Thursday, December 9, 2010

जो दोस्त मुसीबत के वक्त काम न आये , क्या वह दोस्त कहलाने के लायक है ?


वैसे तो थोडा बहुत आलसी हम सब होते हैं । लेकिन भला कोई इतना अलसी भी हो सकता है !


दो दोस्त एक जामुन के पेड़ के नीचे लेटे हुए थे। पेड़ पर पकी हुई जामुनें लगी थी , जो हवा के झोंके के साथ टप टप गिर रही थी । दोनों दोस्त बड़े आलसी थे । इसलिए मूंह खोलकर लेटे हुए थे ताकि कोई जामुन मूंह में गिरे तो खा लें । लेकिन जामुनें थी कि कोई यहाँ गिरे कोई वहां , बस मूंह में ही नहीं गिर रही थी ।


इतने में एक दोस्त बोला --यार तू कैसा दोस्त है । दोस्त वह होता है जो वक्त पर काम आये । इतनी अच्छी अच्छी जामुनें गिर रही हैं । तुझसे इतना नहीं होता कि कुछ जामुन मुझे खिला दे।



दूसरा दोस्त बोला --छोड़ यार । दोस्त वह होता है जो मुसीबत में काम आए । अभी अभी वो कुत्ता मेरे कान में पेशाब कर के चला गया । तुझसे इतना भी नहीं हुआ कि उसे भगा देता ।


अब उन दोस्तों की ये बातें एक सज्जन पुरुष खड़े सुन रहे थे । उन्हें उनके आलस्य पर बड़ा तरस आया । उसने दो जामुन उठाई और दोनों के मूंह में एक एक डाल दी ।


अभी वह चलने ही लगा था कि दोनों एक साथ चिल्लाये --अबे रुक , मूंह से गुठली कौन निकालेगा ?


मित्रो, सुख हो या दुःख , दोस्तों की ज़रुरत हमेशा रहती है ।


लेकिन जो दोस्त मुसीबत के वक्त काम न आये , क्या वह दोस्त कहलाने के लायक है ?


नोट : उपरोक्त लतीफ़ा ओशो रजनीश के सौजन्य से ।




43 comments:

  1. दराल साहब आपने लिखा कि जो दोस्‍त मुसीबत में काम नहीं आए वो दोस्‍त कहलाने के काबिल नहीं। लेकिन उन दो दोस्‍तों को जामुन खिलाना दोस्‍ती निभाना था क्‍या? हा हा हा हा।

    ReplyDelete
  2. bilkul sahee kahaa daraal saaheb.

    ReplyDelete
  3. आपने तो बहुत सुन्दर लिखा..बधाई.
    'पाखी की दुनिया' में भी आपका स्वागत है.

    ReplyDelete
  4. हा हा हा...
    Friend in need is friend indeed.

    ReplyDelete
  5. ... ab kyaa kahen ... kuchh to dostee ke naam par kalank ... !!!

    ReplyDelete
  6. बिल्कुल नही।
    ISI PAR KAL MAINE LIKH HAI

    ReplyDelete
  7. राज कोई भी हो ,
    दिल में छुपा कर रखिए |
    नजदीकी दोस्तों कि भी
    नहीं है इतनी अच्छी ,
    रिश्ता कोई भी हो ,
    फासले बना कर रखिए |

    ReplyDelete
  8. जो दोस्त मुसीबत के वक्त काम न आये , वह सच्चा मित्र नहीं हो सकता है .... आभार

    ReplyDelete
  9. जो दोस्त मुसीबत के वक्त काम न आये , वह मित्र नहीं हो सकता है .... आभार

    ReplyDelete
  10. हा हा हा ! अजित जी , इसीलिए मेरा मानना है कि नेकी भी सोच समझ कर ही करनी चाहिए ।

    ReplyDelete
  11. सब झगड़ा गुठली निकालने का ही तो है

    ReplyDelete
  12. जी हाँ डा .सा ;
    जब आवश्यक हुआ तो डा .(चिकित्सक ) से संपर्क भी किया और उनकी पूरी -पूरी सुनी भी. मेरे लिखने का आशय यह नहीं था कि,चिकित्सक को ओवर -लुक किया जाए.
    मित्रता के सम्बन्ध में आपका आलेख सही व्यंग्य है.धन्यवाद.,

    ReplyDelete
  13. एक आलसी ब्लॉगजगत में भी हैं उन्हें बताना बहुत जरूरी है ! गिरिजेश राव सुन रहे हैं ......

    ReplyDelete
  14. bada hi achha wishay hai....
    ab dekhiye na main bhi musibat mein hoon...
    मैंने अपना पुराना ब्लॉग खो दिया है..
    कृपया मेरे नए ब्लॉग को फोलो करें... मेरा नया बसेरा.......

    ReplyDelete
  15. जब दोस्ती बिना किसी अपेक्षा के की जाए,तभी सच्चे दोस्त मिलना संभव!

    ReplyDelete
  16. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  17. Dr. shaheb mujhe hamesha sachhe dost hi mile he jinhone hmesa meri madadt ki hai, unke liye-

    "Dosti mousm ni-jo apni muddat puri kre, aur rukhasat ho jaye!
    Dosti saawan nahi- jo tuth ke barse or tham jaye!
    Dosti aag nahi- jo sulge or bujh jaye!
    Dosti aftab nahi- jo chamake or dub jaye!
    Dosti phool nahi- jo khile or murjhaye!
    Dosti toh saans hai- jo chale toh sabkuch- or tuth jaye toh kuch bhi nahi!"

    ReplyDelete
  18. अंग्रेज़ी कहावत तो प्रसिद्ध है ही ........... A friend in need is friend indeed :)

    ReplyDelete
  19. जब दो दोस्त अलग अलग मुसीबत में हो तब कौन किसका साथ दे और कैसे???? हा हा हा

    ReplyDelete
  20. सहमत हे जी आप की बात से

    ReplyDelete
  21. भाई दोस्त अगर सच्चा एक भी मिल जाए तो इंसान धनवान हो जाए लेकिन आज के युग मैं दोस्ती भी ज़रुरत का नाम है.

    ReplyDelete
  22. आपका आलेख सही व्यंग्य है.धन्यवाद.दोस्त दोस्त ना रहा!

    ReplyDelete
  23. मुसीबत में ही असली दोस्तों की पहचान होती है ...बिना सोचे समझे मदद भी नहीं करनी चाहिए ..

    ReplyDelete
  24. रजनीश एक ग़ज़ब तार्किक मस्तिष्क था
    ...बहुत साल पहले मैं चार-छ: कैसेट का एक सैट खरीदा था

    ReplyDelete
  25. दोस्त को चाहिये कि आलस्य बढ़ाये नहीं ,मिटा दे ।

    ReplyDelete
  26. दर्शन कौर जी , आपने बहुत सही लिख है । इसे हिन्ही में लिख देता हूँ , सभी के लिए -

    दोस्ती मौसम नहीं , जो अपनी मुद्दत पूरी करे और निकल जाए
    दोस्ती सावन नहीं , जो टूट के बरसे और थम जाए
    दोस्ती आग नहीं , जो सुलगे और बुझ जाए
    दोस्ती आफ़ताब नहीं , जो चमके और डूब जाए
    दोस्ती फूल नहीं , जो खिले और मुरझा जाए

    दोस्ती तो सांस है , जो चले तो सबकुछ --और टूट जाए तो कुछ भी नहीं ।
    आभार इस सुन्दर रचना के लिए ।

    ReplyDelete
  27. जब दो दोस्त अलग अलग मुसीबत में हो तब कौन किसका साथ दे और कैसे?
    रचना जी , वाकई बड़ा मुश्किल सवाल है ।
    शायद कुछ ऐसा ही ---
    दिल बहल तो जायेगा , इस ख्याल से
    हाल मिल गया तुम्हारा , अपने हाल से ।

    वैसे मैंने देखा है मुसीबत के समय दुश्मन भी एक दूसरे का साथ देते हैं । यही मानवीय प्रवृति है ।

    ReplyDelete
  28. गनीमत है मामला गुठली निकालने तक रहा :-)

    ReplyDelete
  29. Dhanyavad Dr saheb, bimari ki vajay se jo bed- rest docter ne kaha tha usne computer sikha diya. likhne ka shook purana tha jaldi hi Hindi mein likhna sikh lungi.Prayaas jaari hai.

    ReplyDelete

  30. बेहतरीन पोस्ट लेखन के बधाई !

    आशा है कि अपने सार्थक लेखन से,आप इसी तरह, ब्लाग जगत को समृद्ध करेंगे।

    आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है-पधारें

    ReplyDelete
  31. बढ़िया चुटकुला!

    दोस्ती की बात चलती है तो अधिकतर कृष्ण और सुदामा की दोस्ती का कई बार उदाहरण दिया जाता है: एक शक्तिशाली और परम ज्ञानी राजा (भगवान्?) और एक गरीब ब्राह्मण (भाग्यवान!) जो बचपन में मित्र थे (यानि जो तब 'मायावी संसार' से जुड़े न थे, जिस कारण काल से संभवतः परे!)...

    ReplyDelete
  32. जो दोस्त मुसीबत के वक्त काम न आये , वह सच्चा मित्र कैसे हो सकता है..

    ReplyDelete
  33. आपकी यह रचना कल के ( 11-12-2010 ) चर्चा मंच पर है .. कृपया अपनी अमूल्य राय से अवगत कराएँ ...

    http://charchamanch.uchcharan.com
    .

    ReplyDelete
  34. इसे कहते हैं...ऊँगली पकडाने पर हाथ पकड़ने का प्रयास करना

    ReplyDelete
  35. लगता है ओशो का अस्‍सीवां जन्‍मदिन है
    तभी तो इतनी प्‍यार बात
    आलसियों का खुलवा दो ब्‍लॉग
    और बतला दो टिप्‍पणियां आई हैं
    तुरंत उठकर, नेट खोलकर, ऐसे बैठेंगे
    कि इंटरनेटीय आलसी कहलायेंगे
    जो नेट छोड़कर उठ नहीं पायेंगे
    या कह दो आप
    अविनाश मूर्ख है

    ReplyDelete
  36. धीरज, धर्म, मित्र अरु नारी।
    आपदकाल परखिए चारी।।

    ReplyDelete
  37. बहुत ही अच्छा.....मेरा ब्लागः-"काव्य-कल्पना" at http://satyamshivam95.blogspot.com/ ....आप आये और मेरा मार्गदर्शन करे...धन्यवाद

    ReplyDelete
  38. एक नवाब साहब ने भी खादिम रखा था...
    नवाब साहब के मुंह में खाना डाल कर खादिम अदब के साथ खड़ा हो गया...
    नवाब साहब ने ये देखकर खादिम के झन्नाटेदार रसीद किया और बोले...
    मेरा जबाड़ा कौन चलाएगा, तेरा बाप...

    जय हिंद...

    ReplyDelete