Saturday, June 4, 2011

आदमी को कुत्ता कमीना कहना यानि कुत्ते को गाली देना --क्या सही है ?

अपने पसंदीदा फ़िल्मी हीरो धर्मेन्द्र की फिल्मों में अक्सर एक डायलोग सुनने को मिलता है --कुत्ते कमीने मैं तेरा खून पी जाऊँगा ।


टोरंटो कनाडा के एक बड़े मॉल में घूमते हुए अचानक एक स्टाल पर नज़र पड़ी । लिखा था --डॉग्स मीट । हम हैरान हो गए यह सोचकर कि यहाँ भी लोग कुत्तों का मीट खाते हैं । यह आदत तो पूर्वी एसिया के लोगों में पाई जाती है । फिर पता चला कि वह कुत्ते का मीट नहीं बल्कि कुत्तों के खाने के लिए मीट था जो बेचने के लिए रखा था ।

कहते हैं कुत्ता मनुष्य का सबसे सच्चा दोस्त होता है वह वफ़ादार भी होता है कुत्ता शायद सबसे पहला जानवर है जो मनुष्य के साथ घरेलु बना आज कुत्तों के बिना बहुत से घरों में सूनापन सा हो जायेगा बहुत से लोग कुत्तों से प्यार भी बहुत करते हैं

दरअसल कुत्तों में गुण ही ऐसे हैं कि मनुष्य भी उनके सामने काफ़िर सा नज़र आने लगता है । लेकिन हम मनुष्य हैं कि कुत्तों से कुछ भी नहीं सीखते ।

आइये देखते हैं कुत्ते और मनुष्य में समानता और विभिन्नताएं :

जनसँख्या में आदमी और कुत्तों में बस एक समानता है

दोनों में मादाएं कम , और नरों की संख्या ज्यादा है



लेकिन आदमी और कुत्ते में एक अंतर है बहुत भारी

और वो है कुत्ते की मालिक के प्रति वफ़ादारी ।


कुत्ता अपने मालिक के लिए जान भी दे देता है

आदमी जिस थाली में खाता है , उसी में छेद कर देता है ।


कुत्ता गली में कभी दुसरे कुत्ते को नहीं काटता

आदमी है कि रोड रेज़ में सीधा गोली मारता ।


कुत्ता नींद में भी जागता है , भरोसेमंद है

आदमी नशे में ही भागता है , भरोसा बंद है ।


रोटी के इक टुकड़े से कुत्ते को मिलता संतोष

पैसे के पीछे आदमी अक्सर खो देता है होश ।


एक बार एक आदमी और कुत्ते में बहस हो गई कहीं

कुत्ता बोला कभी मैं भी इंसान था , मगर तेरी तरह कुत्ता नहीं ।


मैं भी सोचता हूँ कि काश कितना अच्छा होता

यदि आदमी आदमी न होकर एक कुत्ता होता ।


तब न होती काम , क्रोध , मद , लोभ की बीमारी

और आदमी भी होता कुत्ते की तरह सदाचारी ।


नोट : अब ज़रा आप ही बताएं कि आदमी को कुत्ता कमीना कहकर गाली देना क्या सही है।

साथ ही कोशिश करें और चित्र में दिखाए कुत्ते की नस्ल बताने का प्रयास करें ।




63 comments:

  1. नमस्कार जी,
    आज के इंसानों को इन प्राणियों से प्रेरणा लेनी चाहिए,
    ताकि ये दुनिया कुछ सुधर जाये,
    नस्ल में हमेशा असमंजस रहता है मेरे साथ,
    आपने बहुत अच्छी व सच्ची बाते बतायी है,
    अगर फ़ोटो वाला मनमौजी आपका है, तो बहुत अच्छा है,
    मेरे पास भी एक मनमौजी है, जिसका नाम शेरु है, जो लगता भी शेर के जैसा है,

    ReplyDelete

  2. वाकई हम अपनी इंसानियत भूल गए हैं , कुत्ते हमसे कई बातों में आगे हैं ! इस विषय पर रिसर्च होनी चाहिए उम्मीद करता हूँ कि आप हम दोनों के गुण अवगुण, श्रंखलाबद्ध तरीके से समझाते रहेंगे !
    शायद हम आपके प्रयासों द्वारा, कुत्तों से कुछ सीख सकें !
    शुभकामनायें कुत्तों को !!

    ReplyDelete
  3. वाह.. दराल साहब खुबसूरत व्यंग किया है कुत्तों को हक है वो न्यायालय जाएँ और आदमी के खिलाफ्फ़ मुकदमा करें , धर्मेन्द्र जी को सजा तो होती ही चाहिए.

    ReplyDelete
  4. यह इंसानी फितरत है कि वह किसी के नाम पर भी गाली ईजाद कर लेता है। माँ, बहन, गाँव, जंगल, पशु-पक्षी सभी पर। लेकिन स्‍वयं का चरित्र नहीं देखता।

    ReplyDelete
  5. ओह आज समझ आया कि देश की गलियों के सभी कुत्ते मरगिल्ले क्यों होते हैं...

    सब का खून धर्मेंद्र पाजी जो पी गए हैं...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  6. इंसान तुम कुत्ते तो न हुए
    वाफादारी भी तुममे न आई
    एक बात पूछू उत्तर दोगे
    कहाँ से सीखा भौंकना
    और कहाँ से हाड चबाई
    अज्ञेय से क्षमा याचना सहित !

    ReplyDelete
  7. कुत्ता तो जाट नस्ल का लग रहा है।

    ReplyDelete
  8. "सास भी कभी बहू थी ", और वैसे ही "कुत्ता भी कभी भेड़िया था"... सब चक्कर प्राकृतिक उत्पति का है :)

    और हिन्दू मान्यतानुसार शुद्ध शक्ति से आरम्भ कर उत्पति के पश्चात, ८४ लाख प्राणी रूपों से गुजरने के बाद, मानव रूप मिलता है, परम शक्ति का प्रतिरूप अथवा प्रतिबिम्ब ! किन्तु, हर कोई खिसिया कर दूसरे में किसी 'निम्न श्रेणी' के प्राणी की झलक ही देखता है, परम शक्ति का नहीं, जो कुछ बिरले ही देख पाते हैं जिनकी 'ई एस पी' जगी होती है... दोष हमारी 'बहिर्मुखी' भौतिक इन्द्रियों का माना गया...

    ReplyDelete
  9. आपकी रचना यहां भ्रमण पर है आप भी घूमते हुए आइये स्‍वागत है
    http://tetalaa.blogspot.com/

    ReplyDelete
  10. डॉ.दराल भाई साहब ,
    आज फिर नये रंग में …

    शानदार है आज की पोस्ट भी !
    हास्य भी व्यंग्य भी , संदेश भी जानकारी भी …और कविताई भी :)
    क्या बात है सर !
    मान सकते हैं आपके आस-पास बीमार लोग हो ही नहीं सकते …
    सबका स्वास्थ्य तो आपने अपने ब्लॉग के जरिए ही सही किया हुआ है । :)
    वरना डॉक्टर लोगों को कहां वक़्त मिलता है :)
    बधाई आज की निराली पोस्ट के लिए भी !!

    ReplyDelete
  11. कृपया ,
    शस्वरं
    पर आप सब अवश्य visit करें … और मेरे ब्लॉग के लिए दुआ भी … :)

    शस्वरं कल दोपहर बाद से गायब था …
    अभी सवेरे पुनः नज़र आने लगा है ।
    कोई इस समस्या का उपाय बता सकें तो आभारी रहूंगा ।

    ReplyDelete
  12. कुत्ते वफादारी में तो कम से कम हमसे आगे हैं... हालाँकि सारी की सारी इंसान बिरादरी बेवफा नहीं है, लेकिन वफादार ना के बराबर हैं...

    हालाँकि मैं भी मानता हूँ कि इंसानों को कुत्ता कहना कुत्तों की शान में गुस्ताखी है... :-)

    ReplyDelete
  13. तुलना सटीक है ... इंसान से ज्यादा कुत्ते में अच्छाई दिख रही है ..

    ReplyDelete
  14. .
    एक पौराणिक आख्यान भले ही कोरी गप्प हो, पर वार्तालाप का सार कुत्ते की महत्ता को सादर स्वीकार करता है ।
    यदि किसी को स्मरण हो तो धर्मराज युधिष्ठिर के साथ एक श्वान को ही सशरीर स्वर्ग जाने की आज्ञा मिली ।
    धरमिन्दर पाजी को बाइज़्ज़त बरी किया जाता है, उनके द्वारा खून पिये जाने के साक्ष्य उपल्ब्ध नहीं हैं ।
    वैसे भी उन्होंने इन्सान का खून पीने की बजाय कुत्तों का शुद्ध पवित्र रक्त पीना चाहा, क्या हर्ज़ है ?
    कारण चाहे जो भी हो, मैं स्वयँ मनुष्यों से अधिक कुत्तों के बीच अधिक सहज रह पाता हूँ ।
    कुत्तों के प्रति समर्पित इस आलेख के लिये डॉ. दराल धन्यवाद के पात्र हैं ।
    मैं तो उनके सात्विक सहिष्णु गुणों के कारण गधों का भी अनन्य भक्त हूँ ।

    और हाँ.. यह ब्रीड ( नस्ल ) देशी कुत्तों की सात मुख्य नस्लों में सबसे प्रमुख कॉम्बाई ( Combai ) है, इसे स्ट्रे-डॉग कहने का भी फ़ैशन है ।

    ReplyDelete
  15. क्या शीर्षक चुना है सर । समानता एक अन्तर पांच । कुत्ते ने सही कहा कि मै तेरी तरह कुत्ता न था। आपने लिखा है कि आदमी आदमी न होकर कुत्ता होता । होता क्या मतलब ?

    ReplyDelete
  16. तुलना इतनी बढिया की है कि ईर्ष्या होने लगी है कि मुझे इंसान के बजाय कुत्ता क्यों नहीं बनाया परमात्मा ने

    यह कुत्ता लैब Lab नस्ल का दिखता है जी
    पोस्ट बहुत पसन्द आयी, आभार

    प्रणाम स्वीकार करें

    ReplyDelete
  17. Lab
    Labrador Retriever
    Canada, England की प्रजाति

    प्रणाम

    ReplyDelete
  18. मुझे कुत्ते बहुत अच्छे लगते हैं... इनफैक्ट मैं कुत्तों के बगैर नहीं रह सकता.... मुझे अपने डॉग्स कलेक्शन में सबसे प्यारा जैंगो था.... वो मेरे साथ ही खाता था... मेरे साथ ही सोता था... वो और मैं एक ही थाली में खाते थे... कई बार वो खाना छोड़ देता था तो उसका खाना मैं खा लेता था... मुझे कुत्ते कभी कुत्ते जैसे लगते ही नहीं... कुत्ते पूरे इंसान सरीखे ही बिहेव करते हैं... अभी मैंने एक नया घर खरीदा है... उस घर का नाम मैंने जैंगो विला ही रखा है... अब मेरे पास जितने भी कुत्ते हैं... सबका मेडिकल लाइफ इंश्युरेंस है... आपने एक बात सही कही है... कि इंसान भी कुत्तों के आगे काफिर नज़र आता है... मैं अपने जैंगो को कभी नहीं भूल सकता... उसके हर खिलोने ... बर्तन... बिस्तर... ऐ.सी. ..... कूलर.... पेडिग्री... और भी बहुत सारी चीज़ें मैंने उसकी संभल कर रखी हैं... पोस्ट मुझे बहुत अच्छी लगी... कुत्तों के ऊपर मुझे हर चीज़ बहुत अच्छी लगती है...

    ऊपर दिखाए गए फोटो में ... लैब्राडोर ब्रीड का गोल्डेन रिट्रीवर कुत्ता है....

    और धर्मेन्द्र के घर के आगे अब कुत्तों ने जाना छोड़ दिया है...

    ReplyDelete
  19. हो सकता है कि कुत्ते भी आपस में एक दूसरे इंसान-इंसान कहते हों...

    ReplyDelete
  20. चित्र का कुत्‍ता तो एकदम असली नस्‍ल वाला कुत्‍ता लगता है.

    ReplyDelete
  21. कुत्ते के माध्यम से आपने मनुष्य जाती को वांछित नसीहत दी है. इस पर विचार किया जाना और सुधार किया जाना चाहिए.

    ReplyDelete
  22. आपकी रचना बहुत अच्छी है ..!!
    सच में कुछ मामलों में इन्सान कुत्ते की बराबरी नहीं कर सकता .
    ये फोटो labrador की है .क्यंकि इसके बाल नहीं हैं |Golden ritriever is a different breed with more of hairs.

    ReplyDelete
  23. बहुत उपयोगी पोस्ट है!
    बढ़िया व्यंग्य!

    ReplyDelete
  24. @ डॉक्टर अमर कुमार ने कहा, " ... यदि किसी को स्मरण हो तो धर्मराज युधिष्ठिर के साथ एक श्वान को ही सशरीर स्वर्ग जाने की आज्ञा मिली ।..."

    विभिन्न काल और स्थान में भेड़िये अथवा कुत्ते को उच्च स्थान दिए जाने के बारे में इन्टरनेट पर इच्छुक व्यक्ति कृपया देखें -

    http://asiapacificuniverse.com/pkm/dogstory.htm

    मैं केवल यह कहना चाहूँगा कि जहाँ तक 'प्राचीन हिन्दुओं' का प्रश्न है, कहानियाँ सांकेतिक भाषा में लिखी गयीं हैं इसलिए यदि 'सत्य' तक पहुंचना हो तो उन्हें पढ़ते समय ध्यान रखना चाहिए कि प्राचीन 'हिन्दू' पहुंचे हुए खगोलशास्त्री, 'सिद्ध पुरुष' थे, जो हमारी गैलेक्सी और उसके भीतर उपस्थित सौर-मंडल की उत्पत्ति को सरल कहानियों द्वारा दर्शा गए... 'देवताओं के राजा इन्द्र' वास्तव में सूर्य ही हैं और युधिष्टिर द्वापर युग में हमारी पृथ्वी, जो उत्पत्ति के पश्चात सतयुग में अमृत, गंगाधर शिव, कहलाई गयी :)

    ReplyDelete
  25. संदीप पंवार जी , नीरज जाट जी , डॉ अमर कुमार जी , इस कुत्ते की शक्ल बिलकुल उस कुतिया ( कहना अज़ीब सा लग रहा है ) से मिलती जुलती है जिसे कभी मैंने बचपन में पाला था । घर की रखवाली बहुत खूब करती थी । क्या मज़ाल कि कोई ऐरा गैरा या अन्जान आदमी घर में आ जाए । काट डालती थी । लेकिन घर के लोगों को सबको पहचानती थी ।

    अन्तर सोहिल और महफूज़ ने सही बताया है । यह लाब्राडोर नस्ल का कुत्ता है । फोटो नेट से लिया गया है , वर्ना भाई हमें तो नस्लों की पहचान नहीं । आप दोनों का शुक्रिया ।

    ReplyDelete
  26. कुश्वंश जी , खुशदीप भाई --धर्मेन्द्र पाजी ( पा जी ) अपने तो चहेते हीरो रहे हैं । उन पर भी एक पोस्ट लिखने का इरादा है ।
    आपकी बात का ज़वाब डॉ अमर कुमार ने बहुत सही दिया है ।

    ReplyDelete
  27. @ JC
    धन्यवाद जोशी जी,
    मैंनें वह लिंक देखा.. बेहतर होता कि आप वहाँ से उद्धरण भी दे देते.. क्योंकि यह डॉ. दराल की इस पोस्ट की आत्मा को अपना समर्थन देती है ।
    "One of the most memorable dog stories from Indian literature involves the heroic Pandava brothers of the Mahabharata. When King Dharmaraja, his brothers and all their families set off on their final journey up the Himalayas, each one fell until only Dharmaraja and his companion dog were left.

    As they neared the top of the mountain, they were greeted by the god Indra in his chariot. The god lauded Dharmaraja and said that he had earned a place in heaven. He bidded that the king board the chariot and has he did Dharmaraja beckoned for his canine friend. However, Indra protested saying that dogs were not allowed in his heaven.

    Upon hearing this Dharmaraja said that he could not abandon such a faithful companion who depended on him. He declared he would rather stay on earth than abandon his dog. Finally Indra relented and both were taken to heaven. Upon arriving the dog transformed into the god Dharma, the lord of the correct way of living. "

    अन्य स्रोतों से सँस्कृत सँदर्भ देना यहाँ अप्रासँगिक होगा ।

    ReplyDelete
  28. अजित जी , सही कहा आपने । आदमी ने अपने मात पिता , भाई बहनों को नहीं छोड़ा तो भला कुत्ता क्या चीज़ है ।

    अरविन्द मिश्रा जी ने बड़ी फिलोसोफिकल बात कही है । दरअसल हम बुरी बातों को तो पकड़ लेते हैं लेकिन अच्छाइयों की तरफ ध्यान नहीं देते । हर मनुष्य में भी अच्छे और बुरे दोनों गुण होते हैं । अच्छा है कि अच्छे गुणों को ही अपनाया जाए ।

    ReplyDelete
  29. बृजमोहन जी , --आदमी आदमी न होकर कुत्ता होता--यहाँ इसका तात्पर्य यह है कि आदमी में भी ये सारे गुण होते तो --आदमी भी सदाचारी कहलाता ।

    हा हा हा ! काजल कुमार जी , इस बात का पूरा अंदेशा है ।

    अनुपमा जी --लाब्राडोर ही है । जानकारी के लिए आभार ।

    ReplyDelete
  30. जे सी जी , डॉ अमर कुमार जी --आप दोनों के अनुभव और ज्ञान ने पोस्ट में वास्तव में जान सी डाल दी है ।
    फेथफुल के साथ फेथफुल होना भी सदाचार है ।

    राजेन्द्र भाई , आपका स्नेह तो अपरम्पार है । बस यूँ ही मुस्कराते रहें , हम भी यही चाहते हैं ।

    ReplyDelete
  31. डाक्टर साहब मुझे तो आप सिर्फ ये बता दें की स्वान जनसँख्या में नर ज्यादा हैं और मादाएं कम हैं ये बात आपको कैसे पता चली. क्या इनकी भी गणना होती है?

    ReplyDelete
  32. JC साहब से जानना चाहुगा की आम लोगों में कुत्तों के विषय में महाभारत से सम्बंधित एक और कथा प्रचालन में है की कोई कुकुर धर्मराज युधिष्टिर की चप्पल लेकर भाग गया था. इस कथा में कथा का कितना अंश है.

    ReplyDelete
  33. एकदम अलग सी पोस्ट...और उसपर रोचक टिप्पणियाँ...
    देर से आने का फायदा...:)

    ReplyDelete
  34. @ VICHAAR SHOONYA
    भैया जी , यह राज़ सार्वजानिक रूप से नहीं बताया जा सकता । इसलिए मैंने अपनी कविता को सेंसर करके छापा है । :)

    ReplyDelete
  35. सटीक विश्लेषण किया है :) वाकई कुत्ता ज्यादा इंसान नजर आ रहा है :).

    ReplyDelete
  36. इस सारे बहस में गधा कहां बैठता है डॉक्टर साहब :)

    ReplyDelete
  37. डॉ टी एस दराल जी, बहुत सुंदर बात लिखी आप ने इस लेख मे, मैने अपनी जिन्दगी मे तीन चार बार कुत्तो को पाला हे,वैसे तो मै कभी गाली देता नही अगर कभी देनी पडे तो किसी को कुत्ता नही कहता, क्यो कि कुत्ते का एक भी गुण इंसान मे नही, मेरा आखरी कुत्ता हमारा हेरी था, जिसे मै अपने बच्चे की तरह से प्यार करता था, ओर वो घर पर सब की बात बिन कहे समझ जाता था, ओर हेरी भी अपने आप को इस घर का मेम्बर समझता था, बच्चो के लिये कोई नयी चीज लाने पर उसे भी चाहिये थी नयी चीज, वर्ना मोका मिलते ही वो उस चीज को छीन लेता था, फ़िर प्यार करने पर या बिस्किट देने पर ही वापिस करता था, एक वफ़ा दार हे यह जानवर, जिस की जितनी तारीफ़ की जाये कम हे, धन्यवाद

    ReplyDelete
  38. कुत्ता आदमी नहीं है
    पर कुछ आदमी कुत्ते हैं

    ReplyDelete
  39. @ VICHAAR SHOONYA
    बचपन में किसी कहानी में पढने को मिला, "माँ यशोदा ने बाल कृष्ण के मुंह में सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड देखा"! आश्चर्य हुआ और जिज्ञासा भी हुई थी... विज्ञान के विद्यार्थी तो रहे ही थे और अस्सी के दशक में पूर्वोत्तर क्षेत्र में कुछेक अनहोनी घटनाओं से ऐसे संकेत मिले जिन्होंने मुझे किसी अदृश्य शक्ति की उपस्थिति का आभास सा कराया... उनमें से मुख्य था ८ दिसंबर '८१ को, जब में तैयार हो बैठा था गौहाटी से इम्फाल जाने के लिए घर से निकलने के लिए और मेरी पत्नी ने मुझे देर से पूरी-आलू खिलाने की सोची थी जिससे लंच की आवश्यकता न हो वहाँ पहुँच... मेरी तब १० वर्षीया तीसरी पुत्री द्वारा अचानक पूछा जाना, "पापा, आपकी फ्लाईट कैंसल होगई?" उत्तर में मैंने कहा "नहीं" ! "अंकल मुझे एअरपोर्ट छोड़ते जाएंगे... मैं ब्रेकफास्ट कर और उनके साथ चाय पी निकल जाऊँगा"... दिल्ली से जहाज आया भी, किन्तु टेक्निकल खराबी होने के कारण देरी से, और गौहाटी से ही दिल्ली लौट गया ! और यूं मेरी फ्लाईट केंसल हो गयी !

    मस्तिष्क पर जोर देने के बाद याद आया कि उसी तारीख को तीन वर्ष पहले हमारी माँ का स्वर्गवास हुआ था ! तो क्या मेरी बेटी और उसकी दादी या किसी अदृश्य शक्ति के बीच कुछ कनेक्शन जुड़ गया था ?

    '८४ में दिल्ली वापिस आने के बाद मैंने भागवदगीता पढ़ी, और सोचा मैंने पहले क्यूँ न पढ़ी थी जबकि उसकी एक प्रति मेरे पास पड़ी थी, किन्तु पढने का समय नहीं मिला था :)

    उसमें मैंने 'कृष्ण' का यह कथन भी पढ़ा कि 'वास्तव में सपूर्ण ब्रह्माण्ड उनके भीतर ही है ! और केवल माया से ही सब उन्हें अपने भीतर देखते हैं' ! ओह! यानि यशोदा को परम सत्य का ज्ञान हुआ, वैसे ही जैसे महाभारत की कथा में 'धनुर्धर' अर्जुन को कुरुक्षेत्र के मैदान में उनके 'सारथी, कृष्ण' से दिव्य चक्षु' पा हुआ था ! यानि द्वापर में कृष्ण यदि हमारी गैलेक्सी केंद्र में उपस्थित 'ब्लैक होल' के प्रतिरूप हैं तो अर्जुन सूर्य का जिससे किरणें हर दिशा में तीर समान निकलती हैं ! और त्रेता में राम भी धनुर्धर दर्शाए गए, जबकि भरत उनकी चरण पादुकाएं उधार ले उन्हें राजगद्दी पर रख राज्य किये (चप्पल सूर्य की प्राण दायक किरणों की द्योतक हैं !) अर्थात कहानियाँ गैलेक्सी और सौर-मंडल की विभिन्न युग में उत्पत्ति दर्शाती हैं...

    ReplyDelete
  40. कुत्ते की तुलना आदमी से, कुत्ता माइंड ना कर जाये.

    ReplyDelete
  41. प्रसाद जी , यह डॉ अमर कुमार जी का लिखा हुआ गधों पर एक लेख है , इसी से मिलता जुलता । लिंक भी डॉ साहब की टिप्पणी में है । पढियेगा , बड़ा दिलचस्प लेख है ।

    भाटिया जी , सचमुच कुते होते ही ऐसे हैं कि वे घर के मेम्बर से लगने लगते हैं ।

    रचना जी , शुक्र है कि उनको पढना नहीं आता । :)

    ReplyDelete
  42. जब हम दिल्ली में सरकारी मकान में चालीस के दशक से थे, तो हमारे घर में एक स्पेनिएल कुत्ता था, और जैसा तब चलन था उसका नाम अंग्रेजी नाम 'किम' रखा गया था... वो इतना सभ्य आदमी था कि वो केवल भिखारियों और पोस्ट मैंन पर ही भूंकता था, और हमारे मित्रगण कहते थे कि यदि कोई चोर अच्छे कपडे पहन के आये तो आराम से चोरी कर पायेगा ! किन्तु उसकी मृत्यु जब हुई, और जिस तरह से हुई, हमारे घर में खाना नहीं बना उस दिन !

    वो थोडा बीमार चल रहा था और संयोगवश मैं ही केवल घर में था और कॉलेज से लौट हमारे भाई साहिब उसे डॉक्टर के पास ले जाने वाले थे... मैं पढ़ रहा था और वो मेरी कुर्सी के साथ चेन से बंधा सो रहा था कि अचानक वो जंजीर जोर से खींचने लगा... मैंने उसे खोल दिया और वो भीतर आँगन में चला गया... मैंने सोचा उसे पेशाब लगी होगी... किन्तु जब भाई उसे ले जाने के इरादे से वहां गए तो तुरन्त लौट उन्होंने मुझे उसे देखने को कहा... वो पारिजात (हर श्रृंगार) पेड़ की ओर शाष्टांग प्रणाम की मुद्रा में पैर आगे फैला कर मृत पड़ा था ! किसे प्रणाम किया था उसने पेड़ के माध्यम से ?

    ReplyDelete
  43. @ VICHAAR SHOONYA
    महाभारत की कहानी के अनुसार जब अर्जुन ने स्वयंबर में द्रौपदी का हाथ जीता तो माँ कुंती ने बिना 'सत्य' को जाने (अज्ञानता वश) जीत में प्राप्त 'वस्तु' को आपस में बाँट लेने की सलाह दी ! इस प्रकार द्रौपदी पाँचों भाइयों की पत्नी बन गयी ! और उनके बीच समझौता हो गया कि जब कोई भी भाई द्रौपदी के कक्ष में होगा वो अपनी चप्पल बाहर छोड़ देगा… किन्तु युधिष्ठिर की चप्पलें कुत्ते के ले जाने के कारण अर्जुन के प्रवेश करने पर धर्मराज ने कुत्तों को श्राप दे दिया !

    उपरोक्त कहानी को लाइन के बीच पढने वाला 'ज्ञानी योगी’ ही इस कहानी में छुपे 'कुण्डलिनी जागरण' की विधि जान सकता है, यानि एक बन्ध अथवा चक्र को खोल शक्ति अथवा सूचना उस से ऊपर वाले में बन्ध में मिला, आठों चक्रों में बंद शक्ति और सूचना को अंततोगत्वा माथे तक उठा सम्पूर्ण ज्ञान प्राप्त करना...

    ReplyDelete
  44. कुछ और बातें हैं कुत्तों से सिखने लायक डॉ साहब .....

    इनका अगर पेट खराब हो तो ये खाना छोड़ देते हैं ....
    पर हम खाना नहीं छोड़ते चाहे जन्दगी छूट जाये ......

    बाकि तो राजेन्द्र जी ने कह ही दिया .....

    ReplyDelete
  45. .

    मनुष्य को पशुओं से श्रेष्ठ ही माना गया है। अतः इंसान , कुत्तों से श्रेष्ठ ही है। जब किसी मनुष्य में पशुता आ जाती है तब ही उसे कुत्ता अथवा गधा की संज्ञा मिलती है।

    कुत्ता केवल अपने मालिक के लिए वफादार होता है , समस्त मानव जाती के लिए नहीं। जबकि मनुष्य में मानवता और संवेदनशीलता होती है , जो समस्त मानव जाती एवं पशुओं , दोनों के लिए है।

    .

    ReplyDelete
  46. मनुष्य में मानवता और संवेदनशीलता--दिव्या जी अब बची ही कहाँ है । आपने भी तो अभी अभी यही लिखा है अपनी पोस्ट में । किसी कारणवश टिप्पणी नहीं दे पा रहा ।

    ReplyDelete
  47. अच्छा विश्लेषण किया है आपने आदमी और कुत्ते का .....लेकिन कुत्ता कहीं बेहतर है आदमी से ..कुछ मामलों में ..हा..हा..हा..!

    ReplyDelete

  48. @ ZEAL
    # मनुष्य को पशुओं से श्रेष्ठ ही माना गया है।
    @ किसने माना है... स्वयँ मनुष्य ने, कोई उससे बड़ा धूर्त इस ऋष्टि में कोई अन्य है ही नहीं !
    # जब किसी मनुष्य में पशुता आ जाती है.... ठीक है,
    @ पर यदि वीरता आ जाती है तो वह शेर सिंह इत्यादि पशुओं के नाम धारण कर लेता है, क्यों..
    क्योंकि उससे बड़ा खुदगर्ज़ और धूर्त इस ऋष्टि में कोई अन्य है ही नहीं !
    # जबकि मनुष्य में मानवता और संवेदनशीलता होती है , जो समस्त मानव जाती एवं पशुओं , दोनों के लिए है ।
    @ शायद इसीलिये युद्ध और आखेट उसके प्राचीनतम मनोरँजन हैं :-)
    ( कृपया फ़तवे उछालने से पहले मनन कर लिया करें )

    ReplyDelete
  49. fantastic sarcasm....
    thoughtful and well summed up.

    ReplyDelete
  50. कुत्तों ने मनुष्य के भीतर सुरक्षा का विश्वास पैदा किया है। मनुष्य इसके एवज में कुछ भी कर ले,कमतर ही रहेगा।

    ReplyDelete
  51. हरकीरत जी ने सही कहा --आदमी के खाने की कोई सीमा नहीं होती । उसका पेट कभी भरता ही नहीं ।
    बेशक आदमी खुदगर्ज़ भी बहुत बड़ा है ।
    और चालबाज़ भी ।

    ReplyDelete
  52. डॉक्टर साहिब, ख़ास तौर पर पागल कुत्ते के काटे से भय आदमी को सदैव रहता है... बचपन में देखा था १४ इंजेक्शन लगते थे, किन्तु लड़की को काटा तो उसे केवल तीन ही लगे (काल के साथ तरक्की के कारण)...

    एक अंग्रेजी कविता स्कूल में पढने को मिली थी जिसमें एक स्वार्थी और नापसंद आदमी को पागल कुत्ते ने काट लिया तो सब सोचे वो मर जायेगा, किन्तु वो कुत्ता ही मर गया :) (स्वार्थी आदमी कुत्ते से ज़हरील होता है) - QED

    पंजाबी में प्रस्तुत एक कविता कभी सुनी थी (पंजाबी थोड़ी सी सुन सुन के आती है) -
    "सनम दी गलीच न जा हजारा सिंगा / सनम दी गली दा कुत्ता वड़दा है" ! (वड़दा = काटता)

    और, हमारी भतीजी जब छोटी थी तो जब एक कुत्ता उसको चाट लिया तो वो जोर जोर से रोने लगी... सब दौड़ कर उसके पास पहुंचे और पूछा कि काटा तो नहीं ? उसका जवाब था, "नहीं, काटा नहीं/ केवल चखा" !

    ReplyDelete
  53. Daral saheb,
    apka shodh sarahneey hai. Badhai!!

    ReplyDelete
  54. बहुत उपयोगी पोस्ट है!
    अच्छा विश्लेषण किया है आपने आदमी और कुत्ते का...

    ReplyDelete
  55. कई दिनों व्यस्त होने के कारण ब्लॉग पर नहीं आ सका

    ReplyDelete