Monday, April 10, 2017

आराम करो , आराम करो : एक बिलकुल नया प्रयोग ---


प्रस्तुत है , श्री गोपाल प्रसाद व्यास जी की एक हास्य कविता की पैरोडी : एक बिलकुल नया प्रयोग --

जो भी मित्र मिलते हैं , बोलते हैं , भई आजकल क्या करते हो ,
इस महंगाई के दौर में बिना जॉब के कैसे गुजर करते हो !
क्या रखा है बेवज़ह घूमने में , कुछ तो शर्म लिहाज़ करो ,
कब तक खाली घर बैठोगे , अब कुछ तो काम काज करो।
मैं कहता हूँ , किया काम ताउम्र , अब तो पूर्ण विराम करो ,
इस भाग दौड़ में क्या रखा है , आराम करो , आराम करो।

आराम स्वस्थता की कुंजी , इससे ना थकावट होती है ,
आराम उत्कंठा की एक दवा , मन का तनाव खोती है।
आराम शब्द में राम छिपा,  हराम में भी राम होता है,
जब दोनों में ही राम है तो आराम कैसे हराम होता है।
इसलिए तुमसे कहता हूँ , मत हमको यूँ बदनाम करो ,
पल दो पल के यौवन जीवन, आराम करो आराम करो।

यदि कुछ करना ही है तो स्वस्थ रहने की बात करो ,
सुबह शाम पार्क में जाकर , लम्बी लम्बी वॉक करो।
क्या रखा काम धाम में , जो मज़ा है जिम जाने में ,
जो वेट्स उठाने में लुत्फ़ है , वो कहाँ थैला उठाने में।
मुझसे पूछो मैं बतलाऊँ , है मज़ा सुस्त कहलाने में ,
काम काज में क्या रखा , जो रखा खिसक जाने में।

मैं यही सोचकर घर से बाहर , कम ही जाया करता हूँ ,
जो कामकाज़ी जन होते हैं , उनसे कतराया करता हूँ।  
दफ्तरों की छुट्टी होने से पहले , बाहर जाया करता हूँ,
शाम अँधेरा होने पर ही , घर वापस आया करता हूँ।
मेरी किताब में लिखा हुआ , जो सच्चे योगी होते हैं ,
वे कम से कम बाइस घंटे तो , बेकाम भोगी होते हैं।

वार्ड ना मरीज़ों की चिंता, सोचकर आनंद आता है ,
रोगी , मृत्यु , बुढ़ापे से , मन स्वच्छंद हो जाता है।
जब सुबह से शाम सारा समय , अपना नज़र आता है ,
तो सच कहता हूँ जीने का जैसे , मज़ा निखर आता है।
लेकर लैप में लैपटॉप फिर फेसबुक की ओर मुड़ जाता हूँ ,
कविता , रचना , गीत , नज़्म , नगमा से जुड़ जाता हूँ।

मैं औरों को भी जिंदगी की , यही सीख सदा देता हूँ ,
एक दिन में बस एक काम करो, ये राज़ बता देता हूँ।
मैं बैरागी हूँ मुझको तो बस , आराम में राग फूटते हैं ,
उनको भी तो चैन कहाँ जो सोये बिना जाग उठते हैं।
इसीलिए मैं कहता हूँ तुम सुनो, मेरी तरह से काम करो ,  
ये माया का बंधन छोडो , खाओ पीओ और आराम करो।  

10 comments:

  1. दिनांक 11/04/2017 को...
    आप की रचना का लिंक होगा...
    पांच लिंकों का आनंदhttps://www.halchalwith5links.blogspot.com पर...
    आप भी इस चर्चा में सादर आमंत्रित हैं...
    आप की प्रतीक्षा रहेगी...

    ReplyDelete
  2. आराम बड़ी चीज है ....

    ReplyDelete
  3. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन परमवीर - धन सिंह थापा और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    ReplyDelete
  4. सत्य कहा जीवन का वास्तविक मज़ा आराम में है परन्तु इसकी सीमा होनी चाहिए। सुन्दर अभिव्यक्ति ! आभार

    ReplyDelete
  5. बात तो सही है की आराम करो मस्त रहो पर कर्मरत रहो ...

    ReplyDelete
  6. मित्रों , इस रचना में सही गलत कुछ नहीं है। बस यह एक शुद्ध हास्य रचना है। इसे इसी तरह से ही लें।

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर...

    जो जागत है वो खोवत है
    जो सोवत है वो पावत है

    सोओ-सोओ सोते सोते ही
    नित नए सपने बोओ
    सो सोकर ही तुम नित
    मन में रामनाम को लाओ
    सो सोकर मजे उडाओ
    भला क्या रखा है भजने में
    वो मजा कहाँ जगने में
    जो मजा है चैन से सोने में

    ReplyDelete
  8. https://bulletinofblog.blogspot.in/2017/04/blog-post_11.html

    ReplyDelete
  9. वाह !निठल्लों की सोच पर अच्छा व्यंग है
    अकर्मण्य को आराम में ही मजा आयेगा....
    परन्तु आजकल आरक्षण के कारण फैली बेरोजगारी भी अच्छा आराम दे रही है युवाओं को......

    ReplyDelete