Tuesday, January 13, 2015

ज्यादा बोलने की आदत तो हमे है नहीं ...


एक दिन एक महिला बोली ,

डॉक्टर साहब , मेहरबानी कीजिये ,
और कोई अच्छी सी दवा दीजिये ! 

मेरे पति रात मे बहुत बड़बड़ाते हैं ! 
लेकिन वो क्या बोलते हैं, हम समझ नहीं पाते हैं ! 

हमने दवा लिख कर कहा, यदि आप ये दवा सुबह शाम लेंगे, 
तो आपके पति अवश्य ही नींद मे बड़बड़ाना बंद कर देंगे ! 

वो बोली नहीं डॉक्टर साहब , आप फीस भले ही दुगना कर दें ,
लेकिन दवा ऐसी दीजिये कि वो साफ साफ बोलना शुरू कर दें !

उनके बड़बड़ाने से हम बिल्कुल भी नहीं घबराते हैं ,
लेकिन पता तो चले कि वे नींद मे किस को बुलाते हैं ! 

हमने कहा बहन जी , हमारी दुआ उनके लिये है , 
लेकिन ये दवा उनके लिये नहीं, आपके लिये है ! 

हम आपके पति का हौसला बिना दवा के ही बुलंद कर देंगे , 
आप उन्हे दिन मे बोलने दें , वे रात मे बड़बड़ाना खुद ही बंद कर देंगे ! 

10 comments:

  1. मजेदार....स्वस्थ हास्य लिये सुंदर अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  2. सराहनीय पोस्ट
    सक्रांति की शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया जी . आपको भी शुभकामनाएं .

      Delete
  3. वाह जी वाह ... मस्त हास्य ... और वो भी आपके प्रोफेशन से जुड़ा हुआ ... क्या बात है ...
    मकर सक्रांति की शुभकामनायें ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपको भी शुभकामनाएं .

      Delete
  4. अरे वाह मस्त हास्य ...... मज़ा आया डाक्टर साहब

    ReplyDelete