Monday, August 2, 2010

उल्टा चोर कोतवाल को डांटे---ये भी खूब रही

दिल्ली का ट्रैफिक । साठ लाख वाहन । जिंदगी की भाग दौड़ । सुबह सुबह सब भागने में व्यस्त। ऐसे में क्या क्या दृश्य देखने को मिलते हैं । ज़रा आप भी देखिये ।


द्रश्य १ :

एक चौराहे पर एक गाड़ी वाले ने तीन स्कूटर्स , चार मोटर साईकल्स , दो साईकल रिक्शा और पांच पैदल आदमियों को टक्कर मार दी ।

गाड़ी वाला ग्रीन लाईट ( हरी बत्ती ) जम्प कर रहा था ।

दृश्य २ :

एक चौराहे पर एक युवक ने रैड लाईट जम्प की और ग्रीन लाईट पर दूसरी ओर से आती एक महिला की गाड़ी ठोक दी ।
पुलिस दोनों को पकड़ कर थाने ले गई । थाने में युवक के नेता पिता ने महिला को डांट पिलाई --मैडम आपको दिखता नहीं है । जब वो रैड लाईट जम्प कर रहा था , तो आप रुकी क्यों नहीं ।

दृश्य ३ :

अमेरिका , कनाडा जैसे देशों में लाइसेंस बड़ी मुश्किल से मिलता है । नियमों का सख्ती से पालन किया जाता है ।
ऐसे देश का नियम पालक लाइसेंस धारी पूर्वी दिल्ली की सड़कों पर गाड़ी एक किलोमीटर भी नहीं चला सकता , यह मेरा दावा है ।

दृश्य ४ :

चौराहे पर एक स्कूटर वाले ने एक भिखारी को एक रुपया भीख में दिया । भिखारी बिगड़ कर बोला --बाबू इसे आप ही रखो । मेरा दिवालिया निकलवाओगे क्या ।

अंत में :

एक बूढ़े भिखारी से मैंने कहा , बाबा
आज दायाँ , कल तो बायाँ हाथ बढाया था ।
भिखारी बोला बेटा , बूढा हो गया हूँ
अब याद नहीं रहता , कल किस हाथ में पलस्तर चढ़ाया था ।

कहिये , कैसी रही ।

54 comments:

  1. निश्चय ही बहुत बढ़िया रही. पलस्तर वाले बाबा की तो बल्ले बल्ले.

    ReplyDelete
  2. क्या खूब हा हा

    ReplyDelete
  3. बहुत मस्त और सत्य भी.

    ReplyDelete
  4. आज की दुनिया का कटु शाश्वत वास्तविक सत्य ..

    ReplyDelete
  5. पैनी नजर का प्रस्तुतिकरण ।

    ReplyDelete
  6. बहुत बढ़िया!
    --
    विविधता में ही तो भारत के प्राण रचे-बसे हैं!

    ReplyDelete
  7. हा हा हा
    ये भी खूब रही

    ReplyDelete
  8. गज़ब -गज़ब दृश्य !

    ReplyDelete
  9. एक विदेशी पंजाब घूमने आया...वापसी में उसने दिल्ली के लिए टैक्सी ली...टैक्सी मक्खन चला रहा था...अब मक्खन तो मक्खन...जहां भी रेड सिग्नल आया...धड़धड़ाता हुआ तोड़ता हुआ आगे निकल जाए...ये देखकर विदेशी की हवा खराब...आखिर कह ही बैठा...ये आप क्या कर रहे हैं...मक्खन ने कहा...साब जी बेफ़िक्र होकर बैठो, सिंह कभी नहीं रुका करते...आगे एक जगह सिग्नल पर ग्रीन लाइट थी...मक्खन वहां गाड़ी रोक कर खड़ा हो गया...विदेशी बड़ा हैरान हुआ, फिर पूछा...लेकिन यहां ग्रीन सिग्नल पर क्यों गाड़ी रोक दी...मक्खन...ओ, साब जी, सामने से दूसरा सिंह आ गया तो...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  10. डॉ. साहब आज तो हँसाने के मूड से ही आएँ है आप...मजेदार वाक़या...धन्यवाद

    ReplyDelete
  11. बेहतरीन....... :-)

    ReplyDelete
  12. दिल्ली शहर का सत्य! ट्रेफिक लाइट होते हुए भी यहाँ पुलिस वाला खड़ा होना आवश्यक है ! 'मक्खन सिंह' वाला किस्सा मेरे साथ भी वर्षों पहले इंडिया गेट के एक चौराहे में हुआ जब में हरी बत्ती देख थोडा आगे बढ़ ही गया था किन्तु एक टैक्सी वाला धड धडाते हुए, लाल बत्ती होते हुए भी, सामने से निकल गया और सौभाग्यवश मैंने उसे देख लिया और गाडी रोक ली!

    ReplyDelete
  13. :):) दिल्ली का ट्रैफिक और आपका अंदाज़े बयां दोनों ज़बरदस्त हैं

    ReplyDelete
  14. जहां तक अमेरिका / केनेडा में रह रहे व्यक्ति के दिल्ली की सडकों पर गाडी चलाने का प्रश्न है, कई वर्ष पूर्व मेरे नंबर एक दामाद को, जब वो परिवार वहीँ छोड़ आया हुआ था, मुख्यतः कठिनाई सड़क की सही तरफ चलाने की हुई जब हम दोनों को एक रात दूसरी बेटी के घर दक्षिण दिल्ली खाने पर आमंत्रित किया गया था - मैं उसे बार बार टोकता रहा...
    और वहाँ के कानून के अनुसार वो अगली गाडी के बीच जो जगह छोड़ता था (अगली गाडी के पिछले पहिये दीखने चाहिए) उस में कोई और दुपहिया गाडी घुसा देता था!

    ReplyDelete
  15. आपकी लेखनी को सलाम .... इतना शानदार लिखते हैं आप की दिल छू लेते हैं.... बहुत ही अच्छी लगी यह पोस्ट.. आपका कीन औब्ज़र्वेशन बहुत शार्प है...

    ReplyDelete
  16. हा-हा-हा
    ये भी खूब रही

    ReplyDelete
  17. हा हा हा ………………बहुत ही बढिया रही।

    ReplyDelete
  18. हा हाहा हा.
    पहले तो मुझे लगा आप दिल्ली की कोई समस्या पर ब्लॉग पोस्ट किये हैं. लेकिन बाद में पता चला आप तो हल्के-फुल्के, मज़ाक के मूड में ब्लॉग पोस्ट किये हैं.
    अच्छी बात हैं, कभी-कभी ब्लॉग के पाठको के आगे सस्पेंस रखना भी चाहिए.
    क्या हम ब्लोगर साथियों को कभी थ्रिलर (डरावना, भूतहा) भी आपके ब्लॉग पर मिलेगा????
    हा हाहा हा.
    बहुत बढ़िया.
    थैंक्स.
    WWW.CHANDERKSONI.BLOGSPOT.COM

    ReplyDelete
  19. दराल जी, आपसे दो बातें करनी हैं =
    1. मुझे तो पता ही नहीं था की आपने मेरे सुझाव पर कोई पोस्ट (पिछली) भी लिखी हैं. मैंने कई बार आपकी पिछली पोस्ट पर विजिट भी की थी, लेकिन कल रात को मुझे मेरा नाम आपके पोस्ट पर लिखा मिला. तो एक बार तो मैं चौंक गया, फिर थोड़ी देर बाद माज़रा समझ में आया. आप भी ना.........मैंने तो आपको ऐसे ही सुझाव दे दिया था, और आपने सच में ही ना सिर्फ पोस्ट लिखी वरन मेरा नाम भी दे दिया. आप बहुत अच्छे हैं. ऐसे लोग बहुत कम होते हैं जो दूसरो का नाम भी आगे रखते हैं. वरना आजकल तो लोग दूसरो के विचारों, दूसरो की सोच, और दूसरो के लिखे गानों-गीतों-और कहानियों तक को कॉपी करके अपने नाम से जारी कर देते हैं. आप बहुत अच्छे हैं.
    2. मैंने आपकी पिछली पोस्ट पर बहुत पहले ही कमेन्ट कर दी थी. और बहुत बार ऐसे ही घुमते-फिरते आपके ब्लॉग पर मेरी कमेन्ट भी पढ़ी थी. लेकिन कल रात मेरी कमेन्ट आपके ब्लॉग पोस्ट पर नहीं थी. मुझे इसका कारण समझ में नहीं आया. क्या आपने मेरी कमेन्ट को डिलीट कर दी थी????

    धन्यवाद.
    WWW.CHANDERKSONI.BLOGSPOT.COM

    ReplyDelete
  20. डॉ टी एस दराल जी आप की सभी बातो से सहमत है, लेकिन यह दृश्य ३ वाली बात पर तो सॊ प्रतिशत सहमत है जी, मैने एक बार ट्राई कि थी.... बस कान पकड लिये

    ReplyDelete
  21. बेहद उम्दा व्यंग्य !

    ReplyDelete
  22. बिलकुल सही चोट की डा० साहब आपने, कल टीवी पर ऐंड्र्युज में कुछ अमीरजादों और जादियों का रात को शराब पीकर गाडी को ट्रक के पीछे से ठोकने और फिर पुलिस की उपस्थिति में वहाँ बीच सड़क पर उनकी दादागिरी देख लग रहा था, कि इस देश को अभी एक और आजादी की सख्त जरुरत आन पडी है ! आखिरी जोक भी बहुत सटीक है !

    ReplyDelete
  23. खुशदीप जी , जे सी जी , दिल्ली के ट्रैफिक की ऐसी हालत है कि हम जैसा सात्विक होने का प्रयास करने वाला राजसी व्यक्ति भी कभी कभी तामसी पर उतर आता है ।
    चौराहे पर ग्रीन लाईट होने पर आपका एकाधिकार नहीं होता । रेड लाईट जम्प करने वालों को सम्मान देना ही पड़ता है ।

    विशेष नोट : स्कूटर या मोटरसाईकल , हमेशा हेलमेट पहन कर ही चलायें । इससे आपकी जान और माल --दोनों की रक्षा होती है ।

    ReplyDelete
  24. चन्द्र सोनी जी , इस पोस्ट में दिल्ली की समस्याएँ , हंसी मज़ाक और भयानक /डरावना सच --तीनों छुपे हैं । बस पहचानने की कोशिश कीजिये ।

    आपकी फरमाइश पर --यह तो ट्रेलर है । असली पोस्ट को स्थगित किया है ताकि एक ही विषय होने की नीरसता न रहे ।
    टिप्पणी डिलीट करने का सवाल ही नहीं उठता । मोडरेशन न होने पर डिलीट की गई टिपण्णी में भी नाम तो नज़र आता है ।
    आप निश्चिन्त रहें , आपकी टिप्पणी हमारे लिए आपका स्नेह है , और सम्मानीय है ।

    ReplyDelete
  25. कमो-बेश यही स्थिति भारत के हर शहर की है। दिल्ली हमसे आगे नहीं है , कम से कम इस दौड़ में।

    ReplyDelete
  26. मुझे तो बहुत पसंद आई आपकी ये पोस्ट, पर मैं तो गाड़ी चलते समय भी हेलमेट लगा कर ही रखती हूँ क्या पता कब चालान कट जाए. मैं तो कहती हूँ की दुपहिये चालकों को भीं बेल्ट लगा लेनी चाहिए. ट्रेफिक पुलिसवाले को दिखाने को कुछ तो रहेगा. क्योंकि ट्रेफिक पुलिस वाले तो सिर्फ हेलमेट और बेल्ट ही देखते हैं फिर सवारी आप किसकी कर रहे है ये नहीं देखते

    ReplyDelete
  27. ये हँसगुल्ले अच्छे लगे.. कुछ मूड ठंडा हुआ..

    ReplyDelete
  28. हाहा , बहुत बढ़िया - मजा आ गया !!!

    ReplyDelete
  29. एक बूढ़े भिखारी से मैंने कहा , बाबा
    आज दायाँ , कल तो बायाँ हाथ बढाया था ।
    भिखारी बोला बेटा , बूढा हो गया हूँ
    अब याद नहीं रहता , कल किस हाथ में पलस्तर चढ़ाया था ।
    ...यह खूब रही.

    ReplyDelete
  30. बहुत ही बढ़िया, मज़ेदार और सही लिखा है आपने! उम्दा प्रस्तुती!
    मित्रता दिवस की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  31. छोटी छोटी गहरे घाव करती बातें...एक दम सच्ची...बेहतरीन पोस्ट लगी है मुझे ये आपकी...वाह...
    नीरज

    ReplyDelete

  32. डाक्टर साहब बेचारे के बुढापे को दृष्टिगत रखते हुए उसकी गल्ती को माफ किया जाना चाहिए।
    इस शानदार किस्से को सुनाने का शुक्रिया। सचमुच मजा आ गया।

    …………..
    स्टोनहेंज के रहस्य… ।
    चेल्सी की शादी में गिरिजेश भाई के न पहुँच पाने का दु:ख..

    ReplyDelete
  33. अब याद नहीं रहता , कल किस हाथ में पलस्तर चढ़ाया था।
    लेटेस्‍ट जोक के लि‍ये धन्‍यवाद।

    ReplyDelete
  34. हा हा हा ! बहुत बढ़िया रचना जी ।
    आपका सेन्स ऑफ़ ह्यूमर भी बाहर आने लगा है , धीरे धीरे ।
    जी हम भी यही कहते हैं कि भाई हेलमेट लगा लो । अपनी जान की नहीं तो माल की रक्षा के लिए ही सही ।

    ReplyDelete
  35. आनंद आ गया ...खूब इकट्ठे किये हैं !!

    ReplyDelete
  36. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  37. बहुत खूब ....दराल जी ....आपकी फुलझड़ियाँ महज फुलझड़ियाँ नहीं हैं ...हर कथ्य के पीछे इक सन्देश छिपा है ....सच आप एक जिंदादिल इंसान हैं ...हम जैसे मुर्दादिल क्या खाक जियेगें .....!!

    ReplyDelete
  38. कैसी बात करती हैं , हरकीरत जी । आपकी कला को तो हम नमन करते हैं ।

    ReplyDelete
  39. दिल्ली में ट्रैफिक पुलिस वाले जिस तरह घात लगाकर खड़े रहते हैं,उससे साफ है कि ज़ोर कमाई पर है,व्यवस्था सुधारने पर नहीं।

    ReplyDelete
  40. वाह बहुत खूब. भिखारियों प इसीलिये तो विश्वास नहीं रहा अब...

    ReplyDelete
  41. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  42. Nazar nazar ki baat hai .kavi lekhak ki nazar hai. bahut achchha laga. badhai!!

    ReplyDelete
  43. सब राम-राज है डाक्टर साहब....
    कभी 'डाकिया डाक लाया' पर भी आयें...

    ReplyDelete
  44. बहुत ही बढ़िया व्यंग्य....कुछ व्यस्तताओं के चलते...इतनी देर से पढ़ पायी इतनी रोचक पोस्ट

    ReplyDelete
  45. डाक्टर साहब आपकी सोहबत का असर है

    ReplyDelete
  46. रचना जी , हम तो घर में भी हेलमेट पहन कर रहते है ।हा हा हा !
    ये तो बहुत अच्छी बात है । किसी पर तो असर हुआ ।

    वैसे जिंदगी स्वयं ही इतनी गंभीर समस्याओं से भरी होती है कि थोडा बोझ हल्का करने के लिए हास्य का होना अति आवश्यक है ।

    ReplyDelete
  47. बेहद उम्दा व्यंग्य !

    ReplyDelete
  48. चोरी और फिर सीनाजोरी...ये तो यहाँ की आम बात है...

    ReplyDelete
  49. डा. साहिब,
    मैं ना तो साहित्यकार और ना ही मुझे शब्दों से खेलना आता। पर जिला जींद के निडाना गावं में कीड़ों से माथा मारते-मारते इस ब्लागिंग के जरिये तीन मानव स्वास्थ के रखवालों से वास्ता पड़ा है। 1. डा. रनबीर दहिया रोहतक में, 2 एक डा. गोहाना में व एक डा. आप। तीनों गजब के धुरंधर। अगर तीनों तालमेल बैठाकर मानव-स्वास्थ को केन्द्र में रख रचनाएँ रचे तो बहुत बेहतर होगा।

    ReplyDelete
  50. दलाल साहब, एक अरसे बाद ब्लॉग पर आने का शुक्रिया । बेशक हम डॉक्टरों का मरीजों के प्रति फ़र्ज़ है । और वो हम पूरा कर भी रहे हैं । कृपया मेरी लेटेस्ट पोस्ट पढ़िए --११ अगस्त की । इसे पढ़कर आपको अहसास होगा कि कितनी विषम परिस्थितियों में काम करना पड़ता है ।
    लेकिन ब्लोगिंग एक जरिया है अपनी क्रेअटिविटी को एक्सप्रेस करने का ।
    मैं मुख्यतय: चार विषयों पर लिखता हूँ --मेडिकल ( रोगों की जानकारी ), फोटोग्राफी --जिसका मुझे शौक है , हास्य कवितायेँ और लेख --हरियाणवी खून में हास्य विनोद होता ही है , और सामाजिक मुद्दे जैसे सजातीय विवाह , दहेज़ प्रथा आदि ।
    कल ही एक मित्र ने बताया कि उन्होंने एक ही दिन में मेरे सारे लेख पढ़े हैं । जिसका सबूत भी है , उनकी टिप्पणियां । कभी वक्त मिले तो आप भी कोशिश करियेगा , आपको अच्छा लगेगा ।

    all work and no play makes jack a dull boy .

    ReplyDelete