Sunday, May 4, 2014

मेरी किस्मत मे तू ही है शायद ----


बहुत दिनों से कोई हास्य कविता लिखने का समय नहीं मिला ! आज विश्व हास्य दिवस के अवसर पर फ़ेसबुक पर आधारित एक पैरोडी लिखने का प्रयास किया है ! यह अभी तक की दूरी पैरोडी है जो इत्तेफाक़ से फिर से सुरेश वाडकर के गाने पर ही आधारित है : 


मेरी किस्मत मे तू ही है शायद ,
दिन निकलने का इंतज़ार करता हूँ ! 
पहले अपडेट एक बार करता था ,
अब दिन मे तीस बार करता हूँ ! 

आज समझा हूँ लाइक का मतलब ,
आज टिप्पणीयां मैं भेंट करता हूँ ! 
कल मैं ब्लॉग पोस्ट लिखता था ,
आज मैं स्टेटस अपडेट करता हूँ ! -----------

सोचता हूँ के मेरे स्टेटस पर 
क्यों नहीं लगते लाइक के चटके ! 
मैने मांगी थी इक टिप्पणी लेकिन 
पोस्ट पे आये ना कोई भूले भटके ! 

हो ना जाउँ कहीं मैं फेसबुकिया 
इसकी लत पड़ने से डरता हूँ !
पहले अपडेट एक बार करता था ,
अब दिन मे तीस बार करता हूँ ! ----------

दिन गुजरा फ़ेसबुक पे सारा ,
रात आधी लाइक करते करते ! 
कैसे बुलायें पेज पे उनको ,
चैट करते हैं डरते डरते ! 

लत शायद इसी को कहते हैं ,
हर घड़ी बेकरार रहता हूँ !
रात दिन फ़ेसबुक पे कटते हैं , 
घर बार से बेज़ार रहता हूँ ! -----------

मेरी किस्मत मे तू ही है शायद ,
दिन निकलने का इंतज़ार करता हूँ ! 
पहले अपडेट एक बार करता था ,
अब दिन मे तीस बार करता हूँ ! 

16 comments:

  1. हा हा!! बेहतरीन...उसी अपडेट को देख कर यहाँ चले आये :)

    ReplyDelete
  2. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन विश्व हास्य दिवस - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल सोमवार (05-05-2014) को "मुजरिम हैं पेट के" (चर्चा मंच-1603) पर भी होगी!
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  4. चलिये अपडेट का फायदा भी होगा। शीर्षक देख कर डर लगी था कि कहीं से कांग्रेस के आने की अफवाह तो नही सुन ली आपने।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आशा जी , डरने के कारण तो अनेक हो सकते हैं -- यह भी !

      Delete
  5. क्या बात ,,,,,पर कैंडी-क्रश कैसे बच गया ,,::D

    ReplyDelete
  6. हो ना जाउँ कहीं मैं फेसबुकिया
    इसकी लत पड़ने से डरता हूँ !
    पहले अपडेट एक बार करता था ,
    अब दिन मे तीस बार करता हूँ ! -----
    very nice sir .

    ReplyDelete
  7. ये कंबख्त फ़ेसबुक चीज ही ऐसी है.:)

    रामराम.

    ReplyDelete


  8. ☆★☆★☆




    मेरी किस्मत मे तू ही है शायद ,
    दिन निकलने का इंतज़ार करता हूँ !
    पहले अपडेट एक बार करता था ,
    अब दिन मे तीस बार करता हूँ !

    ;)
    वाह ! वाऽह…!

    दिन गुजरा फ़ेसबुक पे सारा ,
    रात आधी लाइक करते करते !
    कैसे बुलायें पेज पे उनको ,
    चैट करते हैं डरते डरते !

    लत शायद इसी को कहते हैं ,
    हर घड़ी बेकरार रहता हूँ !
    रात दिन फ़ेसबुक पे कटते हैं ,
    घर बार से बेज़ार रहता हूँ !



    हाय रे ये फेसबुक !

    कितने सारे अच्छे भले ब्लॉग्स का भी भट्ठा बिठा दिया...
    :(

    आदरणीय डॉ. दराल भाई जी
    मस्त रचना के लिए थेंक्स

    मंगलकामनाओं सहित...
    -राजेन्द्र स्वर्णकार


    ReplyDelete
    Replies
    1. सही कहा राजेन्द्र जी . अब तो ब्लॉग्स की ओर कोई झांकता ही नहीं !

      Delete
  9. बहुत उम्दा सर! दिल बाग-बाग हो गया

    ReplyDelete
  10. उम्दा फसेबुकिया पैरोडी डाक्टर साहब

    ReplyDelete
  11. चाहे जितना फेसबुक पे आ जाओ ... ब्लोगिंग मन छोड़ना ... हम तो यही बिनती कर सकते हैं ...
    मज़ा आ गया इस हास्य का ... छुपा हुआ दर्द भी नज़र आ रहा है ..

    ReplyDelete
    Replies
    1. नासवा जी , इस दर्द मे भी व्यंग ही है ! :)

      Delete
  12. हा हा हा। गज़ब। मस्त पैरोडी है ..

    ReplyDelete
  13. फेसबुक ने किया है स्टेटस का आविष्कार , ब्लॉग का भी है लेकिन प्रविष्टियों का अधिकार !
    रोचक !

    ReplyDelete