Wednesday, February 15, 2012

चुनावों के सीजन में हमारी भी बल्ले बल्ले --


देश में चुनावों का माहौल चल रहा हैनेताओं की चहल पहल चारों ओर नज़र रही हैफ़रवरी के माह में दिल्ली में भी डॉक्टरों के चुनाव हर साल होते हैंदिल्ली मेडिकल एसोसिएशन में करीब १४००० डॉक्टर सदस्य हैंहर वर्ष एक प्रेजिडेंट और दो वाइस प्रेजिडेंट की पोस्ट्स के लिए जमकर संघर्ष होता है

वोटिंग के लिए सेन्ट्रल दिल्ली के अलावा चारों कोनो में मतदान केंद्र बनाये जाते हैंपूर्वी दिल्ली का मतदान केंद्र यह है --


हमारी ब्रांच ने बहुत मेहनत कर चार मंजिला अपना भवन बनाया हैयहीं पर सब आते हैं वोट डालने


भवन के द्वार पर दोनों ओर दोनों पार्टियों के उम्मीदवार खड़े हो जाते हैं अपने सहयोगियों के साथदोपहर तक एक एक कर वोटर आते हैंलेकिन दोपहर के बाद क्लिनिक बंद होने पर भीड़ लग जाती है

डॉक्टर्स के जीवन में चुनाव एक ऐसा समय होता है जब सब मिलकर उम्मीदवार के खर्चे पर पार्टियों में मौज उड़ाते हैंअक्सर अधिकतर डॉक्टर्स दो खेमों में बंटे होते हैंलेकिन काफी ऐसे भी होते हैं जो इधर होते हैं , उधरबल्कि जहाँ मिला अवसर, बे पेंदे के लोटे की तरह लुढ़क जाते हैं

सच पूछा जाए तो सर्दियों का सीजन चुनाव का सीजन यानि पार्टियों का सीजन होता है
इसीलिए अक्सर सर्दियों में हमारा भी वज़न - किलो बढ़ जाता है

मतदान शिविर का नज़ारा भी बड़ा मनोरंजक होता है
एक मोटे ताज़े बन्दे को देखकर एक बोलता है -- गईवोट गईबॉस ये तो पक्की हमारी है
इस पर दूसरा बोलता है --छोड़ यार , साला दारू तो हमारी पीता है , वोट उन्हें दे जाता है

लेकिन दिल के अन्दर कुछ भी हो , वोट मांगने में डॉक्टर्स भी किसी नेता से कम नहीं होतेहाथ जोड़कर इतना मीठा बोलते हैं कि एक दिन ही सही , आम आदमी को भी खास होने का अहसास होता है

९९ % लोग निर्णय लेकर ही आते हैं कि किसे वोट देनी हैफिर भी मतदान स्थल पर वोटर पर सब ऐसे टूट पड़ते हैं जैसे उनकी जिंदगी उसी के हाथ में हो

लेकिन वोटिंग के मामले में यारी दोस्ती काम नहीं आतीअक्सर व्यक्तिगत जीवन में जो मित्र होते हैं , वोट दूसरी पार्टी को देते हैंऐसे लोग आँख बचाकर निकलने की कोशिश करते हैंकुछ तो ऐसे मूंह फेरकर निकल जाते हैं जैसे पहचानते ही हों


खाने का इंतज़ाम चुनाव वाले दिन भी किया जाता हैयह सुविधा शायद डॉक्टर्स के चुनाव में ही देखने को मिलती है

पिछले दस साल से हम भी चुनावों में सक्रीय रूप से भाग लेते रहे हैंपूर्वी दिल्ली में अपनी पार्टी की कोर कमिटी में आते हैंहालाँकि बड़े नेताओं की तरह स्वयं कभी चुनाव नहीं जीता , लेकिन सर्वसम्मति से ब्रांच के वाइस प्रेजिडेंट ज़रूर रह चुके हैं
अब हम भी किंग मेकर का ही काम करते हैंयानि दूसरों को लड़ाते हैं

एक ख़ुशी की बात यह रही कि १२ फ़रवरी को हुए चुनाव में हमारी पार्टी का उम्मीदवार प्रेजिडेंट का चुनाव जीत गया और एक वाइस प्रेसिडेंट का
फिर अगले दिन पार्टी तो होनी ही थी

पूरे जोर शोर से जश्न मनाया गया
इस फोटो में हम इसलिए नहीं है कि फोटो तो हमीं ने खिंचा है मोबाईल से



और विजयी उम्मीदवारों का विधिवत स्वागत किया गया
ढोल और नगाड़ों की ताल पर सब झूम कर नाचेसेबरस , सोमरस-- सब का सेवन करते हुए जश्न चलता रहा

और इस तरह एक और साल के लिए डॉक्टर्स के हितों के लिए संघर्ष करने के लिए टीम तैयार हो गई

किसी भी संस्था के लिए एक एसोसिएशन का होना अत्यंत आवश्यक होता हैइसका काम होता है संस्था के सदस्यों के हितों की रक्षा करना
मेडिकल प्रोफेशन में भी बहुत सी समस्याएँ हैं जिन्हें आम आदमी नहीं समझ सकता

नर्सिंग होम का पंजीकरण , पी एन डी टी एक्ट , निवासीय कॉलोनियों में क्लिनिक्स की वैधता , कंज्यूमर प्रोटेक्शन एक्ट में डॉक्टर्स का प्रोटेक्शन आदि अनेक समस्याएँ हैं जिनसे हर प्राइवेट प्रेक्टिशनर को जूझना पड़ता है

साथ ही मेडिकल नॉलेज में निरंतर हो रहे परिवर्तन से सब को सूचित रखने के लिए सी एम् , सेमिनार्स , कॉन्फेरेन्स आदि का आयोजन , सभी पर्वों और राष्ट्रीय दिवसों पर विशेष कार्यक्रम आयोजित करना और अवसर मिलने पर सदस्यों के लिए मनोरंजक कार्यक्रमों का आयोजन एसोसिअशन द्वारा किया जाता है

आशा है कि इस वर्ष भी हम चिकित्सा समाज के लिए महत्त्वपूर्ण कार्य करने में सफल होंगे

49 comments:

  1. वाह!!! सही है सर जी आपकी पार्टी का उम्मीदवार प्रेजिडेंट का चुनाव जीत गया और एक वाइस प्रेसिडेंट का मुबारक हो ...अब मज़े लीजिये पार्टी के शुभकामनायें.... :)

    ReplyDelete
  2. चलिए बहुद-बहुत बधाई डा० साहब , अब कहने को आपकी पार्टी भी सत्ता में है !:)

    ReplyDelete
  3. जो सुख नेतागिरी में है वो डॉक्टरी में कहाँ...
    :-)
    सर आपको बधाई..

    ReplyDelete
    Replies
    1. सही कहा विद्या जी । इसी रास्ते से होकर कई डॉक्टर्स आज निगम पार्षद , विधायक और मंत्री भी बने हैं । डॉ हर्षवर्धन ने स्वास्थ्य मंत्री बनकर पोलिओ उन्मूलन का बहुत बड़ा कार्य शुरू किया जो अब समापन की ओर अग्रसर है । अब डॉ ए के वालिया भी बहुत अच्छा कार्य कर रहे हैं । एक डॉक्टर तो दिल्ली के महापौर भी रह चुके हैं ।

      Delete
  4. आजकल किंगमेकर ही ज्यादा मजे में है. वैसे अच्छा है डॉक्टरों को भी अपनी समस्याओं का समाधान तो चाहिये और सरकार के कान बहुत कमजोर होते जा रहे हैं सामूहिक स्वर शायद सुनाई पद जाएँ.

    ReplyDelete
  5. 'किंग मेकर' होने पर बधाई!
    आपने कहा, "... अधिकतर डॉक्टर्स दो खेमों में बंटे होते हैं । लेकिन काफी ऐसे भी होते हैं जो न इधर होते हैं , न उधर ।"...
    यह तो मानव जीवन का सत्य है कि समाज किसी छोटे से छोटे विषय पर भी, अधिकतर, तीन भाग में बंट जाता है, सिक्के के अधिकतर माने जाने वाले दो पहलू और बीच के मोटे खाली चेहरे समान (पशु जगत में, सर और पूँछ के बीच में शरीर), जो न हो तो सिक्का बन ही नहीं सकता - साकार रूप पा ही नहीं सकता!

    ReplyDelete
    Replies
    1. पुनश्च -
      'किंग मेकर' को बुद्ध समान 'मध्य-मार्गी' कहा जा सकता है !?
      वोटर है तो नेता है (आदमी है तो भगवान् है - या नहीं है - और कुछ के लिए फर्क नहीं पड़ता, हो या नहीं :)

      Delete
  6. दराल साहब,...बहुत२ बधाई,..किंग मेकर का जलवा ही अलग होता है,...क्योकि मैंने भी जीवन में 9-चुनाव लड़े और भारी मतों
    के अंतर से सभी राजनीतिक चुनाव जीते,अब सिर्फ किंगमेकर का
    काम करता हूँ,चनाव जीतने और जिताने के बाद जलवा बरकार रहता है
    अच्छी प्रस्तुति,

    MY NEW POST ...कामयाबी...

    ReplyDelete
  7. वाह! तो अब आपकी सरकार है... :-)

    ReplyDelete
  8. वाह जी वाह ! जीत की ख़ुशी में सोमरस का उपहार यह तो होना ही था ....बधाई जी

    ReplyDelete
  9. चलिए आपके द्वारा ये मंजर भी देख लिया.बधाई बधाई बधाई.

    ReplyDelete
  10. सब जानते हैं कि मोटापा घातक है,मगर अधिकतर डाक्टर मोटे मिलेंगे। सरकार खूब विज्ञापन देती है कि धूम्रपान जानलेवा है। औरों को हो न हो,डाक्टरों को तो यह सबसे अच्छी तरह पता होता है,मगर प्रायः डाक्टर धूम्रपान करते मिलेंगे। आखिर,क़िताबी ज्ञान क्यों डाक्टरों के काम नहीं आ रही,कोई सेमिनार इस पर भी हो!

    ReplyDelete
    Replies
    1. राधारमण जी , डॉक्टर्स में स्मोकर्स अब बहुत कम बचे हैं । लेकिन मोटे पेट वाले बहुत मिल जायेंगे । इसका कारण शायद उनका सुबह शाम क्लिनिक पर बैठे रहना ही हो सकता है । फिर भी ध्यान तो उनको भी रखना ही चाहिए ।

      Delete
    2. JCFeb 15, 2012 09:32 AM
      एक जमाने में जब मेरा वजन ८० के लगभग था (अब साठ है) तब पत्नी ने तोंद की ओर इशारा कर उसे कम करने की सलाह दी... इत्तिफाक से (अथवा डिजाइन से!), मैं उस समय अपने छोटे से मंदिर के सामने खडा था, जिसमें गणेश जी भी रखे रहते हैं, और मेरे मुंह से निकल गया, "इन के लिए तो घंटी बजाती हो!!!"
      वैसे मेरा अपने स्वयं के अनुभव के आधार पर मानना है कि यदि आप जिस समय किसी चिंता में हैं तो सिगरेट, शराब आदि का सेवन न करें... जब मैं सिगरेट कई वर्षों से पीता था ओर एक दिन दबाव के कारण अचानक छोड़ दी तो उसके कई एक दिनों पश्चात मेरी पत्नी ने एक दिन स्वीकारा कि मैं जब सिगरेट पीता था तो मेरे चेहरे पर प्रसन्नता झलकती थी (जिस कारण मुझे देख कर कुछेक अन्य लोगों ने भी पीनी शुरू कर दी थी!)...

      Delete
    3. यह प्रसन्नता मिथ्या होती है जे सी जी . स्मोकिंग से जितना नुकसान होता है उतना तो शराब से भी नहीं होता क्योंकि शराब आप कभी कभी पीते हैं जबकि एक बार सिग्रेट पीना शुरू किया तो छोड़ना बड़ा मुश्किल होता है . .

      Delete
    4. JCFeb 15, 2012 10:25 PM
      डॉक्टर साहिब, 'जगत मिथ्या' तो कहा ही, किन्तु 'द्वैतवाद' के कारण प्रतीत होते 'बुरा' तो योगियों ने (पहुंची हुई आमाओं ने) भोजन को भी 'विष' कह समझाया है, किन्तु उदर-पूर्ती साकार पशु जीवन की मजबूरी है :(...
      किसी ज्ञानी ने मानव जीवन के अनुभव के आधार पर सही कहा कि आप चाहे दूध पियो या दारु, कुछ भी आपका खान-पान, 'रहन-सहन' आदि, आदि हो, मरना तो सभी का निश्चित है १०० +/- वर्ष जीवन किसी एक रूप में व्यतीत कर!...
      और, संसार में आदमी ही नहीं अपितु कोई भी प्राणी अपनी मर्जी से तो नहीं आया है, या आता है... और आज सब जानते हैं कि मानव को ही बड़ा मस्तिष्क और बुद्धि दी गयी है (प्रकृति द्वारा?), प्राचीन सिद्धों के अनुसार ज्ञान उपार्जन कर 'माया-जाल' में फंसे रहते भी, जब भी समय मिले - धीरे धीरे ही सही (जैसे 'जीवन दाई' जल क़ी बूँद-बूँद से घट भरता है) - जीवन का सत्य समझने, और जब किसी काल में समझ आजाये तो दूसरों को भी बताने के लिए (जैसे सौभाग्यवश सिद्धों आदि द्वारा हिन्दू कथा-कहानियों, पुराण अदि में भी पाया जाता है) ... क्यूंकि यह कर पाना केवल मानव जीवन में ही संभव जाना गया है... इत्यादि इत्यादि...

      Delete
  11. बहुत बेहतरीन....
    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    ReplyDelete
  12. किंगमेकर होने का बहुत सुख है ...किसी का भला हुआ तो हमने किया , बुरा हुआ तो उम्मीदवार ने :)
    बधाई !

    ReplyDelete
    Replies
    1. हा हा हा ! यह बात भी सही है जी . इसे कहते हैं, हींग लगे ना फिटकरी ---

      Delete
  13. किंगमेकर जी .३० एम् एल सोमरस तो अपना भी बनता है ...हा हा हा बस इतना ही !खैर आप के ऊपर उधार रहा !ये हमारा शौक है ......
    फ़िलहाल तो बहुत-बहुत मुबारक स्वीकारें!

    ReplyDelete
    Replies
    1. किसी दिन ये उधर भी चुकायेंगे सलूजा जी ।

      Delete
    2. अस्सी के दशक में एक दिल के डॉक्टर मनचंदा हुवा करते थे... एक 'सी.पी.आर टेक्नीक' प्रशिक्षण के दौरान उन से किसी ने ब्रिटिश मेडिकल जर्नल में छपे समाचार, कि रोज़ दो पैग सोमरस पीने से ह्रदय आघात नहीं होता, उन से किसी ने पूछा कि क्या यह सही है? तो उन्होंने कहा कि यह अंग्रेजों के लिए सही है, किन्तु भारतीय को गिमती दो तक ही आती है - चौथा भी हो तो कहते हैं दूसरा ही है' :) "...

      Delete
    3. जी हम तो दो से कम कभी लेते ही नहीं । क्योंकि पूरी बोतल एक में आ ही नहीं सकती । :)

      Delete
    4. इस कला में तो रुसी प्रसिद्द माने जाते थे, जो वोदका के एक के बाद एक, टोस्ट पर टोस्ट ले, ऊंची इमारत की खिड़की पर खड़े हो पीछे की ओर झुक के दिखाते थे कि उन्होंने अपना होश नहीं खोया होता था :) ...
      जौनी वॉकर ने भी एक फिल्म में कुछ ऐसा कहा था, "पीते तो हमारे पूर्वज थे - हम तो खाली बोतल सूंघ कर ही झूम लेते हैं, आनंद ले लेते हैं", अर्थात मतलब तो आनंद से है...:)

      Delete
    5. JCFeb 17, 2012 05:55 PM
      इस कला में तो रुसी प्रसिद्द माने जाते थे, जो वोदका के एक के बाद एक, टोस्ट पर टोस्ट ले, ऊंची इमारत की खिड़की पर खड़े हो पीछे की ओर झुक के दिखाते थे कि उन्होंने अपना होश नहीं खोया होता था :) ...
      जौनी वॉकर ने भी एक फिल्म में कुछ ऐसा कहा था, "पीते तो हमारे पूर्वज थे - हम तो खाली बोतल सूंघ कर ही झूम लेते हैं, आनंद ले लेते हैं", अर्थात मतलब तो आनंद से है...:)

      Delete
  14. बल्ले बल्ले जी, संगठन में शक्ति है!

    ReplyDelete
  15. आपकी पोस्ट चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    http://charchamanch.blogspot.com
    चर्चा मंच-791:चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    ReplyDelete
  16. बहुत-बहुत मुबारक.......

    ReplyDelete
  17. अगर चुनाव लड़ते तो पेट नहीं बड़ता, चुनाव लडायेंगे तो सभी अपनी ओर खींचेंगे और मुंह में निवाला ठोंसेंगे ही :)

    ReplyDelete
  18. ये वाला तो असली चुनाव लगता है -काश यही माडल बड़ा लोकतंत्र भी अपना लेता !

    ReplyDelete
  19. उम्मीद है आप प्रेसिडेंट जल्दी बनेंगे ...
    पार्टी चाहिए !

    ReplyDelete
    Replies
    1. सतीश जी , अपनी तृप्ति तो वाइस प्रेजिडेंट बनकर पूरी हो गई । :)

      Delete
  20. अब हम भी किंग मेकर का ही काम करते हैं । यानि दूसरों को लड़ाते हैं । Bahut khoob.

    ReplyDelete
  21. इस वर्ष के पदाधिकारियों के नाम बतलाइये .
    डॉ .के .के .अग्रवाल ?

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी नहीं , वो तो हो चुके । डॉ अनिल अगरवाल प्रेजिडेंट चुने गए हैं ।

      Delete
  22. चुनाव के दृश्य को सटीक दर्शाया ... अब आपके प्रेसिडेंट बनाने का इंतज़ार है ॥

    ReplyDelete
  23. बहुत बेहतरीन....
    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    ReplyDelete
  24. कई महत्त्वपूर्ण 'तकनिकी जानकारियों' सहेजे आज के ब्लॉग बुलेटिन पर आपकी इस पोस्ट को भी लिंक किया गया है, आपसे अनुरोध है कि आप ब्लॉग बुलेटिन पर आए और ब्लॉग जगत पर हमारे प्रयास का विश्लेषण करें...

    आज के दौर में जानकारी ही बचाव है - ब्लॉग बुलेटिन

    ReplyDelete
  25. सर दुसरों की छोड़िए ये बताइए पार्षद या विधायकी की तरफ आपके कदम बढ़ रहे हैं....। वैसे सोमरस की पार्टी तो अपन मांगेगे नहीं क्योंकि बिन पिए ही नशा चढ़ता रहता है....हां पार्टी करेंगे तो जरुर चुपचाप आकर चुस्की लगा जाएंगे...हीहीहीहीह

    ReplyDelete
    Replies
    1. रोहित जी , अपना सपना यह नहीं है । इससे भी ऊपर है । :)

      Delete
  26. जब चुनाव की बातें हों तो राजनीति गरमा ही जाती है.
    डॉक्टरस भी वोट के लिए खीसे निपोरे..वाह! क्या बात है.
    उनकी वे तस्वीरें भी अजब ही होंगीं.

    डॉक्टरस के चुनावी माहौल को जानकार अच्छा लगा.

    समय मिलने पर मेरे ब्लॉग पर आईएगा.

    ReplyDelete
  27. यह भी खूब रही।
    आपकी सक्रियता की जितनी भी प्रशंसा की जाय कम है।
    बहुत बधाई।

    ReplyDelete
  28. आप उस एनर्जी चाइल्ड की तरह हैं जिसकी खूब सूरती सर्दियों में और भी बढ़ जाती है .आप ऊर्जा उत्सर्जित करते हैं अपनी तस्वीरों से व्यक्तित्व से कैमरे की आँख से जो बायोनिक आई है .

    ReplyDelete
  29. आप तो सर्व गुण संपन्न हैं डॉ साहब ....

    हमें तो गर्व है आप पर ......

    ReplyDelete
  30. कुछ ज्यादा ही तारीफ़ कर दी वीरुभाई जी । हटा दूँ क्या !
    हीर जी , जैक ऑफ़ ऑल कह सकते हैं (यानि मास्टर ऑफ़ नन ) । :)

    ReplyDelete
  31. वाह जी वाह .. सत्ता में आने की बधाई ... बल्ले बल्ले ...

    ReplyDelete