Saturday, March 16, 2019

मुक्तक --



कभी सर्जिकल स्ट्राइक को फ़र्ज़ी बता रहे हैं,
पत्थरबाजों की पिटाई पर आंसू बहा रहे हैं।
स्विस बैंकों में अरबों रखने वाले पूछ रहे हैं ,
बताओ खाते में पंद्रह लाख कब आ रहे हैं। 

जंग जीतने को जंगल के सब जीव मिल जाते हैं,
लेकिन शेर को देख सबके होंठ सिल जाते हैं ।
जिनकी फितरत है जितना चाहें उछालें कीचड़
आखिर कमल तो कीचड़ में भी खिल जाते हैं ।


जो मांग रहे हैं आतंकवादियों की मौत के सबूत,
खुद जाकर देख लें अड्डों की तबाही के सबूत ।
फिर भी ग़र शक है अपनी सैनिक कार्रवाई पे ,
जहन्नुम में तो मिल ही जायेंगे ७२ हूरों संग कपूत। 

पानी रोकोगे तो हम हिमालय तोड़ देंगे,
टमाटर रोकोगे तो एटम बम छोड़ देंगे।
हमसे तौबा तौबा करो ऐ हिन्दुस्तानियो,
वरना आतंकी हमारा ही सर फोड़ देंगे। 

2 comments:

  1. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन विश्व नींद दिवस और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    ReplyDelete
  2. बहुत सटीक समय पर चौका मारा है ...
    मज़ा आ गया पढ़ के ...

    ReplyDelete