Saturday, February 7, 2009

आदमी बनाम कुत्ता

पता चला है कि
इंग्लॅण्ड के आदमी और कुत्ते ,
काम में इतना मशगूल हो जाते हैं ,
कि मालिकों की तरह उनके कुत्ते भी,
बच्चे पैदा करना ही भूल जाते हैं।
अब तो ब्रिटिश सरकार को भी ,
ये सत्य सताता है,
कि वहां दोनों प्रजातियों में ,
बच्चे कम, और बुजुर्गों की संख्या ज्यादा है।
अब इस विचार से हमारी सरकार तो,
बडी भाग्यशाली है,
क्योंकि यहाँ बच्चे और कुत्ते ,
दोनों के मामले में खुशहाली है।
और इस खुशहाली से ,
हमारी सरकार कुछ तो चिंतित नजर आ रही है,
पर ऐसा लगता है, अमेरिकन सरकार को ,
इसकी चिंता ज्यादा सता रही है।
और जब ज्योर्ज बुश को ,
चिंता ने अधिक सताया,
तो एक वैज्ञानिक आयोग बैठाया,
और उन्होंने पता लगाकर बताया ,
कि धरती पर १.३ मिलियन बिलियन ,
मनुष्य रह सकते हैं।
यानी अभी हम और दो लाख गुना ,
लोगों का बोझ सह सकते हैं।
अब ये जान कर उनकी तो ,
जान में जान आई,
पर उनके सामान्य ज्ञान पर ,
हमको बड़ी हँसी आई।
अरे हमें तो ये बात pahle ही पता थी,
तभी तो हम चैन से जिए जा रहे हैं,
और बेफिक्र होकर बेधड़क,
बच्चे पैदा किए जा रहे हैं।
जय , जय हो।

6 comments:

  1. हा...हा..हा...बहुत ही मजेदार...
    आपकी कटाक्ष करने की अदा बहुत पसंद आई

    ReplyDelete
  2. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल आज 24-- 11 - 2011 को यहाँ भी है

    ...नयी पुरानी हलचल में आज ..बिहारी समझ बैठा है क्या ?

    ReplyDelete
  3. गजब का कटाक्ष है सर!

    सादर

    ReplyDelete
  4. बाई दी वे कितने बच्चे पैदा किये हैं अभी तक,डॉ.साहिब.
    आपकी बेफिक्री पर तो नाज है हमें.

    ReplyDelete
  5. निश्चिंत रहना भी कितनी बड़ी नियामत है - होगा सो देखा जयेगा !

    ReplyDelete
  6. बच्चों को भगवान की देन मान लिया जाए तो बेफ़िक्री के साथ भक्ति का भी लाभ मिलता है :))
    बढ़िया रचना.

    ReplyDelete