Saturday, March 31, 2012

दर्द की महक फैली है फिज़ाओं में ---हरकीरत हीर


2७ फ़रवरी २०१२ को हरकीरत 'हीर' जी के काव्य संग्रह 'दर्द की महक' का विमोचन और लोकार्पण दिल्ली के प्रगति मैदान में संपन्न हुआ । इत्तेफाक से इस समारोह में जाना संभव नहीं हो पाया । लेकिन बड़ी तमन्ना थी कि इस पुस्तक की समीक्षा मैं लिखूं । हालाँकि हमारे लिए तो यह काम बिल्कुल नया था । एक तो समीक्षा कभी लिखी नहीं । फिर वो भी हीर जी जैसी शायरा ,जिन्हें हम पढ़ते तो रहते हैं लेकिन समझने के लिए बड़ी कठिनाई का सामना करना पड़ता है ।

लेकिन खुद से वायदा तो कर दिया था । इसलिए पीछे हटने का सवाल भी नहीं था । वैसे भी रोज एक नया काम करने की आदत सी पड़ गई है । पुस्तक प्राप्त होते ही एक साँस में पढ़ गया ।

हालाँकि पढ़ते समय साँस चल रही थी या नहीं , यह भी पता नहीं चला

असम में जन्मी , पली , बढ़ी , हीर जी अमृता प्रीतम से बहुत प्रभावित रही । उनकी लेखनी में कहीं अमृता जी तो कहीं गुलज़ार की झलक साफ दिखाई देती है । अमृता जी के जाने के बाद हीर जी का संपर्क इमरोज़ जी से बना रहा जिन्होंने ही उनको हकीर से हीर बना दिया ।
हीर का यह काव्य संग्रह , मोहब्बत की अदीम मिसाल--इमरोज़ और अमृता को समर्पित है ।
इस संग्रह में हीर जी की ६१ नज़्में संग्रहित हैं । और अंत में एक नज़्म इमरोज़ की हीर के लिए ।

यह मानव जीवन की विडंबना ही है कि एक औरत का नसीब हमेशा एक पुरुष के साथ जुड़ा रहता है । हीर जी ने अपनी नज़्मों में एक प्रेयसी के रूप में औरत के दर्द , पीड़ा , प्रताड़ना और उपेक्षा को ऐसे दर्द भरे लफ़्ज़ों में उतारा है कि पढने वाले को खुद दर्द का अहसास भूलकर दर्द में मिठास की अनुभूति होने लगती है ।
उनकी नज़्मों में मौत , कब्र , लाशें , कफ़न , नश्तर ,छाले आदि अनेकों ऐसे लफ़्ज़ों का इस्तेमाल किया गया है जिन्हें पढ़कर अन्दर तक एक टीस का अहसास होता है ।

मौत की मुस्कराहट

रात वह फिर आई ख्वाबों में
चुपके से रख गई, कुछ लफ्ज़ झोली में
मैंने देखा , मौत की मुस्कराहट कितनी हसीं थी ।
जीते जी , मौत के ख्वाब कोई यूँ ही नहीं देखता ।

ज़ुल्म जब हद से गुजर जाएँ तो लफ्ज़ बनकर कुछ ऐसे उतर आते हैं --

वहशी बादल जमकर बरसे फिर कल रात
सुई जुबाँ से लहू कुरेदती रही
सबा तो खामोश रही दोनों के बीच
बस तेरा चेहरा तलाक मांगता रहा ...

पति पत्नी के रिश्ते में यदि कड़वाहट आ जाये तो एक अजीब सी स्थिति उत्पन्न हो जाती है जहाँ रिश्ते सिर्फ रस्म का जामा पहन लेते हैं । हीर ने करवा चौथ पर लिखा है --

वह फिर जलाती है
दिल के फासलों के दरम्याँ
उसकी लम्बी उम्र का दिया ।
यह भी औरत की कैसी मज़बूरी है कि जो दर्द देता है , मन से उसी के लिए दुआ निकलती है ।

जब दर्द पास आ मुस्कराने लगता है --मोहब्बत जैसे कुछ पल के लिए ही सही , साँस लेने लगती है दर्द के आगोश में ।
हीर जी , अपना जन्मदिन अमृता के जन्मदिन ३१ अगस्त को ही मनाती हैं । एक नज़्म अमृता जी को भेंट करते हुए लिखती हैं--

उसने कहा है अगले जन्म में
तू फिर आएगी मोहब्बत का फूल लिए
ज़रूर आना अमृता
इमरोज़ जैसा दीवाना , कोई हुआ है भला ।

आशा का दामन कभी साथ नहीं छोड़ता । तमाम दुखों , अपमान , क्षोभ और हार के अहसासों के बीच लिखती हैं --

अक्सर सोचती हूँ ,
खुद को बहलाती हूँ
कि शायद छूटे हुए कुछ पल
दोबारा जन्म ले लें ।

लेकिन दर्द है कि साथ छोड़ता ही नहीं । दर्द दीवाना है हीर का । हीर दीवानी है दर्द की । एक अजीब सी कशमकश रहती है, कभी एक बुत बनाती हैं , लम्हे दर लम्हे उसे सजाती हैं और फिर तोड़ देती हैं । कभी सांसे उम्मीद के धागे बुनने लगती हैं , उस लाल दुप्पटे को देखकर । लेकिन दर्द जब जब अंगडाई लेता है , इक बांसुरी की तान सी सुनाई देती है--- और हीर की सांसें राँझा राँझा पुकारने लगती हैं -- रब्बा , क्या दर्द का कोई मौसम नहीं होता ! दिल से इक बेबस सी आह निकलती है -- जब समंदर की इक भटकती हुई लहर तपती रेत में घरोंदे तलाशती है

हीर की नज़्मों में अक्सर रातों की उदास सी चुप्पियों का ज़िक्र रहता है ।

रात आसमाँ ने आँगन में अर्थी सजाई
तारे रात भर खोदते रहे कब्र
हवाओं ने भी छाती पीटी
पर मेरे जख्मों की मौत न हुई ।

जख्म , जिन पर कभी मरहम न लग सकी । जख्म , जो सूखते सूखते ज़िस्म को पत्थर कर गए ।

तुम गढ़ते रहे
देह की मिट्टी पर
अपने नाम के अक्षर
हथोड़ों की चोट से
ज़िस्म मेरा पत्थर होता रहा ...

इंसान से ज्यादा बर्बर कोई नहीं । लेकिन मौत भी मांगने से कहाँ आती है -- फिर भले ही आप सितारों जड़ा , सुनहरा कफ़न लिए बैठे रहें-- चाहे मौत को जिंदगी के सुनहरे टुकड़े देकर अपनी चिता के गीत गाते रहें ।
पुरुष औरत पर कितने ही ज़ुल्म क्यों न ढाये , जब कमज़ोर पड़ता है तो उसी के कंधे का सहारा लेता है --

अब न रखा कर कंधे पे हाथ ,
दर्द की आँखों में नमी होती है ।

फिर एक दिन ऐसा भी आता है जब सब अहसास सुन्न हो जाते हैं --

मेरे इश्क के कतरे
पत्थरों पे गिरते रहे
और रफ्ता रफ्ता
दिल के छाले ,
पत्थर होते गए ।

जिंदगी भी अक्सर आशा निराशा की आँख मिचौली में झूलती रहती है ---

मोहब्बत खिलखिलाकर हंसने ही वाली थी
कि गुजर गई फिर कुछ अर्थियां करीब से ।

हीर जी ऱब से पूछती हैं इक सवाल --सिर्फ अपने लिए ही नहीं -- उन तमाम औरतों के लिए , जिन्हें जिंदगी में वो नहीं मिला जिनकी वो हकदार थी, जो जिंदगी में पीड़ित , उत्पीड़ित , प्रताड़ित और शोषित रहीं हैं।
--तेरी दुनिया की किसी कोख में ज़वाब नहीं उगते क्या ?

ज़वाब नहीं है , न ऱब के पास , न ऱब के बंदों के पास । जिंदगी अपनी तमाम मुश्किलें बाँटती हुई जिंदा रखेंगी हीर को -- हीर को भी फ़र्ज़ की वेदी पर जिंदगी का कर चुकाते रहना पड़ेगा , इन्ही दर्द , ज़ख्म और उत्पीड़न के साथ । लेकिन इस दर्द की महक आती रहेगी -- सदा सदा ही इस गुलशन में , जहाँ हम और आप खुश हैं , अपनी अपनी जिंदगी में ।

हीर के काव्य संग्रह पर अंत में यही कह सकते हैं जो इमरोज़ ने हीर को लिखा था -

न कभी हीर ने -
न कभी रांझे ने
अपने वक्त के कागज़ पर
अपना नाम लिखा था
फिर भी लोग आज तक
न हीर का नाम भूले
न रांझे का ।
(हीर तुम्हारी नज़्में खुद बोलती हैं , उन्हें किसी तम्हीद की ज़रुरत नहीं । )

पुस्तक के फ्लैप पर प्रसिद्द समीक्षक श्री जितेन्द्र जौहर जी का समीक्षक अभिमत प्रकाशित है ।
पुस्तक में साथी ब्लोगर्स की टिप्पणियों को भी जगह दी गई है जिनमे प्रमुख हैं --
सर्वश्री मुफलिस जी , शाहिद मिर्ज़ा शाहिद , सुशील कुमार छोंकर , डॉ अनुराग , अपूर्व , अलबेला खत्री , गौतम राजरिशी , समीर लाल जी , मीनू खरे , तेजेंद्र शर्मा , नीरज गोस्वामी, दिगंबर नासवा , वाणी जी , मनु , निर्मला कपिला जी , तथा अन्य कई मित्र

नोट : हमेशा हंसी मजाक के मूड में रहने वाले एक हास्य कवि के लिए दर्द की महक की समीक्षा करना कितना मुश्किल रहा होगा , इसका अंदाज़ा आप लगा सकते हैं । पुस्तक की गहराई तो आपको पढ़कर ही पता चलेगी ।


समीक्षक : डॉ टी एस दराल
नयी दिल्ली

दर्द की महक
मूल्य : २२५ /-रु
प्रकाशक :
हिंदी युग्म
१ , जिया सराय, हौज़ खास
नई दिल्ली -११००१६
मो : 9873734046 , 9968755908




Wednesday, March 28, 2012

आप खाने के लिए जीते हैं , या जीने के लिए खाते हैं ---


कहते हैं , मनुष्य को नाश्ता महाराजा जैसा , दोपहर का खाना राजकुमार जैसा और रात का खाना भिखारी जैसा खाना चाहिए यानि भोजन में नाश्ता भरपूर और डिनर हल्का लेना चाहिएइसका वैज्ञानिक आधार भी हैरात को सोते समय हमारी गतिविधियाँ न्यूनतम होती हैंइसलिए ज्यादा ऊर्ज़ा की आवश्यकता नहीं होतीलेकिन दिन भर कार्य करते रहने के कारण नाश्ते में अधिक ऊर्ज़ा चाहिए

लेकिन हम जैसे एक कामकाजी व्यक्ति के साथ बिल्कुल उल्टा होता हैयानि नाश्ता भागते भागते जो मिला, खाया और निकल पड़ेफिर लंच में वही दो रोटी , थोड़ी सी सब्जी और दाल या दही, बस हो गया लंचसिर्फ रात का खाना ही होता है जो सब मिलकर शांति के साथ बैठकर इत्मिनान से खाते हैं , इसलिए अक्सर ज्यादा ही हो जाता है

खाने में हमें कितनी ऊर्ज़ा चाहिए , यह हमारे काम पर निर्भर करता हैएक मजदूर को ऑफिस में काम करने वाले बाबू से ज्यादा केल्रिज चाहिएइसी तरह एक युवा को बुजुर्गों की अपेक्षा ज्यादा ऊर्ज़ा चाहिएखाने में ऊर्ज़ा भले ही काम के हिसाब से चाहिए , लेकिन एक बात निश्चित है कि खाना सिर्फ संतुलित हो बल्कि उसमे वो सब तत्त्व भी हों जो शरीर के लिए आवश्यक हैंतभी शरीर निरोग रह सकता है

अक्सर अपना नाश्ता तो बस दो सूखे टोस्ट और एक ग्लास दूध होता है क्योंकि खाने में सबसे आसान और कम समय इसी में लगता हैजल्दी हो तो ब्रेड पीसिज को बिना सेके ही खा लेते हैं जिससे खाने में और भी कम समय लगता हैलेकिन यह ध्यान रखते हैं कि ब्रेड कौन सी लायी जाए

आइये देखते हैं ब्रेड कितने प्रकार की होती हैं :

) वाईट ब्रेड
) ब्राउन / आटा / स्टोन ग्राउंड ब्रेड
) मल्टीग्रेन ब्रेड

पहली दो प्रकार की ब्रेड में मुख्यतय: कार्बोहाइड्रेट , प्रोटीन , फैट , कैल्सियम , आयरन , सोडियम और पोटासियम लगभग बराबर मात्रा में होती हैं
इसे बनाने के लिए गेहूं का आटा , सुगर , यीस्ट , नमक , खाद्य तेल और सोया आटा इस्तेमाल किया जाता है तथा साथ में प्रिजर्वेटिव्स , इमलसीफाइर्स और एसिडिटी रेगुलेटर मिलाये जाते हैं
वाईट और ब्राउन ब्रेड में मुख्य अंतर फाइबर का होता है जो ब्राउन ब्रेड में % होता है जबकि वाईट ब्रेड में के बराबर । इनके मूल्य में भी बस एक रूपये का ही अंतर है

मल्टीग्रेन ब्रेड में प्रोटीन , फैट , कैल्सियम और पोटासियम इन दोनों की अपेक्षा ज्यादा होते हैं । लेकिन सबसे ज्यादा अंतर होता है , फाइबर कंटेंट में जो इसमें . % होता है । इस ब्रेड को बनाने के लिए साबुत गेहूं , चना , ज़वार, सोया , दालें , ओट , सनफ्लावर सीड्स और सीसेम सीड्स तथा नेचुरल फाइबर का इस्तेमाल किया जाता है

पहली दो तरह की ब्रेड में केल्रिज की मात्रा लगभग एक जैसी होती हैं ( २२७ / २३७ केल्रिज / १०० ग्राम ) ।
जबकि मल्टीग्रेन ब्रेड में २८२ केल्रिज / १०० ग्राम होती है । देखा जाए तो मल्टीग्रेन ब्रेड सबसे उपयुक्त ब्रेड है स्वास्थ्य के लिएलेकिन इसका मूल्य ( ३५ रूपये ) ज्यादा होने से सबके लिए संभव नहीं कि रोज यही ब्रेड खाई जाए । फिर भी जहाँ तक हो सके वाईट ब्रेड से बचना चाहिए और ब्राउन ब्रेड का इस्तेमाल करना चाहिए

फाइबर :

आम तौर पर फाइबर अनाज़ के दानों की बाहरी परत में होता हैबारीक पिसा आटा जिसे छान लिया जाता है , उसमे से सारा फाइबर निकल जाता हैमैदा में यह के बराबर होता हैइसलिए खाने में मोटा पिसा आटा ही इस्तेमाल करना चाहिए
फाइबर हमारी आँतों में एब्जोर्ब नहीं होताइसलिए कब्ज़ होने से बचाता हैकब्ज़ होने से तरह तरह के रोग हो सकते हैं जिनमे कैंसर सबसे खतरनाक रोग हैइसलिए भोजन में फाइबर का होना अत्यंत आवश्यक है

गेहूं और चावल : हमारे देश में यही दो अनाज़ सबसे ज्यादा खाए जाते हैंइन दोनों में केल्रिज की मात्रा लगभग एक जैसी होती है ( ३६० / ३६५ केल्रिज / १०० ग्राम ) ।
लेकिन गेहूं में प्रोटीन , फैट और फाइबर चावल की अपेक्षा ज्यादा होते हैंजबकि चावल में कार्बोहाइड्रेट ( ८० % ) ज्यादा होता है
लेकिन सबसे ज्यादा प्रोटीन दालों में होता है ( २०-२४ % )। सोया में यह सबसे ज्यादा४३% होता है

इसेंसियल एमिनो एसिड्स :

प्रोटीन की मूल इकाई है एमिनो एसिड्सहमारे भोजन में ११ एमिनो एसिड्स को इसेंसियल ( अनिवार्य ) माना जाता है

चावल और गेहूं में लाइसिन नहीं होता, लेकिन मिथिओनिन होता है
जबकि दालों में मिथिओनिन नहीं होता परन्तु लाइसिन होता है

इसलिए जब हम दाल चावल या दाल रोटी खाते हैं , तब इसेंसियल एमिनो एसिड्स की मात्रा पूरी हो जाती है
इसीलिए उत्तर भारत में दाल रोटी और दक्षिण भारत में दाल चावल मिलाकर खाया जाता हैइसी से शाकाहारी लोग भी कुपोषण से बचे रहते हैं

यह अलग बात है कि देश की आबादी के एक बड़े हिस्से को यह भी नसीब नहीं होताइसलिए कुपोषण और भुखमरी से ग्रस्त रहते हैं

अब एक सवाल : रोटी को इंग्लिश में ब्रेड कहते हैं , फिर ब्रेड को हिंदी में डबल रोटी क्यों कहते हैं ?

नोट : अगली पोस्ट में ब्रेड से --आम के आम और गुठलियों के दाम