Thursday, June 28, 2012

मैं तो पानी पीता ही नहीं ---


पिछली पोस्ट में गंभीर विचार विमर्श के बाद अब कुछ थोड़ा मस्ती का माहौल बनाया जाए . इसी उद्देश्य से अपना टाइम खोटी कीजिये, बिना किसी शिकायत के .

रोजाना की तरह डॉक्टर साहब अपनी क्लिनिक में बैठे थे . तभी एक मरीज़ आया और बोला -- डॉक्टर साहब पेट में बहुत दर्द रहता है . पेट बढ़ता भी जा रहा है . कोई उपाय बताइए .
डॉक्टर साहब ने पूरा मुआयना किया और पूछा -- शराब पीते हो ?
मरीज़ बोला -- डॉक्टर साहब , झूठ नहीं बोलूँगा , वो तो मैं पीता हूँ .
डॉक्टर : देखिये , शराब पीने की वज़ह से आपका ज़िगर ख़राब हो गया है . और पेट में पानी भी भर गया है .
मरीज़ : डॉ साहब , ज़िगर तो ठीक है लेकिन पेट में पानी कैसे भर गया ? मैं तो पानी पीता ही नहीं . मैं तो दारू भी नीट पीता हूँ .

फिर कुछ सोचकर मरीज़ बोला -- डॉ साहब , याद आया बचपन में जब पीना शुरू किया था तब पानी मिलाकर पीता था . पहले व्हिस्की ली पानी के साथ , पर वो चढ़ गई . फिर रम पीने लगा, लेकिन वो भी चढ़ जाती थी . फिर मैंने वोदका लेनी शुरू कर दी पानी के साथ . लेकिन जब वो भी चढ़ गई , तो मैंने पानी पीना ही छोड़ दिया .

डॉक्टर : नहीं नहीं , देखिये आपको शराब बंद करनी पड़ेगी .
मरीज़ : डॉ साहब , प्लीज़ बंद करने के लिए मत कहिये , मैं मर जाऊंगा . हाँ , कम कर सकता हूँ .
डॉक्टर : अच्छा कितनी पीते हो ?
मरीज़ : जी झूठ नहीं बोलूँगा --बस चार पैग पीता हूँ .
डॉक्टर : अच्छा आज से तीन कर दो और दो हफ्ते बाद आकर मिलो .
दो सप्ताह बाद---
डॉक्टर : अब कैसा लग रहा है ?
मरीज़ ; जी कुछ आराम तो है पर अभी भी दर्द रहता है .
डॉक्टर : ठीक है , आज से दो पैग ही लेना .
मरीज़ : ठीक है डॉ साहब . लेकिन दो से कम मत करना . वो क्या है ना, पूरी बोतल एक पैग में आ ही नहीं सकती .

एक महीने तक मरीज़ वापस नहीं आया . फिर एक दिन घूमता घूमता क्लिनिक पहुंचा तो देखा --बाहर एक तख्ती टंगी थी जिस पर लिखा था -- डॉक्टर इज आउट . मरीज़ ने कम्पाउन्दर से पूछा --क्या डॉ साहब कहीं बाहर गए हैं . वो बोला -- नहीं अन्दर हैं , खुद ही देख लो . मरीज़ ने अन्दर जाकर देखा --डॉ साहब कुर्सी पर चित पड़े हैं . उसने हाथ से हिलाकर उन्हें उठाया तो देखते ही डॉक्टर बोला --अरे तुम ! फिर आ गए ! मरीज़ बोला --नहीं नहीं डॉक्टर साहब , मैं अब ठीक हूँ . मैंने पीनी छोड़ दी है . बस कभी कभी पेट में दर्द होता है . डॉक्टर बोला --चिंता नहीं करना . मैं अभी सूई लगाता हूँ . तुम बिल्कुल ठीक हो जाओगे .
डॉक्टर ने सिरिंज भरा और लगा दिया कूल्हे में जैसे भैंस को इंजेक्शन लगाते हैं .

अगले दिन मरीज़ फिर आया तब डॉक्टर पूरे होश हवास में था . देखते ही बोला -तुम फिर आ गए .
मरीज़ बोला --डॉक्टर साहब , आपकी दुआ से मैं अब बिल्कुल सही हूँ . बस ये पूछने आया था --कल जो आपने सूई लगाई थी , उसे कब निकालेंगे ?

और अंत में :

असली शराबी वो कहलाये ,
जो पीने की शुरुआत करे बचपन में नीट बियर से ,
और इक दिन नीट व्हिस्की पीता नज़र आए ,
और इसका कारण ये बतलाये,
भई क्या करें आज ड्राई डे है . इसलिए नो वाटर , नो सोडा , नो आइस .


75 comments:

  1. हा हा हा.. वैरी इंटेरेस्टिंग... फन्नी बियौंड थॉट.... कूल.. वैसे मैं तो पीता ही नहीं.. इनफैक्ट मैं कोई नशा नहीं करता.. तो अपने लिए तो हर दिन, महीना साल ही ड्राई डे है... मुझे आप दूध और जूस जितना पिला दीजिये.. मैं आज भी प्योर दूध पचा लेता हूँ.. मुझे लगता है दूध (कैसा भी हो, भैंस, गाय, अमूल, पराग या और कोई भी ब्रैंड) का नशा एक अलग नशा है... इससे सेहत तो बनती ही है... और पर्सनल लाइफ भी अच्छी रहती है.. फिटनेस बहुत ज़रूरी है.. और फिटनेस सही हो तो हर कोई एक नज़र देखता ज़रूर है.... आपको पता है मैं जब सुबह जिम से लौटता हूँ तो रस्ते में अमूल दूध का एक पैकेट और पांच कच्चे अंडे.... पी जाता हूँ.. कई लोग मुझे देख कर घिन्ना भी जाते हैं.. कि दूध भी कच्चा और अंडे भी कच्चे और फ़ौरन खोल कर पी जाता है.. एक बार एक आंटी जी भी वहीँ से दूध ले रहीं थीं.. अमूल के पार्लर से और मुझे ऐसा करते देखा तो उलटी करके बेहोश हो गयीं.... मुझे बहुत मज़ा आया.. पहलवानी का एक अलग मज़ा है.. अगर फिटनेस सही है तो दुनिया की कोई बिमारी हो ही नहीं सकती.. अच्छा! एक चीज़ और है .. विदेशों में शराब का ट्रेंड समझ में आता है .. जहाँ चावल, गन्ना और शकरकंद नहीं पैदा होते.. तो वहां बाहर से अल्कोहोल लेना पड़ता है.. लेकिन अपने यहाँ नहीं समझ में आता.. वैसे नशा कैसा भी हो .. कमज़ोर लोग ही करते हैं.. पता नहीं क्या है कि आपके ब्लॉग पोस्ट मेरे से लंबा कमेन्ट हो ही जाता है... Yeah! इंटेल्लेक्ट मैटर्ज़ ....वैसे भी मेरी रीडरशिप बहुत ही बहुत लिमिटेड है.. ..... आप भी कहेंगे अजीब आदमी है कहाँ की बात कहाँ लेकर चला जाता है.. :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. महफूज़ भाई , कहीं दूध में भी तो नशा नहीं :)
      बढ़िया है . यूँ ही लिखते रहा करो . अच्छा लगता है .

      Delete
    2. महफूज भाई को अपना ही नशा इतना चढ़ा रहता है कि और किसी नशे की जरूरत ही नहीं ... ;-)

      Delete
    3. शिवम् इस नशे की बात ही अलग है.... कभी कर के देखना.. :)

      Delete
    4. खुदा खैर करें ... यह आपको ही मुबारक ... ;-)

      Delete
  2. पीने वालो को पीने का बहाना चाहिए,,,,,
    बहुत मजेदार पोस्ट पढकर मजा आ गया,,,,,

    MY RECENT POST काव्यान्जलि ...: बहुत बहुत आभार ,,

    ReplyDelete
  3. वैसे आइडिया बुरा नहीं है डाक्टर साहब कि इंजेक्शन के नाम पर सुई लगा के छोड़ दो, शराबी दारू तो क्या सब कुछ छोड़ देगा :)

    चलिए, बेवडों की इस मस्ती में मैं भी कुछ कंट्रीब्यूट कर देता हूँ ;

    १) एक शराबी बहुत देर से गली के नुक्कड़ पर खडा था, जिसे पास ही के एक बूथ से हवालदार साहब बार-बार नोटिस कर रहे थे ! आखिरकार हवालदार साहब उसके पास गए और पूछा कि भाई , बड़ी देर से देख रहा हूँ कि तुम यहीं पर खड़े हो, क्या बात है ?

    शराबी: साब ऐसा है कि मुझे अपने घर जाना है ! पृथ्वी २४ घंटे में एक चक्कार पूरा करती है ! वो देखो सामने मेरे पड़ोसियों के घर दिख रहे है, मेरा घर भी अब आता ही होगा !

    २) एक बंगाली भाई साहब ने नै SUV खरीदी जिस पर साइडो में लिखा था 4X4 . शाम को एक शराबी महोदय उधर गली से गुजर रहे थे , उन्होंने देखा और एक नोकीले पत्थर से खुरचकर 4x4 के आगे लिख दिया = 16 दूसरे दिन सुबह जब उन बंगाली भाई साहब की नजर अपनी नई नवेली गाडी पर गई तो उन्हें यह देखकर बड़ा झटका लगा ! उन्होंने तुरंत गाडी मेनुफेक्चरर के प्लांट में ले जाकर खडी कर दी ! और उससे बोले कि भैया तुम लोग गाडी पर 4x4 लिख के छोड़ देते हो, खुद ही ऐसा क्यों नहीं करते कि 4x4 के आगे =16 में खुद ही लिख दो ताकि कोई बाद में इसतरह पत्थर से खुरचकर न लिखे ! मेंयुफेक्चरर ने ग्राहक की बात रखते हुए पेंट कराकर उसपर =16 लिखवा दिया ! बंगाली भाई साहब ने फिर गाडी लाकर गली में खडी कर दी! अगले दिन वही शराबी महोदय फिर से उधर से गुजरे उन्होंने गाड़े पर लिखा पाया 4x4 =16 , उन्होंने तुरंत एक नोकीला पत्थर उठाया और खुरचकर लिख गए " बिलकुल सही " !

    ReplyDelete
  4. पीने वालों को पीने का बहाना चाहिए

    ReplyDelete
  5. डाक्टर साब , मेरी टिपण्णी किधर गई ? मैंने तो बिलकुल छोड़ रखी है, कल से नहीं पी, फिर टिपण्णी क्यों गायब हो गई ! :)

    ReplyDelete
  6. कुछ माहौल हल्का हो लिया :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. अरविन्द जी , हमारे एक पडोसी हैं . गए रविवार को उनका ८६ वां जन्मदिन था . उनकी मित्र मंडली में उनके हमउम्र १० लोग हैं . हमें भी बुलाया था . बुजुर्गों को कांपते हाथों से पीते देखकर ही हमें तो चढ़ गई . :)
      तभी इस पोस्ट का जन्म हुआ .

      Delete
    2. उनकी उम्र 86 और हमउम्र मित्र मंडली के दस लोग बुलाये गये :)
      मतलब आप भी :)

      Delete
  7. मस्त है जी..... और फिर गोदियाल जी ने भी खूब कही!

    @महफूज़ भाई... आपने भी बिलकुल सही कही,हर एक बात!और वो घिन्न वाली बात.....काम तो घिन्न आने का है ही.... तो घिन्न आ जाये तो कोई नयी बात नहीं!घरवाले बताते है कि दूध के साथ अंडा-मांस नहीं खाना चाहिए!दारू पिने के बाद भी दूध नहीं पीना चाहिए!

    कुँवर जी,

    ReplyDelete
    Replies
    1. दूध में कच्चा अंडा घोलकर तो बहुत लोग पीते हैं . हालाँकि हम स्वयं शाकाहारी हैं , लेकिन इतना ख़राब भी नहीं लगता .बेशक हाई प्रोटीन डाईट के रूप में मसल्स बनाने के लिए बहुत उपयुक्त है .

      Delete
    2. डॉक्टर साहब! यह तो कुछ भी नहीं है .. सर्दियों में मैं तो चौबीस चौबीस अंडे खा जाता हूँ.. और एक बौडी बिल्डर के लिए हाई प्रोटीन बहुत ही ज़रूरी है.. और अंडा वेज में ही आता है.. अभी बीच में मेरा प्रोटीन लेवल बहुत हाई हो गया था.. मेरे इंस्ट्रक्टर डर गए.. और डॉक्टर तो घबरा ही गया. बाद में इंजेक्शन लेने पड़े थे.. इसीलिए अब तो सिर्फ पांच छ अंडे ही खा पाता हूँ रोज़... नहीं तो पिछले छ महीने से चौबीस अण्डों पर ही गुज़ारा होता था अपना..

      Delete
    3. मेरा यह मानना है कि जैसे हम अपने घर में सामानों की देखभाल करते हैं.. वैस ही यह शरीर भी है हमारा.. नशा कर के क्यूँ इसे बर्बाद करना.. ऊपर वाले ने दिया है तो इसे निखारना ही चाहिए.. और बेढंगे इन्सान को तो वैसे भी कोई नहीं पसंद करता....

      Delete
    4. महफूज़ भाई, बहुत दिनों बाद आज आपका इस तरह दिल फेंक बतियाना अच्छा लगा !

      Delete
  8. ha ha .. peene waale ko peene ka bahaana chaahiye ...
    halka fulka peg bhi pasand aaya sir ....

    ReplyDelete
  9. JCJune 28, 2012 5:56 PM
    एक चूहे ने अपने बिल से कमरे के कोने पर एक बड़ा ड्रम देखा जिससे शराब थोड़ी थोड़ी रिस के फर्श पर आ पड़ी थी...
    वो तेजी से गया और एक चुस्की ले कर आ गया...
    मजा आया तो फिर एक चुस्की और ले आया...
    फिर कुछ चुस्कियों के बाद, मूछों पर ताव दे, ड्रम के पास ही खडा हो गरजा, "कहाँ है बिल्ली??? उसे लाओ मेरे सामने!!!"...

    ReplyDelete
    Replies
    1. सही कहा . दो चार पैग मारने के बाद चूहे भी शेर बन जाते हैं . :)

      Delete
  10. @ गोदियाल जी ने भी क्या खूब कहा है

    ReplyDelete
  11. वाह आपने तो कमाल की कहानी लिख दी है। हँसते-हँसते बुरा हाल हो गया है सबका। :)

    ReplyDelete
  12. क्या बात है...यह भी खूब रही...

    ReplyDelete
  13. आपने खुश करने के लिए लिखा लेकिन इसे पढ़कर कितनों के पेट में दर्द शुरू हो गया।:) उसका क्या?

    ReplyDelete
    Replies
    1. एक ही दिन में विदड्रौल सिम्पटम आने लगे तो भाई , ऊपर वाला ही रखवाला है . :)

      Delete
  14. मस्त पोस्ट है डाक्टर साहब ... हम तो इस पोस्ट के नशे मे ही टल्ली हो गए ... ;-)

    ReplyDelete
  15. दारू के मारों का दुनिया भर में यही हाल है,फिर भी लोग पीकर सभ्य हैं !

    ReplyDelete
  16. हा हा हा, हमने 80 बरस के मौसा जी को परसों ही दो पैग अपने हाथ से बना कर पिलाए, बहुत आशीर्वाद दिया उन्होने। कहने लगे तुम्हारे जैसे काबिल लड़के इस जमाने में कहाँ मिलेगें, जो बुजुर्गों की सेवा करते हों। :)))

    ReplyDelete
    Replies
    1. ललित जी , मेरे एक ससुर जी हैं जो अक्सर यही आशीर्वाद ....... के बाद देते है ! :) लोगो से मेरे बारे में कहते है , yah तो मेरा राम है , aur मैं सोचता रह जाता हूँ की अगर राम जी ऐसे ठरकी थे तो बाकी के तीन भाई कैसे रहे होंगे / :)

      Delete
  17. :))
    आज यह पोस्ट कहाँ बैठकर लिखी थी ??

    ReplyDelete
    Replies
    1. ज़ाहिर है , अस्पताल में तो नहीं :)

      Delete
    2. तुरत फुरत तुकबंदी तारीफ़ के लिए :)


      मस्ती के मूड में, यारों को बुलाया होता!
      ऐसी खुशियों में हमें भी तो बुलाया होता!
      बात तारीफ़ की होती, अगर गिरते गिरते
      हाथ यारों का मुसीबत, में ना छोड़ा होता !

      Delete
  18. वाह क्या बात है .राग रंग दराल साहब के संग .तो ये है आपका सेहते राज .

    ReplyDelete
  19. बताइये -बताइये सतीश सक्सेना जी की बात का जवाब दीजिये :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी ज़वाब तो दे देंगे . लेकिन विश्वास न आपको होगा , न सतीश जी को . :)

      Delete
  20. हम तो साल में दो ही दिन पीते हैं। जिस दिन बारिश हो और जिस दिन न हो:)

    I like Scotch, neat because Ice is for injuries only :)

    ReplyDelete
  21. JCJune 29, 2012 5:56 AM
    डॉक्टर साहिब, वैसे प्राचीन भारत में मानव जीवन की गहराई में गए सिद्धों अदि द्वारा कहा गया था कि शराब देवताओं के लिए है, राक्षसों के लिए नहीं! जहां देवता से आशय आपके समान परोपकारी व्यक्ति से था, और राक्षस मायने स्वार्थी (राक्षसराज रावण समान!)...
    बचपन में रामलीला में भी हम देखते थे रावण के दरबार में राक्षस शराब पी कर खूब ऊंचा ऊंचा हँसते दिखाए जाते थे.... और, शायद आदि काल से, भारत में धारणा बन गयी कि जो शराब पीता है वो खराब है!!! और, व्यक्ति के मन के रुझान पर ध्यान देना छूट गया... जिस कारण आम आदमी के मन में यह धारणा पत्थर की लकीर समान घर कर गयी, और यदि सामाजिक प्राणी होने के नाते कभी कोई पीने बैठता है तो आम आदमी चोर समान महसूस करता है!!!...
    समय के ऊपर कोई कोई बिरला/ योगी-सिद्ध ही उठ पाता है...
    वर्तमान, कलियुग होने के कारण, जनसंख्या में से तीन-चौथाई, और घोर-कलियुग में और भी अधिक का, प्राचीन हिन्दुओं के दृष्टिकोण से (जिसमें शीर्ष पर वास्तविक जज अनादिकाल से अमृत शिव ही माने गए हैं) राक्षस पाए जाना प्राकृतिक कहा जा सकता है!!!... आदि, आदि...
    इंजेक्शन लगाने से पहले आप स्पिरिट/ शराब से उस स्थान को साफ़ करते हो - जो शायद संकेत हो कि शराब का प्रभाव भी मानव मन में स्पिरिट समान ही होता होगा! अर्थात उस व्यक्ति की सही प्रकृति सामने आ जाती हो...:)

    ReplyDelete
    Replies
    1. जे सी जी , सही कहा . हमारे यहाँ अभी भी शराब का सेवन ख़राब माना जाता है . जबकि धूम्रपान सामाजिक तौर पर स्वीकार्य है .
      हकीकत तो यह है -- धूम्रपान शराब से ज्यादा खतनाक है . शराब तो टॉनिक का काम भी कर सकती है , यदि सही से पी जाए .

      Delete
    2. भोजन हो या पीना, प्रश्न उठता है, हाउ मच इस टू मच??? का...
      "अतिथि देवो भव" की मान्यता के कारण भले ही अतिथि उलटी करने की स्तिथि में होता है, उस की थाली में, मना करने पर भी, एक और एक और कह पूरी डाल दी जाती है!!!
      और किसी समय हुक्का पीना भी स्टेटस सिम्बल बन गया था, और गरीब के लिए बीडी... जो अंग्रेजों के आने से सिगरेट का रूप ले ली... कहीं पडा था कि सिगरेट में नुक्सान कागज़ के उपयोग के कारण अधिक होता है...

      Delete
  22. पर आपने तो बताया ही नहीं कि जब वह पानी पीता ही नहीं तो उसके पेट में पानी आया कहाँ से ...
    एकदम मस्त

    ReplyDelete
    Replies
    1. वर्मा जी , कैसे बताते -- वो डॉक्टर हम जो नही थे . :)

      Delete
  23. थोड़ी सी जो पीली है.....
    चोरी तो नहीं की है.....

    लायटर मोमेंट्स आर द हैप्पिएस्ट मोमेंट्स.

    ReplyDelete
  24. BEAUTIFUL POST WITH TOUCHING MULTI DIAMENTION OF LIFE .
    SO NICE .

    ReplyDelete
  25. वो डॉक्‍टर भी उस जैसा ही था क्‍या?

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी , शराबी का इलाज करते करते बेचारा खुद ही पीने लगा ! :)

      Delete
  26. ""...बस ये पूछने आया था --कल जो आपने सूई लगाई थी , उसे कब निकालेंगे ?...""

    हा हा .... मस्त कर देने वाला लगा ... आभार

    ReplyDelete
  27. वाकई में मजेदार......

    ReplyDelete
  28. वाकई में मजेदार...

    ReplyDelete
  29. :):) राम मिलाई जोड़ी थी मरीज और डॉक्टर की

    ReplyDelete
    Replies
    1. शराब मिलाई जोड़ी ! :)

      Delete
  30. अरे डागदर साब, ई त डबल नशा चढ गवा हमका तो।

    चच्चा की सब बच्चा लोगन को टिप तिप।

    ReplyDelete
  31. बाप रे बाप
    राम मिलाई जोड़ी
    डॉ पियक्कड़,पियक्कड़ रोगी.
    पीते तो कभी नही,हाँ नशा जरूर हो जाता है.

    समय मिलने पर मेरे ब्लॉग पर भी आ जाईयेगा.
    आपके सुवचन पीने से भी ज्यादा का नशा कर देते हैं.

    ReplyDelete
  32. कैसे कैसे शराबी ...क्या गलत पूछा बेचारे ने , पी तो शराब थी , पानी कैसे आया !

    ReplyDelete