Tuesday, April 21, 2009

आज सोचा तो ---

वो उसके दिल का राजा था, वो उसके दिल की रानी थी।
शिरी फरहाद से ऊंची, उनकी प्रेम कहानी थी।
वो उसको छोड़ कर भागा कोई तो थी ये मजबूरी ,
उस चाँद पे था दाग फ़िजा, तुझ पे खिजा तो आनी थी।

कोई लैला कोई मजनू , कोई शिरी कोई फरहाद।
मुहब्बत में हुए कुर्बान , ज़माना रखे उनको याद।
सींच कर खून से अपने बचाएं जो वतन की लाज ,
उन गुमनाम शहीदों को, भुलाये क्यों वतन ही आज।

कोई आंसू बहाता है , तो कोई मुस्कराता है।
कोई संसार आता है, तो कोई छोड़ जाता है।
फंसा रहता है इस आवागमन में तू मानव ,
तेरे जैसे कर्म बन्दे , तू वैसा फल ही पाता है।