Thursday, March 28, 2013

पता चला वो पड़ोसी नहीं , पड़ोसन थी---


होली त्यौहार है मौज मस्ती का , खाने खिलाने का , पीने पिलाने का , हंसने हंसाने का और सबको प्यार से गले लगाने का। इस अवसर पर हमारे यहाँ तो होली के दिन सब लोग जो होली खेलते हैं , नीचे सेन्ट्रल पार्क में इकट्ठे हो जाते हैं और सामूहिक रूप से होली खेलते हैं। बच्चे , बड़े , बूढ़े और महिलाएं अपनी अपनी टोलियों में होली का आनंद लेते हैं।

इस बार हमारी सोसायटी ने डी जे का भी प्रबंध किया था। छोटे बच्चों के लिए बाथ टब और बड़े बच्चों के लिए सीधा पानी का पाइप और सब के लिए ठंडाई। बुजुर्गों के लिए बेंच जो ११ बजे तक खाली पड़े थे।    



सोसायटी में होली का शुभारभ : चित्र बालकनी से सेटेलाईट द्वारा ! :)

इस वर्ष निकट सम्बन्धियों और मित्रों में कई लोगों का आकस्मिक देहांत होने से होली खेलने का मूड नहीं बन रहा था। दोनों बच्चे भी बाहर होने से घर भी सूना सूना सा लग रहा था। हालाँकि हमने तो एक दिन पहले दिन में  अस्पताल में और शाम को एक मित्र की सोसायटी में हुए कवि सम्मेलन में हास्य कवितायेँ सुनाकर होली का  आनंद ले लिया था। लेकिन श्रीमती जी को थोड़ी मायूसी सी हो गई जब हमने कहा कि छोड़ो क्या करेंगे होली मनाकर।  आखिर तय हुआ कि चलो पहले एक दूसरे को तो गुलाल लगा लें , फिर सोचा जायेगा।  



                                 
                                                                      होली से पहले


इस फोटो में आपको कुछ विशेष नज़र आ रहा है ? शायद सिर्फ प्यार करने वाले ही समझ पायें !

खैर रंग लगाकर मन कुछ प्रसन्न हुआ तो सोचा कि चलिए चलते हैं और होली खेलते हैं सब के साथ। आखिर लाइफ़ हैज टू गो ओन।  फिर :

होली खेलने को हम घर से निकले
और जब एक पडोसी नज़र आये।
हमने उनके गालों पर गुलाल लगाया
और प्यार से गले मिलने को हाथ बढाए।
पर तभी हम चौंके , हाथ अपने रोके।
क्योंकि आन पड़ी एक अड़चन थी ,
पता चला वो पड़ोसी नहीं , पड़ोसन थी।

होली पर यही समस्या हर जगह आती है। रंग में रंगे चेहरे पहचानना ही मुश्किल हो जाता है। समूह में तो और भी विकट समस्या होती है। एक बार रंग लगाने के बाद याद भी नहीं रहता कि पहले लगाया था या नहीं। हमने तो इसका एक तरीका सोचा और हरा गुलाल लेकर गए जो और किसी के पास नहीं था। इसलिए जिसके भी चेहरे पर हरा रंग नहीं था , उसके चेहरे पर रंग लगाते गए। थोड़ी देर बाद सभी के चेहरे हरे भरे नज़र आ रहे थे।          

                                                                                               
अंत में नहाने धोने , और रंग उतारने के बाद सामूहिक भोज का आयोजन  था। जो लोग होली खेलने नहीं आए थे , अब वे भी सपरिवार सहभोज का आनंद ले रहे थे। शुद्ध सात्विक भोजन कर अब घर जाकर आराम करने का समय था। अब तक फेसबुक पर भी फेसबुकियों की भीड़ लग चुकी थी। हमने भी एक फोटो फेसबुक पर टांगा और व्यस्त हो गए लाइक पर लाइक करने में।

लेकिन इस सब के बीच हम सुबह से ही देख रहे थे हलवाई के लोगों को खाना बनाने की तैयारी करते हुए। जब सोसायटी के सब लोग होली मनाने में व्यस्त थे, तब सुबह से ही ये लोग अपने काम में व्यस्त थे। जहाँ होली के दिन सब दुकानें बंद रहती हैं , वहीँ इन बेचारों की न कोई छुट्टी थी , न होली मिलन। रह रह कर यही गाना याद आ रहा था :

सब की किस्मत , अपनी अपनी
कोई हँसे , कोए रोये ----

शायद यही इस नश्वर संसार की रीति है। यहाँ सब अपनी अपनी किस्मत लेकर आते हैं। लेकिन आपकी किस्मत आपके अपने कर्म बनाते हैं। बस यही याद रखना ज़रूरी है।      


37 comments:

  1. हर एक का अपना अपना आनंद .... अच्छा हुआ जो जल्दी ही पता चल गया कि वो पड़ोसी नहीं पड़ोसन थी ...

    ReplyDelete
  2. डॉ.साहब ..आपको और भाभी जी को होली मुबारक हो ....एक ने रंग लगाया ....दुसरे ने कार्बन कापी :-)))))
    शुभकामनायें ! बुरा न मानो ..होली है ??

    ReplyDelete
    Replies
    1. अनुभव बोल रहा है। :)

      Delete
    2. आपने अनुभव से ही तो पूछा था दखिए कित्ता फ़ट्ट से पकडे गए :)

      Delete
  3. क्या सचमुच पता नहीं था कि पड़ोसन है :)
    फोटो का ख़ास साफ़ नजर आ रहा है !

    ReplyDelete
  4. नजर मिलाने तक से जो कतराती थी
    वही पड़ोसन गले मिली है होली में,


    आपको होली की हार्दिक शुभकामनाए,,,

    Recent post: होली की हुडदंग काव्यान्जलि के संग,

    ReplyDelete
  5. होली तो हो...ली...
    कोई हँसे, कोई रोये.
    शुभकामनाएँ...

    ReplyDelete
  6. संग संग ली हुई तो हर फोटो ख़ास होती है...
    :-)

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  7. थोड़ी छानी होती भांग वाली ठंडाई तो मिल लेते गले पड़ोसन से...:)

    ReplyDelete
  8. और आप ऐन वक्त पर चूक गए :)

    ReplyDelete
  9. अब भंग की तरंग में चलोगे तो पडोसने ही नजर आएगी .... डॉ साहेब !

    ReplyDelete
  10. होली की तरंग में भी आपने याद क्यों रक्खा इतनी छोटी छोटी बातों को ... मिल लेते होली इसी बहाने ...
    लगता है भाभी जी साथ थीं इसी लिए सजग हो गए ...
    आपको परिवार सहित होली की शुभकामनायें ...

    ReplyDelete
  11. :-)

    ... होली पर ढेरों शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  12. rochak sansmaran ... hardik shubhakamanayen ...

    ReplyDelete
  13. देर के लिए माफ़ी होली की शुभकामना . आदरणीय नेट महोदय ने हमें आप तक पहुचने नहीं दिया . खुबसूरत यादें संजो रखिये ..

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शुक्रवार के चर्चा मंच-1198 पर भी होगी!
    सूचनार्थ...सादर!
    --
    होली तो अब हो ली...! लेकिन शुभकामनाएँ तो बनती ही हैं।
    इसलिए होली की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!होली की शुभकामनायें
    latest post हिन्दू आराध्यों की आलोचना
    latest post धर्म क्या है ?

    ReplyDelete
  16. .रोचक प्रस्तुति आपको होली की हार्दिक शुभकामनायें मोदी संस्कृति:न भारतीय न भाजपाई . .महिला ब्लोगर्स के लिए एक नयी सौगात आज ही जुड़ें WOMAN ABOUT MAN

    ReplyDelete
  17. फोटो में खास से भी ज्यादा कुछ खास है :)
    होली की आनंदमयी पोस्ट.

    ReplyDelete
  18. होली का हुड़दंग हम देखा किये ,

    प्रेम निर्झर हर बरस देखा किये .

    अच्छी रसधार, बहा दी होली में ,

    बढ़िया व्यंग्य विनोद सजाया होली में .

    ReplyDelete
  19. ताऊ हरियाणवी इतने शरीफ़ कब से होगये?:)

    हमको फ़ोटो की जगह एक जरा सा स्पाट दिख रहा है, शायद ब्लागर की समस्या है, फ़ोटो बिल्कुल नही दिखाई दे रहा है. होली की शुभाकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
    Replies
    1. फेस नहीं दिख रहे तो फेसबुक पर देखिये। :)

      Delete
  20. होली के अवसर पर पहचान के संकट वाला यह बहाना जोरदार है और चलता भी है ! :-)

    ReplyDelete
  21. @ शायद सिर्फ प्यार करने वाले ही समझ पायें !

    अजी जाओ जी ये मुस्कराहट तो फोटो खिंचवाने की है .....:))

    @ होली के अवसर पर पहचान के संकट वाला यह बहाना जोरदार है और चलता भी है ! :-)

    जा रे जा दीवाने तू
    होली के बहाने तू
    छेड़ न मुझे बेशर्म .....

    ReplyDelete
  22. पता चला वो पड़ोसी नहीं , पड़ोसन थी---

    होली त्यौहार है मौज मस्ती का , खाने खिलाने का , पीने पिलाने का , हंसने हंसाने का और सबको प्यार से गले लगाने का। इस अवसर पर हमारे यहाँ तो होली के दिन सब लोग जो होली खेलते हैं , नीचे सेन्ट्रल पार्क में इकट्ठे हो जाते हैं और सामूहिक रूप से होली खेलते हैं। बच्चे , बड़े , बूढ़े और महिलाएं अपनी अपनी टोलियों में होली का आनंद लेते हैं।

    इस बार हमारी सोसायटी ने डी जे का भी प्रबंध किया था। छोटे बच्चों के लिए बाथ टब और बड़े बच्चों के लिए सीधा पानी का पाइप और सब के लिए ठंडाई। बुजुर्गों के लिए बेंच जो ११ बजे तक खाली पड़े थे।

    ReplyDelete
  23. कई बार तो सोचता हूं कि दूसरे जिन समाजों में हमारे यहां जैसे त्योहार नहीं होते, कैसा फीका फीका सा जीवन होता होगा उनका

    ReplyDelete
  24. होली की ढेरों शुभकामनायें..

    ReplyDelete
  25. बहुत बढ़िया ....happy holi

    ReplyDelete
  26. ऐसा तो नहीं था कि पड़ोसन की जगह पडोसी निकल गया? होली की शुभकामनाएं जी।

    ReplyDelete
  27. चित्र में ख़ास स्पष्ट दिख रहा है पता नही उन्होंने आपसे रंग लिया या आपने उनसे आप दोनों की मुस्कुराहट ही बता रही है बहुत सुंदर चित्र और होली का वर्णन भी बहुत-बहुत मुबारक हो ,मेरा नेट भी तीन दिनों से रो रहा था आज ही कुछ चला है|

    ReplyDelete
  28. तस्वीरें सुन्दर हैं.
    होली तो सोसिएटी में सब मिलकर मनाते हैं अच्छा लगता है.
    खाकर खाना -पीना भी.
    'अपनी -अपनी किस्मत है ,ये कोई हँसे कोई रोये'...गीत होली के एक गीत का ही हिस्सा है.
    अगर दूसरे नज़रिए से देखें तो उनको त्यौहार के दिन अधिक काम मिलता है ,यही उनका त्यौहार होता है.
    हलवाई ही क्यूँ और भी कई प्रोफेशन हैं जिनकी ड्यूटी त्योहारों पर अधिक सख्त और व्यस्त हो जाती है.

    ReplyDelete