Thursday, March 11, 2010

विश्व गुर्दा दिवस पर जानिए , किडनी फेलियर के बारे में ---

डॉ पी कालरा --प्रिंसिपल , यू सी ऍम अस

अख़बारों की सुर्ख़ियों में किडनी कांड के बाऱे में तो आपने सुना ही होगाकभी कभी गलत तरीके से किया गया सही काम भी एक काण्ड बन जाता है

आज विश्व गुर्दा दिवस ( वर्ल्ड किडनी डे ) है।

आइये जाने , कैसे रोका जा सकता है , किडनी फेल होने को ताकि फिर कोई नकली डॉक्टर किडनी कांड करके पूरे चिकित्सा जगत को बदनाम न करे ।

हमारे शरीर में दो गुर्दे होते हैं , एक गुर्दे का वज़न औसतन महिलाओं में १३५ ग्राम और पुरुषों में १५० ग्राम के करीब होता है ।

गुर्दों का कार्य खून से विषैले और अवांछित पदार्थों को साफ़ कर मूत्र में वित्सर्जित करना होता है। इसके अतिरिक्त गुर्दे द्रव्यों का संतुलन , रक्तचाप का नियंत्रण , रक्त और विटामिन डी बनाने में भी सहायक होते हैं।

अब सोचिये , यदि यही गुर्दे फेल हो जाएँ , यानि काम करना बंद कर दें , तो क्या होगा।

गुर्दे फेल होने के लक्षण :

पैरों और मूंह पर सूजन

पेशाब की मात्रा में कमी

उलटी , सर दर्द, भूख गायब

खून की कमी

हड्डियाँ कमज़ोर

शरीर में खुजली

और अंत में ----जिंदगी की लड़ाई खत्म


क्यों होती हैं किडनी फेल ?

इसके मुख्य कारण है : डायबिटीज, हाइपर्तेन्शन (उच्च रक्त चाप ), गुर्दे में सूजन , पथरी
इसके अतिरिक्त गुर्दों के पैदाइशी या अनुवांशिक रोग , तथा कुछ दर्द निवारक दवाएं भी किडनी फेल होने का कारण बन सकती हैं।

किडनी फेल होने का पता कैसे चले ?

किडनी फेल होने का पता आपको चल ही नहीं पायेगा जब तक आप डॉक्टर के पास जांच नहीं करवाएंगे ।
जांच :

पेशाब की जांच ---पेशाब में प्रोटीन का आना

रक्त में यूरिया और क्रिएतिनिन का सामान्य से ज्यादा होना

पेशाब में लाल रक्त कोशिकाएं और पस सेल्स

हिमोग्लोबिन की कमी

रक्त में कैल्सियम , पोटासियम और फोस्फोरस की जांच

अल्ट्रासोनिक जांच ।

मूल रूप से किडनी फेल होने का पता बढे हुए यूरिया और क्रिएतिनिन से चलता है ।
पेशाब में अत्यधिक प्रोटीन का आना अच्छा लक्षण नहीं है।
एक बार किडनी फेल होने लगे तो क्या इलाज है ?

तीन विकल्प :

१) दवाइयों से इलाज़ , और परहेज़ ---इससे रोग को बढ़ने से रोका जा सकता है । डॉक्टर की सलाह लें।

) डायलिसिस ---यदि सीरम क्रिएतिनिन - से ऊपर चला जाता है , तो बिना डायलिसिस के काम नहीं चलता । यह दो प्रकार का होता है।

हिमोदायलिसिस : मशीन द्वारा खून की सफाई । सप्ताह में २-३ बार । खर्चा -२५०००-३०००० प्रति माह।

पेरिटोनियल डायलिसिस : इसे रोगी घर में ही स्वयं कर सकता है । लेकिन दिन में ३-४ बार करना पड़ता है।

) किडनी ट्रांसप्लांट : सबसे बढ़िया , लेकिन महंगा इलाज़। सरकारी अस्पताल में एक लाख और प्राइवेट में ३-४ लाख का खर्चा । लेकिन दवाइयाँ फिर भी खानी पड़ेंगी।

किडनी डोनर कोई भी हो सकता है लेकिन निकट सम्बन्धी ही सर्वोत्तम रहता है। वैसे डोनर कोई भी हो सकता है , यहाँ तक की मृत व्यक्ति भी , एक निश्चित समय अवधि में ।
किडनी फेल होने से बचाव कैसे किया जाये ?

डायबिटीज और बी पी का पूरा इलाज़ ।

नियमित रूप से डाक्टरी चेकअप और रक्त की जांच ।

खाने में नमक , चर्बी और प्रोटीन की मात्रा कम रखें।

धूम्रपान न करें।

नियमित व्यायाम करें। वज़न को कम रखें।

दर्द निवारक गोलियां बिना डाक्टरी सलाह के न लें।


याद रखिये , आरम्भ में किडनी फेलियर का इलाज़ सस्ता , शर्तिया और टिकाऊ है । देर होने पर महंगा , कष्टदायक और सीमित होगा।

आज विश्व गुर्दा दिवस के उपलक्ष में हमारे अस्पताल में एक लोकुप्योगी व्याख्यान का आयोजन किया गया । डॉ पी कालरा , प्रिंसिपल -यू सी ऍम एस ने बहुत ही सरल शब्दों में पब्लिक को इस महत्त्वपूर्ण विषय पर उपयोगी जानकारी दी।

कार्यक्रम की अध्यक्षता मेडिकल सुपेरिन्तेंदेंट डॉ यू सी वर्मा ने की।

इस अवसर पर डॉ श्रीधर द्विवेदी द्वारा संकलित एक लोक पुस्तिका का भी विमोचन किया गया ।

नोट : उपरोक्त जानकरी साभार सौजन्य से --डॉ ओ पी कालरा एवम डॉ श्रीधर द्विवेदी।



51 comments:

  1. डॉक्टर साहब,
    आज बड़े गुरुजी की छड़ी काम आई।
    और मेरे जै्से के लिये बहुत ही
    काम की जानकारी निकल कर आई।
    आपको बधाई हो बधाई।

    ReplyDelete
  2. सार्थक पोस्ट के लिए साथ मे एक पसंद भी

    ReplyDelete
  3. हमेशा की तरह सार्थक जानकारी वाला लेख

    ReplyDelete
  4. डॉ टी एस दराल जी बहुत सुंदर जानकारी दी आप ने हमारे यहां वेसे तो हर प्रकार की डां सहायता मिलती है, ओर मेरा चेक अप भी हर १५ दिनो बाद होता है, ओर साल मै एक बार बडा ओर मेन चेकअप भी होता है, उस चेक अप मे कभी कभी मेरे पेशाब मै खुन के कतरे आते है, यह करीब २०, २५ सालो से है, सभी चेक अप दोवारा करवाये, सब ठीक मिला, १९८३ मै मेरे दाये गुर्दे का एक बडा अप्रेशन हुआ था, जिस मै एक नली लगानी पडी थी, जो आज तक लगी है, क्या यह खुन के कतरे जो कभी कभी आते है ओर नंगी आंखो से नही दिखते क्या यह उसी के कारण है, वेसे मुझे आज तक कोई दिक्कत नही हुयी, सब कुछ समान्य है

    ReplyDelete
  5. किडनी जब फेल होती तो
    कितनी ही नकल मार लें

    पास नहीं होती है।
    सतर्क रहें और

    इसे फेल न होने दें।

    ReplyDelete
  6. बहुत उपयोगी जानकारी -धन्यवाद डाक्टर साहब !

    ReplyDelete
  7. अच्छी जानकारी. आप जैसे सलाहकार पा कर ब्लॉग जगत धन्य हुआ.

    ReplyDelete
  8. उपयोगी और संग्रह करने योग्य!

    ReplyDelete
  9. ललित जी , कभी कभी इतेफाक भी कमाल के होते हैं।

    भाटिया जी , पेशाब में खून आना सामान्य नहीं होता । माइक्रोस्कोपिक हिमेचुरिया ( खून जो आँख से न दिखे ) स्टोन की वज़ह से हो सकता है, हालाँकि उसमे दर्द ज़रूर होता है। फिर भी पूरी जांच से ही पता चल सकता है , इसकी वज़ह।
    ब्लड यूरिया और सीरम क्रिएतिनिन ज़रूर कराते रहना चाहिए ।

    अविनाश जी , सही कहा । पास हो भी जाये तो घर बार बिक सकता है।

    ReplyDelete
  10. "किडनी फेल होने का पता आपको चल ही नहीं पायेगा जब तक आप डॉक्टर के पास जांच नहीं करवाएंगे"
    यार डॉ
    बहुत बढ़िया और आम आदमी के काम का लेख.डाक्टरी भाषा से दूर , आम भाषा में लिखा यह लेख बहुत काम का है डॉ. दुःख यह है की आम आदमी इसका फायदा इन्टरनेट न होने के कारण आपका ब्लॉग का ना पढना होगा ! ईश्वर करे आप ऐसे लेख लिखते रहें !
    हार्दिक शुभकामनायें डॉ दराल !

    ReplyDelete
  11. और जानकारी दीजिए। हम सब लाभान्वित हुए हैं।

    ReplyDelete
  12. सतीश जी , ऐसे में रवीश जी काम आ सकते हैं।

    ReplyDelete
  13. आपकी टिपण्णी के लिए बहुत बहुत शुक्रिया! आपने सुन्दर शब्दों के साथ आखरी पंक्ति में चार चाँद लगा दिया और मैंने आपकी पंक्ति को अपनी शायरी में डाल दिया!
    बहुत बढ़िया लगा आपका ये पोस्ट! हमेशा की तरह महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त हुई! धन्यवाद!

    ReplyDelete
  14. गुर्दा दिवस पर बहुत ही सार्थक जानकारी!!धन्यवाद डाक्टर साहब

    ReplyDelete
  15. बहुत ही जनउपयोगी जानकारी दी हैं आपने, इसके लिए आपका हार्दिक आभार.
    धन्यवाद.
    WWW.CHANDERKSONI.BLOGSPOT.COM

    ReplyDelete
  16. अच्छी जानकारी . आयुर्वेदिक और होमेओपथिक दवाओं के असंतुलित प्रयोग से भी यह बीमारी बढ़ी है .
    कई अलोपथिक दवाएँ भी हैं जिनका उपयोग पश्चिम में बंद हो गया है लेकिन अपने देश में चल रही हैं जैसे निमुसलाइड

    ReplyDelete
  17. बहुत ही उपयोगी जानकारी दी है आपने , आभार ।

    ReplyDelete
  18. Ek tathyaparak, upyogi aur jankalyaankari post ke liye aabhar sir...

    ReplyDelete
  19. विश्व गुर्दा दिवस पर बहुत उम्दा जानकारीपूर्ण और उपयोगी आलेख. आपका आभार.

    ReplyDelete
  20. बहुत अच्छी जानकारी देकर अपने प्रोफेशन का मान बढ़ाने के लिए आभार ...

    क्या मृत्यु के 6-7 घंटे बाद किसी मृत शरीर की आँखों और कान से खून बह सकता है ..हाल ही में भाई ने ऐसा होता देखा ..वह बहुत चिंतित था कि कही किसी जिन्दा व्यक्ति का दाह संस्कार तो नहीं कर दिया ..क्या आप अपनी किसी पोस्ट में इस पर प्रकाश डालेंगे ...?

    ReplyDelete
  21. बहुत ही जानकारीपूर्ण आलेख है सर ...धन्यवाद
    अजय कुमार झा

    ReplyDelete
  22. ड़ॉक्टर साहब,

    एक बार एक सेल्समेन (मेडिकल रिप्रजेंटेटिव) गोवा घूमने गया...वहां उसे एक बोतल मिली....बोतल से जिन निकला...जिन ने सेल्समेन से कहा कि मैं तुम्हारी तीन इच्छाएं पूरी कर सकता हूं...लेकिन शर्त ये है कि जो तुम्हें दूंगा, उससे दुगना मुझे तुम्हारे प्रतिद्वंदी सेल्समेन को देना होगा...मांगो पहली चीज...सेल्समेन ने कहा...दस लाख डॉलर दे दो...तत्काल बैंक में दस लाख डॉलर पहुंच गए...प्रतिद्वंदी सेल्समेन के खाते में बीस लाख डॉलर पहुंच गए...

    अब दूसरी चीज मांगों...सेल्समेन ने कहा...फरारी कार...उसे फरारी कार मिल गई, प्रतिद्वंदी को दो फरारी मिल गई...

    तीसरी चीज....सेल्समेन ने कहा...मैं एक किडनी डोनेट करना चाहता हूं....प्रतिद्वंदी मर गया...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  23. बढ़िया जानकारी से परिपूर्ण सार्थक आलेख

    ReplyDelete
  24. बहुत ही काम की जानकारी दी है आपने डॉ. साहब!

    आशा ही नहीं विश्वास है कि भविष्य में भी यहाँ पर ऐसी ही अच्छी जानकारी मिलती रहेगी।

    ReplyDelete
  25. डा. दराल साहिब, बहुत लाभदायक जानकारी! धन्यवाद!

    खुशदीप जी का जोक, 'किडनी' की जगह 'आँख' लगा कर, बचपन में ही सुना हुआ था (फिर भी मैं हंस लिया :).

    बचपन से हम सुनते आये थे कि मानव शरीर में किडनी कि संख्या दो होती है, इस कारण जब हमने जाना कि हमारे पड़ोस में रहने वाली एक महिला की केवल एक ही किडनी है तो हमें आश्चर्य हुआ, और उसे भी हुआ था क्यूंकि कभी यह जानने की उनको आवश्यकता ही महसूस नहीं हुई थी!

    ReplyDelete
  26. हमेशा की तरह एक ज्ञानोपयोगी लेख अच्छा. लगा घर बैठे ऐसी जानकारी देने के लिए आभार .

    ReplyDelete
  27. आज फुरसत में आपका ब्लॉग पढ़ा, बेहतरीन जानकारी डा० साहब !

    ReplyDelete
  28. बेहतरीन लिखा आपने ...ज्ञानोपयोगी लेख
    ______________

    "पाखी की दुनिया" में देखिये "आपका बचा खाना किसी बच्चे की जिंदगी है".

    ReplyDelete
  29. आदरणीय

    आज विश्व गुदा दिवस ( वर्ल्ड किडनी डे ) है।

    यहां कीबोर्ड एक अक्षर खा गया है, कृप्या ठीक करें

    ReplyDelete
  30. डा. साहिब, 'भारत' में विशेषकर अपने जीवन काल में कई ऐसे अनुभव भी देखने को मिलते हैं जो मानव जीवन के एक अनजान और गुप्त पहलू पर भी प्रकाश डालता है,,,

    इसलिए मेरे एक मित्र की जुबानी सुने अनुभव पेश हैं आपकी भी सूचनार्थ ('मानो या न मानों' :) :

    उनके पिताजी को किडनी में पत्थर होने का अहसास कभी-कभी उठने वाले पेट में तीव्र दर्द के कारण होता था किन्तु वो भय के कारण ऑपरेशन के लिए तैयार नहीं होते थे...

    उनके सब रिश्तेदारों और मित्रों को यह मालूम था,,,इस कारण उनके एक दोस्त एक पुडिया ले कर आ गए और उनको बताया कि कैसे उनके घर एक 'रमता जोगी' आया था और उन्होंने उसे भोजन कराया तो खुश हो उसने उनसे कुछ अपने लिए मांगने को कहा,,,उनके मित्र ने कहा उन्हें अपने लिए कुछ नहीं चाहिए था पर यदि वो उनके मित्र के लिए कुछ कर सकें तो उन्हें प्रसन्नता होगी...

    मेरे मित्र (खुराना) ने कहा कि पिताजी को उस समय भी दर्द हो रहा था जिस कारण उन्होंने उस पुडिया का पावडर खा लिया, यह कहते हुए कि उससे वो ठीक हों या न हों, यदि वो विष भी हुआ तो उन्हें रोज- रोज के दर्द से तो मुक्ति मिल जाएगी!

    अगले दिन सुबह-सुबह जब उन्होंने मूत्र - विसर्जन किया तो उसके साथ छोटे-छोटे कंकड़ के टुकड़े भी निकलते चले गए और उनको दर्द से छुट्टी मिल गयी :)

    वो उसी समय उस मित्र के पास दौड़े-दौड़े गए और उस जोगी का पता माँगा तो मित्र ने कहा कि वो तो रमता जोगी था और उनका कोई स्थायी पता नहीं होता!

    ReplyDelete
  31. इस महत्त्व पूर्ण जानकरी के लिए बहुत बहुत धन्यवाद....
    नीरज

    ReplyDelete
  32. सब के लिये बहुत अच्छी जानकारी है। सही समय पर सही पोस्ट। धन्यवाद्

    ReplyDelete
  33. शुक्रिया अंतर सोहिल, त्रुटी सुधार दी है ।

    जे सी साहब, छोटे साइज़ की पथरी ज्यादा पानी पीने से निकल सकती है। शायद कुछ आयुर्वेदिक दवाएं भी फायदेमंद हो सकती हैं। लेकिन बड़े साइज़ की पथरी के लिए या तो ओपरेशन , पी सी अन अल या फिर लिथोट्रिप्सी की ज़रुरत पड़ती है।
    नीम हकीम बड़ी बड़ी पथरियां अपनी दुकान में सजाकर लोगों को भ्रमित करते हैं।

    रमता जोगी के बारे में क्या कहूँ ?

    ReplyDelete
    Replies
    1. डॉ टी स दराल साहिब
      मेरी भतीजी की दोनों किडनी ख़राब हो गई हैं किरपा डिटेल में बताये क्या करे क्योकि आर्थिक परेहानी भी हैं कोई सुझाव ,सलाह दीजिये
      रंधीर
      9034271120

      Delete
    2. दोनों किडनी खराब होने पर किडनी ट्रांसप्लांट ही है। लेकिन जब तक किडनी नहीं मिलती तब तक डायलिसिस से काम चल सकता है। यह सप्ताह में दो बार करना पड़ता है। लेकिन सरकारी सुविधाएँ सिमित हैं।

      Delete
  34. वाणी जी , म्रत्यु के बाद खून बहना संभव नहीं है। क्योंकि दिल नहीं धड़क रहा होता है। और बी पी भी जीरो होता है।
    वैसे भी आँख से खून निकलते तो कभी नहीं देखा। कान से खून सर की चोट में निकल सकता है , लेकिन म्रत्यु के बाद नहीं।

    जे सी जी , कभी कभी एक किडनी जन्म से हो सकती है और मनुष्य को पता भी नहीं चलता जब तक कोई जांच न हो। एक किडनी से भी भली भांति काम चल सकता है। किडनी ट्रांसप्लांट में भी तो एक ही किडनी ट्रांसप्लांट करते हैं।

    ReplyDelete
  35. डा. साहब आपका बहुत बहुत धन्यवाद ! आपने बहुत उपयोगी जानकारी दी ! काफी लोग अपना खानपान सुधार लेंगे ! डा .साहब
    प्रकृति पर एक कविता लिखी है !आपकी नजर चाहूंगी !

    ReplyDelete
  36. डा. साहिब, आप शायद मेरे साथ सहमत होंगे कि सब 'डॉक्टर' एक से 'पहुंचे हुए' नहीं होते,,,

    हमारी 'ख़राब तकदीर' कह लीजिये कि '७२-'७४ के दौरान मेरी पत्नी को पेट दर्द और कमजोरी के लिए सरकारी डॉक्टर गलत दवाई खिलाते रहे,,,और शायद तकदीर ही थी कि मेरे डॉक्टर साडू भाई यू पी (उस वक़्त कानपुर) में थे और मैं उनके सुझाव पर उसे वहां ले गया,,,और इलाज ठीक चल पड़ा...उनको आश्चर्य हुआ कि जिस टेस्ट से रोग का कारण वहां पता चला, दिल्ली, 'भारत कि राजधानी' (!) में उसी टेस्ट में 'एनऐडी' कैसे लिखा था?

    तकदीर या 'संयोग' ही कहिये कि उसी लैब में कई वर्ष बाद मेरे एक सहकर्मी मित्र को खून में चीनी कि मात्रा अधिक दिखाई गयी तो मैंने उसको सुझाव दिया कि किसी निजी लैब से टेस्ट करालो नहीं तो ऐसे ही दवाई खिलाना शुरू कर देंगे,,,और वहां 'नोर्मल' पाया गया तो जब डॉक्टर को दिखाया, उसने उसे दुबारा सेम्पल देने के लिए कहा तो अब रिपोर्ट सही बन गयी!

    इस कारण शायद हम किसी भी प्रणाली या व्यक्ति को बिना गहराई में गए नकार नहीं सकते...कई वर्ष पूर्व एम्स के एक मित्र डॉक्टर ने बताया था कि कैसे एपोलो मद्रास और एम्स में दिल के ऑपरेशन का 'फेल्यर रेट' १०% ही था, यद्यपि बहुत दिल्ली वाले मद्रास ही जाते थे...और यह भी कि कैसे हमारे देश में हस्पताल वैसे ही कम हैं और उस पर एम्स जैसे 'अच्छे' बहुत ही कम,,,जिस कारण बीमार अधिक है और उनका उपचार करने वाले डॉक्टर कम - हर मरीज़ को 'सही समय' नहीं मिल पाता...

    ReplyDelete
  37. सुन्दर प्रस्तुति....बधाई !!
    ______________
    सामुदायिक ब्लॉग "ताका-झांकी" (http://tak-jhank.blogspot.com)पर आपका स्वागत है. आप भी इस पर लिख सकते हैं.

    ReplyDelete
  38. ....प्रभावशाली व प्रसंशनीय जानकारी, आभार!!!!!

    ReplyDelete
  39. अच्छी जानकारी. बधाई !!

    ReplyDelete
  40. बहुत-बहुत बढिया जानकारी, वो भी इतनी सहज भाषा में. धन्यवाद.

    ReplyDelete
  41. बहुत ही जनउपयोगी जानकारी दी हैं आपने, इसके लिए आपका हार्दिक आभार.
    धन्यवाद.

    ReplyDelete
  42. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  43. बहुत ही सरल भाषा में उपयोगी जानकारी दी आपने....बिलकुल एक layman के समझ में आने लायक...निश्चय ही एक संग्रहणीय पोस्ट.

    ReplyDelete
  44. दराल जी आपके सवाल का जवाब पोस्ट में ही दे दिया है ......!!

    आप हम पाठकों के लिए मुफ्त में जो इतनी जानकारी दे रहे हैं ...आपके लिए श्रद्धा और बढ़ जाती है ....उस पे इतनी रोचक टिप्पणियाँ ....अविनाश जी भी कभी कभी कमाल का लिख देते हैं .....अभी कुछ दिनों पहले इन्हें आचार में ''ढाई सौ ग्राम का गला हुआ चूहा मिला''....था ....!!

    आपने जिस तरह सबकी जिज्ञासाओं का समाधान किया है काबिले तारीफ है .....!!

    ReplyDelete
  45. महत्वपूर्ण जानकारी...अब तो सतर्क रहना पड़ेगा.
    ____________
    भारतीय नववर्ष विक्रमी सम्वत 2067 और चैत्री नवरात्रारंभ पर हार्दिक मंगलकामनाएं.

    ReplyDelete
  46. डाक्टर साहिब ,सतीश सक्सेना जी ने बहुत सही लिखा है |"". दुःख यह है की आम आदमी इसका फायदा इन्टरनेट न होने के कारण आपका ब्लॉग का ना पढना होगा ""

    ReplyDelete
  47. बढिया जानकारी ।

    ReplyDelete
  48. अतिआवश्यक जानकारी मिली आपकी इस पोस्ट से...आभार

    ReplyDelete
  49. बहुत-बहुत बढिया जानकारी

    ReplyDelete