Saturday, November 21, 2009

आज हमें समझ आया ---क्यों उड़नतश्तरी वाले समीर लाल जी को हिन्दी ब्लोगिंग का बेताज बादशाह माना जाता है।

पिछली पोस्ट में मैंने एक मूर्ती दिखाकर पूछा था की ये मूर्ती किसकी है और कहाँ पर है।
आधे घंटे में ही शरद कोकास जी का ज़वाब आ गया की इसमे समीर लाल जी का नाम है, यानी ये एक हिंट है और मूर्ती अपने देश में तो नही। साथ ही लिखा की चंद सिक्कों के लिए, इस तरह की पोस्चर बदलने वाली मूर्तियाँ यहाँ भी बहुत पायी जाती हैं। अनायास ही कितनी गहरी बात कह गए शरद जी।

ये सच है की हमारे देश में जाने कितनी ही मूर्तियाँ ऐसी हैं, जो न सिर्फ़ पोस्चर बल्कि रंग बदलने में भी माहिर हैं। अफ़सोस तो इस बात का है की हम ख़ुद ही ऐसी प्रतिमूर्तियों की पूजा करते हैं, उनकी जय जयकार करते हैं और उनके गले में फूल मालाएं पहनते हैं

जाने कितने सिक्कों की भूख है, इन मूर्तियों को !

अरे अरे, हम तो खामख्वाह इमोशनल हुए जा रहे हैं। हमने तो कहा था की अब कुछ दिनों के लिए --नो सीरियस टॉक।
तो चलिए देखते हैं की श्री समीर लाल जी के कन्धों पर जो भार हमने डाल दिया था, उन्होंने कैसे संभाला।
जैसा की अपेक्षित था और हमें विश्वास भी था , समीर भाई तुरंत काम में जुट गए और एक घंटे के अन्दर पता लगा कर बता दिया की ---

ये कोई मूर्ती नही , बल्कि एक जीता जागता आदमी हैजिसका नाम है --Mes Aïeux rock
साथ ही उन्होंने पूरे लिंक भी दे दिए, जहाँ से पता चला।
और ये भी की, ये कनाडा के क्यूबेक शहर में हैं

आज हमें समझ आया ---क्यों उड़नतश्तरी वाले समीर लाल जी को हिन्दी ब्लोगिंग का बेताज बादशाह माना जाता है
समीर लाल जी एक बार दिल्ली आयें तो सही, हम उनको ताज भी पहना देंगे

जी हाँ दोस्तों, ये कोई मूर्ती नही बल्कि क्यूबेक की गलियों में तमाशा दिखाते एक कलाकार का फोटो है।
विशेष बात ये है की इसके सारे कपड़े, जूते, हैट, दस्ताने, चश्मे, सभी गोल्डन रंग के हैं, यहाँ तक की चेहरा भी गोल्डन पुता हुआ हैइसलिए इसे गोल्डन मैन कहा गया


पैरों के पास राखी है, दान पेटिका

अब ज़रा सोचिये, यहाँ हिन्दी फ़िल्म पा में अमिताभ बच्चन ने जो बूढ़े बच्चे का रोल किया है, सुना है उसके मेक-उप को लगाने में तीन और उतारने में दो घंटे लगते हैं। तो इस बेचारे को कितनी मेहनत करनी पड़ती होगी।
अब ऐ बी को तो इसके करोड़ों रूपये मिले होंगे, लेकिन ५०-१०० डालर्स के लिए ये बेचारा ---

खैर, ये नज़ारा था बहुत मजेदार। एक या दो डालर डालते ही वो ऐसी एक्टिंग करता था की मज़ा आ जाता था।

दोस्त क्यूबेक शहर पहले एक फ्रेंच शहर था। १३ सितम्बर १७५९ को इसपर इंग्लिश कब्ज़ा हुआ। १४० साल पहले कनाडा आज़ाद हुआ। इसलिए यहाँ आज भी फ्रेंच और ब्रिटिश , दोनों कल्चर एक साथ दिखाई देते हैं।

ये शहर सेंट चार्ल्स और सेंट लौरेंस नाम की नदियों के संगम पर बसा है


रोयल प्लेस के सौमंडे हाउस की दीवार पर बनी ये पेंटिग १७ ओक्टोबर १९९९ में बनाई गई थी। इससे बड़ी पेंटिंग मैंने आज तक नही देखी।




फ्रेच स्टाइल की एक गली का नज़ारा। पत्थर की दीवारें और पेवमेंट . जुलाई और अगस्त की गर्मियों में यहाँ सैनानियों का जमावड़ा लगा रहता है और तरह तरह के सर्कस, तमाशे और कलाकार अपनी कला का पर्दशन करते नज़र आते हैं।

यह शहर , टोरोंटो से करीब ८०० किलोमीटर की दूरी पर है और ईस्टर्न हाइवे से मोंट्रीयल होते हुए पहुँचा जा सकता है।
लेकिन सबसे माज़ेदार अनुभव रहा, क्यूबेक में बंगला देशी रेस्तरां में बैठकर गरमा गर्म रोटियां खाना, आलू मटर और पनीर के साथ
सच कहा है की , आलू और अब हिन्दुस्तानी , संसार के हर कोने में मिल जाते हैं

26 comments:

  1. very interesting post of u, there are variety in u r writing.....nice

    ReplyDelete
  2. bahut achchi lagi yeh jaankari......

    aadarniya sameerji..... ko naman.....

    ReplyDelete
  3. उस्ताद हैं समीर जी

    ReplyDelete
  4. हा! हा! हा! डा. दराल जी, यह सच है कि हर आदमी ही एक प्रकार से चलती फिरती 'बहुरूपिया कृष्ण' की मूर्ती ही है - पापी पेट के कारण मजबूर नहीं तो भगवान् :)

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर पोस्ट बधाई

    ReplyDelete
  6. वाह वाह !

    डॉ साहेब आनन्द आगया ........
    बहुत ही खूबसूरत पोस्ट और रोचक भी.........

    ReplyDelete
  7. जानकारी भी उम्दा दी है आपने, बधाई स्वीकारें.

    ReplyDelete
  8. धन्यवाद डॉ. साहब और समीर भाई को भी बहुत बहुत बधाई । यह पोस्ट पढ़कर याद आया कि चेन्नई मे गोल्डन बीच पर एक व्यक्ति प्राचीन दक्षिण के राजाओं की वेष्भूषा मे इसी तरह बिना हिले डुले मूर्ति की तरह खडा रहता है । और एक व्यक्ति और है जो सिल्वर कलर पोतकर गान्धीजी बनकर ऐसे ही चौराहों पर खड़ा रहता है ..हमारे देश में भी ऐसे कलाकार हैं । हाँलाकि असली नेताओं के आगे कहाँ लगते है बेचारे .. ।

    ReplyDelete
  9. दराल सर,
    ऐसे ही कोई मान लिया था समीर जी को मैंने ब्लॉगिंग के अपने पहले दिन से ही गुरुदेव...वैसे उनके दिल्ली आने पर पगड़ी तो मैंने भी पहनानी है...अब डॉक्टर साहब ये मैं और आप टॉस कर लेते हैं... ताज के ऊपर पगड़ी...या पगड़ी के ऊपर ताज...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  10. Dr. saab aisa ek photo maine bhi yahan ek aur moorti bane shaksh ka nikala hai jo kafi der tak moorti ki tarah shant khada rahta tha aur jab koi achanak uske paas se nikalta to jor se hello bol ke use dara deta.. bas uski body pe golden ke bajaye silver color tha.. aur mera ek Hyderabadi dost to uske hello ko sun ke 1 fit uchhal gaya tha.. wo seen kabhi nahin bhool sakta jindagi me...
    aap chahen to wo tasveer bhi aapko send kar doonga
    ise to dekh ke jinda aadmi hone ka doubt bhi hota hai lekin use dekh ke pahichaan karna aasan nahin.. :)
    Jai Hind...

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर पोस्ट

    ReplyDelete
  12. डा. दराल जी ~ जैसा मैंने पहले भी कहा था, मुझे, और आपको भी अवश्य मालूम होगा कि मानव मस्तिष्क एक कंप्यूटर ही है, लोहे के कंप्यूटर की तुलना में हाड-मांस का बना....

    मैं अपने पूर्वजों के मन को पढने का प्रयास कर रहा हूँ...और मैं यहाँ पर कुछ ही शब्दों में कहूँगा कि मैंने जाना कि उन्होंने हड्डी का सार लाल रंग को माना, और आम आदमी के लिए लाल रंग माँ काली ('कृष्ण' यानी काला) की जिव्हा का द्योतक दर्शाया...और इसी प्रकार, हरे रंग को मांस का सार, और कहना नहीं होगा 'हरि' विष्णु या 'हर' यानि शिव का ...पापी पेट को तो 'आधुनिक' डा. भी समझ सकते हैं सफ़ेद रंग क़ी किरणों के 'सार' वाले सूर्य के द्योतक सामान, (जिसके भीतर सब अन्य रंग भी छिपे हुए हैं, और अन्धकार को मिटाने वाला है), क्यूंकि सदियों से इसे 'solar plexus' कहते आये हैं...और मानव शरीर को उन्होंने सौर मंडल के सदस्यों के सार से मिला जुला कर बना एक मॉडल :)

    ReplyDelete
  13. वाकई समीर लाल जी का जवाब नहीं ...मैने 'ताऊ डॉट इन' में भी उनका कमाल देखा है..
    और आपका भी डा० साहब
    हमेशा की तरह ग्यानवर्धक जानकारी
    धन्यवाद।

    ReplyDelete
  14. Ye badhiya post rahi. Hume bhi khojne me maja aaya. Naam khojna pada magar Quebec me dekha tha yah turant jaan gaye the. Baaki to sab aap logon ka hi sneh hai, jo naam de den. Delhi aane kaa to besabri se intezaar hai. :)

    ReplyDelete
  15. यात्रा करानें के लिये धन्यवाद।

    ReplyDelete
  16. डा साहब पहली फ़ुर्सत में आपसे मिलना है ..कहिए कब फ़्री हैं...अपने एलियन जी तो हैं ही बाद्शाह ..इसमें क्या शक है

    ReplyDelete
  17. स्वागत है समीर भाई। आपका इंतज़ार रहेगा।
    खुशदीप भाई , ये होनर आपके लिए सुरक्षित रखा है।
    दीपक, भेज दो। अच्छा लगेगा।
    शरद जी, आभार .

    ReplyDelete
  18. अजय भाई, हम तो कबसे आखें बिछाए बैठे हैं।
    हर हफ्ते आपका लेख पढ़ते हैं, लक्ष्मी नगर वाले गुप्ता जी के अखबार में।
    हमारा पूरा अता पता आपको मिल जाएगा ---डब्ल्यू डब्ल्यू डब्ल्यू डोट कविसंगम डोट कोम में ।
    वैसे कभी भी जी टी बी हॉस्पिटल में पधारें या संपर्क करें।

    ReplyDelete
  19. कनाडा यात्रा के लिए धन्यवाद

    ReplyDelete
  20. वाकई समीर लाल जी का जवाब नहीं है . मै भी जबलपुर का वाशिंदा होने के नाते उनसे व्यक्तिगत रूप से मिल चुका हूँ .उनके बहुआयामी व्यक्तित्व और कृतित्व से परिचित हूँ .....

    ReplyDelete
  21. डा. साहब, बीच बीच में आप जो यात्रा करा देते हैं न.
    सच कहें बहुत मजा आता है. जब चाहे आपसे मिल सकते हैं G.T.B. में. सिर्फ मरीज थोड़े न जाते हैं अस्पताल में.
    वैसे क्या होगा जब डाक्टर(आप) और मरीज(हम) दो हास्यकवि मिलेंगे. हा हा हा...इंतिजार है...

    - सुलभ

    ReplyDelete
  22. सुलभ, आप के सात रंगों के बारे मे जानकार अच्छा लगा.
    हास्य मे दिलचस्पी है तो, एक काम की बात हमसे सीखने के लिए एक बार ज़रूर मिलें.

    ReplyDelete
  23. बहुत ही खूबसूरत और रोचक पोस्ट .......

    ReplyDelete
  24. सीरियस ब्लॉग्गिंग के बाद आपका ये ज़रा हट के वाला अंदाज़ भी पसंद आया...

    ReplyDelete