HAMARIVANI

www.hamarivani.com

Thursday, October 15, 2020

पत्नी और कविता --

 

एक दिन एक महिला बोली, 

आप पत्नी विषय पर कविता क्यों नहीं सुनाते हैं ! 


हमने कहा हम पत्नी पर कविता लिखते तो हैं, 

पर सुनाने से घबराते हैं।  


एक बार पत्नी पर लिखी कविता पत्नी को सुनाई , 

गलती ये हुई कि अपनी को सुनाई।  


उस दिन ऐसी मुसीबत आई कि हमें घर छोड़कर जाना पड़ा , 

और सारा दिन फुटपाथ पर बिताना पड़ा। 


तब से हम पत्नी विषय पर कविता तो सुनाते हैं , 

पर अपनी को भूलकर भी नहीं सुनाते हैं।   

  

1 comment: