Saturday, April 16, 2011

हाय ओ रब्बा --- नइयो लगदा --दिल मेरा ---बैसाखी विशेष.

बैसाखी के अवसर पर लिखी पिछली पोस्ट पर आप सब की शुभकामनाओं के लिए दिल से आभार । उनका भी जिन्होंने इ-मेल के ज़रिये अपनी शुभकामनायें भेजी । और विशेष तौर पर पाबला जी , खुशदीप भाई और राजेन्द्र स्वर्णकार जी का , जिन्होंने फोन कर बात कर शाम को यादगार बना दिया ।

उधर निर्मला कपिला जी ने स्नेहपूर्ण शिकायत की कि इस अवसर पर तो सब ब्लोगर्स को पार्टी देनी चाहिए थी । डॉक्टर्स बड़े कंजूस होते हैं

इस पर डॉ अमर कुमार ने प्यार भरी झिड़की लगाई कि भाई क्यों पूरी बिरादरी की नाक कटवाते हो । कुछ करते क्यों नहीं ।

ऐसे में हमें अपना CSOI याद आया । हमने तुरंत इवेंट्स मेनेजर को फोन मिलाया और कहा कि भाई कुछ करो , बिरादरी की इज्ज़त का सवाल है ।

और उन्होंने भी तुरंत आयोजन कर डाला --एक गीतों भरी शाम का जिसमे बैसाखी पर भांगड़ा पेश किया गया ।

अब हमने तो सब को निमंत्रण दे दिया था लेकिन समय की कमी के रहते पहुँच कोई नहीं पाया । समीर लाल जी की भी तीन में से एक भी पार्टी नहीं हो पाई ।

लेकिन प्रत्यक्ष में न सही आभासी ही सही , चलिए आपका स्वागत करते हैं इस पार्टी में ।

भवन को खूबसूरती से सजाया गया था , रेड कारपेट के साथ



एक तरफ बार टेबल लगी थी , जूस पीने के लिए



दूसरी तरफ स्टेज तैयार थी , डांस और गाने के लिए



पेड़ों को भी दुल्हन की तरह सजाया गया था



और यहाँ खाने की टेबल्स लगी थी



लेकिन खाना बाद में , पहले भांगड़ा हो जाएवैसे जींस पहने हुए युवा सरदारों को देखकर ही मस्ती जाती हैउस पर मस्ती भरे गीत --वाह वाह


video


अंत में एक गीत -हाय रब्बा --- नइयो लगदा --दिल मेरा --

video


सुनकर जाने क्यों श्रीमती जी सीरियस हो गईशायद एक मां को बच्चों की याद गईआखिर पहली बार ऐसा हुआ था कि ऐसे अवसर पर बच्चे साथ नहीं थे





लेकिन यदि पति डॉक्टर होने के साथ साथ हंसोड़ हास्य कवि भी हों तो भला पत्नी क्या ज्यादा देर सीरियस रह सकती है
हमने भी जाने क्या सुनाया कि वो खिलखिला पड़ी

और हमें हमारी ही लिखी वो कविता याद गई --वो हंसती हैं तो खिल उठते हैं खुशबू लिए बत्तीस किस्म के फूल

और इस तरह एक हरियाणवी युवा युगल ने पंजाबी भांगड़े और गीतों के साथ बैसाखी मनाई

42 comments:

  1. आदरणीय डॉ दराल जी
    नमस्कार !
    ..............बहुत ही सुंदर तस्वीरे है
    शादी की सालगिरह बहुत -बहुत मुबारक हो मिसेस दराल को भी यह दिन आपकी जिन्दगी में हमेशा आए आप दोनों एकसाथ मिलकर मनाऐ

    ReplyDelete
  2. भवन को बहुत ही खूबसूरती से सजवाया है डॉ साहब
    .......बैसाखी की हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  3. बैसाखी की पार्टी है या वैवाहिक वर्षगांठ की । सब तैयारियां बिल्कुल परफेक्ट लग रही है । जीवन्त पार्टी के आभासी स्वरुप में बैसाखी के साथ ही मेरिज एनिवर्सरी की भी आपको पुनः अनेकानेक बधाईयाँ...

    ReplyDelete
  4. आप भी क्या कमाल करते हैं डॉक्टर साहब
    हंसाते हंसाते निहाल करते हैं डॉक्टर साहब
    हमारे लिए तो बीरबल की खिचड़ी पकातें हैं
    हवा हवा में ही शानदार पार्टी मनातें है
    इस सुन्दर प्रस्तुति से बस दिल को लुभातें हैं
    शादी की सालगिरह इसी तरह तो मनातें हैं.
    डॉक्टर साहिबा की सुस्ती,चुटकी में भगातें है
    प्रभु से प्रार्थना है ,नजर न लगे आपकी युगल जोड़ी को
    जुग जुग अमर प्रेम बना रहे.
    वैशाखी की बहुत बहुत हार्दिक बधाई.

    ReplyDelete
  5. इतनी बढ़िया पार्टी के लिए बहुत बहुत धन्यवाद डाक्टर साहब !

    ReplyDelete
  6. वाह आपने तो बहुत जीवन्त चित्र लगाए हैं!

    ReplyDelete
  7. सुव्हान अल्लाह ..बहुत बहुत बधाई एक बार फिर. ऐसी करोणों सालगिरह साथ मनाये आप दोनों.

    ReplyDelete
  8. रोचक और मंगलमय.

    ReplyDelete
  9. वाह! देखकर ही लग रहा है की बहुत बढ़िया पार्टी रही होगी....

    ReplyDelete
  10. यह तो विशेष बन गयी वैशाखी -बधाई और शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  11. बैसाखी की और शादी की वर्षगांठ पर हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  12. बैसाखी की हार्दिक बधाई


    क्या डॉक्टर साहब, अभी भी ३ पार्टी पर अटके हैं..पेनाल्टी कौन भरेगा? :)

    ReplyDelete
  13. शादी की सालगिरह बहुत -बहुत मुबारक,वैसे हम बहुत नाराज हे हमे क्यो नही बुलाया इस पार्टी मे, हम ने तो नया सुट भी खरीदा था स्पेशल इस पार्टी के लिये, पुरानी टाई के संग:)

    ReplyDelete
  14. वाह ... पार्टी तो बहुत ज़ोरदार ठी ...बस एक बात जानना चाहती ठी कि आखिर आपने श्रीमती जी को क्या सुनाया जो बत्तीस तरह के फूल खिल गए ? :):)

    एक बार फिर बधाई

    ReplyDelete
  15. हार्दिक शुभकामनायें आपको !!

    ReplyDelete
  16. हा हा हा ! समीर जी , आप सूद ( पेनाल्टी ) सहित जोड़ते जाइये । हमें आपके गणित पर भरोसा है ।
    राज जी बुलाते तो ज़रूर लेकिन क्या करें हमें समझ नहीं आया कि उस वक्त जर्मनी में कितने बजे थे ।
    संगीता जी , यह तो राज़ की बात है , ऐसे कैसे बता दें । :)

    ReplyDelete
  17. हार्दिक शुभकामनाएं.

    वो हंसती हैं तो खिल उठते हैं खुशबू लिए बत्तीस किस्म के फूल

    बहुत खूब,जनाब.

    ReplyDelete
  18. वाह आज तो आपने बढ़िया सैर करा दी. धन्यवाद.

    ReplyDelete
  19. सुंदर पार्टी के लिए धन्यबाद. चित्र देखकर ही मन आनंदित हो गया. आज भाभी जी के दर्शन भी करा दिये आपने. वैशाखी की शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  20. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (18-4-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  21. वाह! पढ़कर, देखकर ही आनंद आ गया।...बहुत बधाई।

    ReplyDelete
  22. `एक तरफ बार टेबल लगी थी , जूस पीने के लिए '

    जूस..... हद है कंजूसी की :)

    ReplyDelete
  23. हा हा हा ! प्रशाद जी , जूस में आप कुछ भी मिला सकते हैं ।

    ReplyDelete
  24. बहुत खूब, शुभकामनाये पुनश्च: !

    ReplyDelete
  25. म्हारी पार्टी तो बाकी रह ही गयी
    नेट से दूर रहने का फ़ल मिल गया।:)

    शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  26. ♥ आदरणीया भाभीजी ♥
    सहित
    ♥ प्रिय डॉ.टी एस दराल भाईजी ♥

    बहुत आनन्द आया आपकी इस शानदार पार्टी में शामिल हो'कर …

    एक बार फिर बधाई !
    जीवन में खिलता रहे , बारह मास बसंत !
    ख़ुशियों का सुख-हर्ष का , कभी न आए अंत !!


    * Happy Marriage Anniversary*

    आगामी 727 वर्षों तक आपका दाम्पत्य जीवन हंसी-ख़ुशी से परिपूर्ण रहे…

    * हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं !*


    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  27. वाह ! डॉ. साहेब,शादी की दावत में तो मज़ा आ गया--क्या रंगीन बैशाखी मनाई आपने --टु -इन -वन --बधाईया--

    ReplyDelete
  28. वैशाखी और वैवाहिक वर्षगाँठ , दोनों की पार्टी शानदार रही ..
    शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  29. dr. daral
    baisakhi ki mangal kamana
    baisakhi ke sath bhangara ka mel achha laga , ager ithas bhi nal yad aata to bahut achha lagata
    nayi fasal ka aagaj ,ugane wale ke hanth.
    sadhuvad ji .

    ReplyDelete
  30. दराल सर और भाभीश्री की मेहमाननवाज़ी का आनंद मैंने तो एडवांस में ही ले लिया था...प्री-एनिवर्सरी पार्टी में...

    अब पोस्ट-एनिवर्सरी पार्टी का लुत्फ़ गुरुदेव समीर जी को भी शरीक कर ले लिया जाएगा...(चाहे वर्चुअली ही सही)

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  31. डॉ दराल जी,
    पार्टी शानदार आभास ही इतना रोचक है कि पार्टी में शामिल होने का आनन्द आ गया...
    शादी की सालगिरह और बैसाखी...दोनों की हार्दिक बधाई.

    ReplyDelete
  32. अजी साथ-साथ तो एक फोटो खिंचवा लेते। भाभीजी को भी हमारी बधाइयां दीजिएगा। पुन: बधाई।

    ReplyDelete
  33. बहुत शानदार पार्टी रही....बहुत बहुत शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  34. आप सब का बहुत बहुत आभार ।

    ReplyDelete
  35. .

    डॉ दराल ,

    वैशाखी और वैवाहिक वर्षगाँठ के लिए बधाई एवं शुभकामनायें । जानदार और शानदार पार्टी है। उदास चेहरों पर मुस्कान बिखेरना कोई आप से सीखे। इज्ज़त भी रख ली आपने बिरादरी की । सुन्दर एवं मनमोहक चित्रों के लिए आभार ।

    .

    ReplyDelete
  36. काश हमें पता होता तो हम भी शामिल हो जाते असलियत में ... भाई हम तो उस वक़्त दिल्ली में थे ... मज़ा आ गया आपकी पार्टी देख कर ...

    ReplyDelete
  37. वैवाहिक वर्षगाँठ के लिए बधाई एवं शुभकामनायें ...

    ReplyDelete
  38. नासवा जी , पहले बताते
    तो आपको ज़रूर बुलाते ।

    चलिए फिर सही ।

    ReplyDelete
  39. एक बंगाली मित्र के घर पहुँच उसने पाया कि वो सूखा भात (चावल) खा रहा था!
    उसने जब कारण पूछा तो जवाब मिला "ये भात और वो माँछ" ! (पड़ोस से मछली पकने की खुशबू आ रही थी!)
    हमने भी मुंबई में बैठे वैसे ही 'जूस' का आनंद उठा लिया!
    फिर से बधाईयाँ !

    ReplyDelete
  40. आद. दराल जी ,
    क्षमा चाहती हूँ वक़्त पर आ नहीं सकी ....
    वर्षगाँठ की ढेरों शुभकामनाएं ....
    बहुत अच्छा लगता है आपको यूँ ख़ुशी के बहाने दूढ़ते देख ....
    जिन्दादिली तो कोई आपसे सीखे ......

    ReplyDelete