Wednesday, June 13, 2012

हाईवे हो या हिल्स , लेन ड्राईविंग इज सेन ड्राईविंग -- लेकिन सुनता कौन है !

एक समय था जब दिल्ली जैसे बड़े शहर में सड़क पर वाहनों के लिए कोई गति सीमा नहीं थी । नियम अनुसार सबसे तेज वाहन दायीं लेन में चलते थे , मध्यम गति वाले वाहन बीच की लेन में और सबसे धीमे वाहन बायीं लेन में । लेकिन हकीकत में होता उल्टा था । यानि धीमे चलने वाले दायीं लेन में चलते थे । यदि किसी को ओवरटेक करना होता था तो वो या तो हॉर्न बजाकर साईड मांगता था या बायीं ओर से रोंग साईड से निकल जाता था ।

फिर शहर में गति सीमा निर्धारित कर दी गई । अब लेन ड्राईविंग को अपनाने पर जोर दिया जाने लगा । लेकिन लेन ड्राइविंग का अर्थ क्या होता है , यह कभी नहीं बताया गया । इसलिए अभी भी अधिकांश ड्राइवर्स को शायद यह नहीं पता कि लेन ड्राईविंग क्या होती है ।
हालाँकि शहर हो या हाईवे , अब सब जगह सडकों पर इस तरह की लाईनें देखने को मिलेंगी :


आइये देखते हैं , इन लाइनों का क्या मतलब होता है ।
साईड की लाइन -- यह लेन की बाहरी सीमा रेखा है । इससे बाहर नहीं जा सकते ।
बीच की लाइन --- अक्सर यह लाइन या तो सीधी होती है या टूटी होती है ( ब्रोकन लाइन ) । सीधी लाइन का मतलब है कि आप इसे क्रॉस नहीं कर सकते यानि दूसरी ओर नहीं जा सकते । ब्रोकन लाइन का अर्थ है कि आप चाहें तो लेन बदल सकते हैं । लेन बदलने के लिए पहले देखिये कि रास्ता साफ है या नहीं । फिर इंडिकेटर देते हुए लेन बदल लीजिये लेकिन ध्यान रखिये कि कोई गाड़ी उस लेन में तेजी से तो नहीं आ रही ।

ऊपर दिखाए गए फोटो में बीच में दो लाईनें हैं -- एक सीधी और दूसरी ब्रोकन । दायीं तरफ सीधी लाइन का अर्थ है कि आप दायीं से लेन बदल कर बायीं लेन में नहीं जा सकते । लेकिन सामने से आता हुआ ट्रैफिक लाइन बदल कर अपने बायीं वाली लेन में जा सकता है । यदि यह एक तरफ़ा सड़क होती तो बायीं लेन से दायीं लेन में आया जा सकता है लेकिन दायीं से बायीं लेन में नहीं ।
हालाँकि यह सड़क विदेश की है लेकिन लेन सिस्टम में लाइन का अर्थ सब जगह एक ही होता है ।
लेकिन अक्सर यह देखा जाता है कि हमारे प्यारे देशवासी लेन ड्राईविंग में विश्वास नहीं रखते । या फिर उन्हें इसका मतलब ही नहीं पता होता । इसीलिए यहाँ दुर्घटना होने की सम्भावना ज्यादा रहती है । लेकिन यदि लेन ड्राइविंग की जाए तो न तो साईड मांगने की ज़रुरत पड़ेगी , न हॉर्न बजाने की ।

हाईवे ड्राईविंग :

कुछ वर्ष पहले तक जब हाईवे पर लेन सिस्टम नहीं बना था तब ओवरटेक करने के लिए या तो हॉर्न बजाते थे या फिर डिपर का इस्तेमाल कर साईड मांगी जाती थी । इससे धीमे चलने वाले वाहनों को बड़ी दिक्कत होती थी । उन्हें बार बार साईड देनी पड़ती थी । लेकिन अब लेन बनने से यह परेशानी ख़त्म हो गई है । अब न साईड मांगने की ज़रुरत है , न ही हॉर्न देने की ।

हिल ड्राईविंग :

पहाड़ों में ड्राईव करने के लिए कुछ बातों का विशेष ध्यान रखना ज़रूरी होता है । यहाँ भी अब लेन सिस्टम बना है । अपनी लेन में ही चलना चाहिए । लेकिन यहाँ एक सबसे बड़ी दिक्कत होती है सड़क का सीधा न होना । अक्सर पहाड़ों में हर ५०-६० मीटर पर एक मोड़ आ जाता है । इसलिए ओवरटेक करना बड़ा रिस्की रहता है । मोड़ पर हॉर्न बजाना ज़रूरी है ताकि सामने से आने वाले को आपकी मोजूदगी का अहसास हो जाए । मोड़ पर कभी ओवरटेक नहीं करना चाहिए। अपहिल ड्राईविंग धीमी रहती है लेकिन कंट्रोल बेहतर रहता है । ढलान पर उतरने में गाड़ी अपने आप दौड़ती है इसलिए स्पीड कंट्रोल बहुत ज़रूरी है ।

लेकिन हाईवे हो या पहाड़ , सड़क पर आधे से ज्यादा गाड़ियाँ कमर्शियल होती हैं इनके ड्राईवर अक्सर बहुत तेज ड्राईव करते हैं और नियमों का पालन नहीं करते । इसलिए दूसरों से भी बचकर चलना पड़ता है ।
अक्सर हम हिन्दुस्तानियों की आदत होती है कि ज़रा सी रुकावट आते ही हम अपनी लेन छोड़कर जहाँ जगह मिली वहीँ घुस जाते हैं । इसीलिए अक्सर पलक झपकते ही ट्रैफिक जाम हो जाते हैं । इस मामले में स्वयं ड्राईव करने वाले पढ़े लिखे लोग भी पीछे नहीं हैं ।

दिल्ली में इस समय भीषण गर्मी का प्रकोप चल रहा है ऐसे में हम हर वर्ष पहाड़ों की ओर रुख कर लेते हैं । ५-७ दिन के लिए ही सही , न सिर्फ गर्मी से निजात पा जाते हैं बल्कि पहाड़ों की शुद्ध हवा में पैदल सैर कर स्वास्थ्य लाभ भी प्राप्त होता है । घर से बाहर निकलने के लिए तीन चीज़ों की ज़रुरत होती है । साधन , समय और शौक । बहुत से लोगों के पास पैसा तो होता है लेकिन समय नहीं । या फिर समय और साधन तो होते हैं लेकिन शौक नहीं ।
हमारे पास कम से कम शौक की तो कोई कमी नहीं । इसलिए सीमित साधन होते हुए भी ऐसा कोई अवसर नहीं छोड़ते ।

इस बार पहली बार ऐसा हुआ कि गर्मियों में दोनों बच्चे घर से बाहर थे । इसलिए इस बार हम पति पत्नी ही चल पड़े मसूरी की ओर । पिछले बीस सालों में अक्सर पहाड़ों में अपनी गाड़ी से ही जाना हुआ है । मसूरी , शिमला , नैनीताल, चंबा और मनाली तक स्वयं ड्राईव किया है । सबसे लम्बा सफ़र तो मनाली तक का ही रहा -- १५ घंटे और ६६० किलोमीटर । रोहतांग पास तक १४००० हज़ार मीटर की ऊँचाई तक ड्राईव करना अपने आप में एक अत्यंत रोमांचक अनुभव था ।

लेकिन इन सब ट्रिप्स में एक बात कॉमन थी -- ये सब हिल स्टेशन किसी न किसी राष्ट्रीय राजमार्ग पर पड़ते हैं । इसलिए अक्सर सड़कें बहुत बढ़िया होती हैं । इसलिए ड्राईविंग भी बड़ी आनंद दायक रहती है । इस बार भी मेरठ बाईपास से लेकर मुजफ्फर नगर बाईपास का करीब ७०-८० किलोमीटर का रास्ता बहुत सुन्दर था । रूडकी से देहरादून भी सही है । लेकिन देहरादून के पहाड़ शुरू होते ही चढ़ाई पर देखा कि सड़क हर मोड़ पर बुरी तरह से टूटी थी । अंत में करीब ५-६ किलोमीटर की चढ़ाई के बाद जब ढलान आई तो पता चला कि यह चढ़ाई वाला क्षेत्र यू पी के सहारनपुर जिले में आता है । जबकि ढलान शुरू होते ही उत्तराखंड शुरू हो जाता है । और उत्तराखंड शुरू होते ही सड़क मक्खन मलाई जैसी नज़र आई ।

क्या इसमें भी कोई राजनीति है ?

नोट : अगली पोस्ट में मसूरी के कुछ दिलचस्प संस्मरण तस्वीरों के साथ

59 comments:

  1. बढ़िया जानकारी अनाड़ियों के लिए ...
    शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  2. बहुत ही इन्फौर्मेटिव पोस्ट...दरअसल हमारे यहाँ ट्रैफिक रूल्ज़ की कोई स्कूलिंग नहीं हैं... इसीलिए लोगों को लेन सिस्टम मालूम नहीं है.. और ट्रैफिक हमारे स्कूल्ज़ में ऐज़ अ सब्जेक्ट पढाया भी नहीं जाता है.. अगर ट्रैफिक सिस्टम सुधारना है तो सबसे पहले स्कूलिंग सिस्टम को सही करना होगा..

    ReplyDelete
    Replies
    1. महफूज़ भाई , यदि लाइसेंस सही तरीके से दिया जाए तो रूल्स सीखने ही पड़ेंगे . लेकिन अफ़सोस , यहाँ सब बिकता है .

      Delete
  3. आपके अगली पोस्ट मसूरी के कुछ दिलचस्प संस्मरण तस्वीरों के इन्तजार में,,,,

    MY RECENT POST,,,,,काव्यान्जलि ...: विचार,,,,

    ReplyDelete
    Replies
    1. धीरेन्द्र जी , अगली के चक्कर में पिछली को अनदेखा कर जाते हैं :)

      Delete
  4. सबसे मज़े की बात तो ये है कि‍ ट्रैफ़ि‍क पुलि‍स वि‍भाग को लगता ही नहीं कि‍ लोगों को लाइन ड्राइविंग के बारे में बताने की ज़रूरत है. मैंने उनके जो भी वि‍ज्ञापन देखे वो केवल धमकि‍यों भरे ही होते हैं कि‍ ये-ये कि‍या तो चालान काट दूंगा. वे मान कर चलते हैं कि‍ जि‍स कि‍सी को भी ड़ाइविंग लाइसेंस दे दि‍या उसे तो सब आ ही गया. उन्‍हें इस बात से कोई सरोकार नहीं कि‍ सड़कों पर कई ऐसे लोग भी नि‍कलते हैं जि‍न्हें सड़क पर आने के लि‍ए लाइसेंस की ज़रूरत नहीं होती मसलन पैदल, टांगे, बुग्‍घी, ट्रैक्‍टर, रेहड़े-रेहड़ि‍यां और साइकि‍ल वाले, दि‍ल्‍ली में तो साइकि‍ल वाले धुर दाएं चलते मि‍लते हैं, तेज़ ट्रैफ़ि‍क के बीच...

    ट्रैफ़ि‍क पुलि‍स वि‍भाग की ज़ि‍म्‍मेदारी है कि‍ उन्‍हें भी समय-समय पर टी.वी./अख़बारों/सि‍नेमा आदि‍ माध्‍यमों से ट्रैफ़ि‍क-नि‍यमों की समुचि‍त जानकारी दें.

    ReplyDelete
    Replies
    1. काजल कुमार जी , लाइसेंस भी कैसे बनते हैं , यह किसी से नहीं छुपा . फिर नियमों का पता कैसे चलेगा . हमने आज तक किसी को ड्राइविंग टेस्ट देते नहीं देखा . ऑथोरिटी के बाहर बैठे दलाल सब काम अपने आप करा देते हैं .
      यहाँ तक की मेडिकल भी . विदेशों में टेस्ट पास करना बड़ा मुश्किल होता है . तभी परफेक्ट ड्राईवर बनते हैं . लेकिन लेन ड्राइविंग बहुत फायदेमंद है.

      Delete
  5. हाँ ड्राइविंग के बारे में हम अनाड़ी ही हैं.

    सूचनापरक पोस्ट के लिए साधुवाद

    ReplyDelete
  6. वाह...
    बहुत खूब!
    अच्छी जानकारी दी है आपने।

    ReplyDelete
  7. "मेरा भारत महान"! वैदिक काल में सिद्ध एक जगह से गायब हो, चुटकी बजाते ही, जहां कहीं भी जाना होता था पहुंच जाते थे! और आम आदमी बैलगाड़ी/ तांगा आदि में चलता था... मोटर तो अंग्रेजों के जमाने से ही यहाँ आई हैं, और आम आदमी तब भी यदि स्वयं चलाये तो साईकिल ही चलाता था....:)

    ReplyDelete
    Replies
    1. जे सी जी , यही तो प्रोब्लम है ,अब आम आदमी भी मोटर गाड़ी चलाता है, भले ही चलाना न जानता हो . :)

      Delete
    2. JCJune 13, 2012 10:22 PM
      आम आदमी साईकिल से प्रमोट हो स्कूटर पर आया... एक समय था कि दिल्ली में स्कूटर की संख्या कुछ दशक तक बढ़ती चली गयी... उसका लाभ यह था कि न अधिक पार्किंग की समस्या - घर के भीतर ही एक कमरे या आँगन में खड़े करदो... यह तो हाल ही में दिखने लगा कि पुराने स्कूटर चलाने वाले अब कार चला रहे हैं, जो पहले छोटी गाडी से आरम्भ किये... और आज यह हालात हैं कि सभी को बड़ी बड़ी गाड़ियां ही चाहिए.... पार्किंग का संकट चारों ओर बढ़ गया है - कोलनी में, बाज़ारों में, कार्यालयों में, आदि आदि .. सड़कें युद्ध के मैदान जैसे लगने लगी हैं, पूरी भरी हुईं... कुछ कहने पर भले ही व्यक्ति गलत ही क्यूँ न हो, गोलियां तक दाग दी जाती हैं....!!!... यह सब देख कार हमने तो गाडी ही चलानी बंद कार दी है कुछ सालों से... फिर भी आये दिन घंटी बजा कुछेक पूछते हैं कि फलां फलां गाडी आपकी तो नहीं है? क्यूंकि उस के कारण हमार रास्ता रुका पडा है!!! और हम चैन की सांस ले कह सकते हैं, नहीं!!!... . ...

      Delete
    3. जी , एक एक के पास तीन तीन गाड़ियाँ -- बस खड़ी रहती हैं . इस चक्कर में पार्किंग फीस हमें देनी पड़ती है .

      Delete
  8. बहुत बढ़िया जानकारी पूर्ण आलेख....

    ReplyDelete
  9. राईट साइड में रोड पर पार्क की हुई एक वेन को फुल स्पीड से टक्कर मार दी थी........बोनट खुल गया था....
    तब से जाना कोई लेन वेन नहीं होती हिन्दुस्तान में
    :-)
    (बाकयेदा लाइसेंस है हमारे पास जब १६ के थे तब से बना है :-))

    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. हा हा हा ! सही नमूना दिया है .

      Delete
  10. बढ़िया जानकारी दी आपने ... आभार !

    ReplyDelete
  11. मसूरी मजा का इंतज़ार है

    ReplyDelete
  12. बढ़िया जानकारी परक पोस्ट, खासकर भारतवासियों के लिए. क्योंकि वहाँ लाइसेंस लेने के लिए किसी तरह की लिखित और प्रेक्टिकल परीक्षा नहीं होती तो रूल्स पता कैसे होंगे. यहाँ तो ये परीक्षाएं पास करते करते कई बार लोगों की जिंदगी निकल जाती है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. शिखा जी, सही कहा . यहाँ टेस्ट होता भी है तो बन नाममात्र के लिए . सब कुछ फिक्स्ड होता है .

      Delete
    2. परीक्षाएं पास करना तो बाएं हाथ का खेल है भारतीयों के लि‍ए ☺

      Delete
  13. मजे के साथ काम की बात.

    ReplyDelete
  14. बढिया जानकारी

    ReplyDelete
  15. चलिए आपके साथ मसूरी हो आए ..इतना प्रसिध्य होने के बावजूद मैं आज तक नहीं गई ..

    ReplyDelete
    Replies
    1. दर्शन जी , अभी तो मसूरी पहुंचे भी नहीं . मसूरी को सही में पर्वतों की रानी कहा जाता है .

      Delete
  16. आपकी पोस्ट कल 14/6/2012 के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    चर्चा - 902 :चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    ReplyDelete
  17. ट्रैफ़ि‍क से सम्बंधित नियमों के बारे में जागरूकता अत्यंत आवश्यक है. आपने उनका सहयोग कर उम्दा जानकारी दी. वैसे समय समय पर इसके लिये अभियान चलाने की जरूरत अत्यंत महत्वपूर्ण है. अगर सिर्फ पैसे कमाना ही उद्देश्य है तो दुर्घटनायों में तो कमी आने से रही. वैसे इधर घुम्मकड़ी ज्यादा हो रही है? यात्रा संस्मरण पढ़ने में मज़ा आएगा. देखते हैं क्या नयी बात ढूंढ कर लायेंगे आप मसूरी के बारे में.

    शुभयात्रा.

    ReplyDelete
    Replies
    1. रचना जी , बच्चों की तरफ से लगभग फ्री हो चुके हैं . फिर गौर फरमाइए , घुमक्कड़ी का शौक तो है ही . :)

      Delete
  18. लेन ड्राईविंग के बारे में बढिया जानकारी .....
    उम्मीद करता हूँ ..सफ़र सुहाना रहा होगा !
    समय, साधन ,शौक और किसी अपने का साथ .????
    शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  19. बहुत बढ़िया सन्देश सर जी . मसूरी की तस्वीरो का इन्तेजार है

    ReplyDelete
  20. एशियन गेम्स में लोग यहाँ भी लेन में चलने लगे थे जुर्माने के डर से .यहाँ जितना मर्जी जुर्माना बढा दो क़ानून को लागू करने वाले ही चोर निकलतें हैं .सरकार भी ऐसे ही चल रही है .स्विस बेन्किये प्रधान मंत्री को हीओ रोबोट बनाए हुएँ हैं शेष सब तो मंद बुद्ध बालक के भी चमचें हैं जैसे विजय दिग्गी राजा जी उर्फ़ कोंग्रेसी चाणक्य .

    ReplyDelete
  21. हमें तो सड़कें बढ़िया लगती हैं पर ड्राइविंग से अपना दूर-दूर का रिश्ता नहीं है.किसी के साथ बैठते हैं सो डरते अलग हैं !

    ReplyDelete
  22. भारत में बहुधा लोंग ट्रैफिक नियमों को जानते नहीं हैं या फिर उसका पालन करने में रूचि नहीं रखते !
    हमें भी इन लाईन्स का अर्थ पता नहीं था .
    पडोसी राज्यों में सड़कों की चाल ढाल का अंतर हमें भी महसूस होता है जब भी मथुरा वृन्दावन जाना होता है .

    ReplyDelete
  23. अगली पोस्ट का इंतज़ार ज़रूर है पर उसके चक्कर में पिछली पोस्ट को अनदेखा कैसे कर दें :)

    डाक्टर साहब लाइसेंस बाटने का गोरखधंधा तो खैर है ही ! यहां तो अक्सर सड़कों पर लेन ही नहीं छापते हैं , इस हिसाब से आपके यहां के सड़क मोहकमे वाले ठीक ठाक लगते हैं , जिन्होंने आपको पोस्ट लिखने लायक सड़के बना कर दे दीं हैं , यानि कि लेन की छपाई समेत :)

    बढ़िया पोस्ट ! सार्थक पोस्ट !

    ReplyDelete
    Replies
    1. अली सा , यह कमाल NHAI का है . लेकिन ऐसी सुन्दर सड़कें हाइवे पर ही मिलती हैं . गाँव और कस्बों की सड़कों की हालत तो यहाँ भी वैसी ही है .
      लेकिन हाइवे पर इसकी कीमत भी चुकानी पड़ती है --एक तरफ के ६५ रूपये देने पड़े थे . :)

      Delete
  24. डाक्टर साहब चेक कर लेंगे हमारा कमेन्ट स्पैम में गया याकि कहीं और उड गया :)

    ReplyDelete
  25. बढिया जानकारी, हम तो कभी कभी लैन में चल ही लेते हैं। :)

    ReplyDelete
  26. ये तो पूरा ड्राइविंग लेसन हो गया...
    काश इसे सब याद रखें और अमल करें...

    ReplyDelete
  27. "अक्सर हम हिन्दुस्तानियों की आदत होती है कि ज़रा सी रुकावट आते ही हम अपनी लेन छोड़कर जहाँ जगह मिली वहीँ घुस जाते हैं । इसीलिए अक्सर पलक झपकते ही ट्रैफिक जाम हो जाते हैं ।"

    लोकतंत्र है , अपने नेतावों से सीखे है !:)

    ReplyDelete
  28. "अक्सर हम हिन्दुस्तानियों की आदत होती है कि ज़रा सी रुकावट आते ही हम अपनी लेन छोड़कर जहाँ जगह मिली वहीँ घुस जाते हैं । इसीलिए अक्सर पलक झपकते ही ट्रैफिक जाम हो जाते हैं ।"

    लोकतंत्र है , अपने नेतावों से सीखे है !:)

    ReplyDelete
  29. ध्यान होगा,आईटीओ पर पहले एक इलेक्ट्रॉनिक बोर्ड हुआ करता थाः
    People died in road accident
    Last month:
    Since January:
    सड़क दुर्घटना के अधिकतर शिकार दु(उ)चक्के ही होते हैं। मगर आज भी,कई मोटरसाइकिल सवार भीड़ भरी सड़क पर सर्पीली चाल का मज़ा लेते देखे जाते हैं। इस लिहाज से,चार चक्के की अपनी लिमिटेशन है। मगर यही सीमा हाईवे पर और ख़ासकर पहाड़ी इलाकों में,जगह-जगह लगी उस बोर्ड की मर्यादा कायम रखती है जिसमें आग्रह होता है कि अपनी लेन में रहें और धीमे चलें,घर पर कोई आपका इन्तज़ार कर रहा है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी अभी भी है लेकिन शायद काम नहीं कर रहा है . युवाओं और कमर्शियल ड्राइवर्स को कंट्रोल करने की बहुत ज़रुरत है .

      Delete
  30. राह पकड़ ले एक चलाचल, पा जायेगा...

    ReplyDelete
  31. आप इतनी खुबसूरत न मिलाने वाली जानकारी देते हैं बस ध्यान पूर्वक पड़ना जरुरी होता है . अन्यथा लिखा जा सकता है खुबसूरत अभिव्यक्ति ....
    लेकिन नहीं .......आप लिखते रहिये हम उम्र भर आपको पढ़ने आतुर मिलेंगे .

    ReplyDelete
  32. जहां सरकार और उसके सहयोगी दल ही लगातार लेन बदल रहें हों वहां लें में कौन चले ,kyon चले .

    ReplyDelete
  33. JCJune 15, 2012 6:45 AM
    भारतीय मानसिकता का आपके बताये, "... इंडिकेटर देते हुए लेन बदल लीजिये लेकिन ध्यान रखिये कि कोई गाड़ी उस लेन में तेजी से तो नहीं आ रही ।" के सन्दर्भ में याद आया एक मित्र ने बताया था कि कैसे एक भारतीय सज्जन, जर्मनी में कहीं, धीरे धीरे गाडी चला रहे थे तो उस लेन में उन से आगे उनसे और भी धीमी गति से एक गाडी जा रही थी... उन्होंने सोचा कि वो जल्दी से लेन बदल उस से आगे निकल फिर वापिस उसी लेन में आजायेंगे... उन्होंने पीछे मुड के देखा तो उन्हें उस दूसरी लेन में गाड़ी अभी काफी दूर लगी... किन्तु उन्होंने उस की तेज गति की संभावना पर ध्यान नहीं दिया... और नतीजा यह हुवा कि उस गाडी ने उन की गाडी को पीछे से टक्कर ही नहीं मारी, उस दुर्घटना में कुल १२ गाडी एक के बाद एक टकराती चली गयीं... और तब जाकर उस लेन की अन्य गाड़ियां ब्रेक लगा रुक पायीं.

    ReplyDelete
    Replies
    1. जे सी जी , लेंन ड्राइविंग में भी विशेषकर हाइवे पर बहुत ध्यान रखना पड़ता है. विदेशों में अधिकतम गति सीमा के साथ न्यूनतम सीमा भी होती है वर्ना चालान कट सकता है. इसीलिए वहां ड्राइविंग टेस्ट पास करने के मान्प्दंड बहुच ऊंचे हैं . लेकिन एक लाइन में तेज चलने पर गलती बहुत भारी पडती है.

      Delete
    2. JCJune 15, 2012 7:28 AM
      भारत में राईट हैण्ड ड्राइविंग और अमेरिका में लैफ्ट हैण्ड... और इस का असर अपने दामाद के माध्यम से देखने का मौक़ा मिला, जो दिल्ली में '९७ से पहले कुछ वर्ष गाडी चलाने का अनुभव भी प्राप्त कर चुका था... जब एक बार वो अकेला अमेरिका से २००६-७ में आया हवा था और हम दोनों को एक रात दिल्ली में ही, १६-१७ किलोमीटर दूर, बेटी के घर खाने पर जाना था और जाते समय ट्रैफिक काफी था... वहाँ के कानून दिल्ली में लगा जब वो अगली गाडी के उतनी पीछे रखता था कि उसके पहिये साफ़ दिखें तो कोई न कोई दुपहिय्या हमारे बीच आ जाता था! मैं उसको याद दिलाता था दिल्ली कि बम्पर-टू-बम्पर ड्राविंग का... किन्तु उसके मस्तिष्क में वो अब आना असंभव था और सारे रास्ते वो गाली देते हुवे चलता गया!

      Delete
    3. सही कहा जे सी जी . बाहर वालों को यहाँ ड्राईव करने में बड़ी दिक्कत आएगी . यहाँ सही के साथ गलत ड्राईविंग आना भी ज़रूरी है . :)

      Delete
    4. JCJune 15, 2012 6:30 PM
      विदेशियों की कुछेक टिप्पणियाँ इंटरनेट पर ही देखने को मिलीं थीं... उन्होनें आम तौर पर यह पाया कि हाइवे पर यहाँ सभी गाड़ियां सड़क के बीच में चलते हैं... और जब दोनों तरफ से आमने सामने निकट आ जाते हैं, दोनों गाडी को बांयें ओर कर, पास कर, फिर से बीच में आ जाते हैं!!!
      १९७० के दशक में कोलकाता में काम से जा मैंने दक्षिण कोलकाता में एक स्थान पर एक लडके को सड़क के किनारे तौलिया बिछाए देखा जिसमें १० पैसे के कई सिक्के दिखाई दिए... और आश्चर्य हुवा जब कुछेक ट्रक चालकों को चलते चलते सिक्का उस तौलिये पर फैंकते देखा!!! क्यूंकि तब मेरा छोटा भाई भी कोलकाता में ही कार्यरत था, सो उस से शाम को पोछने पर पता चला कि सारे ट्रक अनुमोदित भार से अधिक माल ले जा रहे होते हैं, इस कारण वो तौलिये पर सिक्का डालते हैं जिससे उनकी चैकिंग न हो... और लडके को देखने वाले को लगता है कि वो भिखारी है!!! ....

      Delete
    5. आजकल ज्यादातर हाइवेज डबल रोड वाले हैं . इसलिए इस तरह की समस्या तो नहीं है . लेकिन ड्राइविंग सेन्स की कमी तो रहती है . वज़ह है अनट्रेंड ड्राइवर्स . और अमीरों का अग्रेसिव बिहेवियर .

      Delete
  34. बनारस की सड़कों पर गाड़ी चलाइये मजा आ जायेगा।:)
    कुल्लू और मनाली के बीच बहती पहाड़ी नदी में रुक कर, पैर पानी में डूबो कर, कुछ पल ठहरे कि नहीं?
    रोहतांग पास की बर्फिली वादियों में बहुत भीड़ है। रास्ते में बर्फिली दीवारें कारों के धुएँ से काली पड़ती दिखलाई देती हैं। मुझे वहाँ जाकर लगा था कि ये वादियाँ हमसे बहुत नाराज हो रही होंगी। कहां से आ गये ये कार वाले!!:)

    ReplyDelete
    Replies
    1. मनाली पिछली बार २००६ में गए थे . तब रोहतांग पास पर बर्फ कम थी . लेकिन इस वर्ष तो जून में १० सेंटीमीटर बर्फ पड़ी है . लेकिन रोहतांग से नीचे ड्राइव करते हुए सबसे ज्यादा मज़ा आया था .

      Delete
    2. मुझ तो उन रास्तों पर ड्राइवर भगवान लग रहा था।:)

      Delete
    3. हमें भी लगा था जब पहली बार पहाड़ों में गए थे :)

      Delete
  35. ओये होए .......क्या बात है .....!!!!!
    हम भी चेरापूंजी जाकर आये हैं ....एक छोटी सी भयंकर गुफा से गुजर कर भी ....जिसमें सेसिर्फ पतला दुबला इन्सान ही पार हो सकता है
    आप भी जरुर आइये देखने .....
    बहुत अच्छी जगह है .....!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी आपने पार की या नहीं ! :)
      दार्जिलिंग गैंगटॉक जाते हुए जाने का मूड था लेकिन फिर टीसटा नदी में राफ्टिंग करके ही आगे चले गए .

      Delete
  36. Its All About Caring and Life. Thank You For Sharing. Pyar Ki Kahani

    ReplyDelete