Monday, October 11, 2010

आज एक सवाल ---लोग पीपल के पेड़ की पूजा क्यों करते हैं ?

हमारे अपार्टमेन्ट ब्लॉक के निकट दीवार से लगा एक पीपल का पेड़ है । रोज़ सुबह जब मै गाड़ी निकालता हूँ , तो अक्सर भक्तज़नों को हाथ में लोटा लिए इस पेड़ की पूजा करते हुए देखता हूँ ।

ध्यान से देखिये --इस पेड़ के तने पर काफी ऊंचाई तक तेल की परत चढ़ी है । तने पर सैंकड़ों धागे लपेटे गए हैं । नीचे ज़मीन पर साईं बाबा की एक मूर्ति रखी है । मूर्ति के पास एक डोंगा रखा है जिसमे खाद्य पदार्थ रखे हैं । आस पास चूहों के कई बिल भी बने दिखाई दे रहे हैं ।




शाम को जब मैं आता हूँ तो देखता हूँ कि डोंगे में रखा खाना खाया जा चुका है । ज़ाहिर है बिलों में रहने वाले प्राणियों का ही काम होगा ।
फ्रेम में ज़ड़ी एक नई मूर्ति भी रख दी गई है ।


हम तो ठहरे इस मामले में निपट देहाती ।
पूजा के मामले में पक्के नास्तिक ।
इसलिए समझ में ही नहीं आता कि ---

* लोग पीपल के पेड़ की पूजा क्यों करते हैं ?

*
तने पर धागे बांधने से क्या होता है ?

* तने पर तेल डालने से क्या पुण्य मिलता है ?

* ज़मीन पर साईं बाबा की मूर्ति क्यों रखी है ?

*
डोंगे में खाने का सामान किसके लिए है ?


अक्सर कोई चूहा मरा हुआ नज़र जाता है आस पास हीडर सा लगता है कि कहीं प्लेग से तो नहीं मरा

ऐसे ही कुछ सवाल ज़ेहन में उठते हैं ।

अब आप ही दे सकते हैं इन सवालों के ज़वाब ।

अभी तक हम ही ज्ञान बांटते आए हैंआज ज्ञान प्राप्त करने की हमारी बारी है

आशा है आप निराश नहीं करेंगे

81 comments:

  1. यह तो मैं भी नहीं बता सकता.. मैं भी तो नास्तिक ही हूँ....
    शायद और कोई बता सके..
    आपके साथ साथ मैं भी जवाब के इंतज़ार में,,,,
    मेरे ब्लॉग पर इस बार
    एक और आईडिया....

    ReplyDelete
  2. ... शानदार पोस्ट !

    ReplyDelete
  3. जहाँ तक मेरी जानकारी है हमारे पूर्वजों ने वृक्षों की रक्षा का सन्देश देने के लिए ही पीपल को धार्मिक आस्था से जोड़ दिया ..इसीलिए पीपल को मंदिर आदि में लगाया जाने लगा..एक दूसरा कारन ये भी बताया जाता है की पीपल रात को भी आक्सीजन देता है .बाकि धागा ,तेल आदि तो आडम्बर ही लगते है...

    ReplyDelete
    Replies
    1. झूठ, सारे पेड़ रात को आक्सीजन लेते है देते केवल फोटोसिंथेसिस में है

      Delete
    2. झूठ, सारे पेड़ रात को आक्सीजन लेते है देते केवल फोटोसिंथेसिस में है

      Delete
  4. कोई तो अवलम्बन चाहिये. इंसान बहुत स्वार्थी है. अपने घर के कचरे को कहीं तो निकालेगा.

    ReplyDelete
  5. डा. साहिब, जब मनुष्य इस संसार में आता है तो इस संसार आदि के बारे में उसे कुछ पता नहीं होता,,,और यह भी पता नहीं होता कि वो यहाँ आया क्यूँ है ७०-८० साल के लिए?
    हर बच्चा, आरंभ में बुद्धिहीन होने के नाते (जो बड़ों के लिए भी सही माना कुछेक ने), पहले तो दृष्टा भाव से ही जीता है और इस कारण सबसे पहले तो अपने परिवार के बड़ों से ही सीखता है और उनकी नक़ल करता है (जैसे भारत में, "अनजाने का भय" कहलो, उसके कारण हर प्राणी आदि की पूजा कहीं न कहीं होते देखता आता है और समय के अभाव में आश्चर्यचकित तो होता है किन्तु गहराई में नहीं जा पाता) ,,, और इस प्रकार कुछ धारणाएं बना लेता है - विभिन्न विषयों पर 'सही' और 'गलत' आदि की काल के साथ ...
    किन्तु सीमित आयु के और अनंत विषय होने के कारण सारी उम्र, कह सकते हैं 'काल के प्रभाव से', सम्पूर्ण ज्ञान हासिल करने में असमर्थ रहता है,,, यानि वो उतना ही सीखता है जिससे उसकी 'रोटी, कपड़ा, और मकान' की समस्या का समाधान हो सके,,,किन्तु यही उसे ऐसे उलझा देते हैं कि आम आदमी इनमें से कुछ विषयों में भी संतोष नहीं पाता,,, तो फिर जिन विषयों का इनसे सरोकार नहीं होता, उस ओर अधिकतर ध्यान नहीं देता,,,इन्हें 'साधु/ फकीर' आदि के लिए ही छोड़ देता है!

    ReplyDelete
  6. जे सी जी , यह बात तो सही है कि आदमी रोटी कपडा और मकान की समस्या में उलझा रहता है । इसलिए और कुछ सोच ही नहीं पाता । लेकिन पेड़ की पूजा करने वाला तो निश्चित ही कुछ सोचकर ही करता है । क्या सोचकर --बस यही जानना है ।

    ReplyDelete
  7. सोचने को मजबूर करती है आपकी ... शानदार पोस्ट !

    ReplyDelete
  8. Yadi aap ped kee Pooja karna chhahenge to ped lagayenge bhee. Aur Peepal ke patte stalked honese jyada hilate hain hawa ko shuddh karate hain. Sunder to dikhate hee hain un par thodi bhee roshani pade to reflect hokar aise lagate hain mano diye jal rahe hon. Ashwattha yani peepal ka humare Grantho men bhee warnan hai geeta men to is sansar ko hee ulta peepal yani ashwatth ka vruksh mana gaya hai. Par tel lagana to samaz men nahee aata. Peepal ka ped anek panchiyon ke ashray data bee hai.

    ReplyDelete
  9. आशा जी , बेशक वृक्षों का बहुत महत्त्व है । और पीपल के पेड़ के गुण भी आपने अच्छे बताये हैं । लेकिन बाकी सारे कार्यों का मतलब हमें भी समझ नहीं आया । पेड़ को पानी चाहिए , न कि तेल ।

    ReplyDelete
  10. अभी थोडा जल्दी में हूँ इसलिए सिर्फ ये लिंक दे कर जा रहा हूँ

    http://in.jagran.yahoo.com/news/local/uttarpradesh/4_1_5893065.html
    http://www.growthindia.org/?p=1276
    http://in.jagran.yahoo.com/news/local/uttarpradesh/4_1_6421848.html

    ReplyDelete
  11. वृक्षों में सबसे ज्यादा आक्सीजन पीपल के पेड़ से प्राप्त होती है। ऐसा वैज्ञानिकों का भी मानना है। इसी कारण हमारे ऋषि-मुनियों ने इसकी बेवजह कटाई ना हो जाए ऐसा सोच कर इस पर देवताओं के वास की बात की होगी। कालांतर में उन्हीं देवताओं को प्रसन्न करने और अपनी मन्नतों को पूरा करने के लिए लोगों ने तरह-तरह के टोटके शुरु कर दिए जिससे मन्नतों का तो पता नहीं पर वृक्ष के लिए जरूर खतरा पैदा हो गया है।
    बहुतेरी बार तो अपना दीपक बुझने से बचाने के लिए लोग पेड़ के कोटर में रख देते हैं जिससे वहां का हिस्सा झुलसते रहता है। ऐसे लोगों को समझाने से वे ऐसे देखते हैं जैसे उनके पुण्य कार्य में अड़चन डाली जा रही हो।

    ReplyDelete
  12. kiडा. साहिब, जैसा मैंने पहले भी कहा, अधिकतर लोग जब भी कोई युवा/ युवती 'अध्यात्मिक विषय' से सम्बंधित कार्य होते देख रहे होते हैं और उनके मन में विभिन्न प्रश्न उठते हैं तो, 'अज्ञानता वश' कहलो, बड़े-बूढ़े इसे आस्था का विषय कह कन्नी काट लेते हैं (नक़ल कर!) या फिर आपको सत्यवान-सावित्री का उदहारण देते हैं कि कैसे यमराज को सावित्री ने खुश कर अपने मृत पति को भी जिला लिया था,,,या भारत में किसी काल में राजा विक्रमादित्य (और ज्ञान में उनसे कम किन्तु प्रसिद्द राजा भोज) पर आधारित (अनदेखे और अनजाने भूतों आदि से सम्बंधित) 'बेताल पच्चीसी' और 'सिंहासन बत्तीसी' की मनोरंजक कहानियों द्वारा योगियों के मानव शरीर के ९ ग्रहों के सार से बने होने के रहस्य को सांकेतिक भाषा में लेखन द्वारा संकेत शायद {(८ गुना ३ + शून्य से जुड़े शनि के सार, १ = २५), और ३२ दांतों)},,, मानव की कार्य प्रणाली के वट-वृक्ष, पीपल आदि, से आरंभ में जुड़े होने के संकेत आज भी बौद्ध धर्म के मूलरूप में भारत से आरंभ कर, अन्य निकटवर्ती देशों में फ़ैल, किन्तु यहाँ उसका प्रभाव कम हो जाने द्वारा समझाया जाता है, और गीता में भी लिखा है कि मानव वृक्ष के विपरीत है, उल्टा है, ( क्यूंकि इसकी जडें आकाश (शून्य) में हैं,,,वैज्ञानिक भी मानते हैं कि समान क्रोमोज़ोम के विभिन्न काल चक्र में उत्पत्ति होने के कारण एक वृक्ष बन गया तो दूस्ररा कालांतर में मानव!,,, भारत में मान्यता है कि कई स्थानों पर भूत भगाने वाले मानव शरीर से उन्हें पीपल में लटका देते हैं...

    ReplyDelete
  13. http://www.hindu-blog.com/2010/03/why-hindus-tie-cotton-threads-around.html

    ReplyDelete
  14. Women who are not blessed with a son tie a red thread around the trunk or on its branches asking the deities to bless her and fulfill her desire

    http://www.thecolorsofindia.com/peepal/origin-of-peepal-tree.html

    ReplyDelete
  15. मान्यता हैं की पीपल के पेड़ में समस्त देवी देवताओं का वास रहता है इसीलिए हिन्दू इस पेड़ का पूजन करते हैं .

    ReplyDelete
  16. After taking the holy dip, pilgrims performed worship and offered “pind daan” to the departed souls and tied cotton thread around a ‘peepal’ tree as it is believed that by doing so their ancestors will get salvation.

    http://www.tribuneindia.com/2010/20100316/haryana.htm#7

    ReplyDelete
  17. http://omshivam.wordpress.com/trikal-sandhya/peepal-or-pipal-the-holy-tree/

    ReplyDelete
  18. भारत में 'काला जादू', काली कलकत्ते वाली के बंगाल से, किसी काल में प्रचलित हुआ, जहां तांत्रिक (वैद) दूर से ही 'बाण चलाकर' किसी दूसरे का 'भला' कर सकते थे, वो कैसी भी बिमारी से ग्रसित क्यूँ न हो,,, जो कालांतर में, क्षीण होती शक्ति के कारण, 'बुरा' करने में उपयोग में आने लगा, क्यूंकि 'बुरा' करने में अधिक शक्ति नहीं लगती, जैसे दौड़ते व्यक्ति को टांग अड़ा कर ही गिराया जा सकता है :) और जहां तक (सरसों) तेल का प्रश्न है, बंगाल में आज भी इसका उपयोग होता है मालिश में, भोजन में, और इसके बीजों का भूत भगाने में:)
    'भारत' में पहले आम आदमी का अधिकतर समय गर्मियों में पेड़ के नीचे बैठ गुजरता था, जिस कारण वृक्षों को मान्यता मिलना प्राकृतिक कहा जा सकता है, और उसे आज भी नकारा नहीं जा सकता क्यूंकि वैज्ञानिक भी आज इनकी अत्यधिक कटाई के कारण मानव जाति और सम्पूर्ण संसार को खतरे में मान रहे हैं...

    ReplyDelete
  19. पीपल सबसे दीर्घजीवी वृक्षों में से है। स्वाभाविक ही,औरतों ने इसे पति के दीर्घायु होने की कामना का प्रतीक माना है। आप यह भी नहीं भूले होंगे कि भगवान बुद्ध को ज्ञान की प्राप्ति इसी वृक्ष के नीचे हुई थी। पितरों को तृप्त करने के लिए मृत्यु के बाद दस दिनों तक जल से भरा घड़ा पीपल पर ही टाँगने की परम्परा है। श्वास, तपेदिक, रक्त-पित्त,विषदाह जैसे रोगों के उपचार और भूख बढ़ाने आदि के लिए आयुर्वेदिक दवाएं पीपल के पेड़ से बनती हैं। पीपल के नीचे किया गया दान अक्षय हो कर जन्म -जन्मान्तरों तक फलदायी माना गया है। शायद,कुछ अन्न रखने की परम्परा इसीलिए। संभव है,तने पर धागा लपेटना-पति ही जीवन के केंद्र में रहे,ऐसी कामना का द्योतक हो।

    ReplyDelete
  20. आस्था के आयाम ही तो हैं ये सब!
    --
    समय की आँदी में इनका आयाम भले ही विकृत हो गया हो मगर इनके पीछे जरूर कोई दर्शन छिपा होगा!
    --
    खोज कर लेंगे तो आपको जरूर बतायेंगे!

    ReplyDelete
  21. पता नहीं...ये सारे अंधविश्वास अब तक लोग क्यूँ अपनाए हुए हैं.....वैसे टिप्पणियों से बहुत सारी जानकारी मिली .शुक्रिया इस विषय की तरफ सबका ध्यान आकृष्ट कराने का...अभी और भी जानकारियाँ मिलेंगी

    ReplyDelete
  22. जहां तक धागों, (रंगीन रत्न, वस्त्र आदि), का प्रश्न है, 'रक्षा बंधन' में कलाई में धागे तो 'पढ़े-लिखे' उत्तर भारतीयों के हाथ में 'आस्था' के आधार पर बंधा आम देखा जा सकता है (और जन्म से 'ब्राह्मणों' के गले में पीला जनेऊ),,,
    सूर्य से प्रसारित धवल किरणों में ७ रंगों का समाया, या छिपा, होना सभी देखते हैं और जानते हैं 'इन्द्र धनुष' में भी - लाल, पीले आदि ...प्राचीन योगियों ने इसी प्रकार रंगों को सार जान विभिन्न ग्रहों (सौर मंडल के सदस्यों) से भी जुड़ा जाना और इनका उपयोग किया,,,किन्तु आज इसका आधार आम आदमी की पहुँच से दूर हो गया है, काल के प्रभाव के कारण...

    ReplyDelete
  23. बोधि वृक्ष है पीपल ....बुद्ध को ज्ञान प्राप्त हुआ था -ऐसा कहते हैं !

    ReplyDelete
  24. नास्ति तो नही, लेकिन इन सब बातो से बहुत दुर हुं, पीपल या अन्य पेडो को बचाने के लिये हमारे पुर्वजो ने पुजा की बात की हो लेकिन ऎसी नही जेसी आज कल करते हे, ओर पानी देने कि बात कही हो ताकि सुखे नही, लेकिन अब लोग इसे भगवान समझ कर ओर लालच मे इस की पुजा करते हे, ओर नीचे साई बाबा की मुर्ति रख कर साई बाबा की बेज्जती करते हे, क्योकि साई बाबा तो मुस्लिम थे, ओर मुस्लिम पुर्ति की पुजा नही करते, ओर अब लोग किसी भी साधन से इस पीपल जी कॊ खुश करना चाहते हे, कोई घागा बांध कर, कोई फ़ोटो रख कर, कोई साई बाबा को बिठा कर पता नही क्या क्या करते हे, हमे क्या जी , लेकिन मेने डाकटरी पढने वाले बच्चे भी सुबह शाम पीपल को पानी देते देखे हे, साईंस के विद्धार्थी भी, अगर किसी से पुछो तो उन के पास जबाब नही होता. धन्यवाद

    ReplyDelete
  25. रजनीश जी , आशा जी , गगन शर्मा जी , गौरव जी , महेंद्र मिस्र जी , कुमार राधारमण जी , शास्त्री जी और जे सी जी --आप सब के सुझाव व अनुमान काफी तर्क संगत लगते हैं ।
    रश्मि जी , सही कहा --हमें भी इंतजार रहेगा और जानकारी प्राप्त करने के लिए ।

    बस एक ही बात सोचने पर मजबूर करती है कि यहाँ रहने वाले सभी लोग पढ़े लिखे , धन संपन्न और आधुनिक भारतीय हैं । फिर भी इतनी आस्था देखने को मिलती है ।

    ReplyDelete
  26. जिस उद्देश्‍य के लिए कर्मकांड शुरू किया गया था .. वो समाप्‍त हो गया है .. आज समाजिक लाभ के लिए नहीं , लालच और व्‍यक्तिगत स्‍वार्थ के लिए लोग कर्मकांड से जुडे हैं ..ऐसे कर्मकांडों से किसका भला हो सकता है ??

    ReplyDelete
  27. पर्यावरण को सुरक्षित रखने के लिए सिर्फ पीपल ही क्यों , सभी प्रकार के पेड़ पोधों को बचाना होगा ।
    लेकिन इसके लिए पूजा की नहीं , संरक्षण की ज़रुरत है ।

    अरविन्द जी , सही कहते हैं । लेकिन महात्मा बुद्ध का पीपल के नीचे ज्ञान प्राप्ति महज़ एक इत्तेफाक भी हो सकता है ।

    राज जी , संगीता जी , सही कहा --इस तरह की मान्यताएं सभी वर्गों में मिलती हैं । अब कहाँ तक ठीक है , यह तो सब मिलकर ही जानेंगे ।

    ReplyDelete
  28. अगर कोई उत्तर रीपीट हो गया हो तो क्षमा चाहता हूँ [समयाभाव के कारण चर्चा में ठीक से शामिल नहीं हो पा रहा हूँ ]

    शनिवार को पीपल पर जल व तेल चढाना, दीप जलाना, पूजा करना या परिक्रमा लगाना अति शुभ होता है। धर्मशास्त्रों में वर्णन है कि पीपल पूजा केवल शनिवार को ही करनी चाहिए।
    पुराणों में आई कथाओं के अनुसार ऎसा माना जाता है कि समुद्र मंथन के समय लक्ष्मीजी से पूर्व उनकी बडी बहन, अलक्ष्मी (ज्येष्ठा या दरिद्रा) उत्पन्न हुई, तत्पश्चात् लक्ष्मीजी। लक्ष्मीजी ने श्रीविष्णु का वरण कर लिया। इससे ज्येष्ठा नाराज हो गई। तब श्रीविष्णु ने उन अलक्ष्मी को अपने प्रिय वृक्ष और वास स्थान पीपल के वृक्ष में रहने का ओदश दिया और कहा कि यहाँ तुम आराधना करो। मैं समय-समय पर तुमसे मिलने आता रहूँगा एवं लक्ष्मीजी ने भी कहा कि मैं प्रत्येक शनिवार तुमसे मिलने पीपल वृक्ष पर आया करूँगी।
    शनिवार को श्रीविष्णु और लक्ष्मीजी पीपल वृक्ष के तने में निवास करते हैं। इसलिए शनिवार को पीपल वृक्ष की पूजा, दीपदान, जल व तेल चढाने और परिक्रमा लगाने से पुण्य की प्राप्त होती है और लक्ष्मी नारायण भगवान व शनिदेव की प्रसन्नता होती है जिससे कष्ट कम होते हैं और धन-धान्य की वृद्धि होती है।

    http://hi.shvoong.com/humanities/religion-studies/1969850-%E0%A4%AA-%E0%A4%AA%E0%A4%B2-%E0%A4%94%E0%A4%B0-%E0%A4%B6%E0%A4%A8/

    ReplyDelete
  29. गीता [ विभूति योग ] में श्री कृष्ण ने कहा भी है

    अश्वत्थः सर्ववृक्षाणां देवर्षीणाञ्य नारदः

    सभी वनस्पतियों में मैं पीपल हूं और देवऋषियों में मैं नारद हूं

    मेरे लिए श्रद्दा का कारण ये है

    ReplyDelete
  30. ...धार्मिक कारणों, आस्थाओं, अंधविश्वासों का उल्लेख हुआ..वैज्ञानिक आधार का भी उल्लेख हुआ, आध्यात्मिक ज्ञान का भी जिक्र हुआ, अब और क्या चाहिए पीपल की महत्ता को स्वीकार करने के लिए! विद्वान ब्लॉगरों ने जो कारण गिनाए वे सभी सही हैं। अब एक बात रह जाती है..इस वृक्ष के नीचे बैठकर अनुभव करने की..ध्यान करने की..
    ..कभी मौका लगे तो सभी को अनुभव करना चाहिए..गज़ब की उर्जा और शांति मिलती है वहाँ । मेरे घर के पास, सारनाथ में, सारंग नाथ जी का मंदिर है...वहाँ बहुत से पीपल के वृक्ष, एक साथ लगे हैं, सूर्योदय से पूर्व वहाँ बैठने और ध्यान करने का कभी संयोग बनता है तो अवर्णनीय सुख की अनुभूति होती है। एहसास होता है कि यूँ ही इसके बारे में इतना नहीं लिखा गया। आपको भी जरूर इसने आकर्षित किया, अपनी ओर खींचा, तभी आपने यह पोस्ट लिखी।
    ..आभार।

    ReplyDelete
  31. गीता [ विभूति योग ] में श्री कृष्ण ने कहा भी है---
    सभी वनस्पतियों में मैं पीपल हूं और देवऋषियों में मैं नारद हूं---

    गौरव जी , बिलकुल सही लिखा है आपने । पीपल की महत्ता को नकारा नहीं जा सकता । इसकी पूजा शनिवार को की जाती है , यह नई जानकारी मिली । यह तो मैंने ध्यान ही नहीं दिया कभी ।

    पाण्डे जी , मंदिर में पीपल के पेड़ के नीचे बैठने का अवसर नहीं मिला कभी । लेकिन जिज्ञाषा ज़रूर रही जानने की ।

    ReplyDelete
  32. सर्वे भवन्तु सुखः डोंगे में भोजन उनके लिये है जो पेड की जडमें निवास करते है। हम चिंटी को चुन डालते है, मछलियों को भी, श्राद्धपक्ष में कौओं केा भी ,पहली रोटी गाय की अन्तिम रोटी कुत्ते की ।
    किसी भी बृक्ष के नीचे कोई मूर्ति या पत्थर ही सिन्दूर से पोत कर रख दो लोग उस पेड को नहीं काटेेंगे। पर्यावरण की रक्षा
    तने पर तेल डालने से तना मजवूत रहता है जैसे मालिश से शरीर
    पीपल को ईश्वर का रुप माना जाता है इसलिये वह धागा इस रुप में है कि हमने देवता को यज्ञोपवीत धारण करवाया ।पत्रं पुष्पं समर्पयामि, वस्त्रान समर्पयामि ,
    गीता में भगवान कृष्ण ने कहा है बृक्षों में मै पीपल हूं ।
    बहुत आक्सीजन छोडता है यह बृक्ष । इसकी छाल का जला कर पानी में बुझा कर उस पानी को पिलाने से उल्टियां बन्द हो जाती है । पीपल की एक दो कौंपल प्रात खालेना भी स्वास्थ्य बर्धक है

    ReplyDelete
  33. टिप्पणियाँ बहुत मार्गदर्शन कर रही हैं इस पोस्ट पर ...जानकारी देने के लिए सबका आभार

    ReplyDelete
  34. चर्चा के लिए अच्छा विषय ...ज्यादातर लोग शनि के प्रकोप से डर कर सुबह सुबह या ठीक संध्या के वक्त तेल चढाते भी हैं और दिया जलाते हैं ...इस पर एक पोस्ट मैंने लिखी थी ...लिंक दे रही हूँ ..पूरी पोस्ट पढना चाहें तो लिंक पर जा कर पढ़ सकते हैं ...
    http://shardaa.blogspot.com/2010/07/blog-post.html
    बृहस्पतिवार, १ जुलाई २०१०
    पीपल के पेड़ से लिपटे धागे


    जब कभी देखती हूँ
    पीपल के पेड़ से लिपटे धागे
    आस्था और विश्वास की डोरियों सरीखे
    मन्दिरों में बंधीं अनगिनत चुन्नियाँ
    सोचती हूँ , कि कितने ही लोगों की
    है ये चलने की डगर
    सपने के सच होने का यकीन ...
    उँगलियों में पन्ने , माणिक , गोमेद , मोती
    लिखी किस्मत को भी बदल पाने का यकीन ...
    किसने देखा वक़्त से पहले , टटोल किस्मत को
    हर्ज़ कोई नहीं , गर जमीन मिले हौसले को
    इन्सान जी जाये
    डर ये लगता है , कहीं आँखें खुली न हों
    और ये आस्था जमीर को ही छल जाये
    अँधविश्वास दुर्बल मन का मजहब है .......एडमण्ड बर्क

    ReplyDelete
  35. दराल साहब, वृक्ष तो आदिकाल से ही लोगों को जीवन देते आये हैं, तब से जब उन्हें इन्सान कहा ही नहीं जाता था. उस समय पेड़ ही भोजन का सबसे बड़ा स्रोत होते थे, लिहाजा वृक्षों को उस काल से ही पूजा जाने लगा. आदिमानव वैसे भी प्रकृति की ही पूजा करता था, इस मामले में मैं आज भी आदिमानव कही जाउंगी. विज्ञान ने साबित किया कि पेपल के वृक्ष से हमें सर्वाधिक ऑक्सीजन मिलती है, लेकिन तब लोगों को इस वृक्ष के नीचे ज़्यादा सुकून मिलता होगा, ऑक्सीजन की ही वजह से, सो इस वृक्ष की पूजा होने लगी, जो आज भी जारी है. अच्छा है, पूजित वृक्ष को कोई काटने की हिम्मत नही करता, पीपल के साथ तो वैसे भी कई भ्रान्तियां जुड़ी हैं, मेरा माली बगीचे में उग आये पीपल को कभी नहीं काटता :) अच्छा है, किसी बहाने तो पेड़ बचे रहें.

    ReplyDelete
  36. कुछ दिन देखते रहिये...अभी फ्रेम में जड़ी फोटो रखी है..फिर मंदिर ही न बनने लग जाये वहाँ...बाकी आस्था, पूजा पाठ तो ठीक है.

    ReplyDelete
  37. बहुत अच्छा लगा....पोस्ट के बहाने ही सही ,कम से कम हम सब पीपल का महत्त्व तो समझे !बहुत बढ़िया चर्चा !!!

    ReplyDelete
  38. आपके सारे सवाल तो एक तरफ.
    आपको ध्यान रखना होगा कि कहीं कोई अब वहां मंदिर बनाकर जमीन हथियाने की तैयारी न कर रहा हो :)

    ReplyDelete
  39. बृजमोहन श्रीवास्तव जी , अपने सभी प्रश्नों के उत्तर यथा संभव तर्कसंगत दिए । बहुत बहुत आभार ।
    पीपल के गुणों के बारे में अच्छा पता चला ।

    शारदा जी , आपकी बात भी सही है । कभी कभी आस्था , अंध विश्वास का रूप ले लेती है ।

    वंदना जी , कभी कभी यही पीपल दीवारों में भी घर कर जाते हैं । तब तो इनको काटना ही पड़ता है । वर्ना बिल्डिंग को खतरा हो सकता है । इसलिए पूजा तो यथोचित स्थान पर ही करनी चाहिए ।

    समीर जी और काज़ल जी , कम से कम यहाँ मंदिर नहीं बनेगा । क्योंकि यह पेड़ सड़क पर नहीं है ।

    ReplyDelete
  40. पीपल ही एक ऐसा वृक्ष है, जो चौबीसों घंटे ऑक्सीजन देता है | पीपल का वृक्ष हमारी आस्था का प्रतीक और पूजनीय है। क्योंकि इसके जड़ से लेकर पत्र तक में अनेक औषधीय गुण हैं, इसीलिए हमारे पूर्वज-ऋषियों ने उन गुणों को पहचान कर आम लोगों को समझाने के लिए शायद उन्हीं की भाषा में कहा था "इन वृक्षों में देवताओं का वास है।
    इसिलये भारतीय संस्कृति में पीपल देववृक्ष कहा गया है | स्कन्द पुराण में वर्णित है कि अश्वत्थ (पीपल) के मूल में विष्णु, तने में केशव, शाखाओं में नारायण, पत्तों में श्रीहरि और फलों में सभी देवताओं के साथ अच्युत सदैव निवास करते हैं।
    इसके सात्विक प्रभाव के स्पर्श से अन्त: चेतना पुलकित और प्रफुल्लित होती है। पीपल भगवान विष्णु का जीवन्त और पूर्णत:मूर्तिमान स्वरूप है। गीता में भी भगवान कृष्ण कहते हैं- समस्त वृक्षों में मैं पीपल का वृक्ष हूँ | आयुर्वेद में पीपल के औषधीय गुणों का अनेक असाध्य रोगों में उपयोग वर्णित है। पीपल के वृक्ष के नीचे मंत्र, जप और ध्यान तथा सभी प्रकार के संस्कारों को शुभ माना गया है। श्रीमद्भागवत् में वर्णित है कि द्वापरयुगमें परमधाम जाने से पूर्व योगेश्वर श्रीकृष्ण इस दिव्य पीपल वृक्ष के नीचे बैठकर ध्यान में लीन हुए।
    मेरे विचार से पीपल के अत्यधिक महत्त्व के कुछ कारण शास्त्र सम्मत है, कुछ विज्ञान के द्वारा प्रमाणित है और कुछ अन्धविश्वास या अल्पज्ञान की परिधि में आते है.

    ReplyDelete
  41. दराल जी, आपने सचमुच एक बहुत अच्छे विषय पर चर्चा छेड़ी है। अब तक टिप्पणियों में बहुत कुछ कहा जा चुका है फिर भी मैं इस विषय में कहना चाहूँगा।

    बरगद और पीपल दो ऐसे वृक्ष हैं जिनकी उम्र असाधारण रूप से लम्बी होती है तीन-चार वर्ष तक। ये दोनों ही वृक्ष मनुष्य सहित अन्य जीवों को पीढ़ी दर पीढ़ी जीवनदायिनी आक्सीजन प्रदान करते रहते हैं। हमारे विद्वजनों को इस सत्य का ज्ञान था और इसीलिए उन्होंने इन वृक्षों को महत्वपूर्ण बताया और इस उद्देश्य से से कि सर्वसाधारण इन वृक्षों के महत्व को स्वीकारें, इन्हें पूजनीय करार दिया।

    जिस प्रकार से गूढ़ ज्ञान की बातों को आज भी संकेत के रूप में रखने का चलन है उसी प्रकार से प्राचीनकाल में भी गूढ़ बातों को संकेत रूप में ही रखा जाता था। आज उन संकेतों को हम समझ नहीं पाते इसलिए हम उन बातों को निरर्थक कहने लगते हैं। आज हम जब सुनते या पढ़ते हैं कि भगवान शिव ने ध्यान कर के अन्यत्र होने वाली घटनाओं को जान लिया तो हम इसे बकवास कहने लगते हैं किन्तु आज हम अपने घर बैठे चैट के द्वारा अन्यत्र स्थानों के लोगों से सम्पर्क कर लेते हैं उसे विज्ञान कहते हैं। क्या यह नहीं हो सकता कि आज जो चैट कहलाता है वह उस जमाने में ध्यान कहलाता हो? क्या उस काल में उन्नत विज्ञान हो ही नहीं सकता था?

    पीपल के नीचे खाना रखने के पीछे प्राणीमात्र पर दया की भावना ही काम करती है। आज जब भीषण गर्मी पड़ती है तो लोग चिड़ियों के लिए पानी की व्यवस्था करते हैं तो हमें आश्चर्य नहीं होता किन्तु पीपल के पेड़ के नीचे भोजन रखते हैं तो हमें आश्चर्य होने लगता है।

    मेरे कहने का तात्पर्य यह है कि हिन्दू दर्शन की अनेक बातों, जो कि संकेत तथा प्रतीक रूप में हैं, के वास्तविक अर्थ क्या हैं इन्हें जानना शोध का विषय है, न कि उपहास का।

    ReplyDelete
  42. शनि ग्रह एक अति सुन्दर छल्लेदार 'रिंग प्लेनैट' है, (सुदर्शन-चक्र धारी विष्णु का प्रतिरूप, योगियों की सांकेतिक भाषा में),,,और यद्यपि बृहस्पति भी छल्लेदार है वो किन्तु उतना सुंदर नहीं है (हमारी गैलेक्सी का प्रतिरूप जिसके केंद्र में ब्लैक होल माना जाता है, यानि विष्णु के अष्टम अवतार, सुदर्शन-चक्र धारी कृष्ण, योगियों की भाषा में)...प्राचीन किन्तु अत्यधिक पहुंचे हुए योगी (आजके वैज्ञानिक की तुलना में) इस प्रकार बृहस्पति को कृष्ण का और शनि को विष्णु का प्रतिरूप जाने,,,और शनि के सार को उन्होंने मानव शरीर में स्नायु तंत्र में जाना जिसके माद्यम से शक्ति का चक्र चलता है, मेरुदंड के भीतर, मूलाधार से सहस्रार चक्र तक,,,और यदि यह तंत्र ठीक से काम न करे तो आदमी एक मरे हुए पेड़ सामान हो जाता है जिसका तना वृक्ष के भोजन को मूल से पत्तों तक पहुँचाने में असमर्थ हो जाता है..शनि को उन्होंने नीले रंग और लोहे से भी जोड़ा जिसके लिए तेल आवश्यक होता है जंग से लोहे को बचने के लिए और यूं उसकी आयु बढ़ाने के लिए... .

    ReplyDelete
  43. पीपल के पत्ते बहुत ही हल्के होते हैं,हवा चलने पर अन्य किसी पेड़ के पत्तों की अपेक्षा ये सबसे पहले हिलते हैं और हवा रुख बताते हैं। मैं भी जब हवा बंद होती है तो पीपल के पत्तों की तरफ़ देखता हूँ कि हिल रहे हैं या नहीं।
    पीपल में तेल देने का कुछ वैज्ञानिक कारण हो सकता है, हमारे यहाँ जब आम के पेड़ से बौर झड़ने लगते हैं या छोटी कैरियाँ अपने आप टूट कर गिरने लगती है तो उसकी जड़ों में तेल डाला जाता है जिससे वे टूट कर न गिरें। शायद तेल से इसकी जड़ें मजबूत होती होगीं,जिससे पीपल दीर्घायु हो सके।

    ReplyDelete
  44. लो कल्लो बात ये तो कित्ता सिंपल है सर ....

    पीपल (people) are worshipping पीपल ....and it is so simple ....लो इधर आप हंसे उधर पडे आपके गालों पे डिंपल ..

    ReplyDelete
  45. सभी लोगो को मेरा नमस्कार,

    पीपल के पेड़ कि पूजा का जो विधान हमारे ग्रंथो में हैं, उसमे सिर्फ , पीपल के पेड़ कि जड़ो में पानी देना तक ही हैं। बाकि सब आडम्बर और ज्ञान कि कमी का नतीजा हैं। पीपल के तनो पर तेल गिरना उसके लिए नुकसान दायक हैं। और सरसों के तेल के व्यापारियों को फायदे का सौदा । रही बात अनाज कि तो वो भी कुछ हद तक इस लिए सही हैं कि उस पीपल के पेड़ के ऊपर आश्रित जीव जन्तुवो को भोजन मिल जाता हैं।

    और ये भी सच हैं कि हमारे पूर्वजो ने उसे सिर्फ इस लिए पूज्य बनाया ताकि हम उस को बचा सके। क्योंकि पीपल हमें २४ घंटे शुद्ध हवा देता हैं।

    कंही भी हवा चले या न चले पीपल के पत्ते हमेश हिलते रहते हैं।

    जाते - जाते एक बात और :

    सावधान : सुना हैं कि पीपल के पेड़ पर भुत भी रहते हैं।

    ReplyDelete
  46. 'जीवन' रहस्यमय होने के कारण, सबसे प्राचीन सभ्यता, हिन्दू, की मान्यता है कि आरंभ में एक दम शांति रही होगी, फिर केवल एक शब्द ॐ (big bang) से शून्य काल में भौतिक श्रृष्टि की रचना की गयी, नादब्रह्म, परमात्मा यानि शक्ति रूप में विद्यमान जीव, विष्णु, द्वारा जो निराकार नादबिन्दू होने के कारण सदैव, अनंत काल से, ब्रह्माण्ड में अकेले ही विद्यमान था (और इस लिए अनादि भी कहलाया गया),,, वास्तव में स्वयंभू, जो स्वयं प्रगट हुआ था,,,और इस मान्यता के आधार पर श्रृष्टि शून्य काल में उत्पन्न हो शून्य काल में ही ध्वस्त हो गयी होगी...जिस कारण मानव यदि भगवान् का प्रतिरूप अथवा प्रतिबिम्ब है तो 'मायावी फिल्म जगत' को उसकी कार्य प्रणाली का प्रतिबिम्ब मान अनुमान लगाया जा सकता है कि परमात्मा के लिए कठिन नहीं रहा होगा 'माया' द्वारा (तीसरे नेत्र में) शून्य काल में घटित अनंत प्रतिक्रियाओं को अनंत नेत्रों द्वारा जैसे बार-बार देख पाना, वैसे ही जैसे 'हम', उसके प्रतिबिम्ब, धोनी आदि के छक्कों को बार- बार देख पाते हैं उन्नत तकनीक के कारण,,, (वैसे भी स्वप्न में हर कोई प्राणी चित्र आदि, 9 ग्रहों की सहायता से देखता है, जिसमें शनि का सार मानव के लिए स्नायु-तंत्र के रूप में सहायक है, अथवा उसका मुख्य रोल है,,, पीपल के पेड़ में भी दीख सकता है कुछेक को शनि :) ("हरी अनंत / हरी कथा अनंता" कह गए ग्यानी-ध्यानी!)...

    ReplyDelete
  47. पीपल ही नहीं, आम, आंवला आदि पेडों की पूजा समय समय पर की जाती है। यह हमारी उस संस्कृति का हिस्सा है जिसे हम पर्यावरण का बचाव कर पाते हैं।

    ReplyDelete
  48. बहुत बार आस्था के सामने कोई जवाब नही होता ..... पर यहाँ समझने वाली बात ये है की आस्था की लिमिट क्या है ... सिर्फ़ पूजा तक या ... जल चडाने तक .... या उससे भी आगे .... स्वार्थ पूरा करने तक ....

    ReplyDelete
  49. भावेश जी , अवधिया जी , --अपने बहुत अच्छा विश्लेषण प्रस्तुत किया है । लेकिन यहाँ उपहास कोई नहीं कर रहा । एक प्रश्न पर सब अपने निष्पक्ष विचार प्रस्तुत कर रहे हैं ।
    ललित जी , सही कहा कि पीपल के पत्ते बहुत हलके होते हैं ।
    गिरि जी , तेल का मतलब तो हमें भी समझ नहीं आया । भूतों के बारे में फिर कभी ।
    प्रशाद जी , नासवा जी --बेशक पर्यावरण का बचाव ज़रूरी है । बाकि तो सब अपनी अपनी आस्था और मान्यता है ।

    ReplyDelete
  50. आपके सवाल ने पोस्ट को बहुत जानकारी भरी टिप्पणीयों से भर दिया।ज्ञानवर्धक पोस्ट बन गई है। आभार।

    ReplyDelete
  51. इसमें शनि का क्या रोल है पता नहीं किन्तु तेल और लकड़ी के सम्बन्ध से यह बात याद आई कि जब हम बचपन में क्रिकेट का खेल खेलते थे कुछेक बार हमने बल्ले भी खरीदे... उनमें से जो पार्चमेंट लगे होते थे उनको नहीं किन्तु अन्य नए बल्लों पर हम अलसी (?) का तेल, कपडे को उसमें डुबा, कुछ ऊँचाई तक लगाते थे, यह ख्याल रख कि बहुत तेल न लगाया जाये,,, और नयी गेंद से धीरे धीरे उसके बाद पीटते भी थे , जिससे उनके किनारे गेंद लगने पर आसानी से टूटते नहीं थे, जैसे बिना तेल लगे बल्ले से खपच्ची सी निकल जाती थी कभी-कभी...

    और हमारे एक टीचर भी थे जो चमड़ा चढ़े बेंत से कभी-कभी पिटाई करते थे - कुछ बच्चे कहते थे कि वे उसको तेल में डुबाकर रखते थे :)

    ReplyDelete
  52. बहुत बढ़िया और शानदार पोस्ट! अच्छी और ज्ञानवर्धक जानकारी प्राप्त हुई! आभार!

    ReplyDelete
  53. .

    पीपल और नीम , दो ही ऐसे वृक्ष हैं जो २४ घंटे आक्सीजन निकालते हैं। शेष वृक्ष रात्रि के समय कार्बन डाई आक्साइड उत्सर्जित करते हैं।

    .

    ReplyDelete
    Replies
    1. यह धारणा गलत है कि पीपल और नीम रात को भी आक्सीजन का उत्सर्जन करते हैं। बिना सूर्य की रौशनी के यह संभव नहीं है, हाँ यह जरूर है कि अन्य पौधों और वृक्षों से इनके द्वारा आक्सीजन का निर्माण कहीं ज्यादा होता है।

      Delete
  54. अभी कमेंट पढ़ने आया था। विषय ही इतना अच्छा है इस पोस्ट का कि रहा न गया। बहुत अच्छे व ज्ञान वर्धक विचार आ रहे हैं..

    ReplyDelete
  55. बेशक पाण्डे जी , हमें भी नई नई जानकारियां प्राप्त हो रही हैं ।
    उत्साहपूर्वक भाग लेने के लिए आप सब का आभारी हूँ ।

    जे सी जी , डंडे को तेल पिलाने वाली बात तो हमने भी सुनी है ।

    ReplyDelete
  56. पीपल का पेड़ चौबीसों घंटे ओक्सीज़न निकालता है इसलिए इसे न कटा जाय शायद ऐसा सोच लोगों को ये बताया गया हो की इसमें देवता का निवास है. वैसे हमारे देश की संस्कृति में सभी पेड़ व पशु पक्षी किसी न किसी रूप में पूजे जाते हैं जैसे जानवरों में गाय, शेर, सेही (पोर्कुपईन ) सांप, नेवला ये तो कुछ ऐसे हैं जिनकी किसी खास तिथि को पूजा होती है बाकी तो किसी न किसी देवी देवता के वाहन हैं इसलिए पूजनीय हैं. पर सबके पीछे कोई न कोई वैज्ञानिक तर्क जरुर होगा जो हमें ढूँढना चाहिए

    ReplyDelete
  57. सारे लोगों ने बता ही दिया है लेकिन एक फायदा किसी ने नही बताया । इस पेड़ के नीचे मन्दिर बनाकर अनाधिकृत कब्ज़ा करने के भी यह काम आता है ।

    ReplyDelete
  58. डॉक्टर साहब एक जबरदस्त पोस्ट औऱ टिप्पणियों ने काफी कुछ फिर से याद दिला दिया जो लगभग भूल चुका था। शनिवार को ही पूजा के लिए अक्सर कहा जाता है पीपल का। पर क्यों पता नहीं। एक बात और जहां तक मुझे मालूम था पीपल के नीचे रात में सोने की मनाही है। पर जब पीपल का पेड़ रात में भी ऑक्सीजन छोड़ता है तो फिर ऐसी मनाही क्यों? हो सकता है उस पर कीट पंतगों के ज्यादा होने के कारण ऐसा होता हो। अगर कोई और कारण है तो वो भी जानना जरुरी होगा।

    ReplyDelete
  59. सर ,मुझे तो लगता है कि पीपल की रक्षा के लिये इसे पवित्र बना दिया गया ।

    ReplyDelete
  60. @आदरणीय दराल साहब
    एक निवेदन है ... इस चर्चा में जो भी प्रश्न अनुत्तरित रहें या नए हों ,कमेन्ट के रूप में या जैसे भी आप चाहें लिख दीजियेगा [अलग से] , उत्तर तो हम ढूंढ लेंगे सब और उत्तर मिलते ही ....पहुंचा देंगे आप तक :)

    ReplyDelete
  61. डा. साहिब, ॐ अथवा ध्वनि ऊर्जा की बात करें तो आधुनिक वैज्ञानिकों ने तकनीक में उन्नति के कारण पिछले २-३ दशकों के अध्ययन के दौरान जाना है कि सूर्य से ध्वनि तार से बजने वाले वाद्य यन्त्र हार्प समान सुनाई देती है (जिसे प्राचीन काल से पश्चिम में आकाश में उड़ते 'एंजेल्स' के हाथों में दिखाया जाता आ रहा है), जबकि शनि से तीन प्रकार की ध्वनि के मिश्रण समान आवाज़ निकलती है: घंटियों की टुनटुन, पक्षियों की चहचहाट, और ढोल पीटने की आवाज़ समान,,,जिससे अनुमान लगाया जा सकता है कि अनादि काल से क्यों भारत में सफ़ेद साडी पहने ज्ञान की देवी सरस्वती के हाथों में वाद्य यन्त्र वीणा दिखाई जाती है,,,और किस आधार पर मंदिरों में ढोल-नगाड़े पीटने और घंटियाँ बजाने कि प्रथा आरंभ हुई होगी (कूर्माचल के पहाड़ी क्षेत्र में सदियों से बने दो ऐसे मंदिर मैंने देखे हैं जिनमें घंटियाँ चढ़ाई जाती हैं: मंदिर के प्रांगण में हजारों घंटियाँ बंधी देखि जा सकती हैं,,,मान्यता है कि कभी एक राजा थे जो बहुत न्यायप्रिय थे, और उनका भूत अभी भी देवता रूप में सफ़ेद घोड़े पर घूमता दिखाई पड़ता है, जिसके पीछे शायद यह मान्यता रही होगी कि विष्णु का कल्कि अवतार सफ़ेद घोड़े में आयेगा)...

    ReplyDelete
  62. @JC जी
    आप ये बेहतरीन जानकारियाँ कहाँ से प्राप्त करते हैं ?:) ये जानने की जिज्ञासा है :)
    अगर आप बताना उचित समझें तो ही :)

    ReplyDelete
  63. गौरव जी, जान कर प्रसान्नता हुई कि आपको जानकारी बेहतर लगीं. धन्यवाद! शायद इसके पीछे मेरा गहराई में जाने का रुझान कहा जा सकता है और भगवान् की कृपा से अच्छी पढाई के मौके पाना: जैसे विज्ञान और इंजीनियरिंग की पढ़ाई आदि,,,और, विशेषकर उत्तर-पूर्व में, अध्यात्म के क्षेत्र से सम्बंधित कुछ विचित्र अनुभवों का होना इसमें शामिल है,,,जैसे उस समय (अस्सी के दशक के आरंभ में) गौहाटी में मेरी दस वर्षीय तीसरी पुत्री ने मेरी एक इम्फाल की उड़ान का, लगभग जब वो दिल्ली से उड़ान भरने वाली थी, मुझे बता दिया कि वो केंसल हो जायेगी! (विमान गौहाटी देरी से आया जरूर किन्तु वहाँ से दिल्ली वापस लौट गया,,, और उस घटना ने मुझे इस भौतिक संसार से परे सोचने पर विवश किया)...

    ReplyDelete
  64. Did you mean: Peepal Tree Press More...
    Wikipedia:Sacred fig
    Sponsored Links
    Starfruit
    Photos, description, price Compare and select!
    www.all-biz.info
    Home > Library > Miscellaneous > Wikipedia
    Sacred Fig

    Leaves and trunk of a Sacred Fig.
    Note the distinctive leaf shape.
    Scientific classification
    Kingdom: Plantae
    Division: Magnoliophyta
    Class: Magnoliopsida
    Order: Rosales
    Family: Moraceae
    Genus: Ficus
    Species: F. religiosa
    Binomial name
    Ficus religiosa
    L.
    The Sacred Fig (Ficus religiosa) or Bo-Tree (from the Sinhala bo)[1] is a species of banyan fig native to Bangladesh, India, Nepal, Pakistan, Sri Lanka, southwest China and Indochina. It is a large dry season-deciduous or semi-evergreen tree up to 30 m tall and with a trunk diameter of up to 3 m. The leaves are cordate in shape with a distinctive extended tip; they are 10–17 cm long and 8–12 cm broad, with a 6–10 cm petiole. The fruit is a small fig 1-1.5 cm diameter, green ripening purple. The Bodhi tree and the Sri Maha Bodhi propagated from it are famous specimens of Sacred Fig. The known planting date of the latter, 288 BC, gives it the oldest verified age for any angiosperm plant. This plant is considered sacred by the followers of Hinduism, Jainism and Buddhism, and hence the name 'Sacred Fig' was given to it. Siddhartha Gautama is said to have been sitting underneath a Bo-Tree when he was enlightened (Bodhi), or "awakened" (Buddha). Thus, the Bo-Tree is well-known symbol for happiness, prosperity, longevity and good luck. Today in India, Hindu sadhus still meditate below this tree, and in Theravada Buddhist Southeast Asia, the tree's massive trunk is often the site of Buddhist and animist shrines. The Hindus do pradakshina (circumambulation) around the sacred fig tree as a mark of worship. Usually seven pradakshinas are done around the tree in the morning time chanting "Vriksha Rajaya Namah" meaning salutation to the king of trees.

    Contents [hide]
    1 Local names
    2 Plaksa
    3 Different views, aspects
    4 See also
    5 Notes
    6 References
    7 External links
    8 Gallery
    Local names


    Typical shape of the leaf of the Ficus Religiosa


    The Bodhi Tree at the Mahabodhi Temple. Propagated from the Sri Maha Bodhi, which in turn is propagated from the original Bodhi Tree at this location.
    It is known by a wide range of local names:

    in Indic languages:
    Burmese: ဗောဓိညောင်ပင် bawdi nyaung pin
    Bengali অশ্বত্থ asbattha, পিপল, Peepal
    Hindi: पीपल pipal (sometimes transliterated as: peepal, peepul, pippala, etc.)
    Kannada araLi mara ಅರಳಿ ಮರ
    Malayalamഅരയാല്‍ Arayal
    Marathi pimpaL (where L stands for the German ld sound, used in for example Nagold)
    Oriya Ashwatth
    Pali: assattha; rukkha
    Sanskrit: अश्वत्थः aśvatthḥ vṛiksha, pippala vṛiksha (vṛiksha means tree)
    Sinhala: බෝ bo, ඇසතු esathu
    Tamil கணவம் kaṇavam, also அரச மரம் (arasa maram)
    Telugu రావి raavi,
    Urdu: peepal
    Punjabi:Pippal
    Gujarati:vad,vadlo,pipdo પિપળો
    Plaksa
    Plaksa is a possible Sanskrit term for the sacred fig. According to Macdonell and Keith (1912), it rather denotes the wavy-leaved Fig tree (Ficus infectoria).

    In Hindu texts, the Plaksa tree is associated with the source of the Sarasvati River. The Skanda Purana states that the Sarasvati originates from the water pot of Brahma and flows from Plaksa on the Himalayas. According to Vamana Purana 32.1-4, the Sarasvati was rising from the Plaksa tree (Pipal tree).[2]

    Plaksa Pra-sravana denotes the place where the Sarasvati appears.[3] In the Rigveda Sutras, Plaksa Pra-sravana refers to the source of the Sarasvati.[4]

    Different views, aspects

    ReplyDelete
  65. @ Apanatva
    वाह जी वाह । अद्भुत जानकारी दी है आपने । अब इसके आगे जानने को और क्या चाहिए । आभार ।

    ReplyDelete
  66. डा. साहिब, साधारण तौर पर देखा जाये तो एक वृक्ष को तीन (३, सांकेतिक ॐ, यानी ब्रह्मा-विष्णु-महेश से सम्बंधित) भाग में बांटा जा सकता है ('पंचतत्व' के माध्यम से, दसों दिशाओं में व्याप्त): जड़ (या जडें, जो पीपल वृक्ष की अत्यधिक शक्तिशाली होती हैं और दूर-दूर तक फ़ैल चट्टान को भी फाड़ सकती हैं!), जो धरा पर उपलब्ध 'मिटटी' से, 'जल और वायु' के माध्यम से धरती में प्राप्त विभिन्न तत्वों को, पत्तों तक पहुंचाने का काम करते हैं (और पत्तों में पके भोजन को वापिस जड़ तक पहुँचाने का भी); तना (ठोस, पतले या मोटे खम्भे सा दिखने वाला अंश), जो मूलतः जड़ और पत्तों के बीच 'एक टांग में ताड़-देव (शिव)' जैसे, खड़ा, या लेटा ('क्षीरसागर के बीच विष्णु' जैसे); और (लगभग 'आकाश' को विभिन्न स्तर तक छूते) पत्ते जो मुख्यतः पौधे या पेड़ की रसोई समान सूर्य द्वारा प्रसारित किरणों के माध्यम से 'अग्नि' का उपयोग कर भोजन तैयार करने में सहायक होते हैं...

    अब, यदि उत्पत्ति में केवल पेड़ ही किसी का लक्ष्य होता तो इतना ही काफी होता: यानि अन्य पेड़ों समान, उनके बीच ही उपस्थित, पेड़ के राजा पीपल के भी पत्ते झड़ते और नए आ जाते और यूँ ही चक्र चलता रहता...किन्तु नहीं, ऐसा नहीं हुआ,,, और पेड़ों के बीच उनके सर्वोत्तम पेड़, वट (अथवा पीपल), तक ही पहुंचना लक्ष्य नहीं रहा होगा,,, और तब फूल और 'फल' (पेड़ की आवश्यकता से अधिक बना भोजन) बनाने का सोचा गया होगा काल-चक्र के विस्तार हेतु,,, पृथ्वी पर सर्वश्रेष्ट रचना यानि मानव, तीनों लोक, पाताल, धरा और आकाश, के श्रृष्टि-कर्ता और उसकी कार्य-प्रणाली तक पहुँचने के लिए, अनंत माध्यमों में से सर्वश्रेष्ठ माध्यम (किन्तु पृथ्वी पर प्राकृतिक तौर पर दस में से केवल ८ दिशाओं तक ही पहुँच वाला! किन्तु "जहाँ न पहुंचे रवि/ वहां पहुंचे कवि" को यथार्त करने के लिए शरीर के भीतर मस्तिष्क-रुपी असाधारण और अमूल्य कंप्यूटर धारण किये हुए!)...

    ReplyDelete
  67. मेरे जवाब =
    आस्था हैं इसलिए करते हैं. शुक्र हैं कहीं तो इंसान ने मन टिकाया वरना आजकल की भागती-दौड़ती, व्यस्त ज़िन्दगी में इंसान का मन कहीं टिकता ही नहीं.
    तने पर धागा बाँधने से पेड़ आम लोगो से जुडा नज़र आता हैं, कोई छेड़छाड़ करने या काटने की जुर्रत भी नहीं कर सकता. क्योंकि जितने धागे बंधे होंगे समझो उतने लोग उस पेड़ के साथ जुड़े होंगे.
    तने पर तेल डालने से महान पुण्य मिलता हैं. भूत भाई खुश हो जाते हैं और मोहल्ले में उत्पात नहीं मचाते, आखिर उन्हें रात को गुप्त-हवन/यज्ञ में आहूति डालने को तेल जो मिल जाता हैं.
    साईं बाबा का तो कोई साईं भक्त ही बता सकता हैं, सॉरी.
    डोंगे में खाने का सामान दिल्ली में तो बंदरो के लिए हैं. और बाकी जगह कुत्ते-बिल्ली, चिडिया-कबूतर, और चींटियों के लिए. दूसरो को खाना खिलाने का अच्छा बहाना हैं ये.
    डरिये नहीं, प्लेग तो बरसो पहले ही समाप्त हो चुका हैं, आप डॉक्टर हैं इस तथ्य को कैसे भूल बैठे???
    तो ये थे मेरे जवाब.
    कैसे लगे???
    धन्यवाद.
    WWW.CHANDERKSONI.BLOGSPOT.COM

    ReplyDelete
  68. मस्तिष्क-रुपी कंप्यूटर की कार्य-प्रणाली आदि की चर्चा होती है तो मुझे प्राचीन हिन्दू-मान्यता, "वसुधैव कुटुम्बकम", यानि पृथ्वी पर आधारित "सारे प्राणी पृथ्वी के परिवार के ही सदस्य हैं" का ध्यान आता है, जहां पृथ्वी को ब्रह्माण्ड का केंद्र माना जाता रहा है,,,और कि काल के प्रभाव से सतयुग के १००% क्षमता की तुलना में कलियुग में मानव-क्षमता केवल २५% से ०% के बीच रह जाती है,,,जबकि आधुनिक वैज्ञानिक मान्यता के अनुसार आज सबसे विद्वान् व्यक्ति भी मस्तिष्क में उपलब्ध अरबों सेल से केवल नगण्य का ही उपयोग कर पाता है (यानि मजबूर है!)...

    में नीचे इस विषय पर अपनी ही एक अन्य ब्लॉग में दी गयी एक टिप्पणी उद्घृत कर रहा हूँ...

    "थोडा फलसफा हो जाए!

    तुलसीदास जी कह गए, "जाकी रही भावना जैसी, प्रभु मूरत तिन देखि तैसी",,,और जब मैं आज अपनी ही एल्बम में अपनी ही तस्वीरें देखता हूँ तो समझ नहीं आता कि मैं किसको 'मैं' कहूं? क्या इनमें से कोई असली मैं हूँ और शेष नकली? अथवा ये तस्वीरें किसी अनदेखे की हैं, जो मेरे और सबके भीतर भी रहता हैaaj और जो काल के साथ-साथ बदलता रूप प्रतिबिंबित करता है?

    जब से मैंने हिन्दू-मान्यता के अनुसार जाना कि मानव सौर-मंडल के ९ सदस्यों के माध्यम से महाशून्य का प्रतिबिम्ब है, जब कोई हिन्दू पौराणिक कहानियों में संदर्भित दोनों अलग-अलग काल में 'धनुर्धर' पात्रों, अर्जुन अथवा राम, कहता है तो मुझे सूर्य की याद आती है, जिससे तीर समान किरणें हर दिशा में फ़ैल रही हैं और जो एक राजा समान अपने सौर-मंडल को ४ अरब वर्षों से साक्षात् रूप में वर्तमान में भी रथ समान चलाता आ रहा है..."

    ReplyDelete
  69. मै तो लेट हो गयी इतना ग्यान? वाह मैने तो सुना है कि पीपल का पेड रात मे भी आक्सीजन छोडता है लेकिन सुना है। तेल का राज़ तो पता नही मगर लोगों की आदत है जिस डाल पर बैठते हैं उसे ही काटने लगते हैं। बहुत बडिया पोस्ट। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  70. इस विषय पर आप सबकी टिप्पणियां पढ़कर वास्तव में काफी नई बातें पता चली ।
    सबको पढ़कर निष्कर्ष यही निकलता है कि --

    पीपल का पेड़ सर्वश्रेष्ठ माना गया है । इसके नीचे बैठकर गौतम बुद्ध ने ज्ञान प्राप्त किया था । इसके हरे भरे असंख्य पत्तों से ऑक्सिजन की मात्रा काफी मिलती है । हालाँकि रात में भी , यह संदिग्ध लगता है ।

    धागों का बांधना शायद पर्यावरण की रक्षा की दृष्टि से तर्कसंगत लगता है ।

    तने पर तेल डालने का कोई ठोस कारण समझ नहीं आया ।

    खाद्य पदार्थ जीव जंतुओं के लिए अर्पण करना पुण्य का काम है ।

    साईं बाबा की मूर्ति का कोई औचित्य समझ नहीं आया ।

    अंत में यही कि सब श्रद्धा भावना की बात है । लेकिन श्रद्धा का दुरूपयोग करते हुए , मनुष्य अपने स्वार्थ में आकर गलत कार्य न करे , इसके लिए जागरूक होने की ज़रुरत है ।

    ReplyDelete
  71. बढ़िया...जानकारी भरी पोस्ट...
    टिप्पणी देने के लिए इतना अधिक समय इसलिए लगाया क्योंकि इस सवाल का उत्तर नहीं मालूम था :-(
    खैर!...साथियों की टिप्पणियों से काफी ज्ञानवर्धन हुआ...शुक्रिया इस सार्थक पोस्ट के लिए

    ReplyDelete
  72. डा. साहिब, मैंने पहले भी कहा था, "पीपल के पेड़ में भी दीख सकता है कुछेक को शनि"...
    यदि हिन्दू-मान्यता को फिर से सारांश में देखें, यह मान कि प्राचीन हिन्दू पहुंचे हुए 'सिद्ध पुरुष' यानि all rounder थे, तो पायेंगे कि अनंत ब्रह्माण्ड के श्रृष्टि कर्ता को उन्होनें माना या जाना था कि वो हमेशा, यानि अनादिकाल से ही, एक अकेला, अनंत, 'नादबिन्दू', यानि निराकार जीव है, जो अनंत ध्वनि-ऊर्जा का स्रोत है... इसे सरल भाषा में कहें तो श्रृष्टि कि रचना शून्य यानि बिंदु से आरंभ हो निरंतर फूलते गुब्बारे समान अनंत ब्रह्माण्ड के अनंत और अँधेरे शून्य में बनी हुई है,,, और जिसके होने का आभास उसके भीतर व्याप्त आकार में अनंत किन्तु अस्थायी और संख्या में भी अनंत गैलेक्सी यानि तारा-मंडल के समाये होने के कारण होता रहता है...
    अब यदि 'पृथ्वी' (और अन्य गेंद- नुमा ग्रहादि ) और 'वृक्ष' को तुलनात्मक दृष्टि से देखें तो पायेंगे कि दोनों एक टांग पर खड़े हैं: ग्रह उत्तर-दक्षिणी धुरी पर और वृक्ष पृथ्वी पर अपने तने पर,,,
    और हम जानते हैं कि भारी-भरकम प्रतीत होने वाले वृक्ष भी नन्हे से बिंदु-समान बीज से उत्पन्न होते हैं और जो आरंभ में धरा के ऊपर एक नन्ही सी लकीर समान दिखता है, जो काल के साथ धीरे धीरे मोटे खम्भे जैसे आकार में बढ़ता जाता है...
    आज हमें पता है कि पेड़ की आयु का पता उसके तने को काटने से उसके भीतर बने छल्लों (ऐन्युलर रिंग) की संख्या से पता चलता है: यानि इसे प्रकृति का कमाल अथवा इशारा कह सकते हैं जब हम शनि ग्रह को (और बृहस्पति को) भी एक सूर्य की तुलना में नितांत ठंडा किन्तु सुन्दर 'रिंग-प्लेनेट' जान चुके हैं (और विष्णु और कृष्ण दोनों को सुदर्शन-चक्र धारी माना जाता है) ,,,जिसे उसकी धीमी चाल होने के कारण तुलनात्मक दृष्टि से शनि को 'लंगड़ा' कहा जाता रहा है औसत व्यक्ति द्वारा (पृथ्वी जितनी देर, एक वर्ष, में सूर्य की एक परिक्रमा करने में लेता है, उसकी तुलना में शनि को ३० वर्ष लगते हैं),,,और हमें यह भी पता है कि यह प्राकृतिक है कि ठंडी वस्तु ही गर्म वस्तु से शक्ति यानी ऊर्जा धारण करती है, किन्तु शनि की सूर्य से अत्यधिक दूरी के कारण उसमें बर्फ से बने छल्ले पिघलते नहीं हैं, वैसे ही जैसे संख्या में अनंत किन्तु अस्थायी जीव सूर्य की गर्मी से जलते नहीं हैं, जब तक शिव की तीसरी आँख न खुल जाए, यानि पृथ्वी के वातावरण में व्याप्त ओजोन तल में छिद्र बड़ा न हो जाये :)...

    ReplyDelete
  73. डा. साहिब, मैंने पहले भी कहा था, "पीपल के पेड़ में भी दीख सकता है कुछेक को शनि"...
    यदि हिन्दू-मान्यता को फिर से सारांश में देखें, यह मान कि प्राचीन हिन्दू पहुंचे हुए 'सिद्ध पुरुष' यानि all rounder थे, तो पायेंगे कि अनंत ब्रह्माण्ड के श्रृष्टि कर्ता को उन्होनें माना या जाना था कि वो हमेशा, यानि अनादिकाल से ही, एक अकेला, अनंत, 'नादबिन्दू', यानि निराकार जीव है, जो अनंत ध्वनि-ऊर्जा का स्रोत है... इसे सरल भाषा में कहें तो श्रृष्टि कि रचना शून्य यानि बिंदु से आरंभ हो निरंतर फूलते गुब्बारे समान अनंत ब्रह्माण्ड के अनंत और अँधेरे शून्य में बनी हुई है,,, और जिसके होने का आभास उसके भीतर व्याप्त आकार में अनंत किन्तु अस्थायी और संख्या में भी अनंत गैलेक्सी यानि तारा-मंडल के समाये होने के कारण होता रहता है...
    अब यदि 'पृथ्वी' (और अन्य गेंद- नुमा ग्रहादि ) और 'वृक्ष' को तुलनात्मक दृष्टि से देखें तो पायेंगे कि दोनों एक टांग पर खड़े हैं: ग्रह उत्तर-दक्षिणी धुरी पर और वृक्ष पृथ्वी पर अपने तने पर,,,
    और हम जानते हैं कि भारी-भरकम प्रतीत होने वाले वृक्ष भी नन्हे से बिंदु-समान बीज से उत्पन्न होते हैं और जो आरंभ में धरा के ऊपर एक नन्ही सी लकीर समान दिखता है, जो काल के साथ धीरे धीरे मोटे खम्भे जैसे आकार में बढ़ता जाता है...
    आज हमें पता है कि पेड़ की आयु का पता उसके तने को काटने से उसके भीतर बने छल्लों (ऐन्युलर रिंग) की संख्या से पता चलता है: यानि इसे प्रकृति का कमाल अथवा इशारा कह सकते हैं जब हम शनि ग्रह को (और बृहस्पति को) भी एक सूर्य की तुलना में नितांत ठंडा किन्तु सुन्दर 'रिंग-प्लेनेट' जान चुके हैं (और विष्णु और कृष्ण दोनों को सुदर्शन-चक्र धारी माना जाता है) ,,,जिसे उसकी धीमी चाल होने के कारण तुलनात्मक दृष्टि से शनि को 'लंगड़ा' कहा जाता रहा है औसत व्यक्ति द्वारा (पृथ्वी जितनी देर, एक वर्ष, में सूर्य की एक परिक्रमा करने में लेता है, उसकी तुलना में शनि को ३० वर्ष लगते हैं),,,और हमें यह भी पता है कि यह प्राकृतिक है कि ठंडी वस्तु ही गर्म वस्तु से शक्ति यानी ऊर्जा धारण करती है, किन्तु शनि की सूर्य से अत्यधिक दूरी के कारण उसमें बर्फ से बने छल्ले पिघलते नहीं हैं, वैसे ही जैसे संख्या में अनंत किन्तु अस्थायी जीव सूर्य की गर्मी से जलते नहीं हैं, जब तक शिव की तीसरी आँख न खुल जाए, यानि पृथ्वी के वातावरण में व्याप्त ओजोन तल में छिद्र बड़ा न हो जाये :)...

    ReplyDelete
  74. जे सी जी , आपके लेखों को आराम से बैठकर पढेंगे । बहुत बड़ा खज़ाना छुपा है इनमे । आभार ।

    ReplyDelete
  75. Dr.Sahab...
    aap naastik nahiin hain kyonki aap apne par vishwaas rakhte hain aur swami vivekanand ke anusaar naastik vah hai jise apne par vishwaas nahin hai.atah aap aastik hain.
    Tulsi,Amla,Peepal-ye sirf 3 hi aise virksh hain jo din raat oxigen nikalte hain aur manav jeevan hi nahin samast praaniyon ke liye jeevan daayini shakti dete hain,atah inke sanrakshan aur samvardhan hetu inhe bachaane ka nirdesh tha.
    DHONGI-PAKAHANDI-UDAR POOJAK bewakoofon ne dharm ka jhoothaa naam laga kar dhaga-tel anndaan aadi khurafaat chala dii.vaise peepal ki lakdi guru grah ki shanti me havan hetu bhi pryog ki jaati hai.

    ReplyDelete
  76. माथुर जी , बहुत सही बात कही है आपने । आपसे पूर्णतय सहमत हूँ । आभार इस जानकारी के लिए ।

    ReplyDelete
  77. वृक्षों में सबसे ज्यादा आक्सीजन पीपल के पेड़ से प्राप्त होती है। ऐसा वैज्ञानिकों का भी मानना है। इसी कारण हमारे ऋषि-मुनियों ने इसकी बेवजह कटाई ना हो जाए ऐसा सोच कर इस पर देवताओं के वास की बात की होगी। कालांतर में उन्हीं देवताओं को प्रसन्न करने और अपनी मन्नतों को पूरा करने के लिए लोगों ने तरह-तरह के टोटके शुरु कर दिए जिससे मन्नतों का तो पता नहीं पर वृक्ष के लिए जरूर खतरा पैदा हो गया है।
    बहुतेरी बार तो अपना दीपक बुझने से बचाने के लिए लोग पेड़ के कोटर में रख देते हैं जिससे वहां का हिस्सा झुलसते रहता है। ऐसे लोगों को समझाने से वे ऐसे देखते हैं जैसे उनके पुण्य कार्य में अड़चन डाली जा रही हो।
    Reply

    ReplyDelete