Saturday, October 23, 2010

ऐसा भी होता है --कुछ दिलचस्प ख़बरें ---

काफी समय से गंभीर विषयों पर चर्चा चल रही थीआज थोडा हल्का फुल्का लिखने का मूढ़ है

कभी कभी अख़बारों में भी अज़ीबो ग़रीब ख़बरें पढने को मिलती हैं । जिन्हें पढ़कर सोचने पर मजबूर होना पड़ता है कि ऐसा भी होता है ! पेश हैं पिछले दो सालों में पढ़ी कुछ दिलचस्प ख़बरें , चटपटे अंदाज़ में ।

)

धैर्य और विश्वास :

फ़्रांस में एक प्रेमी प्रेमिका ने पचास साल तक प्रेम में एक दूसरे को परखने के बाद शादी कीउस समय दुल्हे की उम्र १०४ और दुल्हन की उम्र ९७ साल थी


)

सहनशीलता :

दिल्ली में एक दंपत्ति ने पचास साल की शादीशुदा जिंदगी काटने के बाद तलाक का निर्णय लियाऔर मिल भी गया


)

मेहनत और लगन :

दिल्ली में ही एक विवाहित दंपत्ति पचास साल तक तलाक का केस लड़ते रहेअंत में उन्हें कामयाबी मिल ही गई


)

पेरिस :

पेरिस में पेरिस ने पेरिस से नाता तोड़ा। (यहाँ एक पेरिस हिल्टन और दूसरा उसका ब्वाय फ्रेंड पेरिस था)



)

क्रिकेट :

हॉलीवुड ऐक्ट्रेस एंजेलिना जोली ने अपने गोद लिए हुए बेटे --मेडोक्स को कम्बोडिया ले जाकर क्रिकेट खिलाया


अब आपके लिए एक सवाल : क्यों खिलाया ?

कम्बोडिया में कब से क्रिकेट खेला जाने लगा है ?


44 comments:

  1. जनाब खबरे तो सारी धांसू जी मस्त,धन्यवाद

    ReplyDelete
  2. वहां क्रिकेट खाया जाता होगा !!

    ReplyDelete
  3. पहला और दूसरा जोरदार लगे वाह ....आभार

    ReplyDelete
  4. ... अजब-गजब खबरें !!!

    ReplyDelete
  5. एक से बढ़कर एक खबर लाए हो डॉं. साहिब ....

    ReplyDelete
  6. खबरों का चुनाव दिलचस्प है...डा0 साहब, इरादा तो नेक है !हा..हा..हा..

    ReplyDelete
  7. खाया और खिलाया कहते तो समझ भी लेते .....वैसे भी वे खूब खाई पीई हैं !

    ReplyDelete
  8. वाकई दिलचस्प है ।

    ReplyDelete
  9. पाण्डे जी , अरविन्द जी --सवाल का ज़वाब चाहिए । टालिए मत ।

    ReplyDelete
  10. इस दुनिया मे क्या क्या नही होता? सब कुछ सम्भव है जी। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  11. रोचक, मजेदार।

    ReplyDelete
  12. मजेदार खबरे कहाँ से लाये डाक्टर साहेब

    ReplyDelete
  13. ब्लॉगजगत में हाल ही में विज्ञान समाचार की पहल की गई है। रोचक समाचारों का भी एक बुलेटिन लोकप्रिय हो सकता है।

    ReplyDelete
  14. भाई साहब फ़िल्मों का तो शौक है ही नहीं इसलिए आपके सवाल का जवाब दे नहीं सकूंगा।
    पोस्ट उम्दा है।

    आभार

    ReplyDelete
  15. आज तो नया अंदाज़ रहा ..

    ReplyDelete
  16. ओह!!...आपका मतलब है..क्रिकेट (झींगुर ) खिलाया...?? वैसे कोई अनहोनी नहीं, कई जगह वह एक ड़ेलिकेसी मानी जाती है.

    ReplyDelete
  17. दो दिन में फिर नई पोस्ट .....????
    ये कम्बोडिया में झींगुर ज्यादा होते हैं क्या ....?

    ReplyDelete
  18. डॉक्टर साहब आप पत्रकार कबसे बन गए हैं??
    ना जाने कहाँ-कहाँ से ऐसी मस्त-मस्त, अनोखी-अनोखी ख़बरें ले लाये हैं??
    आप तो खालिस पत्रकार लग रहे हैं.
    आपके सवाल का जवाब =
    असल में, कम्बोडिया में क्रिकेट खेल नहीं खाए जाने वाला एक व्यंजन हैं. जिसे मैडम ने अपने दत्तक पुत्र को खिलाया. अब ये नॉन-वेज व्यंजन हैं या वेज, ये मुझे नहीं मालूम.
    बहुत अच्छी और हल्की-फुल्की पोस्ट के लिए आभार.
    धन्यवाद.
    WWW.CHANDERKSONI.BLOGSPOT.COM

    ReplyDelete
  19. बढ़िया खबरें...
    कम्बोडिया में 'क्रिकेट' एक खास तरह का व्यंजन है जिसमें झींगुरों को या फिर काक्रोचों को पका कर खाया जाता है
    ये लिंक देखें
    http://www.google.co.in/images?hl=en&q=combodia%20cricket&rlz=1B3GGLL_enIN397IN397&um=1&ie=UTF-8&source=og&sa=N&tab=wi&biw=1024&bih=492

    ReplyDelete
  20. पहली तीन खबरों में कुछ तो राहत देती हैं. :)

    कम्बोडिया में क्रिकेट एक डिश है जो insects से बनाई जाती है.

    Crickets are a delicacy, served up deep-fried, crunchy and seasoned.

    हॉलीवुड ऐक्ट्रेस एंजेलिना जोली ने अपने गोद लिए हुए बेटे मेडोक्स को कम्बोडिया ले जाकर यही क्रिकेट खिलाया.

    ReplyDelete
  21. सभी खबरे कमाल की हैं....

    ReplyDelete
  22. वाकई दिलचस्प डॉ, साहब...ऐसी खबर इत्तिफाक से बनती है पर सुर्खियाँ बन जाती बन...हम तक पहुँचाने के लिए बहुत बहुत आभार...वैसे भी गंभीर दौर में ऐसी क्षणिकाएँ आनंद देने वाली है..कम शब्दों में बढ़िया बात..जानकारी उपर से.....बढ़िया है ...शुक्रिया जी

    ReplyDelete
  23. सुनील कुमार जी , हमने तो ये ख़बरें अख़बारों में पढ़ी थी ।
    लेकिन नेट का कमाल देखिये कि सब कुछ यहाँ उलब्ध है ।
    सबसे पहले इशारा किया संगीता जी ने ।
    अरविन्द जी ने भी मज़ाक मज़ाक में अपनी बात कह ही दी ।
    फिर रश्मि रविज़ा जी ने सही बताया ।
    हरकीरत जी ने भी सही दिशा में इशारा किया ।
    चन्द्र सोनी ने आधा सच बोला ।
    राजीव तनेजा जी ने रिसर्च ही कर डाली और पता लगा ही लिया ।
    समीर जी भी पीछे नहीं रहे और सही ज़वाब दिया ।

    लेकिन पूर्ण रूप से सही ज़वाब का अभी इंतज़ार है ।

    ReplyDelete
  24. डॉक्टर साहब,
    हम बेचारे गरीब पत्रकारों का भी कुछ ख्याल कर लीजिए...इतनी बढ़िया खबरें आप देना शुरू कर देंगे तो हमें कौन घास डालेगा...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  25. खुशदीप भाई , अभी अभी आपकी ही ख़बरें पढ़कर आ रहा हूँ ।
    अब आप लोग जो बताते दिखाते हो , हम तो उसी पर विश्वास कर लेते हैं । :)

    ReplyDelete
  26. वाह मजा आ गया, अब तो रोज खबरें लिखिये

    ReplyDelete
  27. पचास साल साथ रहने के बाद तलाक़. अजब गजब दुनिया है

    ReplyDelete
  28. ऐसा भी होता है…………आखिर इसी का नाम दुनिया है।

    ReplyDelete
  29. डा साहिब, कम्बोडिया में क्रिकेट का खेल इन्टरनेट में खेला जाता है :)
    जहां तक कीड़े-मकोड़े खाने का प्रश्न है, अपने उत्तर-पूर्वी प्रदेश नागालैंड में मुझे पता है कुत्ते का मांस तो खाया जाता है ही, मुझे एक मित्र ने बताया कैसे वहां कोहिमा में एक शाम उसे लाइट में आने वाले कीड़े चाय के साथ तल के परोसे गए उसके बॉस द्वारा :)

    ReplyDelete
  30. इन नकली उस्ताद जी से पूछा जाये कि ये कौन बडा साहित्य लिखे बैठे हैं जो लोगों को नंबर बांटते फ़िर रहे हैं? अगर इतने ही बडे गुणी मास्टर हैं तो सामने आकर मूल्यांकन करें।

    स्वयं इनके ब्लाग पर कैसा साहित्य लिखा है? यही इनके गुणी होने की पहचान है। अब यही लोग छदम आवरण ओढे हुये लोग हिंदी की सेवा करेंगे?

    ReplyDelete
  31. Ho sakta hai kisi medical advice per hi vah dish khilay a ho aap hi behtar javab bata payenge.
    Samacharon ka sanklan samyak aur suvyvasthit hai.

    ReplyDelete
  32. मतलब ... इस उम्र में भी तलाक़ और विवाह हो जाता है .... खबर तो बहुत काम की है ....
    टिप्पणियों में झींगुर की बात सच लग रही है ....

    ReplyDelete
  33. वाह मजा आ गया हमने तो टिपण्णी पढ़कर जान लिया की झींगुर की बात होगी. वैसे कुमार राधा रमण जी की बात में दम है

    ReplyDelete
  34. नासवा जी , ज़ाहिर है दुनिया में असंभव कुछ भी नहीं ।

    रचना जी , आइडिया तो अच्छा है । कोशिश करते हैं ।

    ReplyDelete
  35. क्या ख़ूब ख़बरें बटोर लाये हैं...जनाब!

    ReplyDelete
  36. डा. साहिब, ऐसा प्रतीत होता है कि विवाह अथवा तालाक से सम्बंधित समाचारों के चयन में आप की नज़र ने पचास की संख्या पर विशेष ध्यान दिया है,,,पेरिस से 'गया' की याद आई जिसका हिंदी से अनुवाद अंग्रेजी में करने को हमें कक्षा ९ में परीक्षा में हमारे टीचर द्वारा कहा गया "गया गया गया, गया!"... और खेल समाचार मीडिया में भी अधिकतर अंत में ही क्यूँ दिए जाते हैं? क्या इसे प्राकृतिक कहा जा सकता है?

    ReplyDelete
  37. खूब चुन चुन कर ख़बरें लगायी हैं ....

    ReplyDelete
  38. 50 साल बाद इन खबरो का मज़ा और बढ जायेगा ।

    ReplyDelete
  39. डॉ.साहब,पिछले कुछ दिनों से आपके प्रोफाइल वाले पेज से चित्रकथा ब्लॉग पर क्लिक करने से कई बार याहू का पेज खुल जाता है जिस पर लिखा आता है कि जो पेज आप ढूंढ रहे हैं,वह मौजूद नहीं है। कृपया देखें कि यह क्या माजरा है।

    ReplyDelete
  40. राधारमण जी , यह समस्या दूसरे ब्लोग्स पर भी नज़र आती है । शायद नेटवर्क की वज़ह से ही है । अभी तो ठीक खुल रहा है ।

    ReplyDelete