Saturday, September 3, 2011

हम सपने में भी ना ना चिल्लाते रहे --

पिछले महीने सारा देश अन्नामयी रहा लोगों का जोश देखकर सरकार को भी झुकना पड़ा जनता जनार्दन में ऐसा जोश बहुत कम देखने को मिलता है लेकिन इस दौरान कुछ अप्रत्यासित घटनाएँ भी देखने को मिली प्रस्तुत है इसी पर आधारित एक हास्य-व्यंग रचना :

भ्रष्टाचार की मार की मारी
एक दिन बोली पत्नी हमारी

बहुत हो गया अब उठो , अज़ी सुनते हो
क्यों टी वी के सामने पड़े , बेकार सर धुनते हो !

दिल्ली की जनता सारी, इण्डिया गेट को है भागी
आपकी देश प्रेम की भावना, अभी तक नहीं जागी ?

टोपी ना टी शर्ट , ना ही तिरंगा खरीद कर लाए हैं
शर्माजी तो दो बार रामलीला मैदान भी हो आए हैं ।

बाजु वाला पडोसी भी अन्ना टोपी लगाये खड़ा है
पर हे भगवान , मेरा कैसे कंजूस से पाला पड़ा है !

अन्ना अन्न सन्न छोड़ , अनशन पर बैठे हैं
पर आप जाने किस बात की टेंशन में ऐंठे हैं !

सुन बीबी के प्रवचन , हमको होश आ गया
दिल में देश भक्ति का , अन्ना जोश छा गया ।

पत्नी से कहा , जल्दी खाना पैक करो
आज हम भी अनशन करने जायेंगे ।

देश भक्तों संग लंच व रात का खाना
रामलीला मैदान में ही बैठ कर खायेंगे ।

पत्नी बोली अज़ी घर का खाना तो आप रोज खाते हैं
बुद्धिजीवी लोग तो वहां बस पिकनिक मनाने जाते हैं ।



हमने पडोसी से टोपी और टी शर्ट उधार मंगवाई
फिर उन्ही की बाईक उठा , बिना हेलमेट दौड़ाई ।

८०-९० की रफ़्तार से सड़क पर सरपट दौड़े
अन्ना के नाम पे सारे कानून बेधड़क तोड़े ।

गेट पर एक स्वयं सेवक ने पूछा , बताएं
ज़नाब आप क्या अन्ना सेवा कर सकते हैं ?

हमने कहा भैया , पहले ज़रा भोजन करायें
फिर शाम तक भूख हड़ताल पर बैठ सकते हैं ।

लेकिन फ़ूड स्टाल पर देखा , पब्लिक कतार लगाने लगी थी
मंच पर एक भद्र महिला , जमूरे का खेल दिखाने लगी थी ।

थोड़ी देर बाद एक हास्य कवि , वीर रस की कविता सुनाने लगे
सुनकर होश खोकर लोग , जोश में आकर तालियाँ बजाने लगे ।

एक फ़िल्मी पात्र को , अन्ना भक्ति कुछ ज्यादा चढ़ गई
उनके अभिनय से पंडाल में गर्मी अत्याधिक बढ़ गई ।

अभिनेता जब जनता को नेताओं का गुणगान सुनाने लगा
एक स्वामी चुपके से सारी ख़बरें हाईकमान को पहुँचाने लगा ।

जैसे जैसे पंडाल में पब्लिक की भीड़ बढ़ने लगी
हम जैसों के चेहरों पर , हवाईयां सी उड़ने लगी ।

उधर सड़क पर पुलिस की तादाद बढ़ रही थी
इधर हमारे दिल की धड़कन भी चढ़ रही थी ।

डंडाधारी पुलिस को देख , हमें बाबा रामदेव याद आये
वन्दे मातरम का नारा छोड़ , हम जोर से चिल्लाये ।

मत मारो , हमें मत मारो , हम तो बीबी के बहकाए हैं
कौन अन्ना, कैसा अन्ना, मुफ्त का खाना खाने आए हैं ।

तभी पत्नी ने जोर जोर से हिलाकर हमें जगाया
क्यों नींद में चिल्लाते हो , ३२ बच्चों के ताया ।


'शरीफ़' तो गली गली में अन्ना के नारे लगाते रहे
और 'तारीफ' सपने में भी ना ना ही चिल्लाते रहे


नोट : अन्ना आन्दोलन में मध्यम और युवा वर्ग का योगदान अत्यंत सराहनीय रहा




50 comments:

  1. आप 32 बच्‍चों के ताया है यह तो बता दिया लेकिन कितने बच्‍चों के पापा हैं यह नहीं बताया।

    ReplyDelete
  2. वाह,यह तो कमाल की रचना बन गयी ,प्रस्तुति के लिए आभार.

    ReplyDelete
  3. अरे वाह यह तो अन्ना आन्दोलन पच्चीसी लिख डाली आपने! जबरदस्त -क्या काव्य प्रतिभा पायी है आपने !

    ReplyDelete
  4. बहुत बढ़िया लिखा है आपने! गहरे भाव और अभिव्यक्ति के साथ शानदार रचना!
    आपको एवं आपके परिवार को गणेश चतुर्थी की हार्दिक शुभकामनायें!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  5. वाह जी! यह तो लाजबाब है.
    ३२ बच्चों के ताया का क्या गजब का ख्बाब है.
    इतनी सुन्दर प्रस्तुति के लिए तो बस आपको
    आदाब है,आदाब है आदाब है.

    ReplyDelete
  6. हुजूरे आला,
    आपकी शान में, आपके एक अदने से दोस्त की तरफ से, चार लाइने पेश हैं , दाद की ख्वाहिश है .....

    तारीफ तो अक्सर मिलती है, तारीफ से यारो डरते हैं
    हम क्या अपनी तारीफ़ करें, तारीफ से भागे फिरते हैं

    डाक्टरी वेश में मानव हैं, मानवता दिल में रखते हैं !
    तारीफ़ की इच्छा सेवा की , शैतान से यारो डरते हैं !

    ReplyDelete
  7. पत्नी से कहा , जल्दी खाना पैक करो
    आज हम भी अनशन करने जायेंगे ।

    देश भक्तों संग लंच व रात का खाना
    रामलीला मैदान में ही बैठ कर खायेंगे ।

    बहुत सुंदर रचना है ...
    देश की हालत कुछ ऐसी ही है ...

    ReplyDelete
  8. सपने में बहुतों की खबर ले डाली!

    ReplyDelete
  9. "पत्नी बोली अज़ी घर का खाना तो आप रोज खाते हैं
    बुद्धिजीवी लोग तो वहां बस पिकनिक मनाने जाते हैं ।"

    बहुत खूब डॉ साहेब ...यह अन्ना-नामा तो यकीनन खूब रहा --?

    ReplyDelete
  10. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    ReplyDelete
  11. बहुत बढ़िया व्यंग रचना
    आभार

    ReplyDelete
  12. bahut achcha haasya vyang hai padhkar maja aa gaya.pahli line se hi aage padhne ki utsukta badhti gai.yahi to khoobi hai achche lekhan ki.aapko badhaai.

    ReplyDelete
  13. वाह सपने के बहाने सारी सच्चाई बयाँ कर दी।

    ReplyDelete
  14. मत मारो , हमें मत मारो , हम तो बीबी के बहकाए हैं
    कौन अन्ना, कैसा अन्ना, मुफ्त का खाना खाने आए हैं ।
    maza aa gaya

    ReplyDelete
  15. आपने अच्छा किया ,जो सपनों से दिल बहलाए जा रहें हैं ...
    वहाँ जाने वालों को तो अब नोटिस थमाए जा रहें हैं ...हा हा हा !
    सुंदर रचना !
    शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  16. डॉक्टर साहिब, पढ़ कर आनंद आया और जो सोचा लिखुंगा, वो पाया वन्दना जी ने पहले ही कह दिया है!
    किन्तु, फिर भी है कहने को कि प्राचीन ज्ञानी संकेत कर गए कि साकार ब्रह्माण्ड भी इसी भांति निराकार ब्रह्म, परमात्मा का एक विराट, अनंत, स्वप्न है :)

    ReplyDelete
  17. लंच-डिनर के साथ स्वप्न में ही सही अन्नाजी का समर्थन तो हो ही गया ।

    ReplyDelete
  18. तभी पत्नी ने जोर जोर से हिलाकर हमें जगाया
    क्यों नींद में चिल्लाते हो , ३२ बच्चों के ताया ।

    वाह जी, सही में ये ऐसा आन्दोलन था - जिसने कईयों की नींद उड़ा दी :)

    ReplyDelete
  19. ha ha ha... Zabardast Kataksh kiya hai aapne....

    ReplyDelete
  20. एक फ़िल्मी पात्र को , अन्ना भक्ति कुछ ज्यादा चढ़ गई
    उनके अभिनय से पंडाल में गर्मी अत्याधिक बढ़ गई ।


    बहुत उम्दा !
    ये भ्रष्ट-तंत्र वाले उन पर आजकल,संविधान के डंडे बरसा रहे है,
    लूजमोशन की शिकायत थी, प्रिविलेजमोशन की दवा खा रहे है !

    ReplyDelete
  21. आप तो सपने भी सच्चे देखते हैं ... हकीकत बयाँ कर दी है ..अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  22. हा हा हा ! सतीश जी --वाह , वाह , वाह ! बहुत बढ़िया ।
    लेकिन भाई तारीफ और तारीफ़ में कन्फ्यूजन हो रहा है ।

    ReplyDelete
  23. वाह , अशोक जी ।
    यह भी कविता बन गई ।
    लेकिन बात भी सही है ।

    ReplyDelete
  24. तारीफ़ करू क्या आपकी,
    अन्ना के पूरे आंदोलन को चंद पंक्तियों में है समाया....

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  25. एक पहलु यह भी है..
    जबरदस्त रचना.

    ReplyDelete
  26. वाह! यह तो रन्निंग कामेंटरी लगी:)

    ReplyDelete
  27. kamaal kii rachnaaa....nayaa pahloo lekar aaye ,aap.badhaai

    ReplyDelete
  28. मत मारो , हमें मत मारो , हम तो बीबी के बहकाए हैं
    कौन अन्ना, कैसा अन्ना, मुफ्त का खाना खाने आए हैं ।

    तभी पत्नी ने जोर जोर से हिलाकर हमें जगाया
    क्यों नींद में चिल्लाते हो , ३२ बच्चों के ताया ।


    मैं तो उस स्थिति पर सोचकर मुस्करा रहा हूं यदि भाभीजी ने आपको ना जगाया होता तो क्या होता? कल्पना किजीये.:)

    रामराम.

    ReplyDelete
  29. डा0साहब ने कहा जब हो अन्ना बुखार
    टबलेट कीनो झूठ की घोटो बारंबार

    घोटो बारंबार बुखार शर्तिया जाये
    रामदेव का योग भी कुछ कर ना पाये।

    ReplyDelete
  30. beautifully written... one thing to say WOW

    ReplyDelete
  31. सपने में भी आपको खाना खाने की ही सूझी ?...Smiles...

    ReplyDelete
  32. देश भक्तों संग लंच व रात का खाना
    रामलीला मैदान में ही बैठ कर खायेंगे । .....सही और सार्थक व्यंग..सुन्दर....

    ReplyDelete
  33. दिव्या जी , क्या करें । हकीकत में तो पत्नी दो रोटी से ज्यादा खाने नहीं देती ।
    इसलिए सपने में ही दावत का मज़ा उड़ायें ।

    @ ताऊ रामपुरिया
    मैं तो उस स्थिति पर सोचकर मुस्करा रहा हूं यदि भाभीजी ने आपको ना जगाया होता तो क्या होता? --
    हा हा , ताऊ ---फिर इस कविता का दूसरा भाग भी लिखा होता ।

    ReplyDelete
  34. ha ha ha ......
    sare aandolan kp aaapne bhee sarkar kee tarah hansee me uda diya .

    ReplyDelete
  35. बेहद खूबसूरत रचना. आभार.

    ReplyDelete
  36. एक फ़िल्मी पात्र को , अन्ना भक्ति कुछ ज्यादा चढ़ गई
    उनके अभिनय से पंडाल में गर्मी अत्याधिक बढ़ गई ।

    अभिनेता जब जनता को नेताओं का गुणगान सुनाने लगा
    एक स्वामी चुपके से सारी ख़बरें हाईकमान को पहुँचाने लगा ।
    बहुत खूब !छा गए अन्ना दराल जी !वाह वा क्या बात है ज़नाब की !

    ReplyDelete
  37. ये अन्ना-नामा भी खूब रही....
    बहुत खूब लिखा है..

    ReplyDelete
  38. ख़ूब लिखा डॉक्टर साहब ! अच्छी प्रस्तुति … बधाई !

    हास्य शिरोमणी तो आप हैं ही…



    एक और पहलू भी तो है …
    # सरकार को भी झुकना पड़ा…
    हां , जब लगा कि हिंदुस्तान का जनमानस अभी एक है तब तक ही
    अब बदले बदले मेरे सरकार नज़र आते हैं …

    आम नागरिक को डराने के लिए किरण बेदी , ओम पुरी , केजरीवाल और बाबा रामदेव सहित किन किन पर शिकंजा कसा जा रहा है …

    … … …
    करे अकेला क्या क्या अन्ना ?
    होना है सबको चौकन्ना !!

    ReplyDelete
  39. रामलीला मैदान में श्राद्ध मना, 'भारत द्वार' पर किसकी तेरहवीं मनाई गयी? गण तंत्र की?????

    ReplyDelete
  40. सरिता जी , हंसी में नहीं उड़ाया बल्कि हास्यस्पद घटनाएँ निकाल ली।
    राजेन्द्र जी , अनशन तो कामयाब ही रहा ।

    ReplyDelete
  41. 'शरीफ़' तो गली गली में अन्ना के नारे लगाते रहे
    और 'तारीफ' सपने में भी ना ना ही चिल्लाते रहे ।

    ..बढ़िया मसाला निकल आया इस माहौल से भी....

    ReplyDelete
  42. सही कहा, हंसी में नहीं उड़ाया... (जिन्होंने दुष्टों को मारने के साथ साथ गोप-गोपियों से रास रचाया, उसी 'कृष्ण' की 'लीला' का आनंद उठाया :)... भारत माता की जय!

    ReplyDelete
  43. 'लोकपाल' कौन है? हिन्दू तो सभी जानते होंगे की शिव को त्रिपुरारी अर्थात तीनों लोक का पाल माना गया है, अर्थात अनंत 'आकाश' और अनंत 'पाताल' और, इनके बीच में ब्रह्माण्ड का मॉडल, हमारी सीमित आकार की पृथ्वी, एक बिंदु समान, जिसके केंद्र को ब्रह्माण्ड का केंद्र जाना प्राचीन 'भारतीय खगोलशास्त्रियों' ने...इत्यादि इत्यादि...

    ReplyDelete
  44. बेहतरीन हास्य रचना ... मज़ा आ गया डाक्टर साहब ... कमाल कर दित्ता तुसी ...

    ReplyDelete
  45. 'तारीफ़ सिंह', 'भारत द्वार' पर एक नाम, एक आत्मा का, आनन्द तो उठाता है, किन्तु परमानंद नहीं उठा पाता... भय के कारण :( रॉबर्ट ब्राउनिंग ने भी कहा कि हर व्यक्ति अपने चारों और दिनचर्या की एक कागज़ की दीवार बना लेता है / और उसे तोड़ने से डरता है... आदि :(

    ReplyDelete
  46. बेहद अच्छी रचना व्यंग्य विनोद और अर्थ से संयुक्त ।


    'शरीफ़' तो गली गली में अन्ना के नारे लगाते रहे
    और 'तारीफ' सपने में भी ना ना ही चिल्लाते रहे ।
    किस्मत वालों को मिलती है "तिहाड़".

    ReplyDelete
  47. शुक्रिया समीर जी , जे सी जी , नासवा जी , और वीरुभाई ।

    ReplyDelete