Saturday, March 12, 2011

गोवा चित्रगीत --कैमरे की नज़र से ---अंतिम किस्त ....

गोवा यात्रा की अंतिम कड़ी में , आज प्रस्तुत हैं कुछ तस्वीरें --कुछ कहती हुई ।



लौट आई है इन पर , फिर से नई जवानियाँ ---



सागर किनारे , दिल ये पुकारे , तू जो नहीं तो मेरा , कोई नहीं है ---



दिल का सूना साज़ , तराना ढूंढेगा , मुझको मेरे बाद जमाना ढूंढेगा --- ( डोना पावला )



ये जो मोहब्बत है , ये उनका है काम -- अरे महबूब का जो , लेते हुए नाम ,मर जाएँ , मिट जाएँ ---



हाए रे हाए , ये तेरे हाथ में मेरा हाथ , रहे दिन रात , तो फिर क्या बात ---



कहीं दूर जब दिन ढल जाए , साँझ की दुल्हन बदन चुराए ---





किसका है ये तुमको इंतजार , मैं हूँ ना ---




दो बेचारे , बिना सहारे ---



आजा शाम होने आई ---


सूरज हुआ , मध्यम मध्यम ---

नोट : इसके साथ ही यह प्रकरण पूरा हुआ । कुछ अन्य तस्वीरें --चित्रकथा --पर उपलब्ध रहेंगी



43 comments:

  1. बहुत खूबसूरत चित्र और सटीक टिप्पणियाँ ..

    ReplyDelete
  2. अद्भुत ..आपका प्रकृति प्रेम उजागर होता है इन चित्रों से ..यूँ ही आप आनद लेते रहें इस प्रकृति का और हमें भी उसकी जानकारी देते रहें ..आपका आभार

    ReplyDelete
  3. ध्यानातीत करती चित्र वीथिका -गीतिका!
    अब चित्र वीथिका पर भी आँख सेंकने जाता हूँ -

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर चित्र डाक्टर साहब ,(एक चित्र अपनी पसंद का तो विशेष पसंद आया :) ) काफी समय हुआ गए, पर वहाँ का एअरपोर्ट बहुत गंदा है ! अगर समय की ख़ास दिक्कत न हो तो गोवा में "बीच " इलाके के अलावा सह्याद्री हिल साइड ( यह महाराष्ट्रा के बोर्डर की तरफ पड़ता है ) भी शांत और रमणीय स्थल है, मगर ग्रुप में जाना ही वहाँ उचित है !

    ReplyDelete
  5. वाह डाक्टर साहब हमेशा जवान रहना तो कोई आपसे सीखे। इस पोस्ट को पढ़कर, चित्रों को देखकर तो बस यही कहने का मन हो रहा है...

    तेरे शहर का मौसम बड़ा सुहाना लगे
    मैं एक शाम चुरा लूँ अगर बुरा न लगे।
    ..किसने कहा है याद नहीं आ रहा पर बड़े काम का शेर है।

    ReplyDelete
  6. बहुत खूबसूरत चित्र....
    २ गिलास और बियर पड़ी है फिर भी दो बेचारे ???

    ReplyDelete
  7. तस्वीरों की गहराई सागर से भी गहरी हैं !

    ReplyDelete
  8. डॉ दाराल , बस इतना ही कहूँगी , मुझे भी फोटोग्राफी सिखा दीजिये। Impressed हूँ आपके इस हुनर से।

    ReplyDelete
  9. धन्यवाद द्विवेदी जी , रजनीश जी , संगीता जी , केवल राम जी ।
    अरविन्द जी , कोई हिंदी शब्कोष बताएं । आपकी टिप्पणियां भी हमारे लिए तो एक हिंदी का टेस्ट हो जाती हैं । :)

    गोदियाल जी , दूधसागर फाल्स जाने का वक्त ही नहीं निकल पता । इसके लिए पूरा दिन चाहिए । फिर ग्रुप का फिट होना भी ज़रूरी है । बस इसीलिए इस बार भी छोड़ना पड़ा।

    पाण्डे जी , ज़वान तो उतना ही होते हैं जितना आप खुद को सोचते हैं । बस मस्त रहिये , फिर देखिये कैसा लगता है ।
    रजनीश जी --२ गिलास और बियर पड़ी है फिर भी दो बेचारे ??? इसीलिए तो बेचारे :)।

    ज्ञानचंद जी , गहराई नापने के लिए शुक्रिया ।

    दिव्या जी , गिर गिर कर ही सवार होते हैं । किसी पोस्ट में यह भी ।

    ReplyDelete
  10. वाह सारे ही चित्र लाजवाब हैं यानि आप एक मंजे हुये फ़ोटोग्राफ़र भी हैं?
    रामराम.

    ReplyDelete
  11. काव्यमयी चित्र प्रस्तुती बहुत सुन्दर रही.घर बैठे मुफ्त की सैर हो गयी.

    ReplyDelete
  12. सुंदर चित्र। अच्छा हुआ इधर सुनामी का फिरा नहीं रहा :)

    ReplyDelete
  13. @दो बेचारे ???

    भाई साहब, दो नहीं तीन हैं जी :)

    ReplyDelete
  14. बहुत बढ़िया नजारे!
    फोटोग्राफी भी बहुत बढ़िया है!

    ReplyDelete
  15. बहुत खूबसूरत चित्र और सटीक टिप्पणियाँ .

    ReplyDelete
  16. सुन्दर चित्रों की मनभावन प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  17. इन सुन्दर चित्रो के साथ गीतो की यह पक्तियाँ लाजवाब हैं

    ReplyDelete
  18. बहुत ही सुंदर चित्र, ओर दो बेचारे तो बहुत मासूम लगे.

    ReplyDelete
  19. वाह फोटो के साथ यात्रा संस्मरण .. दो बेचारो के साथ गोवा.. उम्दा..

    ReplyDelete
  20. बहुत सुन्दर चित्र...उम्दा गीत टिप्पणियों में.

    ReplyDelete
  21. सागर किनारे , दिल ये पुकारे , तू जो नहीं तो मेरा , कोई नहीं है -...

    ):):

    ReplyDelete
  22. ताऊ तारीफ कर रह्या सै के सवाल पूछ रह्या सै ?
    धन्यवाद काजल जी , माथुर जी ।
    प्रशाद जी , पहाड़ों में सुनामी नहीं आती ।
    ललित भाई तीसरा तो घणा ए दूर था ।
    शास्त्री जी ,सुनील जी , सुशील जी , शरद जी , समर जी -गानों का शौक बचपन से रहा है ।

    आए हाए भाटिया जी , मार सुट्या ।
    डॉ नूतन आपका स्वागत है ।
    हीर जी , शुक्र है आप मुस्कराई तो सही ।
    धन्यवाद वाणी जी ।

    ReplyDelete
  23. @ डाँ. दराल साहब

    मैं तो तारीफ़ कर रहा था. प्रश्नवाचक इसलिये लगाया था क्योंकि विश्वास नही हो रहा था कि एक डाक्टर इतनी खूबसूरत फ़ोटो शूट कर सकता है. जो जनता को मनोरम लगे. कारण कि डाक्टर जो फ़ोटो खींचते हैं और जो फ़ोटॊ उन्हें समझ आती हैं वो जनता को "काला अक्षर ताऊ की भैंस" बराबर (एक्सरे, सोनोग्राफ़ी, सीटी स्केन) लगती है. वाकई आपकी खींची हुई सभी फ़ोटोज बेहतरीन हैं और उनमे से कई तो ताऊ ने मार भी ली हैं जो आगे कभी काम में लेगा.:)

    रामराम.

    ReplyDelete
  24. हिंदी शब्‍दकोश के अलावा अगर चाहें तो यह भी तलाश लें कि जवानी और जमाना में नुक्‍ता होगा या नहीं.

    ReplyDelete
  25. हा हा हा ! रामपुरिया जी , वे फोटो तो सब डॉक्टरों को भी कहाँ समझ आती हैं । कभी कभी तो कहना पड़ता है कि भाई सीधा तो पकड लो ।

    कॉपीराईट किसी पर भी नहीं है भाई , जितनी चाहे मार लो । बाकि-- चित्रकथा--( दूसरा ब्लॉग ) पर हैं ।

    ReplyDelete
  26. शुक्रिया राहुल जी , आपकी नुक्ताचीनी से भी कुछ तो सीखने को मिला । :)
    गलती सुधार दी गई है ।
    वैसे फोटो देखकर आनंद आया कि नहीं ?

    ReplyDelete
  27. यह तो दुनिया का आठवा आश्चर्य हो गया डॉ. साहेब !
    उम्दा तस्वीरों के साथ -साथ मनपसंद गाने भी ! वाह ! क्या बात है--

    " किसका है ये तुमको इन्तजार में हु न" ?

    सबसे खूबसूरत चित्र और गीत --100% पास ! फोटूग्राफी में भी और गीतकारी में भी ? बधाई--- :)

    ReplyDelete
  28. खूबसूरत चित्र ....दो बेचारे ....हा हा हा !!!

    ReplyDelete
  29. दो खाली ग्लास..हाय हम क्यों न हुए...खैर मज़ाक एक तरफ़...

    डॉक्टर साहब जापान में जो हुआ उसे देखकर यही सोच रहा था कि वहां भूकंप-सुनामी के ख़तरों को देखते हुए सभी लोगों को खास ट्रेनिंग मिली होती है...बच्चे-बच्चे को पता होता है कि आपदा आने पर किस तरह स्थिति से निपटना है...वहां का इन्फ्रास्ट्रक्चर इतना मजबूत है कि भूकंप का कम ही असर होता है...इसके बावजूद कुदरत ने रौद्र रूप धारण किया तो कैसी तस्वीर दुनिया के सामने आई...मौतों की संख्या कम से कम रही...अब यही आपदा खुदा न खास्ता कभी भारत के तटीय इलाकों में आए या भूकंप से मैदानी इलाके कांपने लगे तो स्थिति कैसी भयावह होगी...हमारे देश में डिसास्टर मैनेजमेंट ट्रेनिंग जैसी कोई व्यवस्था या सिस्टम मौजूद नहीं है...इस पर भी कुछ लिखें...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  30. सूरज हुआ मध्यम, चाँद छुपने लगा.

    यह संगीतमय चित्रावली बहुत उम्दा रही. अपने तो गोवा का कोना कोना सुंदर चित्रों से दिखा दिया. अगली बार कहाँ जा रहे हैं?

    ReplyDelete
  31. ):):

    दो, चार और नौ सबसे अच्छी लगीं .....

    दो बेचारों की चाबी किधर है .....?

    ReplyDelete
  32. फिल्म समारोहों के अलावा,गोवा गलत कारणों से ही चर्चा में रहता है। मगर आपकी तस्वीरें कुछ और बयां कर रही हैं।

    ReplyDelete
  33. गोवा के मनोहारी सजीव चित्र
    और उस पर
    आपकी ओर से लिखे गए वाक्य
    लगने लगा
    कि
    पढने वाले भी आप ही के साथ वहीं घूम रहे हैं
    वाह डॉ साहब .... कमाल !!

    ReplyDelete
  34. "हम बोलेगा तो बोलोगे कि बोलता है"...
    मेरा भारत महान है! किन्तु इंडिया परेशान है क्यूंकि ९९% आज बेइमान है (कलियुग में?!)!
    भारत ने संसार को शून्य दिया गर्व से कहते हैं हम,,,किन्तु शून्य से घबड़ाता है आज इंडिया! (डा साहिब ने 'गीता' का सार भी पढाया था!)
    क्या यह (पूर्व) में 'उगते सूरज की भूमि' का नसीब अथवा प्रकृति है कि (डूबते सूरज की दिशा वाले देश) के अणु बम यहीं गिरे और अब (डूबते सूरज के समय?) रेडिएशन का खतरा फिर पलट के यहीं है,,,चेर्नोबिल के खतरे की घंटी के बाद भी!
    जय हिंद!

    ReplyDelete
  35. १०० % पास ! शुक्रिया दर्शन जी ।

    हमारे देश में डिसास्टर मैनेजमेंट ट्रेनिंग जैसी कोई व्यवस्था या सिस्टम मौजूद नहीं है...
    ऐसा भी नहीं है खुशदीप भाई । १९९९ में हम भी कोल्कता में यह ट्रेनिंग करके आए थे । यह अलग बात है कि हमारी तैयारी में कमी रह सकती है ।

    अगली बार --रचना जी दिल्ली में ही क्यों नहीं । देखते रहिये ।
    हीर जी , लास्ट फोटो सबसे बेहतरीन है । सूरज समुद्र में डूब रहा है या उग रहा है , लहरों में प्रतिबिम्ब देखकर पता ही नहीं चलता ।

    राधारमण जी , कुछ तो लोग कहेंगे ही । लेकिन ऐसा वैसा कुछ नहीं है जो कहीं और नहीं है ।

    धन्यवाद दानिश जी ।
    जे सी जी , इंसान प्रकृति के आगे बौना हो जाता है । और क्या कहें ।

    ReplyDelete
  36. आपका कैमरा सच में बोलता है डाक्टर साहब ... कहीं पॉल न कॉल दे घर में .... बच के रहना ...

    ReplyDelete
  37. देर से पहुंचा लेकिन दरुस्त पहुंचा.
    जितनी खूब तसवीरें उतने खूबसूरत गीत.
    दराल साहिब ,आपकी फोटोग्राफी का जवाब नहीं.
    जिंदादिली का भी नहीं.
    पिछली पोस्ट में कोल्ड ड्रिंक बीयर की बोतल जैसा लगा.
    पीने वाले सब जानते हैं.
    सलाम .

    ReplyDelete
  38. नासवा जी , यह पॉल कौन है ? बचकर रहना पड़ेगा ।

    @ sagebob said...

    गोवा में बियर भी कोल्ड ड्रिंक ही होती है ।

    ReplyDelete
  39. हिन्दू मान्यता के अनुसार, हमारे औसतन १२ घंटे की तुलना में, ब्रह्मा का एक दिन हमारे चार अरब वर्ष से भी अधिक लम्बा होता है, और उसके उपरांत उतनी ही लम्बी उसकी रात भी छा जाती है, यानि उसका भी सूरज, (हमारे वाला ही?) अंततोगत्वा एक दिन ढल जाता है,,,आराम करता है,,, और शायद तब पृथ्वी पर हिमयुग छा जाता है! किन्तु माया के कारण (उगता और डूबता सूरज एक सा लगने के कारण?) यह नहीं पता चलता कब ब्रह्मा का दिन समाप्त होगा, यद्यपि हम, आधुनिक बुद्धिजीवी, उसके हमारे जीवन में हर एक दिन के उगने और डूबने का सही हिसाब पहले से ही लगा पाते हैं!

    ReplyDelete