Tuesday, November 30, 2010

पहले ख़ुशी , फिर ग़म --हाईपरथायरायडिज्म------

परम आदरणीय डॉ. टी एस दराल जी
प्रणाम !
आशा है, श्रद्धेय पिताश्री के बिछोह के दुःख से उबरने का क्रम जारी होगा ।
अब फिर से दैनिक क्रिया क्रीड़ाओं में मन रमाएं … छोटे भाई के नाते यही निवेदन है …

शुभकामनाओं सहित

राजेन्द्र स्वर्णकार

शस्वरं


हालाँकि मन तो नहीं था , लेकिन अनुज राजेन्द्र स्वर्णकार के विनम्र निवेदन ने समय से पहले ही लिखने पर मज़बूर कर दिया । ऐसे में और क्या लिखता , इसलिए जो काम कर रहे हैं , उसी पर लिख रहा हूँ ।


सोचिये यदि आप डाइटिंग और कसरत द्वारा वज़न घटाने की कोशिश कर रहे हों , और वज़न कम न हो रहा हो । ऐसे में एक दिन निराश होकर आप दोनों काम करना छोड़ देंगे । फिर एक दिन आपको अहसास होता है कि --अरे वज़न थोडा कम हो गया ।
ऊपर से किसी ने कह दिया कि भई वाह क्या फिगर मेंटेन की है, तो आप फूलकर कुप्पा हो जायेंगे

लेकिन फिर और वज़न कम होने पर आपको थोड़ी चिंता होने लगती है कि बिना कुछ प्रयास किये वज़न कम क्यों हो रहा है ।
दूसरे भी अब कहने लगते हैं कि क्या बात है , बड़े कमज़ोर दिख रहे हो

जी हाँ , यह चिंताज़नक बात हो सकती है । क्योंकि हो सकता है , आप हाईपरथायरायडिज्म के शिकार हो गए हों ।


हाईपरथायरायडिज्म क्या है ?


यह थायरायड ग्रंथि की बीमारी है और हाइपोथायरायडिज्म का बिल्कुल उल्टा है । यानि इसमें थायरायड हॉर्मोन की मात्रा अत्यधिक बढ़ जाने से शरीर में कई विकार आ जाते हैं ।


हाईपरथायरायडिज्म के कारण :



अक्सर यह ऑटो इम्युनिटी की वज़ह से होती है । यानि शरीर में ऐसी थायरायड एंटीबोड़ीज बन जाती हैं जो हॉर्मोन की मात्रा को बढ़ा देती हैं । कुछ ऐसे भी रसायन होते हैं जो थायरायड को उत्तेजित करते हैं , ज्यादा हॉर्मोन बनाने के लिए ।

इस दशा को ग्रेव्ज डिसीज ( Graves desease) कहते हैं ।


इसके अलावा थायरायड में गांठ बन जाने से भी अधिक हॉर्मोन पैदा हो सकता है ।


लक्षण :

थायरायड हॉर्मोन की मात्रा अधिक होने से शरीर के सभी अंग उत्तेजित होकर तेजी से काम करने लगते हैं । इसलिए ऐसे लक्षण नज़र आ सकते हैं :-

* वज़न कम होते जाना ।
* अधिक भूख लगना ।
* नींद कम आना ।
* अधिक गर्मी लगना , अधिक पसीना आना ।
* घबराहट , दिल में धड़कन , हाथ कांपना ।
* आँखों में जलन और सूजन ।
* बाल पतले होकर झड़ना ।
* माहवारी का कम होना या रुक जाना ।

यदि आपको खूब भूख लगती है , फिर भी वज़न कम होता जा रहा है , गर्मी की अपेक्षा सर्दी अच्छी लगती है और घबराहट रहने लगी है , तो थायरायड की जाँच कराना भूलें

जांच :

१) रक्त की जांच ---फ्री टी- , फ्री टी- , टी एस एच ( हॉर्मोन बढ़ जाते हैं , टी एस एच कम हो जाता है )।

२) रेडियो एक्टिव आयोडीन अपटेक ( बढ़ जाता है ), और स्केन

उपचार :

अत्यधिक हॉर्मोन से होने वाली परेशानियों को दवाओं से कंट्रोल किया जा सकता है । लेकिन पूर्ण उपचार के लिए ये तीन विकल्प होते हैं :

) दवाएं --एंटी थायरायड दवाएं

आसान लेकिन असंतोषजनक ।
इनको १.५ से २ वर्ष तक लेना पड़ता है ।
ज़ाहिर है इलाज़ लम्बा होता है । छोड़ने के बाद दोबारा होने की सम्भावना रहती है । साइड इफेक्ट्स का भी खतरा रहता है ।

) ऑप्रेशन :

यदि थायरायड काफी बढ़ी हुई है , तो सर्जरी कराना सही रहता है ।
दोबारा होने की सम्भावना काफी कम रहती है ।
लेकिन सर्जरी के कॉम्प्लीकेशंस भी रहते हैं ।
हाइपो होने की सम्भावना ४०-५० % रहती है ।

) रेडियो आयोडीन थेरापी :

यह सबसे आसान और सुरक्षित इलाज़ है । बस एक बार रेडियो आयोडीन की दवा कैप्सूल या द्रव के रूप में दी जाती है और कुछ ही दिनों में सारे लक्षण ठीक होने लगते हैं ।
दोबारा होने की सम्भावना कम से कम होती है ।
हाइपो होने की सम्भावना अत्यधिक होती है । यानि बाद में आगे चलकर हॉर्मोन की कमी होने से परेशानी हो सकती है ।

लेकिन मात्र एक गोली रोज खाने से यह समस्या ख़त्म हो जाती है
आजकल यह तरीका सबसे ज्यादा प्रयोग में लाया जा रहा है

हालाँकि , कौन सा इलाज़ सही रहेगा , इसका फैसला तो डॉक्टर ही कर सकता है । फिर भी रोगी को भी उपचार का विकल्प दिया जाता है ।

नोट : इस रोग का उपचार किसी एंडोक्राइनोलोजिस्ट (endocrinologist) या न्यूक्लियर मेडिसिन स्पेशलिस्ट से ही कराना चाहिए

दिल्ली में इंस्टिट्यूट ऑफ़ न्यूक्लियर मेडिसिन एंड एलाइड साइंसेज ( इनमास ), लखनऊ रोड तिमारपुर में स्थित है , जहाँ देश भर से रोगी उपचार के लिए आते हैंयह देश का पहला न्यूक्लियर मेडिसिन इंस्टिट्यूट है




36 comments:

  1. पिता का देहावसान पुत्र के लिए किसी तुषारापात से कम नहीं होता,

    आपने ये सदमा झेला है . हम भी आपके दुःख में बराबर शरीक थे, बस प्रार्थना ही कर सकते थे दिवंगत आत्मा की सद्गति के लिए..........

    आप पुनः दैनंदिन जीवन में सक्रिय हुए हैं ये देख कर सन्तोष होता है

    आज का आपका आलेख बहुत ही सार्थक और काम का है

    बधाई मन से................

    ReplyDelete
  2. आलेख बहुत ही सार्थक, बधाई

    ReplyDelete
  3. मेरी पत्नि भी इस बीमारी का शिकार रह चुकी है, किन्तु उस अवधि में उसका वजन कम होने की बजाय बढने लगा था । करीब 20 से भी अधिक वर्ष पूर्व उसका आपरेशन करवाया था बाद में फिर यह समस्या तो सामने नहीं आई ।

    ReplyDelete
  4. इस बीमारी के बारे में आजकल बहुत सुनने में आता है.यहाँ विस्तृत जानकारी मिली .आभार.

    ReplyDelete
  5. इतने समय के बाद ब्लॉग पर आपको देख कर अच्छा लगा.आपकी आज की पोस्ट भी ज्ञानवर्धक है हमेशा की तरह. तीन चार साल पुरानी बात है मुझे तो हायपोथायरायड़ हुआ था और वज़न कम हो गया था. मेरा वज़न ५४ किलो ही रहता था फिर ५० हो गया फिर धीरे धीरे बढ़ा पर अब ५८ हो गया है थोडा कोलेस्ट्राल भी बढ़ा है. बच्चे हँसते मुझे मोटी मम्मी कहते है. पर क्या करें सब कुछ चलता ही रहता है थायरायड़ की एक गोली रोज़ लेती हूँ मस्त रहती हूँ

    ReplyDelete
  6. सुशिल जी , ऑप्रेशन से हाइपरथायरायडिज्म की समस्या ख़त्म होने से वज़न बढ़ता है । यदि हाइपो हो जाये तो बढ़ता ही रहता है । ऐसे में हॉर्मोन की गोली खानी पड़ती है ।

    रचना जी , अक्सर एक गोली से ही काम चल जाता है । ६ महीने से एक साल में एक बार टेस्ट करा लेना चाहिए ।
    बाकि तो मस्त रहें , यही सही है ।

    ReplyDelete
  7. डॊक्टर सा’ब, क्या आयोडायज़्ड नमक के सेवन से इससे बचा जा सकत है?

    ReplyDelete
  8. प्रशाद जी , आयोडीन युक्त नमक खाने से हाइपोथायरायडिज्म से बचा जा सकता है , हाइपरथायरायडिज्म से नहीं ।
    यह रोग तो स्वत : ही होता है ।

    ReplyDelete
  9. दराल सर
    आप वापस आए अपने रंग में ये सभी चाहते हैं। मैं कहना चाहता था पर मेरे लिए उचित नहीं था, क्योंकि दूख तो दुख होता है चाहे कोई हो। ऐसे में मेरे लिए पर उपदेश बहुकुशल तेरे वाला मुहावरा हो जाता। एक अच्छी जानकारी भरी पोस्ट के साथ आप आए इसके लिए साधुवाद।

    ReplyDelete
  10. मेरा t3 t4 tsh सब नार्मल है लेकिन मेरा वज़न बहुत है . खाता भी ज्यादा नही हूं . मेरी मा को थाइराइड था . ओप्रेशन के दौरान ज्यादा एनस्थिसिया के कारण उनकी म्रत्यु हो गई . और मेरी बेटी को भी यही परेशानी है . अभी थायरोनार्म १०० की गोली चल रही है लगभग दो साल से .

    ReplyDelete
  11. अपने ग़म से उबर कर जानकारी प्रदान के लिए बहुत आभार ...!

    ReplyDelete
  12. शुभ प्रत्यावर्तन !

    ReplyDelete
  13. एक बहुत ही बेहतरीन जानकारी दी है आपने दराल साहब... मैं खुद पिछले 4-5 माह से इस बीमारी से लड़ रहा हूँ...

    ReplyDelete
  14. डा. दाराल साहिब, आशा और विश्वास पर मानव जीवन टिका है...
    इसलिए परमात्मा से सुखद भविष्य की कामना करते आपको लाभदायक जानकारी प्रस्तुत करने के लिए धन्यवाद् !

    ReplyDelete
  15. आपको पुनः सक्रिय देख अच्छा लगा...
    बहुत ही विस्तृत जानकारी मिली....ज्यादातर लोगों को एक गोली रोज लेने वाला उपचार करते ही देखती हूँ.
    वैसे योगा यहाँ भी बहुत असरकारक है...कुछ आसनों को नियमित करने से बहुत फायदा होता है.

    ReplyDelete
  16. डा .साहेब ,
    आपने बहुत अच्छा किया की दुःख को भुलाकर जन -हित में यह आलेख दिया .दुःख -सुख तो आते जाते रहते हैं ;चलते रहेंगे.१९९५ में मैं भी १२ दिन के भीतर पिता -माता के निधन का सामना कर चूका हूँ.
    आप तो साहसी हैं कृपया पिताजी द्वारा किये जनोपयोगी कार्यों के संस्मरण दीजिये ,सब को लाभ होगा.

    ReplyDelete
  17. इस बीमारी के बारे में विस्तृत जानकारी मिली .आभार.

    ReplyDelete
  18. .

    डॉ दाराल ,

    इस दुःख के समय में आप हिम्मत से काम लें। आदरणीय पिताजी की यादें ही आपका संबल बनेंगी। इस उपयोगी एवं विस्तृत जानकारी के लिए आभार।

    .

    ReplyDelete
  19. आपने जीवन की इतनी झंझावातों के चलते
    हाईपरथायरायडिज्म की जानकारी सभी को दी है!
    आपके धैर्य का कोई जवाब नही!

    ReplyDelete
  20. शास्त्री जी , जीवन में झंझट तो चलते ही रहेंगे । इसीलिए मैंने सोचा कि अब इनसे निकला जाए ।

    धीरू सिंह जी , आपको हाइपोथायरायडिज्म है । इसलिए एक गोली रोज लेते रहें । लेकिन वज़न कम करने के लिए डाइटिंग और व्यायाम करना पड़ेगा ।

    ReplyDelete
  21. जानकारी युक्त पोस्ट ....आपने इस पोस्ट के माध्यम से काफी जानकारी दी है ...आभार

    ReplyDelete
  22. आदरणीय डा.दराल जी ,
    आपके धैर्य को नमन करता हूँ !
    इतनी ज्ञानवर्धक पोस्ट लगाने के लिए धन्यवाद !
    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

    ReplyDelete
  23. बहुत उपयोगी जानकारी है। धन्यवाद। आपका ब्लाग पर लौट आना सुखद लगा। शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  24. अभी ७ दिसंबर तक ऐसे ही लिखना पड़ेगा ।

    ReplyDelete
  25. थायरायड के बारे बहुत सी जानकारी मिली .....
    शुक्रिया .....

    जाने मुसीबत कभी अकेली क्यों नहीं आती--
    इधर एक और दुखद समाचार ....पाबला जी की माता जी भी नहीं रहीं .....

    ReplyDelete
  26. हरकीरत जी , उनका निधन १७ नवम्बर को हुआ था ।
    मैंने पाबला जी से बात भी की थी ।
    सब ऊपर वाले की माया है ।

    ReplyDelete
  27. उपयोगी जानकारी है। स्वास्थ्य-सबके लिए ब्लॉग पर कभी लिंक बनाने के काम आएगी।

    ReplyDelete
  28. बहुत ही उपयोगी जानकारी दी है ...आभार

    ReplyDelete
  29. लगातार वज़न कम होने का एक और कारण अगली पोस्ट में पढ़ें ।

    ReplyDelete
  30. सार्थक लेख है डाक्टर साहब ... धीरे धीरे सामाजिक जीवन में वापस आता है इंसान ... आपका प्रोफेशन तो वैसे भी बहुत त्याग मांगता है ... आपको वापस देख कर ख़ुशी हो रही है ...

    ReplyDelete
  31. pitaji ke nidhan per gehara afsos hai shrdhanjali! maine aapko naya naya join kiya hai.Aapki her post bahut upyogi lagti hai.Meri bhabhi ko bhi yahi bimari hai.Achanac vajan gir gaya tha.Chehra bhi kaala pad gaya tha.Issi beech accident hua or par ki 8-10 hadheya tot gayi.Operation se theek toh ho gayi per vajan abhi bhi kum hai.Roj ek goli khati hai.kya is bimari ka koi isthahi elaj hai ya nahi.

    ReplyDelete
  32. दराल सर,
    स्वर्णकार भाई ने जो बात कही, उसी को गीत में ढाल देता हू...

    नदिया चले, चले रे धारा,
    चंदा चले, चले रे तारा,
    ओ तुझको चलना होगा, तुझको चलना होगा...
    जीवन कहीं भी ठहरता नहीं है,
    आंधी हो या तूफान ये थमता नहीं है,
    तू ना चला तो चल दे किनारा,
    बड़ी ही तेज़ समय की ये धारा,
    ओ तुझको चलना होगा, तुझको चलना होगा...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  33. दर्शन कौर जी , आपकी भाभी जी को बहुत कष्ट झेलना पड़ा , अफ़सोस है ।
    आपकी टिपण्णी से यह साफ़ नहीं होता की उन्हें थायरायड की कौन सी बीमारी है --हाइपो या हाइपर ।
    हाइपो में वज़न बढ़ता है , हाइपर में घटता है ।
    एक गोली रोज हाइपो में लेनी पड़ती है ।
    आप चाहें तो मेरे इ-मेल पर परामर्श कर सकती हैं ।

    खुशदीप भाई , क्या बताएं -जंग अभी जारी है । आने वाली पोस्ट में पता चलेगा ।

    ReplyDelete
  34. DR Saheb, aapne meri dono tipaddi per apni rai di uske liye dhanyawad.Jald hi bhabhi ke baare mein aapko email karungi.

    ReplyDelete
  35. जानकारी भरी बढ़िया पोस्ट

    ReplyDelete