस्तान में कुर्त्ता फाड़के लैला-लैला चिल्लायें या फिर दिमाग की बात मान कर .......................????????? हम तो समझ नहीं पा रहे।

    ReplyDelete
  23. सुन्दर प्रस्तुति |मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वगत है । कृपया निमंत्रण स्वीकार करें । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  24. खगोलशास्त्री और हस्तरेखा शास्त्री की दृष्टि से देखें तो मानव शरीर नवग्रह अर्थात नौ ग्रहों के सार से बना है (सूर्य से शनि तक, जिसमें से शनि का सार हमारे नर्वस सिस्टम बनाने में लगा है और जो शक्ति अर्थात ऊर्जा को ऊपर अथवा नीचे दोनों दिशाओं का राजा है, और अन्य आठ ग्रहों का सार शरीर के अन्य अंगों में, जैसे हड्डियों का ढाँचे अर्थात नर-कंकाल, मांस-मज्जा, रक्त, आदि द्वारा ८ दिशाओं के आठ दिग्गजों अर्थात हर दिशा का एक एक राजा)... और इनके मिलेजुले प्रभाव को मानव हथेली में (ह्रदय, मस्तक, और जीवन) तीन मुख्य रेखाओं द्वारा, अपनी निजी फ़ाइल समान हर व्यक्ति आया हुआ है... किन्तु दुर्भाग्यवश अथवा काल के प्रभाव से अज्ञानतावश स्वयं पढ़ नहीं पाता है 'आम आदमी'... )

    ReplyDelete
  25. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर भी की गई है!यदि किसी ब्लॉग की कोई पोस्ट चर्चा मे ली गई होती है तो ब्लॉगव्यवस्थापक का यह नैतिक कर्तव्य होता है कि वह उसकी सूचना सम्बन्धित ब्लॉग के स्वामी को दे दें!
    अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    ReplyDelete
  26. डॉ टी एस दराल जी
    कुछ ऐसे भी निश्चय ही हैं जिनके दिल तो धड़क रहे हैं पर दिमाग़ बंद हो चुके हैं :)

    ReplyDelete
  27. दिल क्‍या कहता है और दिमाग क्‍या कहता है, यह तो कभी समझ नहीं आया। बस दो भावनाएं साथ आती हैं, एक कहती है यह काम कर लो और दूसरी कहती है मत करो। अब कौन सी बात दिल है और कौन सी दिमाग, कुछ पता नहीं चलता। हाँ शब्‍दों का आडम्‍बर है, और फिल्‍मों का सटीक वाक्‍य। जब भी दुविधा में हों, किसी अन्‍य का परामर्श लेना चाहिए ना कि दिल और दिमाग की फिल्‍मी वाक्‍य के चक्‍कर में पड़ना चाहिए।

    ReplyDelete
  28. JC said...
    खगोलशास्त्री और हस्तरेखा शास्त्री की दृष्टि से देखें तो मानव शरीर नवग्रह अर्थात नौ ग्रहों के सार से बना है (सूर्य से शनि तक, जिसमें से शनि का सार हमारे नर्वस सिस्टम बनाने में लगा है और जो शक्ति अर्थात ऊर्जा को ऊपर अथवा नीचे दोनों दिशाओं का राजा है, और अन्य आठ ग्रहों का सार शरीर के अन्य अंगों में, जैसे हड्डियों का ढाँचे अर्थात नर-कंकाल, मांस-मज्जा, रक्त, आदि द्वारा ८ दिशाओं के आठ दिग्गजों अर्थात हर दिशा का एक एक राजा)... और इनके मिलेजुले प्रभाव को मानव हथेली में (ह्रदय, मस्तक, और जीवन) तीन मुख्य रेखाओं द्वारा, अपनी निजी फ़ाइल समान हर व्यक्ति आया हुआ है... किन्तु दुर्भाग्यवश अथवा काल के प्रभाव से अज्ञानतावश स्वयं पढ़ नहीं पाता है 'आम आदमी'... )
    November 29, 2011 7:49 AM

    ReplyDelete
  29. वास्तव में हम दिल या दिमाग में से किसी की मानने में पूर्णत: स्वतंत्र नहीं हैं।
    हमारा स्वभाव अन्तर्मुखी है तो हमें दिल की मानने पर मजबूर होना पडेगा और बहिर्मुखी है तो दिमाग की चलेगी।

    प्रणाम

    ReplyDelete
  30. मेरी टिप्पणी कहाँ गयी -दिल दहल उठा है !

    ReplyDelete
  31. देवेन्द्र जी , हमें तो लगता है , आजकल शासकीय कार्यों मे भी दिमाग के साथ दिल की बात भी माननी चाहिए .
    सही बात है सतीश जी .
    काजल जी , ऐसे लोगों को हमारी भाषा में तो ब्रेन डेड कहते हैं . लेकिन यह दिल वह दिल नहीं है . यह दिल यदि धड़कता हो तो दिमाग बंद हो ही नहीं सकता . :)

    ReplyDelete
  32. अरविन्द जी , फ़िलहाल तो यहाँ भी दिख रही है और पिछली पोस्ट पर भी .
    चलिए अब दिल और दिमाग की बात हो जाए .

    ReplyDelete
  33. अवसर तो दोनो को मिलना चाहिये ,परन्तु दिल को प्राथमिकता मिलनी चाहिये ......

    ReplyDelete
  34. इस दिल का काम है, हमें दिशा दिखाना
    और दिमाग का काम है तर्क कर दिखाना
    दोनों अपनी जगह काम आने वाले ही लगते हैं ...
    कशमकश.... है , तो है !!

    ReplyDelete
  35. दिल और दिमाग एक-दूसरे से पृथक् नहीं हैं। वे पूरक हैं,परन्तु व्यक्तित्व संतुलित न होने के कारण हम स्वभाव अथवा जगत-व्यवहार को अलग-अलग खांचे में रखते हैं। यह संतुलन तभी कायम हो सकता है जब कोई भी कार्य करते अथवा निर्णय लेते समय हमें आत्म-स्मरण बना रहे।

    ReplyDelete
  36. मेरे हिसाब से तो दोनों ही अपनी अपनी जगह जरूरी हैं...!
    दिल की भी सुनें और दिमाग से उसे संतुलित करें...!!
    लेकिन कई बार उल्टा ही हो जाता है..क्या करें ??
    दिल है कि मानता नहीं...इसी लिए कहा जाता है...!!

    ReplyDelete
  37. कई बार ऐसा भी होता है कि दिमाग कहता है -यह काम करो, इसे बहुत फायदा होगा । लेकिन दिल कहता है कि मत करो , क्योंकि भले ही न करने से फायदा न हो , लेकिन यही सही है ।
    यहाँ दिमाग प्रैक्टिकल बात कह रहा है और दिल उचित । यानि दिल की माने तो कुर्बानी देनी पड़ सकती है ।
    फिर भी लगता है कि दिल की सुनने से मन की शांति तो रहती है ।

    ReplyDelete
  38. परिस्थित के अनुसार फैसला लेना चाहिए
    कभी२ दिल और दिमाग दोनों के फैसले
    गलत साबित होते है,..

    ReplyDelete
  39. दिल हमेशा सही राह दिखाता है... गणितीय प्रपंचों से दूर जो है!

    ReplyDelete
  40. डॉक्टर साहिब, आप का प्रश्न ही सही नहीं लगता, क्यूंकि विचार का एक मात्र स्रोत मन ही है... आदमी अनंत प्राणियों के साथ-साथ लाखों वर्ष से पृथ्वी पर आ-जा रहा है... और हमारा आधार पृथ्वी हमारी सुदर्शन चक्र समान घूमती गैलेक्सी के किनारे की ओर अवस्थित एक छोटे से सौर-मंडल का असंख्य सदस्यों में से एक छोटा सा सदस्य है...
    इस के अतिरिक्त आकाश में दिखाई देते असीम गुरुत्वाकर्षण और प्रकाश आदि शक्ति के स्रोत सूरज के चारों ओर असंख्य पिंड अंतरिक्ष के शून्य में कम से कम साढ़े चार अरब वर्षों से चक्कर काटते चले आ रहे हैं - (अर्थात गैलेक्सी के केंद्र पर अवस्थित निराकार किन्तु परम शक्तिशाली ब्लैक होल पर आधारित सूर्य द्वारा घुमाए जा रहे हैं सभी असंख्य सदस्य जो सूर्य के माध्यम से उपलब्ध कराई गयी शक्ति पर अपने और अपने ऊपर आधारित प्राणीयों आदि के जीवन के लिए निर्भर हैं)... इस स्पेस ट्रेन समान तंत्र को हम मानव जाति द्वारा निर्मित रेलगाड़ी के माध्यम से कुछ-कुछ समझ सकते हैं, यद्यपि वो अभी अपनी सौर-मंडल समान चरम सीमा से बहुत दूर है... इस में एक (या पहाड़ों आदि में आवश्यकतानुसार कभी-कभी दो भी) इंजन अपने पीछे कई, एक श्रंखला में, स्वतंत्र किन्तु आपस में जुड़े, डब्बों को खींच ले जाता है... जितना शक्तिशाली इंजन उतनी उसकी क्षमता डिब्बों को खींच ले जाने की - जैसे मालगाड़ियों में डीज़ल से चलने वाला इंजन...
    और, इसी प्रकार मानव का मस्तिष्क ही ब्लैक होल समान असीमित शक्ति का स्रोत है... और पेट में, सोलर प्लेक्सस में, कोयले/ डीज़ल समान, भोजन आदि से प्राप्त शक्ति को रक्त के माध्यम से सम्पूर्ण शरीर में उपलब्ध कराने वाला मसल पम्प अर्थात दिल है, रेल के इंजन समान...

    ReplyDelete
  41. दिल भाव प्रधान है तो दिमाग विचार प्रधान.
    मनुष्य की आत्मा उनसे ऊपर उनकी स्वामी
    है.श्रीमद्भगवद्गीता के अध्याय ३ श्लोक ४२ और ४३
    का निम्न सार है.

    'इन्द्रियों को स्थूल शरीर से पर यानी श्रेष्ठ बलवान और
    सूक्ष्म कहते हैं,इन्द्रियों से पर मन(दिल)है,मन से भी
    पर बुद्धि(दिमाग) है.और जो बुद्धि से भी अत्यंत पर
    है,वह आत्मा है.'

    'इस प्रकार बुद्धि से पर अर्थात सूक्ष्म ,बलवान,और
    अत्यंत श्रेष्ठ आत्मा को जानकर बुद्धि के द्वारा मन को
    वश में करके 'काम'(कामना)रुपी दुर्जय शत्रु को मारना
    चाहिये.'

    आपकी सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार.

    समय मिलने पर मेरे ब्लॉग पर आईयेगा.

    ReplyDelete
  42. JC said...
    डॉक्टर साहिब, आप का प्रश्न ही सही नहीं लगता, क्यूंकि विचार का एक मात्र स्रोत मन ही है... आदमी अनंत प्राणियों के साथ-साथ लाखों वर्ष से पृथ्वी पर आ-जा रहा है... और हमारा आधार पृथ्वी हमारी सुदर्शन चक्र समान घूमती गैलेक्सी के किनारे की ओर अवस्थित एक छोटे से सौर-मंडल का असंख्य सदस्यों में से एक छोटा सा सदस्य है...
    इस के अतिरिक्त आकाश में दिखाई देते असीम गुरुत्वाकर्षण और प्रकाश आदि शक्ति के स्रोत सूरज के चारों ओर असंख्य पिंड अंतरिक्ष के शून्य में कम से कम साढ़े चार अरब वर्षों से चक्कर काटते चले आ रहे हैं - (अर्थात गैलेक्सी के केंद्र पर अवस्थित निराकार किन्तु परम शक्तिशाली ब्लैक होल पर आधारित सूर्य द्वारा घुमाए जा रहे हैं सभी असंख्य सदस्य जो सूर्य के माध्यम से उपलब्ध कराई गयी शक्ति पर अपने और अपने ऊपर आधारित प्राणीयों आदि के जीवन के लिए निर्भर हैं)... इस स्पेस ट्रेन समान तंत्र को हम मानव जाति द्वारा निर्मित रेलगाड़ी के माध्यम से कुछ-कुछ समझ सकते हैं, यद्यपि वो अभी अपनी सौर-मंडल समान चरम सीमा से बहुत दूर है... इस में एक (या पहाड़ों आदि में आवश्यकतानुसार कभी-कभी दो भी) इंजन अपने पीछे कई, एक श्रंखला में, स्वतंत्र किन्तु आपस में जुड़े, डब्बों को खींच ले जाता है... जितना शक्तिशाली इंजन उतनी उसकी क्षमता डिब्बों को खींच ले जाने की - जैसे मालगाड़ियों में डीज़ल से चलने वाला इंजन...
    और, इसी प्रकार मानव का मस्तिष्क ही ब्लैक होल समान असीमित शक्ति का स्रोत है... और पेट में, सोलर प्लेक्सस में, कोयले/ डीज़ल समान, भोजन आदि से प्राप्त शक्ति को रक्त के माध्यम से सम्पूर्ण शरीर में उपलब्ध कराने वाला मसल पम्प अर्थात दिल है, रेल के इंजन समान...
    November 30, 2011 6:40 AM

    ReplyDelete
  43. राकेश जी , बहुत सही ज्ञान दिया है आपने गीता का .
    शरीर से श्रेष्ठ इन्द्रियां , इन्द्रियों से श्रेष्ठ मन ( दिल ) , दिल से श्रेष्ठ बुद्धि ( दिमाग ) और दिमाग से श्रेष्ठ आत्मा .
    गीतानुसार मन बड़ा चलायमान होता है और इसे बुद्धि द्वारा वश में किया जा सकता है .

    लेकिन आधुनिक परिवेश में तो यही लगता है की बुद्धि ही इन्सान को सभी कुकर्म करने के लिए प्रेरित करती है जबकि दिल या मन बुद्धि का ही सकारात्मक रूप है . दुसरे शब्दों में बुद्धि के दो पहलु होते हैं --एक अच्छा ( मन ) , दूसरा बुरा ( दिमाग) .
    अब कौन किस पर हावी होता है , यह हमारे संस्कारों( कंडिशनिंग) पर निर्भर करता है .

    जे सी जी , आपकी बात का भी अनुमोदन हो गया लगता है .

    ReplyDelete
  44. वो कहतें हैं न सबकी सुन कर अपने दिल की .अपने अन्दर की आवाज़ सुन .सही गलत सबको पता होता है दिमाग की लापरवाही बे -फिक्री आदमी से अनर्थ करवा देती है .दिल शब्द की प्रतीकात्मक व्याख्या आपने बड़ी सटीक की है .

    ReplyDelete
  45. 'आधुनिक वैज्ञानिक' द्वारा उपलब्ध जानकारी और प्राचीन हिन्दुओं के कथन को ध्यान में रख संक्षिप्त में कहें तो, अनंत शून्य रुपी निरंतर फूलते गुब्बारे समान ब्रह्माण्ड का सार हमारी तथाकथित 'सुदर्शन-चक्र' समान घूमती गैलेक्सी है... अर्थात इसके केंद्र में स्थित निराकार ब्लैक होल, यानि सुपर गुरुत्वाकर्षण, 'सौ सूर्यों के प्रकाश वाला कृष्ण', योग द्वारा सौर-मंडल के सार से बने प्रत्येक साकार मानव शरीर के भीतर विद्यमान आत्मा कहलाता है... जैसा गीता में कृष्ण भी कहते दिखाए गए हैं कि वे सबके भीतर माया से दीखते हैं यद्यपि सारी सृष्टि उन के (विराट रूप, योगेश्वर विष्णु/ शिव के) भीतर है...

    ReplyDelete
  46. अब दिल-दिमाग के मामले में इतने विद्वानों की उपस्थिति में कुछ भी कहना छोटे मुँह बड़ी बात हो जायेगी, इसलिये अपन चुप ही रहेंगे।

    ReplyDelete
  47. हा हा डाक्टर साहब ... जब जिसकी बात फायदेमंद हो उसी की मान ली जाए ... वैसे मेरा मानना है दिल की मानो ... दिल दिमाग पे राज करता है ...

    ReplyDelete
  48. नासवा जी , आपसे पूर्णया सहमत हूँ ।

    ReplyDelete
  49. हूँ......
    मुझे अक्सर डांट पड़ती है ज़ज्बाती होने की ....
    यानि दिल से सोचने वाले कभी आगे नहीं बढ़ सकते ....
    पर क्या करें हमने तो हमेशा दिल की मानी ....

    ReplyDelete
  50. सभी पोस्ट्स को पढ़कर यही लगता है --दिल और दिमाग , दोनों की अपनी अपनी अहमियत है . कभी दिल की बात सही होती है , कभी दिमाग की . इसलिए एक संतुलन बनाकर डिस्क्रिशन यूज करना चाहिए .

    हीर जी , अब इस उम्र में तो क्या बदलेंगे . जैसे हैं वैसे ही ठीक हैं जी .

    ReplyDelete
  51. प्रश्न----निर्णय दिल से ले या दिमाग से

    उत्तर---आपके पास जो है उससे निर्णय ले

    ReplyDelete
  52. प्रश्न----निर्णय दिल से ले या दिमाग से

    उत्तर---आपके पास जो है उससे निर्णय ले

    ReplyDelete