Sunday, September 15, 2013

रंग जो लाई हैं दुआएं , अब उतरने न पाए --

ब्लॉगिंग और फेसबुक की जंग में फेसबुक जीतता नज़र आ रहा है. इसका कारण है लगभग सभी ब्लॉगर्स का फेसबुक की ओर प्रस्थान करना।  हमने जान बूझकर फेसबुक पर भी अधिकांश ब्लॉगर्स को ही मित्र बनाया है. लेकिन सभी ब्लॉगर मित्र फेसबुक पर नहीं हैं , इसलिए उनके लिए प्रस्तुत हैं , फेसबुक पर प्रकाशित कुछ एकल पंक्तियाँ जो कम शब्दों में ज्यादा बात कह रही हैं :
   
* अब तो अडवाणी जी को भी समझ आ गया होगा कि भा ज पा में सिर्फ कुंवारे ही पी एम बन सकते हैं !

   यह अलग बात है कि यह फ़ॉर्मूला अब उनके मुख्य प्रतिद्वंद्वी भी अपना रहे हैं.  

* कभी कभी ऐसा लगता है , कि हम इस समाज में रहने योग्य ही नहीं !        
                                                                                                
  लेकिन जाएँ तो जाएँ कहाँ !                                                             
                                                                                                
* लखनऊ में : पहले आप ! पहले आप !  दिल्ली में : पहले मैं ! पहले मैं !      
                                                                                               
  जाने दिल्लीवाले इतने मिमियाते क्यों हैं !                                          
                                                                                                                                                                                              
* टी वी पर देखा तो ये ख्याल आया : क्यों न डॉक्टरी छोड़कर हम भी कृपा       दृष्टि से ही उपचार करना शुरू कर दें !                                                   
                                                                                                 
 लेकिन सोचते हैं यदि कृपा नहीं आई तो पब्लिक क्या हस्र करेगी !                
                                                                                                
* यदि ज़रूरी मीटिंग के बीच पत्नी का फोन आ जाये तो आप क्या करेंगे ?   
                                                                                                क्या करेंगे जब एक ओर कुआँ हो और दूसरी ओर खाई !                        
                                                                                              
* अक्सर दंगों में मरने वाले मासूम ही होते हैं.                                      
                                                                                              
   नामासूम ना मालूम किस जहाँ में छुप जाते हैं !                                 
                                                                                              
* आज हम अपनी दुआओं का असर देखेंगे !                                        
                                                                                              
   दुआ तो रंग ले आई. अब यही देखना है कि यह रंग कब तक टिकता है !    
                                                                                              
* कितना आसां है आसाराम बन जाना।                                              
                                                                                              
   हम तो राम बनने की आस में जीते हैं !                                            
                                                                                              
* दुनिया में दिमाग वाले तो बहुत मिल जायेंगे, लेकिन व्यापक दिमाग वाले   बहुत कम मिलते हैं.                                                                      
                                                                                               
   आखिर दिमाग की बात है , समझने के लिए दिमाग लगाना पड़ेगा।          
                                                                                              
* फेसबुक ही एक ऐसा माध्यम है जहाँ अक्सर लाइक का मतलब लाइक नहीं होता !                                                                                        
                                                                                               
फेसबुक ने हर हालात में हमें खुश रहना सिखा दिया है.                            
                                                                                               
* यदि मनुष्य अपनी इच्छाओं पर काबू पा ले, तो सीधा मोक्ष को प्राप्त करता है।                                                                                           
                                                                                              
यह अलग बात है कि मोक्ष धाम में करने को कोई काम नहीं होता।             
                                                                                              
* बापू की ज़वानी का राज़ क्या है --- हम भी आश्चर्यचकित हैं !                 

आश्चर्यचकित तो इस बात से भी हैं कि अब बापुओं पर भी ज़वानी रहती है.  


और अंत में एक सवाल जिस पर आपने पूरा शब्द कोष ही सामने ला कर रख दिया --सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल को हिंदी में क्या कहेंगे ! इस पर चर्चा अगली पोस्ट में.    



नोट : ब्लॉगिंग और फेसबुक में जंग अभी जारी है.देखते हैं आगे क्या होता है !  



23 comments:

  1. जीतना facebook को ही है | फास्टफूड का युग है यह |

    ReplyDelete
  2. आप किरपा बांटनी शुरू कर दें...
    आपके दरवाजे पर लाइन सुबह ५ बजे से लगनी शुरू हो जायेगी !! फूल और प्रसाद वाले जगह तलाश रहे हैं ..

    ReplyDelete
  3. कृपा बांटने की कोशिश तो करिए,,,भक्तों की लाइन लग जायेगी,


    RECENT POST : बिखरे स्वर.

    ReplyDelete
  4. Dr. Sahab,satya h ki fb is jung me jeet rha h,kintu blogging ki apni h jagah h.

    ReplyDelete
  5. वाह, हम तो यहीँ आनन्द ले लेते हैं।

    ReplyDelete
  6. हा हा ... हम भी अभी तक फेसबुक पे नहीं आ पाए ... बस ब्लोगिंग का मज़ा ले लेते हैं ... पल लगता है कही कुछ छूट तो नहीं रहा ...

    ReplyDelete
  7. हम भी लाईन में है.

    रामराम.

    ReplyDelete
  8. फेस बुक कमेन्ट का फेस वैल्यू अलग होता है
    latest post कानून और दंड
    atest post गुरु वन्दना (रुबाइयाँ)

    ReplyDelete
  9. Facebook kii book ki Kuchh lines bahut mazedaar hain..!

    ReplyDelete
  10. जंग कैसी !
    जब संक्षेप में लिखना हो , ज्यादा कहने या लिखने का समय या विषय ना हो तो फेसबुक , विस्तार से लिखना हो तो ब्लॉग !!

    ReplyDelete
  11. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार १७/९/१३ को राजेश कुमारी द्वारा चर्चा मंच पर की जायेगी आपका वहां स्वागत है।

    ReplyDelete

  12. बेशक अब मुख चिठ्ठा विमर्श का केंद्र बनने लगा है।

    ReplyDelete
  13. चूरन-चटनी अपनी जगह है लेकिन ब्‍लोगिंग रूपी भोजन तो चाहिए ही।

    ReplyDelete
  14. बापू की ज़वानी का राज़ क्या है --- हम भी आश्चर्यचकित हैं !

    आज कल लाइन में लग कर खाना लेने और बर्तन धोने में जवानी निकाल रहे हैं ...चाह कर भी बीमार नहीं पड़ते ....

    ReplyDelete
  15. आपके ब्लॉग को ब्लॉग संकलक ब्लॉग - चिठ्ठा में शामिल किया गया है। सादर …. आभार।।

    नई चिठ्ठी : "ब्लॉग-चिठ्ठा" की नई कोशिश : "हिंदी चिठ्ठाकार" और "तकनिकी कोना"।

    कृपया "ब्लॉग - चिठ्ठा" के फेसबुक पेज को भी लाइक करें :- ब्लॉग - चिठ्ठा

    ReplyDelete
  16. आप तो सतीश जी की टिप्पणी पर घ्यान दें सर। बांटना शुरु कर ही दीजिये। मोक्षधाम बेकार— न ब्लाग न फेसबुक,। फेसबुक पर लाइक तस्वीर या नाम देख कर किया जाता है और कोई कहां तक पढेगा—दो चार सौ लाइक तो रोज करना ही 'पड़ते' है।

    ReplyDelete
  17. Facebook Facebook Facebook Facebook ki jai ho.........!!!

    ReplyDelete