Tuesday, March 25, 2014

एक जंगल ऐसा जहां शेर खुले मे और इंसान पिंजरे मे बंद होते हैं ---


दिल्ली जैसे शहर मे रहते हुए ऐसा लगता है जैसे हम कंक्रीट जंगल मे रह रहे हैं . इसलिये अक्सर शहरी लोग जंगल भ्रमण का आनंद लेने के लिये असली जंगलों की ओर अग्रसर होते हैं . हम भी कई जंगलों की खाक छान चुके हैं , इस उम्मीद मे कि कहीं कोई जंगली जानवर अपने क्षेत्र मे स्वतंत्र विचरण करता हुआ नज़र आ जाये . लेकिन तेंदुए को छोड और कोई जानवर आज तक नज़र नहीं अया , जबकि वह तो यूँ भी कई बार शहरों मे घुस कर खलबली मचा देता है .   

अपनी बैंगलोर यात्रा के दौरान हमे पता चला कि वहां भी शहर से मात्र २५ किलोमीटर दूर एक जंगल है जहाँ जंगली जानवर देखे जा सकते हैं . हालांकि उम्मीद कम ही थी, फिर भी एक और जंगल देखने का प्रलोभन हम छोड नहीं सके .  


प्रवेश टिकेट मे वहां बने चिडियाघर का प्रवेश भी शामिल था . इसलिये सभी पहले वहां जा रहे थे . हमने भी सोचा कि चलो पहले यहीं शेर देख लें ताकि जंगल मे निराश ना होना पड़े . 




लेकिन बिग केट्स के रूप मे यहां बस ये तेंदुए ही मिले . इनके अलावा कुछ मगरमच्छ, एक शतुर्मुर्ग और अनेक बेबी कछुए देखकर कुछ संतोष मिला .  




जंगल सफ़ारी के लिये करीब २० से ज्यादा हरे रंग की बसें लाइन मे लगी थी . खिड़कियों मे जाली लगाई गई थी . हमने सोचा , अवश्य ही यहाँ शेर नज़र आयेंगे . शायद इसीलिये सुरक्षा का पूरा इंतज़ाम किया गया है . 





जंगल मे घुसते ही सबसे पहले हमेशा की तरह ये चीतल हिरण नज़र आये . हालांकि यह संभावित ही था क्योंकि ये हिरण सभी जगह दिख जाते हैं . लेकिन सड़क किनारे ही पानी का प्रबन्ध किया गया था जिससे कि लोगों को इंतज़ार ना करना पड़े . 




लेकिन जल्दी ही हाथियों का एक बड़ा झुंड देखकर रोमांच महसूस हुआ और लगा कि ये सफ़ारी तो बहुत लाभदयक सिद्ध होने वाली है . फिर ध्यान से देखा तो पाया कि सभी हाथियों को चेन से बांधा गया था . यानि आँखों को धोखा दिया गया था . अब तो हमे कुछ कुछ आभास होने लगा था कि आगे क्या होने वाला है . 




तभी सामने एक गेट नज़र आया जिस पर लिखा था -- भालू . यानि अब हम भालू के बाड़े मे जा रहे थे . फिर जल्दी ही हमे एक भालू सड़क पर टहलता नज़र आ गया . देखने मे तो यही लगा जैसे हम अफ्रिका के जंगलों मे घूम रहे हैं . 

अब तक हम समझ चुके थे कि दरअसल हम एक बड़ी ज़ू मे गाड़ी मे बैठकर घूम रहे थे . फर्क बस इतना था कि यहाँ हम गाड़ी मे जालियों के पीछे बैठे थे और जंगली जानवर आराम से खुले मे विचरण कर रहे थे . 




फिर भी इन बब्बर शेरों को खुले मे यूँ इतने पास से देखना और फोटो खींचना एक सुखद और रोमांचक अहसास था . 




अगला बाड़ा टाईगर यानि बाघ का था . हालांकि यह बेचारा सुस्त और बीमार सा लग राहा था . 




यह सफ़ेद टाईगर शायद बच्चा था . लगा जैसे भूखा था और खाने का इंतज़ार कर रहा था . इसलिये अपने भोजनालय के आस पास ही चक्कर लगा रहा था . 




एक अकेला बन्दर मनुष्यों की बस्ती के आस पास खाना ढूंढ रहा था . यहाँ आम के पेड थे जिन पर कच्चे आम लगे थे . 

जंगल मे स्वछंद विचरण करते जंगली जानवरों को इंसानों को दिखाने का यह तरीका हमे भी पसंद आया . यहाँ अलग अलग प्रजाति के जानवरों के लिये अलग अलग बड़े बड़े बाड़े बनाये गए थे . एक तरह से सब के लिये अलग अलग फार्म हॉउस से बने थे . उनके डाइनिंग हॉल भी सड़क के पास ही बनाये गए थे ताकि बस मे बैठे लोगों के लिये इनका दर्शन सुनिश्चित हो सके . लेकिन लगभग सभी जानवर सुस्त से लग रहे थे जैसे उन्हे हल्का नशा हो . एक टाईगर तो बीमार सा ही लग रहा था . निश्चित ही ये जानवर चिड़ियाघर के जानवरों की अपेक्षा ज्यादा सुखी रहे होंगे क्योंकि यहाँ इनको खाने के साथ साथ विचरण के लिये प्राकृतिक वातावरण मिल रहा था . हालांकि मुफ्त का खाना खाकर ये निकम्मे तो अवश्य हो गए होंगे और इनकी शिकार करने की स्वाभाविक प्रवृति कुंठित हो गई होगी . 



सफ़ारी के अंत मे यह एक छोटी सी जंगली झील फोटो मे ज्यादा सुन्दर दिख रही है जैसे एक साधारण सी लोकेशन भी फिल्मों मे बड़ी सुन्दर दिखाई देती है . कुल मिलाकर यही लगा कि यह सफ़ारी लोगों को जंगली जानवरों को समीप से बेखौफ़ देखने के लिये एक अच्छा अवसर प्रदान करती है . 

15 comments:

  1. बहुत सुंदर चित्र हैं..... प्रकृति के गोद में इन्हें यूँ खेलते देख अच्छा ही लगता है ....

    ReplyDelete
  2. यह सफारी पसंद आया , आपके कैमरे का आभार !

    ReplyDelete
  3. क्या बात है ............. चित्र ही सबकुछ बयां कर रहे हैं।

    ReplyDelete
  4. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन इंसान का दिमाग,सही वक़्त,सही काम - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  5. डॉ.साहब ,मैंने भी सरिस्का (राजस्थान) दुधवा टाइगर (उ.परदेश ) जंगल के सैर करी पर देखने को सिर्फ
    केनाडा में जंगल सफारी का ही मज़ा आया...आप ने भी तो देखा होगा टोरांटो में ......

    ReplyDelete
    Replies
    1. हम सफ़ारी पर तो नहीं गए लेकिन एलगॉनक्विन ट्रेल पर ज़रूर गए थे और तीन दिन की कैंपिंग की थी !

      Delete
  6. वाह...सुन्दर पोस्ट...
    नयी पोस्ट@चुनाव का मौसम

    ReplyDelete
  7. डॉ साहब सादर अभिवादन >>>>प्रकृति कि गोद का आनंद आपके चित्रों से मिला किन्तु मन को विचार करने के लिए दिशा देता आपका शीर्षक ****एक जंगल ऐसा *** सच को बयान करता सुप्रभात संग प्रणाम स्वीकारें

    ReplyDelete
  8. सारे चिड़ियाघर इसी प्रकार के होने चाहिये।

    ReplyDelete
    Replies
    1. चिडियाघर और नेशनल पार्क भी ! फिर जानवरों को भी फायदा और मनुष्यों को भी !

      Delete
  9. हैदराबाद का जू भी ऐसा ही है. पूरे जू को छोटी ट्रेन में बैठ कर घूमा जा सकता है !

    ReplyDelete
    Replies
    1. वाणी जी , लेकिन यह जू नहीं है बल्कि एक खुला विस्तृत क्षेत्र है जिसमे ये जानवर स्वतंत्र विचरण करते हैं और मनुष्य सुरक्षित वैन मे बैठकर इनके दर्शन करते हैं !

      Delete
  10. Firstly, you need to choose your preferred layout and then you can proceed with customizing the template as much as you
    want. The process works the same as a photography
    class minus the darkroom setting. Of course, there are plenty of
    professionals who never attended a single class, so it's up to you to decide what works best for your career.


    Here is my webpage dslr photography for beginners pdf

    ReplyDelete
  11. Pick just one museum such as the Rodin museum or L.

    The local Palomar College in San Marcos offers some of the best
    adult workshops I have ever experienced, at a fairly low
    cost. Most online classes also real live instructors that you can contact to answer your questions and
    clarify anything that you don.

    Here is my web site - photography course leeds

    ReplyDelete
  12. You've made some decent points there. I looked on the internet for additional information about the issue and found most people will go along with your views on this website.


    Also visit my blog post: mlb

    ReplyDelete