Monday, January 28, 2019

एयर चाइना की एयर होस्टेस -- एक मुक्तक --



एयर चाइना की एयर होस्टेस
बोल कम मुस्करा ज्यादा रही थी,
इंग्लिश में उसकी बातें हमें
कुछ भी समझ में नहीं आ रही थी।

हम थे परेशान और उसकी
पेशानी पर भीआ रहा था पसीना ,
क्योंकि हमारी इंग्लिश भी
कौन सी उसकी समझ में आ रही थी।


6 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (29-01-2019) को "कटोरे यादों के" (चर्चा अंक-3231) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. वाह!!!
    बहुत खूब...।

    ReplyDelete
  3. ब्लॉग बुलेटिन की दिनांक 28/01/2019 की बुलेटिन, " १२० वीं जयंती पर फ़ील्ड मार्शल करिअप्पा को ब्लॉग बुलेटिन का सलाम “ , में आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  4. वाह !! बहुत सुन्दर 👌
    सादर

    ReplyDelete

Note: Only a member of this blog may post a comment.