Saturday, November 17, 2012

अपने पूर्वजों जैसी हरकत करना भी एक कला है ---


आपने बंदरों को कूदते फांदते अवश्य देखा होगा . कैसे एक मकान की छत से दूसरे मकान की छत पर या एक पेड़ से दूसरे पेड़ पर कूद फांद करते रहते हैं . इन्हें देखकर कई बार लगता है -- काश हम भी ऐसा कर पाते. हालाँकि कहते हैं , हमारे पूर्वज भी तो बन्दर ही थे. लेकिन फिर मानव ने विकास की पथ पर अग्रसर होते हुए अपने लिए सभी सुख साधन जुटा लिए. अब उसको इस तरह कूद फांद करने की आवश्यकता नहीं होती. लेकिन अभी भी कुछ लोग ऐसे हैं , जो बंदरों की तरह हरकतें करके अपनी जीविका चलाते हैं.  इसे आप उनका हुनर भी कह सकते हैं. लेकिन आप देखेंगे तो हैरान रह जायेंगे.  

अब इस वीडियो में देखिये , कैसे यह युवक एक पेड़ पर चढ़ता है , और पलक झपकते ही कैसे दूसरे पेड़ से होते हुए , तीसरे पेड़ से नीचे उतरता है. 

video

ज़रा कोशिश कीजिये और देखिये , क्या आप पकड़ पाते हैं उसे नीचे उतरते हुए. 

और अब बताइए , यह नज़ारा कहाँ का हो सकता है. ज़ाहिर है, यह प्रदर्शन इस युवक का रोज का काम है. जो लोग पर्यटन के शौक़ीन हैं , वे इसे अवश्य पहचान सकते हैं .



कल्यु के लिए इस फोटो को देखिये।

नोट : यह स्थान निश्चित ही अपने ही देश में है. 


23 comments:

  1. दक्षिण भारत का केरल प्रदेश दो वजहों से प्रतीत होता है एक तो केले के पौधे नजर आ रहे है और साथ ही खजूर के पेड़ है. साथ में नजर आ रहे सज्जन शक्ल से उत्तर भारत के किसी पहाडी प्रदेश के है और उनके बगल में खड़े सज्जन डाक्टर दराल साहब जैसे नजर आ रहे है :) और पीछे कुछ अफसरायें भी नजर अ रही है जिनमे से एक पेड़ पर चड़ने की कोशिश भी कर रही है ! :) :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. बढ़िया विश्लेषण किया है गोदियाल जी . ध्यान से देखने के लिए शुक्रिया.
      एक गोरी युवती शायद जूता पहन रही है , दूसरी एक पौधे को ध्यान से देख रही है , तीसरी उसको देखते हुए फोटो खींच रही है , और चौथी हमारे फोटोग्राफर को देख रही है. साथ में मूंछों वाले हमारे जूनियर डॉक्टर है.:) लेकिन ---

      Delete
    2. इस "लेकिन" के खुलासे का इंतज़ार है|

      Delete
  2. नारियल तोड़ने के लिए लोग ऐसा ही करते हैं। बहुत हुनर है हमारे देश में।

    ReplyDelete
    Replies
    1. अजित जी , यह बेचारा तो खाली हमें तमाशा दिखा रहा था.

      Delete
  3. ...बन्दर हमारा ही भाई है.वीडियो वाले का तो बन्दर छोटा भाई है !

    ReplyDelete
  4. बन्दर की सबसे बड़ी खासियत होती है दूसरों की नक़ल करना।
    कहना आवश्यक नहीं होना चाहिए कि आदमी सारी उम्र किसी न किसी की नक़ल ही करता है!!!

    ReplyDelete
  5. चैने ,मुंबई ,कोचीन ,कहीं भी हो सकतें हैं ऐसे करामाती बच्चे .पेट की भूख इन्हें करामाती बना देती है .लास वेगास में भी छोटे छोटे बच्चे फुट पाथों पे हैरत अंगेज़ कारनामे दिखलाते हैं .हवा में कला

    बाजियां देखते ही बनतीं हैं इन नौनिहालों की सब पेट का चक्कर है डॉ साहब चैने से लासवेगास तक .सब जगह पसरा हुआ है बाल श्रम .

    ReplyDelete
  6. केरल में ऐसा हुनर दिखाने वाले को कर कैमरे में कैद

    उपस्थित महोदयों/अप्सराओं के विवरण के साथ

    ब्लॉग में प्रस्तुत करना भी तो बहुत बड़ा हुनर है ..

    बहुत बढ़िया .......सादर!

    ReplyDelete
    Replies

    1. सूर्यकांत जी , यह केरल नहीं है.

      Delete
  7. लेकिन का खुलासा २४ घंटे बाद होगा.

    ReplyDelete
  8. यह दृश्य दक्षिण भारत का है -फिर टूर पर निकल गए क्या ?

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी नहीं , यह पिछले साल का है. लेकिन साउथ नही ---

      Delete
    2. पेड़ पौधे और उनके बीच अप्सराओं को देख लगता है यह गोवा का दृश्य है!

      Delete
    3. अभी २४ घंटे नहीं हुए हैं . इसलिए न हाँ कह सकते हैं , न ना. :)

      Delete
  9. साउथ का नहीं है! तब तो माउथ बंद रखने में ही भलाई है।

    ReplyDelete
  10. वाह, सीखते सिखाते रहें..

    ReplyDelete

  11. इस शाखा मृग सम कूद फांद का कोई पुश्तैनी (खानदानी ,जीनीय आधार नहीं है ),गरीबी है इस जोखिम उठाके भरण पोषण के पीछे .

    ReplyDelete
  12. खुलासा : वीडियो में दिखाया गया स्थान गोवा का है. साउथ गोवा में अनेक स्पाईस गार्डंस हैं जिनमे मसालों की अनेक किस्मों की खेती होती है. पहाड़ी क्षेत्र में बने ये गार्डंस बहुत हरे भरे और पेड़ पौधों से भरे होते हैं . यहाँ टिकेट लेकर जाना पड़ता है. शायद ४०० रूपये का टिकेट था जिसमे लंच का भी प्रबंध था. लेकिन हमें जल्दी जाना था इसलिए नाश्ता ही किया . फिर पूरे गार्डन की सैर का आयोजन किया गया था. आखिर में इस युवक ने अपने कौशल का प्रदर्शन करके सबका मन मोह लिया था.

    ReplyDelete