Sunday, June 27, 2010

बड़ा मुश्किल होता है एक डॉक्टर के लिए मरीज़ का रिश्तेदार होना---

सरकारी नौकरी का एक फायदा तो है कि आप जब चाहो , छुट्टियाँ ले सकते हो। हमने भी गर्मियों में बाहर जाने के ख्याल से १५ दिन का अर्जित अवकाश ले लिया । सोचा था कि इस बार कुछ दिन के लिए शिमला के पास चैल ही हो आते हैं । वहां अपने एक दोस्त का होटल है जिसमे डिस्काउंट भी मिल जाता है ।

लेकिन जो सोचा , वही हो , यह ज़रूरी नहीं । हुआ भी कुछ ऐसा ही । अचानक पिता जी की तबियत खराब हुई और उन्हें एक बड़े प्राइवेट अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा । अब एक सप्ताह के लिए हम सब व्यस्त हो गए । हालाँकि अब ठीक हैं और छुट्टी कर घर आ चुके हैं ।

लेकिन इस एक सप्ताह में कुछ अलग ही अनुभव हुए , जो आपके साथ बांटता हूँ

बीमारी में सबसे ज्यादा मुश्किल होती है , रोगी के रिश्तेदारों की । विशेष तौर पर उनको जिन्हें अस्पताल में रहना पड़े , दिन रात । अब रोगी को तो भर्ती कर दिया जाता है , आइ सी यू या सी सी यू में , जहाँ दिन रात नर्सें उनकी देखभाल करती रहती हैं ।

और रिश्तेदार बैठे रहते हैं बाहर बेंच पर , दिन रात । यह सिलसिला तब तक चलता रहता है जब तक मरीज़ को जेनरल वार्ड में नहीं भेज दिया जाता । अब यदि आपको प्राइवेट रूम मिला है तो आप के लिए भी सोने का इंतजाम हो जायेगा । वर्ना वहां भी ज़मीन पर लेट लगाओ।

लेकिन मुझे लगता है कि एक अटेंडेंट के रूप में एक डॉक्टर की हालत सबसे दयनीय होती है । अब जो नॉन मेडिकल रिश्तेदार होते हैं , वे तो डॉक्टर से बात करके संतुष्ट हो जाते हैं । डॉक्टर ने कहा है कि सब टेस्ट भेज दिए हैं , शाम तक रिपोर्ट आ जाएगी । चिंता की कोई बात नहीं है ---वगैरा वगैरा ।

लेकिन एक डॉक्टर को तो पता होता है कि किस टेस्ट का क्या मतलब है । यदि पोजिटिव आया तो क्या परिणाम हो सकता है । वो बेचारा तो चिंता में घुला रहता है जब तक सब कुछ ठीक ठाक नहीं हो जाता ।

सच बड़ा मुश्किल होता है एक डॉक्टर के लिए मरीज़ का रिश्तेदार होना

खैर हम भी पहले दिन सी सी यू के बाहर बेंच पर बैठे रहे । खाली , कोई काम नहीं । लेकिन रहना भी ज़रूरी था ।
बैठे बैठे आते जाते लोगों को देखते रहे । और कर भी क्या सकते थे । लोगों की बातें भी सुनते रहे । अलग अलग किस्म के लोग । सबकी अलग अलग समस्याएँ । सबकी अलग अलग प्रतिक्रियाएं ।

सुनकर बड़ा अजीब लग रहा थामरीजों के रिश्तेदारों के बीच बैठकर और उनकी बातें सुनकर ऐसा महसूस हो रहा था जैसे ऊपर वाला अपना धाम छोड़कर पृथ्वी पर उतर आया हो , जनता से ये जानने के लिए कि लोग उनके बारे में क्या सोचते हैंया फिर ऐसा जैसे कोई राजा भेष बदलकर प्रजा के बीच घूम रहा हो उनकी बातें सुनते हुए

इस अनुभव को शब्दों में बयाँ करना बड़ा कठिन है । एक आम आदमी के लिए कितना कठिन हो सकता है , जीवन मृत्यु के बारे में निर्णय लेना । कभी कभी ऐसा लगता था कि मैं किसी को कुछ सलाह दे डालूंलेकिन फिर यही लगता कि बिन मांगे सलाह देना भी कोई उचित बात नहीं । वैसे भी ये फैसले आप खुद ही लें तो बेहतर है ।

खैर , कहते है कि खाली दिमाग शैतान का घर । लेकिन एक कवि का दिमाग भला कहाँ खाली रह सकता है । तो भई खाली बैठे बैठे हमने भी सोचा कि क्यों न इन्ही हालातों पर एक कविता लिख दी जाये । वो भी हास्य व्यंग कविता । आखिर कुछ नज़ारे तो वास्तव में ही बड़े हास्यस्पद लग रहे थे ।

आप भी सोच रहे होंगे कि भला अस्पताल में हास्यस्पद हालात कैसे बन सकते हैंअब यह तो हमारी कविता पढ़कर ही पता चलेगा

तो इंतज़ार कीजिये अगली पोस्ट का

38 comments:

  1. डॉक्टर साहब! अच्छी लगी आपकी उक्ति कि राजा भेस बदलकर प्रजा के बीच था… कहते हैं चुभती हुई कील की टीस पहनने वाले को महसूस होती है... लेकिन ऐसे सीरियस माहौल में हास्य... इंतेज़ार रहेगा...

    ReplyDelete
  2. अस्पताल में एक मर्रेज़ के रिश्तेदार होने की हैसियत से आपके अनुभव जानने की उत्सुकता है..इंतज़ार है कविता का..
    पिताजी के स्वास्थ्य के लिए शुभकामनायें

    ReplyDelete
  3. पिताजी के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना ।

    ReplyDelete
  4. मानवीय मनोविज्ञान की बात बता दी आपने
    पिताजी के स्वास्थ्य के लिए शुभकामनायें

    ReplyDelete
  5. बिल्कुल सही कहा…………………कल के चर्चा मंच पर आपकी पोस्ट होगी।

    ReplyDelete
  6. अनुभव जो आपने अर्जित किये हैं उसका अनुभव तो आपकी कविता आने के बाद ही होगा.
    इंतजार है

    ReplyDelete
  7. पिताजी के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ के लिये हमारी शुभकामनाये!!!
    एक बात पूछना चाहता हुं कि जब अस्पताल मै हम ने मरीज को दाखिल करवा दिया तो फ़िर वहां सारा दिन ओर रात किसी का बेठना??
    हमारे यहां तो सुबह शाम मिल आते है, एक दो घंटे बेठे फ़िर सभी वापिस घर आ जाते है, वहां बेठने से ड्रा ओर नर्से भी तंग होती है, ओर लोग गंदगी भी डालते है,मुझे इस बारे कुछ पता नही इस कारण पूछ रहा हुं, कि यह जरुरी है, या प्यार मै करते है, या कोई दुसरा बडा कारण है

    ReplyDelete
  8. निसंदेह यह आपके लिए अलग अनुभव रहा होगा...
    हमने भी काफी उत्सुकता से पढ़ा..यूँ लगा कि हम मरीज के रिश्तेदार हैं और एक डा० भी हमारा साथी है..हमारी तरह रिपोर्ट के इन्तजार में..चिंतित. कविता का इन्तजार रहेगा.

    ReplyDelete
  9. विशेषकर अपनी पत्नी की बिमारी के दौरान २३ वर्ष से भी अधिक डॉक्टरों और कुछेक सरकारी और निजी अस्पतालों के चक्कर काटने के कारण जो अनुभव प्राप्त हुए वो सुखद कदाचित नहीं कहे जा सकते,,, हाँ इस बहाने आप जैसे कई अच्छे चिकित्सकों / सज्जन पुरुषों से मिलने का सौभाग्य अवश्य प्राप्त हुआ...

    एक ही मर्ज के मरीज़ जब मिलते हैं तो दुःख थोडा कम हो जाता है...
    अपने सामान्य से तनिक अधिक रक्तचाप पाए जाने के कारण एक दिन मैं एक डॉक्टर के कमरे में बैठा था जब डॉक्टर थोड़ी देर के लिए कुछ काम से कहीं और गए. तभी एक उतरा हुवा चेहरा लिए सरदारजी उनको ढूंढते वहां पहुंचे और मुझसे पूछा मुझे क्या तकलीफ थी... मैंने बताया रक्त-चाप बढ़ा बतला रहे हैं... यह सुन उनके चेहरे पर ख़ुशी झलक उठी और उन्होंने हाथ बढा कहा कि वो मुझसे मिलके खुश हुए! उनका भी रक्त-चाप बढा हुआ था!

    ReplyDelete
  10. इस प्रकार के कुछ अनुभव और बाँटिये डॉ साहब , इंतज़ार रहेगा !!

    ReplyDelete
  11. भाटिया जी , आपने सही सवाल उठाया है । मैं खुद भी इस बात पर मनन कर रहा था ।
    मुझे इसके दो कारण नज़र आते हैं ।
    एक --हमारी पारिवारिक व्यवस्था ।
    दो ---सुविधाओं की उपलब्धता ।
    हमारे देश में परिवार के लोग एक इकाई की तरह रहते हैं । सुख दुःख में सब एक साथ हो जाते हैं ।
    फिर लोग भी इतने ज्यादा होते हैं कि कम से कम इंसानों की तो कमी नहीं रहती । हालाँकि कभी कभी दिखावा भी हो जाता है ।
    लेकिन इससे भी ज्यादा असर है सुविधाओं का न होना । यहाँ अभी भी डॉक्टर पेशेंट और नर्स पेशेंट रेशो ज़रुरत से काफी कम है । सरकारी अस्पतालों में तो एक नर्स ३०-४० पेसेंट्स तक को अटेंड करती है । केवल बड़े प्राइवेट अस्पतालों में , और सी सी यू या आई सी यू में ही एक बेड के लिए एक नर्स होती है , जो सारे काम करती है ।

    जनरल वार्ड में सारा काम अटेंडेंट को ही करना पड़ता है ।

    वैसे कई लोगों के लिए अस्पताल , घर से बाहर निकलने का एक बढ़िया रास्ता होता है, विशेषकर गृहणियों के लिए ।

    ReplyDelete
  12. जे सी जी , सही फ़रमाया आपने ।
    एक ज़माना था जब हार्ट डिसीज सिर्फ धनाढ्य लोगों को ही होती थी । लेकिन अब फाइव स्टार अस्पताल में भी सब तरह के लोग नज़र आते हैं । क्योंकि :
    एक --अब बी पी , डायबिटीज और हृदयरोग जैसी बीमारियाँ गरीबों और युवाओं को भी होने लगी हैं ।
    दो ---अब लोगों के पास पैसा भी आ गया है । इसलिए एक किसान भी एक बड़े प्राइवेट अस्पताल में इलाज करा सकता है ।
    यही सब नज़ारे अगली पोस्ट में पढना मत भूलियेगा ।

    ReplyDelete
  13. बहुत सच्ची बात है। ज्ञान कभी-कभी कष्ट भी देता है।

    ReplyDelete
  14. अरे यह तो हमने कभी सोचा ही नही कि यह भी एक दुविधा हो सकती है

    ReplyDelete
  15. हाँ जी! यह तो सचमुच में मुस्किल काम है।

    पिताजी शीघ्र ही स्वास्थ्य लाभ करें,
    यही कामना है हमारी।

    ReplyDelete
  16. यह तो सही है...सारी जानकारी होने पर , डॉक्टर की उद्विग्नता ज्यादा बढ़ जाती है....और मरीजों के रिश्तेदारों के बीच बैठ उनकी बातें सुनना जरूर एक अलग अनुभव रहा होगा...आपकी कविता का इंतज़ार..
    पिताजी के शीघ्र स्वास्थ्यलाभ की शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  17. पिताजी के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ के लिये हमारी शुभकामनाये!
    --
    आपका आलेख बहुत ही सारगर्भित है!

    ReplyDelete
  18. पिता जी के शीघ्र स्वास्थय लाभ के लिए इश्वर से प्रार्थना करती हूँ

    ReplyDelete
  19. हां बहुत कष्ट होता है मगर हर फर्ज़ अदा करना पडता है। आप एक दिन मरीजों के रिश्तेदारों के पास बैठे मै तो जान बूझ कर खाली समय मरीजों के रिश्ते दारों मे बैठती थी मेरी कहानियां उस का नतीजा हैं। नही तो लेखन की मेरी विसात ही कहाँ थी। अच्छा लगा आपका अनुभव भी।
    पिताजी के शीघ्र स्वास्थ्यलाभ की शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  20. sachhe ehsas paish kiye aapne aisa hi hota he hospitals me...agli poem ka intzar rahega.

    ReplyDelete
  21. सबसे पहले दराल सीनियर सर के अति शीघ्र स्वस्थ होने की कामना...

    आपका ये कहना सही है, पश्चिम की तुलना में मरीज़ों का अनुपात देखा जाए तो भारत में डॉक्टर-नर्स बहुत कम हैं...इसलिए तीमारदारों को भी अस्पताल में मरीज़ का ध्यान रखना पड़ता है...आदर्श स्थिति तो यही है कि अगर मरीज़ अस्पताल में हैं तो डॉक्टर-नर्स ही उसकी हर वक्त देखभाल करें...मरीज़ के रिश्तेदार बस मिलने के टाइम में मरीज़ से मिल सके...हमारे देश में खास तौर पर छोटे शहरों में रिवाज है कि कोई जानने वाला अस्पताल में या घर में हैं तो मिलने वालों के रेले के रेले हाल पूछने आते रहते हैं...ऐसे में घरवाले मरीज़ की सेहत को लेकर फ़िक्रमंद होते हीं हैं, उनका ध्यान इन मिलने वालों के लिए चाय-पानी पूछने में भी बंट जाता है...मरीज़ को मिलने वालों की बड़ी तादाद से इन्फेक्शन का डर जो रहता है, सो अलग... मुझे याद है कि मैं बहुत छोटा था, मेरे पापा का रेटिना डिचैटमेंट का ऑपरेशन हुआ था...हमारे कुछ नज़दीकी रिश्तेदार पिकनिक की तरह अस्पताल के बाहर बरामदे में चटाई डालकर बैठे रहते थे...और मम्मी पापा के लिए दूध, दलिया वगैरहा के साथ इन रिश्तेदारों के लिए भी खाना वगैरहा बनवा कर ले जाती थीं...अब ऐसे में आप मरीज़ या उसके घर वालों की भलाई कर रहे हैं या अत्याचार, आप खुद ही सोच सकते हैं...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  22. देश में अभी स्थिती सही में ऐसी नहीं हे कि अटेंडेंट न हो। बड़े प्राइवेट अस्पताल को छोड़ दिया जाए तो सरकारी अस्पताल में तो इतने विभाग इतने अलग अलग जगह पर होते हैं कि अटेडेंट की हालत खराब हो जाती है। उसपर हमारे सरकारी कर्मचारियों के काम से जी चुराने की आदत। रात में तो कई अस्पतालों में वार्ड में सीनियर डॉक्टर की कमी भी होती है।

    ReplyDelete
  23. पिता के शीघ्र स्वास्थय लाभ की शुभकामना स्वीकार करें ...
    ऐसी परिस्थितियां मुश्किल तो होती हैं मगर बाकी मरीजों के मनोस्थिति से परिचित भी होते हैं ...
    कविता का इन्तजार रहेगा ...!

    ReplyDelete
  24. खुशदीप , अपने बिल्कुल सही लिखा है । हमारे यहाँ यह भी एक रिवाज़ ही है , मरीज़ को देखने जाना । इससे मरीज़ और उसके घरवालों को कितनी दिक्कत होती है , यह कोई समझने की कोशिश नहीं करता ।

    सारी सुविधाएँ न होने से अटेंड तो करना ही पड़ता है ।

    ReplyDelete
  25. Indeed it is tough being an attendant for a doctor. Wishing good health for father.

    The poem germinated in hospital is awaited..

    ReplyDelete
  26. हम छः भाई-बहन का जन्म घर पर ही हुआ... भारत में पहले संयुक्त परिवार का चलन था और मरीज की देखभाल घर में ही की जाती थी,,, आवश्यकता होने पर डॉक्टर को घर पर ही बुलाया जाता था... सामान्य धारणा थी कि बीमार अस्पताल तब ही जाता था जब इलाज घरेलू डॉक्टर की क्षमता के बाहर हो जाता था... इस कारण जन मानस में अस्पताल जाने में भय होता था कि केवल भाग्यशाली ही घर लौट कर आ पायेंगे...

    ReplyDelete
  27. पिताजी के स्वास्थ्य लाभ के लिए इश्वर से दुआ...

    ***************************
    'पाखी की दुनिया' में इस बार 'कीचड़ फेंकने वाले ज्वालामुखी' !

    ReplyDelete
  28. आपके पिताजी के स्वास्थ्य-लाभ की हार्दिक शुभकामाएं.

    दराल जी,
    मुश्किल तो होता हैं लेकिन ईश्वर कभी-कभी तो माता-पिता की सेवा का मौक़ा देता हैं. कहते भी हैं--"माता-पिता के चरणों में स्वर्ग होता हैं."
    मैं भी दो-तीन बार इस स्थिति (दादा-दादी के बीमार होने पर) से गुज़र चुका हूँ.

    धन्यवाद.

    WWW.CHANDERKSONI.BLOGSPOT.COM

    ReplyDelete
  29. पिताजी के स्वास्थ्य के लिए शुभकामनायें...!

    ReplyDelete
  30. आपकी पोस्ट कल ही पढ़ी थी..टिप्पणी भी लिख लिया था....और पोस्ट भी कर दिया था ..अभी आकर देखा तो मेरी टिप्पणी ही नहीं थी....पहले मुझे लगा की मेरी टिप्पणी भी ICU में हो और मैं इंतज़ार कर रही हूँ बाहर...लेकिन तुरंत ही समझ में आया हो न हो मैं अपनी टिप्पणी भर्ती ही करना भूल गयी शायद...खैर सौ बात की एक बात ....सबसे पहले पिता जी ठीक हैं जानकार बहुत अच्छा लगा..उन्हें हम सबकी तरफ से प्रणाम...निसंदेह आपका यह अनुभव आपको अपने मरीजों के और करीब ले आया होगा...ये तो सचमुच किसी राजा का भेष बदल कर अपनी प्रजा के बीच बैठने वाली बात लगी...
    कविता की प्रतीक्षा है...

    ReplyDelete
  31. आभार , अदा जी ।
    एक डॉक्टर के लिए सभी मरीज़ एक समान होते हैं ।
    लेकिन मरीज़ का रिश्तेदार होना बड़ा कठिन होता है ।

    ReplyDelete
  32. बहुत दिलचस्प बात बताई आपने .अब कविता का इंतज़ार है .

    ReplyDelete
  33. बिल्कुल सही अभी हाल ही मेरे कुछ इस प्रकार के अनुभव रहे आई. सी. यू. से बाहर बैठे लोग जो मरीज के शीध्र स्वास्थ्य होने की कामना करते है उनके दिल में एक डर सा बना रहता है जो एक अजीब स्थिति पैदा करता है सभी के लिए चाहे डॉ. हो या कर्मचारी ....बहुत सही अनुभव शेयर किया आपने..अच्छा लगा..अब कविता का इंतज़ार है..

    ReplyDelete
  34. अरे वाह ...कविता लिख जेब में डाल ली और हमें कह रहे हैं इन्तजार कीजिये .....जब लिख ही ली थी तो इस बार क्यों नहीं ....??

    और अभी तो रोमानियत भरी ग़ज़ल भी पेंडिंग है .....जिसमें हमारी बारी है चुटकी लेने की ......!!

    उम्मीद है पिताजी अब ठीक होंगें .....दुआ है ....!!

    ReplyDelete
  35. हा हा हा ! हरकीरत जी , इतनी जल्दी थोडा ना बलि का बकरा बन जायेंगे ।
    थोडा इंतजार तो आपको भी करना पड़ेगा ।
    बस इंतजार कीजिये कल तक ।

    ReplyDelete
  36. अनुभव अच्छा लगा.. आपने बिल्कुल सही लिखा है ।
    अब कविता का इंतज़ार है..

    ReplyDelete
  37. सही कहा आपने पाला बदल कर काम करना एक अलग ही अनुभव होता है

    ReplyDelete
  38. आपकी इस पोस्ट को पढ़ने के बाद जाना कि बड़ा मुश्किल होता है एक डॉक्टर के लिए मरीज़ का रिश्तेदार होना...

    आपकी कविता को पढ़ने की उत्सुकता जाग उठी है

    ReplyDelete