Tuesday, September 13, 2011

ब्लोगिंग --सदी का श्रेष्ठतम अविष्कार ....

कुछ दिन से ब्लॉगजगत में मची आपा धापी को देख कर मन में यही ख्याल बार बार आता है --आखिर लोग ब्लोगिंग क्यों करते हैं ? सामान्य सी बात है , सब अपनी अपनी रूचि अनुसार ही ब्लोगिंग करते हैंकोई स्वांत : सुखाय तो कोई अभिव्यक्ति के लिए व्याकुलकोई इसे अपना फ़र्ज़ समझता हैकोई समाजीकरण के लिए ब्लॉग पर समय देता है

कोई दिन में तीन बार पोस्ट लिखता है , कोई तीन दिन में एक बारकिसी ने एक ब्लॉग बनाया है , कोई दस दस ब्लॉग चला रहा हैगीत -ग़ज़ल , कहानियां , सामाजिक मुद्दे , हास्य -व्यंग , कार्टून , सैर सपाटा यहाँ तक कि व्यक्तिगत बातों की भी ब्लोग्स पर सभी तरह की सामग्री मौजूद हैज़ाहिर है , जितनी विविधता यहाँ देखने को मिलती है , शायद ही कहीं और मिले

ऐसे में अपनी लिखी हुई एक पुरानी पोस्ट याद आती है जिसे हमने आरम्भ में ही लिखा था , लेकिन आज भी उतनी ही तर्कसंगत लगती है

क्या है ब्लोगिंग :


ब्लोगिंग एक असाध्य रोग है, बीमारी है
टिप्पणियों का अनंत इंतज़ार है, बेकरारी है।

लेखन का विकट भूत है
पहचान की अमिट भूख है।

टिप्पणियां पचास तो खुशी है
रह जाएँ पाँच तो मायूशी है।

बुजुर्गों का टाईम पास है
युवाओं का समय ह्रास है।

ब्लोगिंग मय सा अतुल्य नशा है
ब्लोगर्स की नस नस में बसा है।

लेकिन
ब्लोगिंग ये भी तो है ---

विचारों की मूक अभिव्यक्ति है
हज़ारों की अचूक शक्ति है।

मानविक चेतना की कड़ी है
सामाजिक एकता की लड़ी है।

सेवानिवृत बुजुर्गों का सकून है
कार्यरत युवाओं का जुनून है।

प्रणाली पर उठता सवाल है
बदहाली पर उछलता बवाल है।

मुहब्बत का फैलता संसार है
सदी का श्रेष्ठतम आविष्कार है।


सदी के इस श्रेष्ठतम अविष्कार को यदि हम सकारात्मक रूप में प्रयोग करें तो निश्चित ही ब्लोगिंग एक सशक्त माध्यम के रूप में जन जागरण के कार्य में सहायक सिद्ध हो सकती है

और अब एक सवाल, एक ज़वाब :

सवाल: बहादुर इंसान कैसा होता है ?

ज़वाब: बहादुर इंसान उस धावक जैसा होता है, जो दौड़ में भाग लेने तो जाता है, लेकिन दौड़ शुरू होने के बाद भी , आरम्भ रेखा पर ही खड़ा रहता है। क्योंकि जिस समय बाकि सभी धावक मैदान में उसे पीठ दिखा कर भाग रहे होते हैं, एक अकेला वही होता है, जो मैदान में डटा रहता है।


53 comments:

  1. सार्थक विचार ... सार्थक पोस्ट ... आभार आपका !

    ReplyDelete
  2. ब्लोगिंग क्या हैं ये इस पर निर्भर हैं की आप यहाँ क्या करने आये हैं . हिंदी ब्लोगिंग में ज्यादा लोग रिश्ते बनाने आये हैं और इसीलिये यहाँ रियल दुनिया की तरह वो बिगडते भी हैं टूटते भी हैं . भगवान् हमे रिश्तेदार देता हैं , मित्र हम खुद चुनते हैं

    ReplyDelete
  3. सदी के इस श्रेष्ठतम अविष्कार को यदि हम सकारात्मक रूप में प्रयोग करें तो निश्चित ही ब्लोगिंग एक सशक्त माध्यम के रूप में जन जागरण के कार्य में सहायक सिद्ध हो सकती है
    १०००% सहमत.

    ReplyDelete
  4. सही फरमा रहे हैं। बस,देखने की बात यह होगी कि इसे श्रेष्ठतम बनाए रखने में हम योगदान दे पाते हैं कि नहीं।

    ReplyDelete
  5. डॉ साहब, हमको तो आपकी यह रचना मन को भा गयी --
    ब्लोगिंग एक असाध्य रोग है, बीमारी है
    टिप्पणियों का अनंत इंतज़ार है, बेकरारी है।
    टिप्पणियां पचास तो खुशी है
    रह जाएँ पाँच तो मायूशी है।
    बुजुर्गों का टाईम पास है
    युवाओं का समय ह्रास है। ..
    आभार.

    ReplyDelete
  6. मैं तो अभी ७०+ वर्षीय बच्चा ही हूँ, सत्य की खोज में भटक रहा हूँ, एक ब्लॉग से दूसरे में, क्यूंकि बाहरी जगत में घूमने की अब शक्ति नहीं रह गयी है... गाड़ी चलाने के लाइसेंस का भी नवीनीकरण नहीं कराया...
    हिंदी ब्लॉग में तो इस लिए आया था कि मेरा हिंदी लेखन सदियों से छूट गया था, इस लिए रविश के ब्लॉग में सबसे पहले टिप्पणी से आरम्भ किया था... जब डॉक्टर साहिब ने कुछ ऐसी टिप्पणी छोड़ी, जिसके कारण मैं इनके ब्लॉग में भी आने लगा इस उम्मीद से कि मैं किसी जरूरतमंद की सहायता कर पाऊँ, इन से सीख कर...उदाहरणतया, मैं अपने पैरों का व्यायाम इन्ही के बताने से निरंतर कर रहा हूँ... और उसे लाभदायक भी पा रहा हूँ...वैसे एक समय पेनगुइन की कैनेडियन एयर फ़ोर्स के लिए व्यायाम पर लिखी पुस्तक भी पढ़ तब ऐसा जोश आया था कि मैं चलती बस में भी चढ़ने का साहस कर पाया था!... .

    ReplyDelete
  7. बिल्कुल ठीक कहा आपने,

    ना ब्लॉग होता और ना हम व आप बिना मिले आपस में एकदूसरे को जानते पहचानते।

    ReplyDelete
  8. अच्छा लिखने
    अच्छा पढ़ते रहने में
    अच्छे हो जाने की
    प्रबल संभावनाएँ छुपी होती हैं
    ...अच्छी लगी यह पोस्ट।

    ReplyDelete
  9. ब्लॉगिंग वह अद्भुत मंच है जो हमें अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता देता है। पारिवारिक रिश्ते मेल मुलाकात से बन ही जाते हैं। ब्लागिंग ने मुझे जीवन में बहुमुल्य उपहार स्वरुप कुछ जिन्दादिल मित्र भी दिए। जो अब एक परिवार का अंग बन गए हैं और सुख दुखः में शामिल होते हैं. कुल मिला कर निःसंदेह ब्लागिंग अद्भुत विधा है. ...... आभार

    ReplyDelete
  10. बिल्कुल ठीक कहा आपने,
    टिप्पणियों का अनंत इंतज़ार है, बेकरारी है।

    ReplyDelete
  11. ब्लोगिंग जीवन का उत्स है ,उमंग है .मित्रों का साधारणीकरण है .लेखक का मूर्तीकरण .एक सुस्पष्ट बिंदास माध्यम है अभिव्यक्ति का .लोकतंत्र है ,मेधा का .दंभ तोड़ता है अखबारी नरेशों का .
    बहुत सुन्दर रचना बधाई !

    ReplyDelete
  12. बहुत खूब ...
    यह उदाहरण है सिंपल ब्लोगिंग का !आभार !

    ReplyDelete
  13. जे सी जी , बेशक ब्लोगिंग आप जैसे सेवा निवृत लोगों के लिए बढ़िया माध्यम है, संपर्क बनाये रखने और कुछ सार्थक चिंतन करने के लिए । विभिन्न विधाओं की सामग्री उपलब्ध होने से ब्लोगिंग सहायक तो सिद्ध होती ही है ।

    लेकिन ब्लोगिंग में आवश्यकता से अधिक समय व्यतीत करने का अर्थ है अपने काम की हानि करना । पेशेवर , कामकाजी और छात्रों को संभल कर चलना चाहिए । १०-१५ घंटे ब्लोग्स पर बैठना कोई समझधारी नहीं ।

    अनावश्यक बहसबाजी और व्यक्तिगत आरोप / प्रत्यारोप से बचना भी समझधारी है ।

    ReplyDelete
  14. आपकी बात से सहमत! हमने भी आज ही लिखा:
    ब्लागिंग अपने आप में अभिव्यक्ति का अद्भुत माध्यम है। हर एक को अभिव्यक्ति का प्लेटफ़ार्म मुहैया कराती है यह सुविधा। क्या रेंज है जी! शानदार से शानदार लेखन से लेखन से लेकर चिरकुट से चिरकुट विचार के लिये भी यहां दरवज्जे खुले हैं। यही इस माध्यम की ताकत है। बड़े से बड़ा लेखक/कवि/पत्रकार भी अंतत: प्रथमत: और अंतत: एक इंसान ही होता है। उसका लेखन भले शानदार हो लेकिन एक सीमा के बाद वह टाइप्ड हो जाता है। ब्लागिंग के जरिये आम आदमी की एकदम ताजा स्वत:स्फ़ूर्त अभिव्यक्तियां सामने आती हैं। यह सुविधा अद्भुत है।

    ReplyDelete
  15. बहुत सही लिखा है आपने शुक्ल जी । पोस्ट्स में विविधता बनाये रखने से , व्यक्ति विशेष के व्यक्तित्त्व में निखार आता हैं ।
    हालाँकि यहाँ भी आधे से ज्यादा लोग टाइप्ड ही हैं । फिर भी एक आम आदमी के लिए यह बहुत बड़ी उपलब्धि है ।

    पिछली टिप्पणी में समझदारी पढ़ा जाए ।

    ReplyDelete
  16. सवाल : बहादुर इंसान कैसा होता है ? के जवाब में तोआपने पूरे ब्लागिंग के चरित्र को ही अभिव्यक्त कर डाला, वहां पीठ देखता रहता है यहां पीठ खुजाता रहता है.:) लाजवाब जवाब के लिये पूरे सौ में से एक सौ एक नंबर.

    रामराम.

    ReplyDelete
  17. यह प्रविष्टि सार्थक ब्लॉगिंग का उल्लेखनीय उदाहरण है!

    ReplyDelete
  18. दुनिया की कोई भी चीज बुरी नहीं है बस सभी लोग उसक प्रयोग सकरात्मक रूप से करे अच्छा सोचा कर करे पर ऐसा होता कहा है जब दुनिया में सभी सकरात्मक सोच ही नहीं रखते तो वो अच्छी से अच्छी चीज का प्रयोग भी गलत ही तरीके से करेंगे |

    ReplyDelete
  19. सदी के इस श्रेष्ठतम अविष्कार को यदि हम सकारात्मक रूप में प्रयोग करें तो निश्चित ही ब्लोगिंग एक सशक्त माध्यम के रूप में जन जागरण के कार्य में सहायक सिद्ध हो सकती है ।

    बहुत सुन्दर सार्थक चिंतन.
    सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार.

    ReplyDelete
  20. ब्लागिंग एक बेलौस माध्यम है ..एक गैर पारम्परिक विधा है और छद्मावरण से लोगों को बाहर खींच लाने का अभियान है

    ReplyDelete
  21. मुझे तो आज तक समझ नहीं आया कि ये ब्लागरी क्या चीज है? चार बरस से लिख रहा हूँ। कभी पीछे मुड़ कर देखता हूँ तो आश्चर्य होता है कि क्या यह मैं ने लिखा था?

    ReplyDelete
  22. दाराल जी ये बेहतरीन माध्यम , अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता , और लेखन को लोगो तक पहुचने का एक बेहतरीन माध्यम साबित हो रहा है . एक चमत्कारिक अविष्कार है ये .आज से लगभग दस साल पहले मई अपनी कविताये पत्रिकाओं में भेजता था और ज्यादातर खेद सहित की पर्ची प्राप्त हो जाती थी जो मायूश करती थे एक्का दुक्का छपने का सुख भी मिलता था. इस ब्लॉग्गिंग ने खेद सहित पर्ची का कोई डर नहीं , औपचारिकता से ही सही एक आध टिप्पणी तो मिल ही जायेगी .ब्लॉग्गिंग अच्छी मित्र भी दे रही है .मगर खेमेबाजी और अनर्गल प्रलाप इसकी बुराइयां भी है .मगर दाराल जी,सतीश जी ,खुशदीप जी, समीर जी जैसे बेहतरीन व्यक्तित्यों से रूबरू होने भले शब्दों से हो का भी रसास्वादन ब्लॉग्गिंग ने ही कराया है.आभार . ब्लॉग जगत की बुराईयाँ कैसे दूर हो इस पर debate होनी चाहिए और आप इस पर पहल कीजिये . आशा है बुराईयाँ जरूर दूर होंगी.

    ReplyDelete
  23. कुश्वंश जी , सही कह रहे हैं आप । कोशिश रहेगी , देखते हैं क्या कर सकते हैं ।

    ReplyDelete
  24. ये भी है ब्लॉगिंग का एक सच-

    जहां एक ब्लॉगर मौजूद... आवाज़ देकर हमें तुम बुलाओ
     
    जहां दो बलॉगर मौजूद... ब्लॉगर मीट
     
    जहां तीन ब्लॉगर मौजूद... रौला-रप्पा
     
    जहां चार ब्लॉगर मौजूद...तेरा फलाना...तेरा ढिमकाना...
     
    जहां चार से ज़्यादा ब्लॉगर मौजूद... शांति...बीच-बीच में कराहने की आवाज़ें...एंबुलेस में सारे ढोए जा रहे हैं...


    जय हिंद...

    ReplyDelete
  25. असल दुनिया में जितना सीखा उससे कहीं ज़्यादा ब्लॉग़ जगत में सीखा...सीखना अभी भी जारी है....अपने देश के अनगिनत अनदेखे कोनों की खूबसूरती और अनमोल जानकारी भी इसी माध्यम से पाई...

    ReplyDelete
  26. ब्लॉगिंग- मुझे अपने आप को जानने का एक माध्यम लगा,हम खुद को कैसे व्यक्त कर सकते है,और हमारे विचारों का लोगों पर क्या असर होता है,लोगों की प्रतिकियाएं हम पर क्या असर ड़ालती है या हमें कितना प्रभावित करती है,और सबसे ज्यादा ये कि हम कितने संयत रह सकते हैं...आदि-आदि ...बहुत कुछ ...

    ReplyDelete
  27. वाह आपने तो ब्लागिंग निचोड़ कर रख दी... यही है इसका सार :)

    ReplyDelete
  28. डॉक्टर साहिब, 'सेवा निवृत' के स्थान पर शायद 'सरकारी-सेवा निवृत' सही होगा...
    अंग्रेजी में एक कहावत का हिंदी रूपांतर है, "सेवा वो भी करता है जो केवल घूरता है", और "सुन्दरता देखने वाले की आँख में होती है"... :)

    जहां तक हर माध्यम का दुधारी तलवार समान पाया जाना है, तो उसके लिए पंचतंत्र की कहानी हैं न!
    जिसमें एक राजा को अपने किसी भी दरबारी पर विश्वास न था...
    उसने एक बन्दर को रख लिया उसकी पहरेदारी करने के लिए, यह हिदायत दे की वो किसी को उसके निकट न आने दे, जब वो दोपहर में कुछ देर सोता था...

    और एक मक्खी से तंग हो उस बन्दर ने तलवार से राजा के इर्द-गिर्द उड़ती मक्खी को बार बार उड़ाने से झल्लाहट से, जब वो उसके नाक में बैठी थी, मारने हेतु तलवार से राजा की नाक ही काट दी!

    "खाली बर्तन आपस में टकराते हैं"..."अथाह सागर गंभीर होता है"... आदि, आदि...अनंत कथाएँ और उनके सार हैं 'भारत' में :)

    ReplyDelete
  29. @बुजुर्गों का टाईम पास है, युवाओं का समय ह्रास है।
    वाह, क्या खरी बात है।

    @जहां चार ब्लॉगर मौजूद...तेरा फलाना...तेरा ढिमकाना...
    ;)

    ReplyDelete
  30. .

    नमन है उन वीर सपूतों को जो पीठ दिखाकर ब्लौगिंग को छोड़ते नहीं ...

    नमन है उन बहादुरों को जो अच्छे-अच्छों को पीठ दिखाने के लिए मजबूर कर देने का दम ख़म रखते हैं...

    नमन है उन टिप्पणीकारों का जो दो आलेखों पर टिप्पणी करते हैं फिर पीठ दिखाकर भाग जाते हैं....

    इस बहादुर पोस्ट के लिए नमन है डॉ दाराल को "भगेडू" दिव्या का जिसने पीठ दिखाकर ब्लौगिंग छोड़ दी।

    सादर ,
    दिव्या श्रीवास्तव
    ZEAL

    .

    ReplyDelete
  31. स्कूल के दिनों में एक सिख गुरु होते थे जिन्हें अपनी क्लास में चार लड़कों को - चारों कोने मैं एक को बिठा - मुर्गा बनाये बिना चैन नहीं आता था... और वो कहते थे 'अब चांडाल चौकड़ी पूरी हो गयी'! (और वैसे भी चार कंधे आवश्यक होते थे जब 'किसी की अर्थी उठती थी' (और आज चार पहिये की गाडी)... शोक संतप्त 'राम नाम सत्य है' कहते सड़क पर जाते दिखाई देते थे और इधर मैदान में खेलते कुछ शैतान बच्चे, हमारे मित्र, आहिस्ते से उस में जोड़ रहे होते थे. "मुर्दा बेटा मस्त है"!
    जो गीता पढ़ी तभी समझ आया क्यूँ बच्चों को भगवान् कहा जाता है :)

    ReplyDelete
  32. पत्नी घर द्वार से दुखी
    ब्लॉग लिख कर खुश
    फिर भी कहती है आभासी
    दुनिया में हम
    रीयल दुनिया से भाग कर नहीं आये हैं

    पति , पत्नी से दुखी
    कुछ समझती नहीं
    सालो से एक घर में
    रह कर भी
    मानसिक रूप से अलग
    ब्लॉग पर मर्मस्पर्शी कविता
    लिखकर संबंधो में
    मिठास भर रहे हैं और
    फिर भी कहते हैं
    हम आभासी दुनिया में
    रीयल दुनिया से भाग कर नहीं आये

    वृद्ध , खाली घर में परेशान
    बेटा , बेटी विदेश में
    नेट पर ब्लॉग परिवार में
    इजाफा कर रहे हैं
    अपना समय परिवार से दूर
    व्यतीत कर रहे हैं पर
    कहते हैं हम रीयल दुनिया से
    आभासी दुनिया में नहीं आये

    आज पढ़ा एक ब्लोगर
    के भाई ने उससे नाता तोड़ रखा हैं
    और वो ब्लोगर, बाकी सब ब्लोगर में अपना
    भाई खोज रहा हैं
    फिर भी कहता हैं हम
    रीयल दुनिया से भाग कर
    आभासी दुनिया में नहीं आये

    किसी ब्लोगर का ब्लॉग भरा हैं
    रोमांटिक कविता से
    और वोमन सेल में
    मुकदमा चल रहा हैं पति की
    यातना के खिलाफ
    फिर भी कहते हैं
    रीयल लाइफ में खुश थे
    आभासी दुनिया में
    बस यूहीं हैं

    किसी ब्लोगर की पत्नी ने
    उनको नकार दिया था
    क्युकी पत्नी का सौन्दर्यबोध
    पति के शरीर को स्वीकार नहीं कर पाया
    वही ब्लोगर नेट पर रोमांस करता पाया जाता हैं
    फिर भी कहता हैं
    रीयल लाइफ में सुखी हैं

    मै एक एकल महिला
    रात को कमेन्ट पुब्लिश नहीं करती
    क्युकी रात सोने के लिये होती हैं

    सुबह देखती हूँ हर विवाहित ब्लोगर
    रात भर जग कर कमेन्ट देता हैं
    और पुब्लिश ना होने का ताना भी

    और फिर भी कहता हैं उसकी जिन्दगी
    में सब सही था
    वो रीयल दुनिया के रिश्तो से भाग कर आभासी दुनिया में नहीं आया
    http://mypoeticresponse.blogspot.com/2011/06/blog-post_24.html

    ReplyDelete
  33. सेवानिवृत बुजुर्गों का सुकून है ,और मेरे जैसो के लिए ....
    बुजुर्गों का टाईम पास भी ...बेशक सुकून के साथ .....
    शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  34. वैसे ये एक अच्छा साधन है समय के सदुपयोग का ... अगर सही ऊर्जा से किया जाय ...

    ReplyDelete
  35. खुशदीप भाई , इस माहौल को सुधारना तो पड़ेगा .
    मीनाक्षी जी , अर्चना जी --सही कह रही है . सार्थक सोच .
    जे सी जी --सेवा निवृत तो गैर सरकारी भी हो सकते हैं जैसे रतन टाटा छोड़ने जा रहे हैं .
    मुर्दा बेटा मस्त है --मेरे विचार से यह प्रकरण पर निर्भर करता है .
    इस बारे में अगली टिप्पणी में .

    ReplyDelete
  36. आपने ब्लोगिग पर सही लिखा है टाइम पास करने का और अपने विचारों को प्रस्तुत करने के लिए यह एक बहुत अच्छा साधन है |
    आशा

    ReplyDelete
  37. हिन्दू मान्यतानुसार, बहादुर तो अमृत दायिनी पार्वती के सुपुत्र लम्बोदर गणेश है (अध्यात्मिक शक्ति का भण्डार मंगल ग्रह, अंतरिक्ष अर्थात 'आकाश' में) जिसे उसकी माँ ('सोमरस', अर्थात देवताओं हेतु अमृत का स्रोत चन्द्रमा) ने बनाया - योगेश्वर विष्णु, (गंगाधर शिव अर्थात पृथ्वी के केंद्र में संचित अनंत गुरुत्वाकर्षण शक्ति) / संहारकर्ता शिव का प्रभाव कम कर देवताओं (सौर-मंडल के सदस्यों) को अमृत प्रदान करने हेतु शिव के ज्येष्ठ पुत्र माँ पार्वती के शक्तिशाली स्कंध कार्तिकेय (शुक्र ग्रह में विष को उसके वातावरण में एकत्रित कर :)...
    शिव, पार्वती, कार्तिकेय, और गणेश (पृथ्वी, चन्द्र, शुक्र, मंगल), यही एक परिवार है जो सूर्य, बुद्ध, बृहस्पति, और (बानर सेना समान) ग्रहों के समूह ऐस्टेरौयद की सहायता से पृथ्वी पर पशु आदि जगत को भी चला रहे हैं अनंत काल से...
    हमारे पूर्वज खगोलशास्त्री ही नहीं, सिद्ध पुरुष थे...यानि ऑल राउंडर जिन्होंने मानव को मिटटी का पुतला जाना, अर्थात ग्रहों के सार से बना...:)

    ReplyDelete
  38. दिव्या जी , आपका क्षुब्ध होना अपनी जगह ज़ायज़ है ।
    वैसे जैसा मैंने बताया , मैंने यह पोस्ट दो साल पहले लिखी थी । और अंत में लिखा सवाल ज़वाब एक जोक था ।

    जहाँ तक ब्लोगिंग का सवाल है --लोग किसी के कहने से ब्लोगिंग शुरू तो करते हैं , लेकिन जारी रखना या छोड़ना एक स्वैच्छिक प्रक्रिया है । कोई किसी को मज़बूर नहीं कर सकता छोड़ने के लिए । इसी तरह टिप्पणी भी स्वैच्छिक है । अक्सर लोग लेखक को देख कर टिप्पणी करते हैं । लेकिन हम तो टिप्पणी तभी करते हैं जब लेख पसंद आए या समझ आए । किसी मज़बूरी में कभी नहीं करते ।

    ReplyDelete
  39. रचना जी , बेशक ऐसा भी होता है ।
    लेकिन जहाँ बुराइयाँ होती हैं , वहां अच्छाइयां भी होती हैं ।
    क्यों न बुराइयों को नज़रअंदाज़ करें और अच्छाइयों को अपनाएं ।

    ReplyDelete
  40. वैसे डॉक्टर साहिब, एक दृष्टिकोण से देखा जाए तो क्या टाटा अपने लिए लोहा बना रहे है?

    मैं तो यह कहूँगा कि सभी 'सरकारी' ही हैं, और जनता के द्वारा चुनी हुई सरकार / योजना आयोग के माध्यम से ही विभिन्न सैक्टर में - पञ्च वर्षीय योजनाओं के अंतर्गत - देश की प्रगति हेतु अपना अपना योगदान दे रहे हैं (?)...

    ReplyDelete
  41. आपने अच्छा विश्लेषण किया है ब्लोगिंग का...
    और टिप्पणियों में भी बढ़िया विचार-मंथन हुआ है.

    अपने विचार दूसरों तक सरलता से पहुंचाने का ब्लोगिंग से बढ़कर और कोई माध्यम नहीं.

    ReplyDelete
  42. डॉक्टर साहिब, मैंने रचना जी के ब्लॉग में नीचे दी गयी टिप्पणी छोड़ी है... आपके चिंतन हेतु भी इसे दे रहा हूँ...

    **आपने डॉक्टर दराल के ब्लॉग में लिंक दिया तो आपके ब्लॉग के इस पोस्ट पर पहली बार आना हुआ, पहले की पोस्ट बिना पढ़ें...

    आपके ब्लॉग के आभासी जगत में पांच वर्ष आनंद उठाने की ख़ुशी में मुझे भी (एक शुद्ध 'टिप्पणीकार', दूध में मक्खी समान, की हैसियत से) आपको बधाई देते प्रसन्नता हो रही है...

    इससे याद आता है कि एक अन्य आभासी जगत भी है,,, चलचित्र के 'मायावी' कहलाये जाने वाले जगत का...
    वहाँ भी संयोगवश (?) 'वास्तविक जगत' में मानव / पशु आदि जीवन के ही विभिन्न काल और स्थान पर विभिन्न दृष्टान्तों पर आधारित फिल्म बनती चली आ रही हैं, किन्तु मात्र १००+ वर्षों से ही, जहां पहले ख़ुशी का मान दंड होता था कि पिक्चर कितने सप्ताह किसी शहर / हॉल में चली, और वर्तमान में मान दंड केवल बॉक्स ऑफिस है - कितना करोड़ कमाया पहले हफ्ते में ही, भले ही वो कोई 'अश्लील' फिल्म ही क्यूँ न हो, जिसका आनंद 'शरीफों' ने भी उठाया हो... और उसी भांति ब्लॉग जगत में अधिकतर मान दंड है कि कितनी टिप्पणियाँ पायीं (?)!

    और वास्तविक माने जाने जगत में भी आज मान दंड हो गया है कितना माल कैसे भी कमाया (और स्विस बैंक में जमा किया?)...
    सोचने वाली बात यह है कि कहीं यह भी वास्तविक जगत न हो कर, वास्तव में आभासी जगत ही तो नहीं है ??? (शेक्सपियर ने भी कुछ ऐसा ही कहा था न?)...

    "जय भारत माता, जगदम्बा"!**

    ReplyDelete
  43. ब्लोगिग की जितनी तारीफ की जाए कम हैं ...वैसे हर चीज़ के दो पहलु तो होते ही हैं ..जहा अच्छाई हैं वहाँ थोड़ी बुराई होना लाजमी हैं ..पर मुझे हर चीज़ अच्छी ही मिली ...नमन ब्लोगिग को ? भविष्य उज्जवल हैं इसका ..

    ReplyDelete
  44. सदी का श्रेष्ठतम अविष्कार....
    जी दराल जी ब्लोगिंग सदी का श्रेष्ठतम अविष्कार ही है ....और हम खुशनसीब हैं कि हम शुरूआती दौर के ब्लोगर हैं ....
    क्या पता कल ये अपनत्व हो या न हो ....
    बहरहाल ब्लोगिंग ने हिंदी का प्रचार खूब किया ....यहाँ कइयों ने शुद्ध लिखना सिखा ...कइयों ने कविता लिखने की शुरुआत ही यहाँ से की .....shayad ब्लोगिंग डिप्रेशन भी कम करती है ....क्यों....?
    आपकी पोस्ट पर टिप्पणियाँ भी मजेदार होती हैं .....

    दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...

    मुझे तो आज तक समझ नहीं आया कि ये ब्लागरी क्या चीज है? चार बरस से लिख रहा हूँ। कभी पीछे मुड़ कर देखता हूँ तो आश्चर्य होता है कि क्या यह मैं ने लिखा था?
    हा...हा...हा...
    यही तो ब्लोगिरी है ....कभी कभी इतना अच्छा लिखवा जाती है की खुद हैरान होना पड़ता है ....
    दुसरे जो अपनत्व और स्नेह यहाँ मिलता है उससे भी लिखने का हौंसला बढ़ता है....
    @
    जहां चार से ज़्यादा ब्लॉगर मौजूद... शांति...बीच-बीच में कराहने की आवाज़ें...एंबुलेस में सारे ढोए जा रहे हैं...

    हा...हा...हा....
    मुझे तो महफूज़ साहब की याद आ गई खुशदीप जी ....

    @ "सेवा वो भी करता है जो केवल घूरता है",
    जे सी साहब ये सेवा हमें पहली बार पता चली .....(ब्लॉग जगत से नई जानकारी ......:)))
    अब अगर कोई घूरेगा तो समझूंगी सेवा हो रही है .....:))
    राम नाम सत्य है'
    मुर्दा बेटा मस्त है"!

    ReplyDelete
  45. मुहब्बत का फैलता संसार है
    सदी का श्रेष्ठतम आविष्कार है।
    अरविन्दजी आपकी आँखिन देखी सदैव ही जीवन्तता लिए होती है .सार्थक और सटीक भी .बहुत सही विश्लेषण और सूक्ष्म व्यंग्य प्रस्तुत है इस रिपोर्ट में ,सामने वाला चाहे तो समझे .आपकी ब्लोगिया दस्तक और निरंतर श्रेष्ठ लेखन के लिए ब्लोगिंग आपका आभार है .

    ReplyDelete
  46. वीरुभाई जी , चचा क्या बात है ? कहीं पे निगाहें , कहीं पे निशाना !

    ReplyDelete
  47. हरकीरत जी, "सुन्दरता देखने वाले की आँख में होती है"...
    सेवा आदमी करता है भगवान् की या शैतान की :)

    ReplyDelete
  48. हरकीरत जी , बहुत ध्यान से सारी टिप्पणियां पढ़ी हैं आपने ।
    बेशक ब्लोगिंग के ये फायदे तो हैं ।
    लेकिन अपनत्व क्यों ख़त्म होगा ?

    ReplyDelete
  49. वाकई गजब का हरफन मौला आविष्कार है ... बेहतरीन पोस्ट...आभार

    ReplyDelete
  50. सही कहा आपने कि ब्लागिंग एक रोग है जिसकी दवा लुकमान तो क्या डॉ.दराल के पास भी नहीं है :)

    ReplyDelete
  51. हर हाल में एक रोग ही है यह....

    ReplyDelete
  52. आज का सबसे ज्वलंत प्रश्न यही है कि ब्लोगिंग-लेखन कैसा हो? शुरू में तो कई लोग शौकिया यह काम करते हैं फिर ज़बरिया होने लगता है.क्या लिखना न लिखना यह तो व्यक्तिगत निर्णय है पर ऐसा कुछ हो जो मनोरंजन या सामाजिक-हित की थोड़ी बहुत आपूर्ति करता हो !बिलकुल निजी या वाहियात प्रसंगों से बचना चाहिए !

    ReplyDelete
  53. सही कह रहे हैं संतोष जी ।
    लेकिन एक आध लोग ऐसे हैं जो समझाने पर भी नहीं समझ रहे ।
    उल्टा समझाने वाले को ही लपेट रहे हैं । शायद उन्हें भी कभी सद्बुद्धि मिले ।

    ReplyDelete