Friday, March 22, 2013

फॉसिल बनने की क्या जल्दी है--



कुछ समय से एक भी ब्लॉग पोस्ट नहीं लिख पा रहे हैं हम। सच तो यह है कि कोई आइडिया ही नहीं आ रहा। लगता है जैसे थॉट ब्लॉक हो गया है। पहले जहाँ नित नए आइडिया दिमाग में घूमते रहते थे, अभिव्यक्त होने के लिए मचलते रहते थे , वहीँ अब जैसे कहीं अटक से गए हैं। जोर लगाने पर भी कोई आइडिया नहीं आ रहा जिस पर कुछ लिखा जाये। ठीक वैसा हाल है जैसा  किसी प्रोस्टेट के मरीज़ का होता है कि पेशाब करने के लिए  जितना जोर लगाओ उतना ही अवरुद्ध होता है।

इसके कई कारण हो सकते हैं। जैसे काम में अत्यधिक व्यस्तता , ब्लॉगिंग में ब्लॉगर्स की रूचि कम होना या फिर फेसबुक की ओर सभी का झुकाव होना। बेशक काम बढ़ने से ज्यादा ध्यान उधर ही रहता है , इसलिए इधर कम हुआ है। ऐसा सभी के साथ हुआ लगता है। लेकिन यह ही सच है कि वे सब ब्लॉगर्स जो पहले ब्लॉग्स पर नज़र आते थे , अब फेसबुक पर वक्त गुज़ारा करते हैं।      

यह भी मानवीय प्रवृति ही है कि वह एक जगह ज्यादा देर तक नहीं टिक पाता। उसकी यही बेचैनी आखिर विकास में भी सहायक सिद्ध हुई है। निरंतर आगे बढ़ते रहने का नाम ही विकास है। जहाँ थम गए , समझो वहीँ जम गए। और जमने के बाद तो बस फॉसिल ही बनता है। फिर फॉसिल बनने की क्या जल्दी है !  


47 comments:

  1. आजकल एक ऐड fm पर सुनता हूँ ; फोन बदलिए, वाट एन आइडिया सर जी :)

    ReplyDelete
  2. फेस बुक के कारण ही लोगो का झुकाव ब्लोगिंग तरफ कम हो गया है ,,,
    होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    Recent post: रंगों के दोहे ,

    ReplyDelete
  3. फासिलों की नईं पनपती फसलें :-)

    ReplyDelete
  4. फॉसिल बनने की जल्दी?????
    फॉसिल भी कभी जल्दी बना करते हैं?????
    वैसे ये थॉट ब्लॉक सभी को होता है....देखिएगा आपकी अगली पोस्ट कुछ ख़ास होगी.
    और ब्लॉग से बेरुखी अच्छी नहीं.
    सादर
    अनु

    ReplyDelete
    Replies

    1. जी बेरुखी नहीं है। पर समय न दे पाने का कष्ट है।

      Delete
  5. फेस बुक ध्यान बंटा रहा है,ब्लॉग में लौट आयेंगे तो विचार भी लौट आयेंगे -फासिल नहीं बनेंगे
    latest post भक्तों की अभिलाषा
    latest postअनुभूति : सद्वुद्धि और सद्भावना का प्रसार

    ReplyDelete
  6. अपनी ब्लोगिंग ही सही ...

    ReplyDelete
  7. हम तो ब्लॉग पर ही धरना दिए बैठे हैं, फ़ेसबुक की मौज भी ले लेते हैं।

    ReplyDelete
  8. ऐसा है नही जैसा आप सोच रहे हैं, थाट ब्लाक जैसा महसूस हो रहा है इसका मतलब थाट बहुत ज्यादा हैं, जल्दी ही फ़ूट पडेंगे....चिंता ना किजिये.

    यदि थाट फ़ूटने का नाम ना ले तो ताऊमाईसिन की दो दो गोलियां सुबह शाम खायें.:) एकदम सोता सा फ़ूट पडेगा.:)

    रामराम

    ReplyDelete
    Replies
    1. बेशक विचार तो बहुत हैं , लेकिन कुछ और ही। :)

      Delete
  9. आज आपकी यह पोस्ट पढ़कर किशोर कुमार का गया हुआ एक गीत याद आ गया आपने भी सुना होगा ज़रूर मेरे पसंदीदा गीतों में से एक गीत है वो

    "एक रास्त है ज़िंदगी जो थम गए तो कुछ नहीं,
    यह कदम किसी मुकाम पे जम गए तो कुछ नहीं"

    ReplyDelete
  10. आज की ब्लॉग बुलेटिन चटगांव विद्रोह के नायक - "मास्टर दा" - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  11. ब्लॉगर और डॉयनासोर...कुछ कुछ मिलता ही मामला है...जब डॉयनासोर्स ने बढ़ते बढ़ते दुनिया में अति कर दी थी तो दुनिया से विलुप्त हो गये...बस उनके जीवाश्म (फॉसिल) ही रह गए...कहीं ब्लॉगर्स के साथ भी तो ये नहीं हुआ...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
    Replies
    1. खुशदीप भाई , फर्क यह है कि डायनासौर सारे लुप्त हो गए जबकि ब्लॉगर्स नित नए तो आ रहे हैं। लेकिन पुराने लुप्त हो जाते हैं।

      Delete
  12. ब्लाग पर लिखने के लिये पूरा प्लाट सोचना और कम से कम पूरा पेज लिखना अनिवार्य लगता है जैसे 3 घंटे का भारतीय सिनेमा, जबकि फेसबुक पर लिखने वालों का काम चंद शब्दों या कुछ ही लाईनों में पूरा हो जाता है जैसे 20 मिनीट का टी. वी. सीरियल.
    शायद इसीलिये आपके शब्द फासिलों की संख्या कुछ तेजी से बढ रही लगती है.

    ReplyDelete
  13. मुझे भी लगता है फॉसिल बनाने की प्रक्रिया शुरूहो चुकी है ...

    ReplyDelete
  14. पढना लिखना सतत बना रहे तो ही विचार भी आते हैं.... नहीं तो सच में थॉट ब्लॉक की स्थिति आ ही जाती है

    ReplyDelete
    Replies
    1. मोनिका जी , पढना लिखना तो हो रहा है लेकिन ब्लॉग्स पर नहीं। मजबूरी है।

      Delete
  15. थॉट प्रोसेस का ब्लोक हटाकर प्रोस्टेट जैसी तमाम बीमारियों का इलाज़ ढूँढने का कार्य आप जितना जल्दी हो सके समाप्त कर ब्लॉग सक्रियता का ग्राफ सुधारिये. यही अनुरोध है. वर्ना ब्लॉग में जितने लोग बचे हैं वह भी भाग जायेंगे.

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी , इसी बात की चिंता है। :)

      Delete
  16. चिट्ठाजगत और ब्लॉग वाणी के बंद होने के आड़ ब्लोगिंग के बारे में सही डाटा नहीं मिल पा रहे है बस , बाकि ब्लोगिंग तो अपनी रफ़्तार से चल ही रही है कुछ पुराने ब्लॉगर निष्क्रिय हुए है तो उनसे ज्यादा नए भी आ रहें है |
    फेसबुक की वजह से ब्लोगिंग में आने वाले लेखों की कमी तो हुई है पर फेसबुक के माध्यम से ब्लॉगस पर पाठकों की संख्या में भी इजाफा हुआ है|
    जब गीदड़ का लाइसेंस अनपढ़ कुत्तों के आगे काम ना आया

    ReplyDelete
    Replies
    1. शेखावत जी , नए तो आ रहे हैं लेकिन उन्हें पैर ज़माने में समय लगेगा।

      Delete
  17. .
    .
    .
    @ यह भी मानवीय प्रवृति ही है कि वह एक जगह ज्यादा देर तक नहीं टिक पाता। उसकी यही बेचैनी आखिर विकास में भी सहायक सिद्ध हुई है। निरंतर आगे बढ़ते रहने का नाम ही विकास है। जहाँ थम गए , समझो वहीँ जम गए। और जमने के बाद तो बस फॉसिल ही बनता है। फिर फॉसिल बनने की क्या जल्दी है !

    मतलब अब आप भी फेसबुक की राह पर हैं, सर जी... :(


    ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. कुछ कुछ। लेकिन समय का अभाव इस वज़ह से नहीं है।

      Delete
  18. लक्षण देखकर सटीक सम्भावित निदान किया है डॉक्टर साहब आपने!! :)
    ऐसे स्थिर योग से जीवाश्म (फॉसिल) बनने की सम्भावनाएं प्रबल बनती जाती है। वस्तुतः ब्लॉगर मानसिक कसरत का अभिलाषी होता है, चर्चाएं और चर्चाओं के माध्यम से नए विचार पाना उसका लक्ष्य होता है। स्थिरता में बोरियत महसुस होती है, तरंगे चाहिए। हलचल और चहल-पहल चाहिए। शायद ज्वलंत मुद्दों की कमी है। अथवा फिर शॉक ट्रीटमेंट्…… कि शिथिल काया कुछ प्रतिक्रिया दर्शाए और रिएक्ट करे……… :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. कुछ पुराने लोग सक्रीय हो जाएँ तो रंग लौट आएगा। ताऊ रामपुरिया ने शुरुआत कर दी है।

      Delete
  19. साथ ये छूटे ना
    तू हमसे रूठे ना
    ब्लॉग ये छूटे कभी ना...

    इसी दुआ के साथ
    प्रणाम

    ReplyDelete
  20. दाराल साहब ब्लॉग में जो लोग मात्र मौज मस्ती के लिए आये, जिन्होंने ब्लॉग को कभी सीरियस नहीं लिया , वो बहुत जल्दी ब्लॉग से ऊब गए और फेसबुक की तरफ मुड गए और फॉसिल बनने की ओर अग्रसर हो गए. जो लोग फेस बुक को मजे लिए देखने गए और अपनी जड़ों से जुड़े रहे वो फॉसिल कभी नहीं बनेंगे और विचारों से ब्लोक भी नहीं होंगे . मर्ज का जल्दी डायग्नोस के लिए बधाई डाक्टर साहब .

    ReplyDelete
    Replies
    1. यही प्रयास रहेगा कुश्वंश जी।

      Delete
  21. कभी कभी विचार भी ट्रैफिक जाम की तरह जाम हो जाते है ऐसा हम सबके साथ होता है
    चिंता मत कीजिये थोडा इंतजार कीजिये फिर से मनमाफिक लिख सकेंगे !
    फेसबुक तो सुबह के ब्रेकफास्ट जैसा है लंच डिनर तो ब्लॉग पर ही होना है !

    ReplyDelete
  22. प्रवाह बनाये रखिये, यदि बाहर नहीं आ रहा है तो ग्रहण करना प्रारम्भ कर दीजिये, लिखना नहीं सूझ रहा है तो पढ़िये।

    ReplyDelete
  23. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (24-03-2013) के चर्चा मंच 1193 पर भी होगी. सूचनार्थ

    ReplyDelete
  24. डॉ साहब आपने सही कहा शायद बदलाव चाहता है मन और इस आभासी दुनिया में ये सब हो जाना कोई बड़ी बात नहीं

    ReplyDelete
  25. फाग मुबारक फाग की रीत और प्रीत मुबारक .हजरते दाग जहां बैठ गए ,बैठ गए वैसे कुछ लोग दोनों जगह बने हुए हैं .


    फाग मुबारक फाग की रीत और प्रीत मुबारक .हजरते दाग जहां बैठ गए ,बैठ गए वैसे कुछ लोग दोनों जगह बने हुए हैं .फेसबुक पर भी ब्लॉग पर भी ट्विटर पर भी .

    ReplyDelete
  26. Virendra Sharma ‏@Veerubhai1947 21m
    ram ram bhai
    मुखपृष्ठ
    शनिवार, 23 मार्च 2013
    आखिर सारा प्रबंध इटली का ही तो है यहाँ .

    http://veerubhai1947.blogspot.in/
    Expand Reply Delete Favorite More
    Virendra Sharma ‏@Veerubhai1947 26m
    इटली के ही पास गिरवीं है भारत की नाक http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/2013/03/blog-post_23.html …
    Expand

    ReplyDelete
  27. आइडियाज़ तो आते ही रहेंगे और ब्लोगिंग भी चलती रहेगी,
    कुछ दिनों का अन्तराल भले ही हो जाए

    ReplyDelete
  28. फेसबुक से ब्लॉग का मार्ग बहुत बुरी तरह से अवरुद्ध हो चुका है :))

    ReplyDelete
  29. उधर डा.दराल को ब्लॉग लिखने के लिये आइडिया ही नहीं मिल रहा वे लिखते हैं:

    जोर लगाने पर भी कोई आइडिया नहीं आ रहा जिस पर कुछ लिखा जाये। ठीक वैसा हाल है जैसा किसी प्रोस्टेट के मरीज़ का होता है कि पेशाब करने के लिए जितना जोर लगाओ उतना ही अवरुद्ध होता है।

    हमारी शिकायत इससे एकदम उलट रहती है। हमारे पास इत्ते आइडिया रहते हैं कि उन पर अमल न होने पर वे भुनभुनाते रहते हैं और कहते हैं:

    हम पर फ़ौरल अमल किया जाये। आप हमारे सेवक हैं। अगर हम पर अमल न हुआ तो हम फ़ौरन अनशन पर बैठ जायेंगे। आमरण अनशन कर देंगे।

    वैसे ब्लॉग और फ़ेसबुक की रगड़-घसड़ पर कल ही हमारे फ़ेसबुक मित्र अजय त्यागी ने अपनी दीवाल पर लिखा:

    ये ब्लाग वाले फेसबुक वालों की लाईक-कामेंट संपन्नता देख-देखकर इतना जलते क्यों हैं। जब देखो कोई ना कोई पीछे पडा रहता है.....:)

    ReplyDelete
    Replies
    1. हा हा हा ! फेसबुक पर ये लाइक करने का खेल बहुत बढ़िया है। बस आँख बंद कर करते जाओ। खुद भी खुश , दूसरा भी खुश। और तो और , लोग तो किसी शोक सन्देश या अप्रिय घटना को भी बड़े चाव से लाइक कर निकल जाते हैं। इससे तो लाइक भी डिसलाइक सा लगने लगता है।

      वैसे भैया , क्यों न आइडियाज की ट्रेडिंग शुरू कर दी जाये। एक के साथ एक फ्री ! :)

      Delete
  30. विचारों की त्वरित अभिव्यक्ति फेसबुक पर होती है , मगर ब्लॉगिंग विस्तार मांगता है . कई ब्लोगर्स अपनी पुरानी पोस्ट को धो पोंछ कर लगा देते हैं इस ब्लॉक से मुक्ति पाने के लिए , जब तक कि दुसरे विचार धावा नहीं बोलते !

    ReplyDelete
    Replies
    1. बढ़िया आइडिया है वाणी जी। दरअसल मैं स्वयं भी यही सोच रहा था। जल्दी ही आता हूँ एक धमाकेदार पोस्ट के साथ , जैसा कि रचना जी ने भी कहा है।

      Delete
  31. हम सब को मिलकर फिर प्रयास करना होगा।

    ReplyDelete
  32. कहीं आप भी तो फेसबुक की तरफ नहीं जा रहे ... ब्लोगिंग छोड़ तो नहीं रहे ...
    ऐसा जुल्म न करें ...
    होली है अभी तो कई हास्य रचनाएं बाकी हैं आपकी आनी ...
    शुभकामनाएं होली की ...

    ReplyDelete
  33. बिलकुल सही कहा आपने कभी - कभी आईडिया नहीं आता दिमाग में ...और उसके सबके अलग - अलग कारण होते हैं ..
    पधारें " चाँद से करती हूँ बातें "

    ReplyDelete
  34. ब्लागर्स अपना 'आत्मावलोकन'करें कि उनमे अहंकार क्यों है जो लोग उनमे दिलचस्पी कम ले रहे हैं। मुझे तो ब्लाग पोस्ट्स की रीडिंग संख्या बढ़ाने मे फेसबुक बेहद मददगार लगता है। रही बात टिप्पणी की तो हो या न हो उससे क्या फर्क ?क्या टिप्पणी के आधार पर कोई भी पोस्ट अमेंड करता है?यदि नहीं तो न आना चिंता का सबब क्यों?
    होली मुबारक

    अभी 'प्रहलाद' नहीं हुआ है अर्थात प्रजा का आह्लाद नहीं हुआ है.आह्लाद -खुशी -प्रसन्नता जनता को नसीब नहीं है.करों के भार से ,अपहरण -बलात्कार से,चोरी-डकैती ,लूट-मार से,जनता त्राही-त्राही कर रही है.आज फिर आवश्यकता है -'वराह अवतार' की .वराह=वर+अह =वर यानि अच्छा और अह यानी दिन .इस प्रकार वराह अवतार का मतलब है अच्छा दिन -समय आना.जब जनता जागरूक हो जाती है तो अच्छा समय (दिन) आता है और तभी 'प्रहलाद' का जन्म होता है अर्थात प्रजा का आह्लाद होता है =प्रजा की खुशी होती है.ऐसा होने पर ही हिरण्याक्ष तथा हिरण्य कश्यप का अंत हो जाता है अर्थात शोषण और उत्पीडन समाप्त हो जाता है.

    ReplyDelete
  35. फ़ेसबुक पर जाना गोलगप्पे की दुकान पर हो आने जैसा है, स्वाद बदल जाता है...

    ReplyDelete