Friday, October 15, 2010

राष्ट्र मंडल खेलों ने देश को बनाया फिर से --सोने की चिड़िया --


देश
में सदी की सबसे बड़ी और अविस्मरणीय घटना --राष्ट्र मंडल खेलों का कल समापन हो गयाग्यारह दिनों तक चले इन खेलों के सफल आयोजन से निश्चित ही देश की प्रतिष्ठा में चार चाँद लगे हैं


समापन समारोह का एक दृश्य


लेज़र शो




यह कोई पेंटिंग नहीं , बल्कि तिरंगे में रंगे स्कूली छात्र हैं मार्च पास्ट करते हुए


आइये देखते हैं , इन खेलों से हमने क्या पाया ---

दिल्ली को मिले :

साफ़ सुथरी चौड़ी सड़कें।
बाईस नए फ्लाईओवर।
साठ नए फुट ओवरब्रिज।
हज़ारो की संख्या में आधुनिक किस्म की एनर्जी सेविंग स्ट्रीट लाइट्स ।
विश्व का सबसे बड़ा बस डिपो जिसमे १००० बसें पार्क की जा सकती हैं ।
इंदिरा गाँधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा जो विश्व का आठवां सबसे बड़ा हवाई अड्डा है ।
मेट्रो ट्रेन्स का ज़ाल , जिससे सफ़र बहुत आसान हो गया है ।
वातानुकूलित लो फ्लोर बसें , जिनमे सफ़र करना आरामदायक है ।

देश को मिला :

आत्म विश्वास , सम्मान और प्रतिष्ठा में चार चाँद ।
राष्ट्र मंडल खेलों में पदक तालिका में दूसरा स्थान ।
कीर्तिमान स्थापित करते हुए ३८ गोल्ड मेडल्स ( कुल १०१)।

हमें मिला :

घर से अस्पताल तक की दूरी १० किलोमीटर से कम होकर ८ किलोमीटर और समय आधे घंटे से कम होकर १५ मिनट्स ।

देशवासियों ने देखा :

अद्भुत नज़ारा --समापन समारोह का

अब यदि आप इसे न देख पाए हों तो निराश मत होइए । इस मामले में हम आपके साथ हैं । क्योंकि आप ही की तरह हम भी यह भव्य समारोह देखने से वंचित रह गए ।

फिर भी हमें गर्व है कि हम राष्ट्र मंडल खेलों का बिना किसी अड़चन के सफल आयोजन कर सके


नोट : सभी चित्र साभार अपने नियमित समाचार पत्र --हिन्दुस्तान टाइम्स से

43 comments:

  1. शुभारंभ और समापन समारोह तो नहीं,मगर मैंने छह मैचों के फाइनल अलग-अलग स्टेडियम में देखे। पहली बार महसूस हुआ कि टीवी चाहे जितने क्लोज-अप से शॉट दिखाए,मगर खुली आंखों से सब कुछ अपने सामने घटते देखना अविस्मरणीय अनुभव था। इन खेलों को देखने के बाद,मेरा तो टीवी से मोहभंग हो गया समझिए। खासकर वह क्षण,जब 4x400 मीटर रिले में महिलाओं ने स्वर्ण जीता,जीवन भर याद रहेगा।

    ReplyDelete
  2. आप लोग भाग्‍यशाली हैं जिन्‍हें स्‍टेडियम जाकर साक्षात गेम्‍स देखे, हमने तो टीवी पर ही देखे। जितना भी सम्‍भव हुआ सारे ही देखे। उद्घाटन भी देखा और समापन भी। बहुत ही आनन्‍द आया और अपने देश पर गर्व भी हुआ। आपकी रपट से नवीन जानकारी मिली इसके लिए आभार।

    ReplyDelete
  3. गर्व की बात है
    आयोजन बहुत बड़ा था और अंततोगत्वा अत्यंत सफल था.

    ReplyDelete
  4. नवीन जानकारी के लिए आभार।

    ReplyDelete
  5. Totally agree with you.
    Dr sahab aapke prashn peepal ke ped ko le kafee uthapatak maine bhee kee.
    ANSWER.COM PAR aapko jaroorat se jyada hee information mil jaegee .....

    ReplyDelete
  6. कामन वैल्थ गेम्ज़ के कुशल संचालन और दिल्ली में हुए विकास कार्यों को देख कर खुशी महसूस होती है लेकिन अब ज़रा इसके आयोजनकर्ताओं की भ्रष्टाचार के मामले में क्लास भी लगे तो कुछ और बढ़िया बात बने

    ReplyDelete
  7. राजीव जी , शुरुआत हो चुकी है । अभी अभी टी वी पर यही दिखाया जा रहा था ।

    ReplyDelete
  8. बहुत बहुत बधाई। मेरा भारत महान। जय हिन्द।

    ReplyDelete
  9. डा. साहिब, धन्यवाद! दिल्ली से दूर मुंबई में होने और तीन वर्षीय बच्चे के घर में होने से टीवी कनेक्शन ही कटवा दिया है पिछले वर्ष से (यद्यपि कई मौके पर लगता है ठीक नहीं किया) बेटी-दामाद ने,,, जिस कारण आदत पड़ गयी है पिछले ४ माह से केवल समाचारपत्र और ब्लॉग आदि द्वारा समाचार प्राप्त होने के...
    प्रसन्नता हुई कि जैसा मीडिया ने वातावरण बना दिया था वैसा नहीं हुआ और भ्रस्टाचार के बावजूद 'भारत' आगे ही रहा है (और शायद हमारे पूर्वज सही थे जिन्होंने पहले ही कहा हुआ है कि माया के कारण काल सतयुग से घोर कलियुग की ओर ही जाता दीखता है - फिर से सतयुग तक पहुँचने के लिए, अथवा ब्रह्मा की रात्रि के आरंभ होने के लिए!) ...

    ReplyDelete
  10. घोटाले एक अलग समस्या है...बाकि सभी इस बात के कायल हो गए की दिल्ली ने अपना वादा बखूबी निभाया....

    ReplyDelete
  11. वाह जो कुछ मिला दिल्ली को मिला । हमारे घर के पास तो जो सड़क है वह और ज़्यादा खराब हो गई है उसपर पहले 15 मिनट लगते थे अब आधा घंटा लगता है ।

    ReplyDelete
  12. बहुत सारी नयी जानकारियों के साथ यह लेख संग्रहणीय बन पड़ा है । दिल्ली एअरपोर्ट विश्व का सबसे बड़ा एअरपोर्ट है यह जानकार सुखद आश्चर्य हुआ ! निस्संदेह इन खेलों की बदौलत दिल्ली में जैसे जान पड़ गयी हो ! यह शानदार मंज़र देख बहुत सारे विदेशियों को हमारे देश के बारे में अपनी पुरानी राय बदलने को मजबूर होना पड़ा होगा !
    हमारे खिलाड़ियों की वर्षों से की जा रही जी तोड़ मेहनत बसूल हो गयी ...
    आगे विभिन्न खेलों में हम एक नयी शक्ति बनकर उभरेंगे ! एक नया आत्मविश्वास कायम हुआ है !
    सादर

    ReplyDelete
  13. आप शायद इस लेख का शीर्षक देना भूल गए हैं ...

    ReplyDelete
  14. जी सतीश जी , मिस हो गया था । शुक्रिया ।

    ReplyDelete
  15. दराल साहेब..
    बहुत ही अच्छी जानकारी..और सचमुच सब कुछ बहुत भव्य था...समापन समारोह भी...
    बस एक दुविधा लगी है मुझे indira gandhi international airport विश्व का सबसे बड़ा एअरपोर्ट हो ही नहीं सकता....जब शिकागो airport, Denver International में एक टर्मिनल से दूसरे टर्मिनल जाने के लिए हम ट्रेन लेते हैं ...और King Khalid International airport ८९ square mile में स्थित है तो फिर IGIA कैसे सबसे बड़ा हो सकता है...?
    बाक़ी बातें सही हो सकती हैं...बस मुझे इस बात से इत्तेफाक रखते हुए दुविधा हो रही है...ज़रा खुलासा करें...

    ReplyDelete
  16. मेरा भारत महान... जय हिंद

    ReplyDelete
  17. मुझे भी भारत पर गर्व हे, लेकिन ......बहुत सी बाते हे जिन से हम सहमत नही,आधे से ज्यादा स्टेडियम खाली रहे? खेल गांव का समान नही बिका?यह सडके क्या अगली बरसात सह लेगी?अगर खेल गांव का नाम रोशन किया तो उन गरीब ओर गांव के खिलाडियो ने जिन के हिस्से का भी यह नेता डकार गये, ओर उन खिलाडियो का यह देश अभारी हे,इन बच्चो को सलाम,अदा जी की बात से सहमत हे ,

    ReplyDelete
  18. बहुत बहुत बधाई, मेरा भारत महान।

    जय हिन्द!

    ReplyDelete
  19. दिल्ली तो पहले से विकसित थी धीरे धीरे और विकसित हो जाती इसमे भी कोई दो राय नहीं है पर काश ये खेल वहा होते जहा विकाश कम हुआ है इसी बहाने वहा का विकाश तो हो जाता | राज भाटिया जी सही कहा रहे है इन स्टेडियम सड़को को अगली बरसात तक टिकने तो दीजिये | जहा तक मुझे पता है एयरपोर्ट एशिया में सबसे बड़ा है दुनिया में नहीं |

    ReplyDelete
  20. ... behatreen post ... gold-hi-gold ... samast desh vaasiyon ko badhaai-hi-badhaai ... samast safal khilaadiyon ko badhaai va shubhakaamanaayen !!!

    ReplyDelete
  21. अदा जी , भाटिया जी , आपने सही कहा । IGIA टर्मिनल III दुनिया का आठवाँ सबसे बड़ा एयरपोर्ट है । भूल सुधार के लिए आभार ।
    लेकिन अगली बरसात तक सड़कें टिकी रहेंगी , हम तो यही उम्मीद करते हैं ।
    भ्रष्टाचार के विरुद्ध कार्यवाही शुरू हो चुकी है । आज कलमाड़ी को पी एम् की पार्टी में नहीं बुलाया गया ।

    ReplyDelete
  22. वाकई, बहुत गर्व का विषय है. इस बार हमारी फ्लाईट भी टर्मिनल ३ पर आये..यही कामना है. :)

    ReplyDelete
  23. भाई साहब-कामनवेल्थ के खेल में कईयों ने सोने की चिड़ियाँ क्या हाथी खरीद लिए।
    फ़िर भी जो सुविधाएं मिली वे स्वागतेय हैं।

    ReplyDelete
  24. शीर्षक से असहमत।
    राष्ट्र मंडल खेलों ने दिल्ली को बनाया सोने की चिड़िया।
    हमारे पास तो बिजली भी नहीं थी देखने के लिए...सड़क नहीं है चलने के लिए...कोई खेल का मैदान नहीं है हमारे बच्चों को खेलने के लिए...
    ...याद आ रहा है ...
    एक संहशाह ने बना के हसीं ताजमहल
    हम गरीबों की मोहब्बत का उड़ाया है मजाक।

    ReplyDelete
  25. बस एक आशा और करनी चाहिए कि अब ये जो बना है उसको यथावत रखा जाएगा, नहीं तो चीजें बिखर जल्दी जाती है

    फोटो बढ़िया हैं और गर्व बहुत होता है जब देश आगे होता है !

    ReplyDelete
  26. वाह जो कुछ मिला दिल्ली को मिला । हमारे घर के पास तो जो सड़क है वह और ज़्यादा खराब हो गई है उसपर पहले 15 मिनट लगते थे अब आधा घंटा लगता है ।

    शरद कोकस जी की बातों से सहमत होते हुए इसमें और इतना जोड़ना चाहूँगा की इस खेल ने जमीनी स्तर पर स्थिति को दिल्ली में भी बद से बदतर किया है हाँ हवाई स्तर पर दिखावटी कार्य जरूर किये हैं जिससे सिर्फ और सिर्फ बाजारवाद का भला होगा आम आदमी तो इस खेल के कुकृत्यों की मार अभी आने वाले वर्षों में बरी बेदर्दी से झेलेगा ....कुल मिलाकर इस आयोजन को रोटी,भूख और न्याय के लिए तरसती भारतीय जनता तथा पीने के साफ पानी को तरसती दिल्ली की जनता के टेक्स के पैसों की बेदर्दी से लूट की उपलब्धि के रूप में ज्यादा याद किया जायेगा .....

    ReplyDelete
  27. जय हिन्द
    बढिया पोस्ट दी है जी आपने, अच्छी लगी।
    अब यह विकासकार्य यूं ही निरन्तर रहे यही आशा है।

    ओपनिंग, क्लोजिंग सेरेमनी या गेम्स जो लोग नहीं देख पाये, उनके लिये सीडियां आ गई हैं। खरीदें और अपने घर बैठकर मजे से देखें।

    प्रणाम

    ReplyDelete
  28. दुर्गा नवमी एवम दशहरा पर्व की हार्दिक बधाई एवम शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  29. डा.साहिब, मस्तिष्क की कार्य प्रणाली विचित्र है...(इसको समझने में शायद आपको समय लगेगा), उदहारणतया आपने सुधार के पश्चात कहा, "IGIA टर्मिनल III दुनिया का आठवाँ सबसे बड़ा एयरपोर्ट है।..."

    संख्या '८' ('8'), और जैसा मैंने पहले भी कहा, आठ दिशाओं तक ही, बिना बाहरी उपकरण अथवा अंदरूनी शक्ति उजागर किये, आदि के साधारण व्यक्ति की पहुँच) से मेरे मस्तिष्क में विचार आया कि हिन्दू-मान्यतानुसार 'कृष्ण विष्णु के आठवें अवतार हैं' (और आज गणित के विद्यार्थी जानते हैं कि अनंत को दर्शाने के लिए संख्या ८, यानि लेटे हुए ('8') का उपयोग किया जाता है अनादि काल से), और विष्णु 'अनंत नाग' पर क्षीरसागर के मध्य में (पश्चिम की ओर सर किये और पूर्व की ओर पैर किये) लेटे हैं माना जाता है - ग्राफिक यानि सांकेतिक भाषा में,,,
    और 'महाभारत के युद्ध में' कृष्ण से सहायता मांगने दोनों, दुर्योधन और अर्जुन, सुबह-सवेरे दर्शाए गए हैं: अर्जुन उनके पैर की ओर, और दुर्योधन उनके सर की ओर,,,
    और इस कारण पौराणिक कहानियों को 'लाइन के बीच पढने' के लिए ये कहना आवश्यक न होगा कि पृथ्वी से सूर्य पूर्व में उदय होता दिखता है,,,जबकि यह शायद सबको मालूम न हो कि शुक्र ग्रह में सूर्य पश्चिम दिशा में उदय होता दिखेगा! जिनके माध्यम से भी कोई अर्जुन को सूर्य से और दुर्योधन को शुक्र ग्रह से जोड़ सकता है...

    और "विष्णु शिव हैं और शिव विष्णु हैं" से 'गंगाधर शिव' द्वारा पृथ्वी की ओर इशारा होना जाना जा सकता है,,,और 'शिव के हृदय में माँ काली, (जिसकी जिव्हा लाल दर्शाई जाती है), का वास है', उसको ज्वालामुखी की अग्नि-रुपी जिव्हा, अथवा धरा पर फैलते लाल लावा (जो हवा के संपर्क में आ काला हो जाता है) के स्रोत रूप में समझा जा सकता है (जिस शक्ति के कारण पश्चिम से पूर्व में सहस्त्रों किलो मीटर लम्बी हिमालय की श्रंखला फैली है, पृथ्वी के गर्भ से उपजने के पश्चात, और जिसके शक्ति पीठ पर हिन्दुओं ने मंदिर बनाये हैं सांकेतिक भाषा में)...इत्यादि, इत्यादि,,,

    - JC

    ReplyDelete
  30. पुनश्च: 'भारत' को मूलरूप से 'सोने की चिड़िया' बनाने में हाथ 'पंचभूतों' अथवा 'पंचतत्वों' (मिटटी यानि पृथ्वी, अग्नि यानि सूर्य, वायु, जल और आकाश) का समझा जा सकता है,,, जिनके सहयोग के कारण ही जल-चक्र स्थापित हुआ, भारत के वर्षिक दक्षिण-पश्चिमी मौनसून के और हिमालय की उपस्थिति के कारण जो जम्बुद्वीप के गर्भ से पैदा हुआ 'काली' अथवा 'कृष्ण' की कृपा से!

    ReplyDelete
  31. किसी भी घटना को देखने समझने को परखने के दो दृष्टिकोण होते हैं ...तो यदि देखना ही है तो फ़िर सकारात्मक क्यों नहीं ..?? हां ये जरूर है कि ऐसा करते हुए वास्तविकता को भी पूरी तरह झुठलाया नहीं जा सकता है । भविष्य में क्या होगा ये तो ये तो देखने वाली बात है , आज वर्तमान में जो भी उपलब्धि है ..उस पर निश्चय ही गर्व किया जाना चाहिए । और एक आम आदमी आम आदमी ....की बेशक हम माला जपते रहें ...मगर सच यही है और सबसे बडा दुर्भाग्य यही है...कि पूरे दृश्य में एक आम आदमी कहीं नहीं है

    ReplyDelete
  32. बहुत अच्छा लेख आभार
    हमारा भी ब्लॉग पड़े और मार्गदर्शन करे
    http://blondmedia.blogspot.com/2010/10/blog-post_16.

    ReplyDelete
  33. एक बार....अपने देश की गरीबी...कमियाँ..भ्रष्टाचार..आदि, भुला कर...खुश हो लेते हैं.
    प्रदर्शन सचमुच बहुत शानदार था.

    ReplyDelete
  34. मेरा भारत महान बढिया पोस्ट है हार्दिक बधाई एवम शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  35. पाण्डे जी , बेशक दिल्ली सोने की तरह चमक रही है । लेकिन शीर्षक के पीछे यह तथ्य है --भारत ने इतने (३८) गोल्ड मेडल राष्ट्र मंडल खेलों में पहली बार जीते हैं । अब इसके लिए तो सबको गर्व होना ही चाहिए ।

    जहाँ तक अन्य क्षेत्रों के विकास का सवाल है , उसके लिए पहल तो वहां की सरकार को ही करनी पड़ेगी ।
    यहाँ भी खेलों की सफलता का सेहरा दिल्ली की सी एम् साहिबा को ही बंधा है ।

    महंगाई और भ्रष्टाचार को खेलों से जोड़ना अन्याय होगा । ये तो हमेशा से रहे हैं और निकट भविष्य में निज़ात पाने की सम्भावना भी कम ही है ।

    ReplyDelete
  36. कम से कम यमुना पार का कुछ तो उद्धार हुआ. आशा है इसी तरह के आयोजन आगे भी होते रहेंगे ताकि इन्हीं के बहाने कुछ शहरों का कायाकल्प होता रहे..

    ReplyDelete
  37. आत्म विश्वास प्रतिष्ठा में चांद और मिला सम्मान
    राष्ट्र मंडल खेलों में पदक तालिका में दूसरा स्थान
    ये तो कविता बन गई श्री मान

    ReplyDelete
  38. क्यों न इस दशहरे पर अपने अन्दर के अहंकार को ख़त्म करने का संकल्प लिया जाये ।
    आप सब को शुभकामनायें ।

    ReplyDelete
  39. waiting for other international games.
    i am looking bright future of india, after cwg games.
    thanks.
    WWW.CHANDERKSONI.BLOGSPOT.COM

    ReplyDelete
  40. Humane to tv par udghatan aur samapan dekha. Bahut achcha laga ke desh ke khiladiyon ne Bharat ka tiranga faharata rakha ooncha rakha. Khel badhiya tareeke se sampann hue. Isme unginat logon kee mehanat hai unko salam.

    ReplyDelete