Wednesday, July 9, 2014

मनुष्य अपने मित्रों से जाना पहचाना जाता है ---


जो ख़ुशी में इतराये ना ,
ग़म से कभी घबराये ना !
ऐसे शख्स का संग भी ,
सत्संग जैसा होता है !

जो ख़ुशी में बुलाये ना ,
ग़म में साथ निभाए ना !
ऐसे शख्स का याराना ,
नादानों जैसा होता है !


जो दिल की बात बताये ना,
दिल की लगी को भुलाये ना !
ऐसे शख्स से दिल लगाना ,
आत्मघात जैसा होता है !




15 comments:

  1. बहुत सारगर्भित परिभाषा प्रस्तुत की है अपने।

    ReplyDelete
  2. आप की ये खूबसूरत रचना...
    दिनांक 10/07/2014 की नयी पुरानी हलचल पर लिंक की गयी है...
    आप भी इस हलचल में सादर आमंत्रित हैं...आप के आगमन से हलचल की शोभा बढ़ेगी...
    सादर...
    कुलदीप ठाकुर...

    ReplyDelete
  3. आपकी इस पोस्ट को ब्लॉग बुलेटिन की आज कि बुलेटिन ब्लॉग बुलेटिन - जन्मदिवस : गुरु दत्त और संजीव कुमार में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    ReplyDelete
  4. सारगर्भित ......

    ReplyDelete
  5. बिलकुल सच जैसे......... जो दुख मे खड़ा न हो ,प्यार मे लड़ा न हो ,दिल से बड़ा न हो ... मित्र नहीं होता

    ReplyDelete
  6. तीनों स्थितियों को बाखूबी लिखा है ...
    पर सच्चे दोस्त हर हाल में दोस्त ही रहते हैं ... सारगर्भित ...

    ReplyDelete
  7. You can definitely see your enthusiasm within the work you write.
    The sector hopes for even more passionate writers such as you who are not afraid to mention how they believe.
    At all times go after your heart.

    Also visit my web blog - concrete repair Indianapolis ()

    ReplyDelete
  8. बहुत खुबसूरत रचना अभिवयक्ति.........

    ReplyDelete
  9. दिल से उफनते अनुभव के बोल
    बेहतरीन और सत्य। ………… बधाई

    ReplyDelete
  10. बहुत बढ़िया, सारगर्भित !!

    ReplyDelete
  11. अहो भाग्य हमारे,आप हमारे पधारे।
    अच्छे -सच्चे मित्रो का होना सौभाग्य वर्धक होता है।
    मित्र रहित व्यक्ति को जीवन में सुख प्राप्त नहीं होता।
    आप की यह छोटी सी मुलाकात,ओर आप का साथ
    जीवन के अंतिम क्षणों तक असमर्निय रहेगा।
    सारगर्भित - अति सुन्दर प्रस्तुति,
    ने हमें भी अलिंकृत कर दिया।धन्यवाद

    ReplyDelete
    Replies
    1. हमे भी बहुत अच्छा लगा शर्मा जी आपसे मिलकर ! एक पल को भी यह अहसास नहीं हुआ कि हम पहली बार मिल रहे हैं ! याद रहेगी ये छोटी सी मुलाकात !

      Delete