Tuesday, March 26, 2013

चश्मे पे जब हो जाये , रंगों की बौछार---


1)

होली के हुडदंग में,  भांति भांति के रंग
रंगों की बौछार में , मस्ती लाये भंग ।
मस्ती लाये भंग की , इक छोटी सी गोली,
कि शर्मा जी की घरवाली , वर्मा जी संग होली।
हंस कर बोले वर्मा जी , बुरा ना मानो शर्मा जी,
होली है भई होली , ये तो होली है भई होली।  


2)

चश्मे पे जब हो जाये , रंगों की बौछार
सतरंगी नज़र आये , ये सारा संसार।
ये सारा संसार , फिर लगे सुनेहरा
गोरा दिखे काला , काला हरा भरा।
कह डॉक्टर कविराय, ना बुरा मनाना ,
होली पर सबको हंसकर गले लगाना।


3)

जेम्स, जावेद, श्याम और संता, रंगों में नहाएं
जात धर्म को छोड़कर , सब पर मस्ती छाये।
सब पर मस्ती छाये मिलकर आपस में गले ,
बरसों के बिछड़े भी जब सब होली पे मिलें।
आओ भैया भूल जाएँ सब गुजरे शिकवे गिले
होली के बहाने फिर आज, दिल से दिल मिलें।

सभी को होली की हार्दिक शुभकामनायें।


29 comments:

  1. आपको सपरिवार होली शुभ व मंगलमय हो !


    सादर

    ReplyDelete
  2. होली की महिमा न्यारी
    सब पर की है रंगदारी
    खट्टे मीठे रिश्तों में
    मारी रंग भरी पिचकारी
    ब्लोगरों की महिमा न्यारी …………होली की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  3. मस्ती लाये भंग की , इक छोटी सी गोली,
    कि शर्मा जी की घरवाली , वर्मा जी संग होली।
    हंस कर बोले वर्मा जी , बुरा ना मानो शर्मा जी,
    होली है भई होली , ये तो होली है भई होली।

    बहुत बढ़िया सर जी , चलिए आपकी इस भड़काऊ कविता से प्रेरित होकर हम भी इस होली अपनी "छवि" बदलने की कोशिश करते है :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. क्या बनना चाहते हैं -- शर्मा जी या वर्मा जी ! :)




      Delete
  4. जेम्स, जावेद, श्याम और संता, रंगों में नहाएं

    sarvdharm

    holinam.

    ReplyDelete
  5. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति,होली की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    होली प्रेम प्रतीक है, भावों का है मेल
    इसे समझिये न कभी, रंगों का बस खेल

    ReplyDelete
  6. आहा ...बहुत खूब. कभी सुनी ,शैल चतुर्वेदी और अशोक चक्रधर की कवितायें याद आ गईं, जो होली के मौके पर टी वी और रेडियो पर कवि सम्मलेन के दौरान आया करतीं थीं.
    होली की समस्त शुभकामनाएं आपको

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी शुक्रिया। बहुत बड़े नाम हैं।

      Delete
  7. अनंत शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  8. पर्व की शुभकामनाएं......
    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  9. कौमी होली गान
    होली की घणी घणी बधाई

    ReplyDelete
  10. जेम्स, जावेद, श्याम और संता, रंगों में नहाएं
    जात धर्म को छोड़कर , सब पर मस्ती छाये।
    सब पर मस्ती छाये मिलकर आपस में गले ,
    बरसों के बिछड़े भी जब सब होली पे मिलें।
    आओ भैया भूल जाएँ सब गुजरे शिकवे गिले
    होली के बहाने फिर आज, दिल से दिल मिलें।

    बहुत सुंदर, होली की हार्दिक शुभकामनाएं.
    रामराम

    ReplyDelete
  11. गोदियाल जी जरा संभलकर, उकसावे में मत आजाना.:)

    रामराम.

    ReplyDelete
  12. होली में गोली खाकर के शर्मा जी और बर्मा जी वाला इरादा तो नही है ,,
    होली का पर्व आपको शुभ और मंगलमय हो!
    Recent post : होली में.

    ReplyDelete
  13. वाह जोरदार रचना इर्र्र कविता -रंगारंग शुभकामनाएं -क्या आपका उपनाम वर्मा या भी है ? :-p

    ReplyDelete
  14. होली की हार्दिक शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  15. होली रे होली, भांग की गोली.
    आपको भी होली की सतरंगी शुभकामनाएँ...

    ReplyDelete
  16. होली की हार्दिक शुभकामनायें!!!

    ReplyDelete
  17. रंगोत्सव की आपको और आपके परिवार को बहुत-बहुत शुभकामनाएं...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  18. ब्लॉग बुलेटिन की पूरी टीम की ओर से आप सब को सपरिवार होली ही हार्दिक शुभकामनाएँ !

    आज की ब्लॉग बुलेटिन हैप्पी होली - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  19. शुभकामनायें आपको, शुभ होली

    ReplyDelete
  20. शुभ सन्देश !
    होली की बहुत शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  21. होली की शुभकामनाएं सर दिल से ..यानि हार्दिक होली...इधर शर्मा वर्मा जी का डर नहीं हैं..हां बाकी अपने आप चली आएं तो हमें एतराज नहीं हैं..होली है....सो तो हो ही जाएगी....

    ReplyDelete
    Replies
    1. कोई जुगाड़ तो होना चाहिए। :)

      Delete
  22. होली की मस्ती मेंडूब जायें सब।

    ReplyDelete
  23. सुन्दर रचना ... होली की हार्दिक बधाई ....

    ReplyDelete
  24. बढ़िया प्रस्तुति :होली की शुभकामनायें
    latest post धर्म क्या है ?

    ReplyDelete
  25. बहुत सुंदर, होली की हार्दिक शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  26. होली पर सभी प्रस्तुति शानदार क्षणिकाए हेतु हार्दिक बधाई |

    ReplyDelete